Health

कई रोगों से निजात दिलाएगा ततांबे के बर्तन में रखा पानी

कई रोगों से निजात दिलाएगा ततांबे के बर्तन में रखा पानी

हेल्थ डेस्क (bangbandhu patrika )। आयुर्वेद में तांबे के बर्तन को काफी महत्व दिया गया है. हमारे प्राचीन काल में तांबे से बना वर्तन का अधिक उपयोग होता था. क्योकि  तांबे के बर्तन में रखे पानी में जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सीडेट , कैंसररोधी (anti-cancer) और एंटीइन्फ्लेमेटरी  गुण आ जाते हैं. तांबे का पानी शरीर में तीनों दोषों (वात, कफ और पित्त) को संतुलित रखने में सक्षम है। यह पानी शरीर के कई रोग बिना दवा के ठीक करने की क्षमता रखता हैं और शरीर के जहरीले तत्वों को बाहर निकालता हैं। हालांकि इस पानी का स्वाद थोड़ा अलग होता है लेकिन यह पानी कभी बासी नहीं होता। आइये है तांबे के बर्तन में पानी पीने के क्या फायदे हैं.

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता (Controls blood pressure)
तांबे का पानी पीने से हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है। यह ब्लड प्रेशर प्रैशर को नियंत्रित रखता है और बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मददगार है। जिससे दिल से जुडी बीमारियां दूर हो जाती हैं।
कैंसर लड़ने में सहायक (Helpful in fighting cancer)
इस पानी में एंटी-आक्सीडेंट गुण कैंसर से लडऩे की शक्ति प्रदान करते हैं। अध्य्यन के अनुसार, तांबे में कैंसर विरोधी प्रभाव मौजूद होते है जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ने में शरीर की मदद करते हैं।
पाचन क्रिया बेहतर ( Improved digestion)
रात के समय तांबे के बर्तन में पानी डालकर रख दें और सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से पाचन क्रिया में सुधार होता है। रोजाना इस पानी को पीने से पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज जैसी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।
यादाशत मजबूत (improved Memory )
हर रोज तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना दिमाग के लिए बहुत लाभकारी होता है। इस पानी से याददाशत तेज होता है।
इसके अलावा तांबे की अंगूठी पहनने से हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता( increases our immunity) बढ़ती है और त्वचा की चमक (brightness of the skin) बढ़ती है।यह खून को साफ करने में भी मदद करती है साथ ही पेट की बीमारियां डायरिया और पीलिया मे लाभकारी है। तांबे को धारण करने से शरीर में खून की कमी नहीं होती ऐसे में तांबा आपके लिए सुरक्षा कवच साबित हो सकता I