Entertainment

अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने आर्यन खान को लेकर रखी अपनी बात, कहा

अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने आर्यन खान को लेकर रखी अपनी बात, कहा

मुंबई (एजेंसी)। ड्रग्स केस में आर्यन खान फसे हुए है। जिसको लेकर स्टार्स के कई प्रकार की प्रतिक्रिया आ रही है। इसी बीच बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने भी आर्यन खान मामले को लेकर अपनी बात रखी। शत्रु ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में शाहरुख़ खान का स्पोर्ट किया। अभिनेता ने आगे पत्रकार के सवाल का जवाब देते हुए कहा शाहरुख खान का बेटा होने के नाते आर्यन को टारगेट किया जा रहा है।

जो भारत में है वो भारतीय है

जब शत्रुघ्न सिन्हा से यह पूछा गया कि क्या शाहरुख को उनके धर्म के आधार पर निशाना बनाया जा रहा है। इस सवाल पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “हम यह नहीं कह सकते कि यह उनका धर्म है जो आड़े आया है। लेकिन कुछ लोग अब उस विषय का इस्तेमाल करने लगे हैं, जो बिल्कुल भी सही नहीं है। जो भी भारतीय है वह भारत का पुत्र है और हमारे संविधान के तहत सभी समान हैं।

आर्यन का विरोध किया जा रहा है, क्योंकि वह SRK का बेटा है

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि आर्यन का विरोध किया जा रहा है, क्योंकि वह SRK का बेटा है। उन्होंने कहा, “निश्चित रूप से शाहरुख ही कारण हैं, जिसके कारण उनके बेटे को निशाना बनाया जा रहा है। मुनमुन धमेचा और अरबाज मर्चेंट जैसे और भी नाम हैं, लेकिन कोई उनके बारे में बात नहीं कर रहा है। पिछली बार जब ऐसा हुआ था, तो ध्यान दीपिका पादुकोण पर था।

हालांकि, इसमें अन्य नाम भी शामिल थे और जाने-माने नाम भी थे। लेकिन, ध्यान केवल उन्हीं पर था।” शत्रुघ्न सिन्हा का यह भी मानना है कि आर्यन के जरिए पॉवरफुल लोग शाहरुख को टारगेट कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “इस बार उनके पास खेलने के लिए आर्यन खान है, क्योंकि वह शाहरुख खान के बेटे हैं और उन्हें एक्टर के साथ स्कोर करने का मौका मिला है।” शत्रुघ्न सिन्हा इस फैक्ट की ओर भी इशारा करते हैं कि NCB के अधिकारियों को आर्यन के पास से कोई प्रतिबंधित पदार्थ नहीं मिला है।

शाहरुख को वकीलों और न्यायपालिका पर विश्वास रखना चाहिए

शत्रुघ्न सिन्हा को लगता है कि आर्यन का केस अच्छे वकीलों की टीम के हाथों में है। उन्होंने कहा, “शाहरुख को सतीश मानेशिंदे और न्यायपालिका जैसे वकीलों का आभारी होना चाहिए, जिन्होंने मामले में जवाब देने के लिए NCB को और समय देने से इनकार कर दिया है। साथ ही यह आश्चर्य की बात है कि अगर कोई रखरखाव नहीं था, तो मामला उस अदालत में जमानत के लिए क्यों गया? मैं एक बात यह भी बताना चाहूंगा कि शाहरुख और अन्य को अपने वकीलों और न्यायपालिका पर विश्वास रखना चाहिए और कानून का सम्मान करना चाहिए।

Related Topics