Health

स्वस्थ आहार एवं जीवनशैली अपना कर कम कर सकते हैं  कैंसर के खतरे

स्वस्थ आहार एवं जीवनशैली अपना कर कम कर सकते हैं कैंसर के खतरे

हेल्थ डेस्क। कैंसर एक ऐसा रोग है जो रोगी के साथ साथ उसके पूरे परिवार को प्रभावित करता है। कैंसर के लगातार बढ़ते मामलों के बीच जीवन एवं आहार शैली में आवश्यक बदलाव कर हम न केवल इस रोग की संभावना को कम कर सकते हैं बल्कि रोग हो जाने पर इसकी चिकित्सा को सुगम बना सकते हैं। यहां हम चर्चा कर रहे हैं कुछ ऐसे भोजन की जो कैंसर का मुकाबला करने में सहयोगी सिद्ध हो सकते हैं।

अत्यधिक धूम्रपान और शराब कैंसर का कारण बन सकते हैं, अत: इनसे बचना चाहिए। इसके अलावा आनुवांशिक कारक, कार्यस्थल पर विकीरण, रासायनिक तत्वों से सम्पर्क भी कैंसर का कारण बन सकते हैं।स्वस्थ आहार एवं जीवनशैली अपनाकर हम कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। एंटीआॅक्सिडेंट और फाइटो न्यूट्रिएंट्स से सम्पन्न खाद्य पदार्थ कैंसर का मुकाबला करने में हमारी मदद करते हैं। इसके लिए कुछ फल एवं सब्जियों को  अपने आहार में शामिल करना चाहिए। ये ज्यादा महंगे भी नहीं हैं।
कैंसर के इलाज के लिए कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी का उपयोग किया जाता है। इसके दौरान एवं बाद में आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
सब्जियां : फूलगोभी, ब्रोकली एवं  पत्तागोभी में स्थित रसायन खराब एस्ट्रोजन को अच्छे एस्ट्रोजन में बदलकर कैंसर के जोखिम को कम करते हैं।
कैल्शियम एवं आयरन से भरपूर हरी पत्तेदार सब्जियों, जवारा रस का सेवन लाभकारी है।टमाटर, मटर, कद्दू, शलजम, ओट्स जैसे फाइबर से भरपूर सब्जियां भी कैंसर में फायदेमंद हैं।

फल : संतरा, नींबू जैसे साइट्रस फल विटामिन सी प्रदान करते हैं। विटामिन के लिए कीवी, आडू, आम, नाशपाती जैसे फल भी भोजन में शामिल करना चाहिए। अंगूर के सेवन से एंटीआॅक्सिडेन्ट फाइटो न्यूट्रीएंट्स का उत्पादन बढ़ता है जो कैंसर कोशिकाओं के उत्पादन को रोकता है।

लहसुन और प्याज : लहसुन और प्याज में मौजूद सल्फर कम्पाउंड, बड़ी आंत, स्तन, फेफड़े और प्रोस्टेट ग्रंथि के कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करते हैं। लहसुन इंसुलिन का उत्पादन बढ़ाकर कैंसर कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है।
अदरक : अदरक का अर्क कीमोथेरेपी या रेडियोथेरेपी से होने वाली परेशानियों को कम करता है।

हल्दी : हल्दी सबसे शक्तिशाली प्राकृतिक कैंसर रोधी तत्व है जो कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करती है। यह कीमोथेरेपी के असर को बढ़ाती है।

फलियां एवं दालें : ये प्रोटीन से भरपूर होती हैं एवं अग्नाशय (पैंक्रियाज) तथा बड़ी आंत की कोशिकाओं में होने वाले कैंसर की रोकथाम में सहायक हैं।
गाजर, आम, कद्दू : अल्फा और बीटा कैरोटीन्स कैंसर प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाते हैं एवं गर्भाशय, मूत्राशय, पेट और स्तन कैंसर की रोकथाम में लाभकारी होते हैं। टमाटर एवं तरबूज में मिलने वाला लाइकोपिन एंटीआॅक्सिडेंट का स्रोत होता है जो कोशिकाओं की क्षति को रोकता है और प्रोस्टेट कैंसर से बचाता है। 

परहेज :
शराब का अत्यधिक सेवन मुंह एवं खाने की नली, सांस की नली एवं पेट के कैंसर का मुख्य कारण है। इससे बचना चाहिए। संरक्षित खाद्य पदार्थ जिसमें काफी मात्रा में नमक होता है का सेवन नहीं करना चाहिए।
डिब्बाबंद फल, प्रोसेस्ड मीट, रेड मीट, डीप फ्रीजर में रखी गई मांस-मछली, कच्ची दाल, अंकुरित सलाद, मसालेदार भोजन, गाढ़ी ग्रेवी वाली सब्जियों से परहेज करें।
कैंसर के मरीजों को बहुत मीठा, चिकनाई युक्त भोजन भी नहीं लेना चाहिए। कैफीन, कॉफी, चाय, कोला और चॉकलेट का सेवन भी कम करना चाहिए। सी फूड एवं सैचुरेटेड फैट्स युक्त भोजन का उपयोग करने से बचना चाहिए।

Related Topics