Astrology

कल है साँपो की देवी माँ मनसा की पूजा, जाने क्यों करते है पूजा

कल है साँपो की देवी माँ मनसा की पूजा, जाने क्यों करते है पूजा

दिपेश साहा . कहा जाता है कि ये भगवान शिव की मानस पुत्री है. वहीं पुराने ग्रंथो में ये भी कहा गया है कि मनसा देवी का जन्म कश्यप के मस्तिष्क से हुआ है. कुछ ग्रंथो की मानें तो उन्हें नागराज वासुकी की एक बहन पाने की इच्छा को पूर्ण करने के लिए, भगवान शिव ने उन्हें भेंट किया था. वासुकी इनके तेज को संभाल ना सके और इनके पोषण की ज़िम्मेदारी नागलोक के तपस्वी हलाहल को दे दी .| इनकी रक्षा करते करते हलाहल ने अपने प्राण त्याग दिए. अपने माता पिता में भ्रम होने के कारण इन्हे देवों द्वारा उठाए गए आनंद से वांछित रखा गया,इसलिए, वह उन लोगों के लिए बेहद उग्र देवी है, जो पूजा करने से इनकार करते हैं, जबकि उनके लिए बेहद दयालु और करुणामयी जो भक्ति के साथ उनकी पूजा करते हैं. मनसा देवी का पंथ मुख्यतः भारत के उत्तर-पूर्व क्षेत्र में केंद्रित है. मनसा देवी मुख्यत: सर्पों से आच्छादित तथा कमल पर विराजित हैं, सात नाग उनके रक्षण में सदैव विद्यमान हैं. इनके सात नामों के जाप से सर्प का भय नहीं रहता. ये इस प्रकार है: जरत्कारू, जगतगौरी, मनसा, सियोगिनी, वैष्णवी, नागभगिनी, शैवी, नागेश्वरी, जगतकारुप्रिया, आस्तिकमाता और विषहरी. देवी मनसा की आमतौर पर बरसात के दौरान पूजा की जाती है, क्योंकि साँप उस दौरान अधिक सक्रिय होते हैं. मनसा पूजा के लिए व्यवस्था वे प्रजनन के लिए एक महत्वपूर्ण देवी मानी जाती है, उनके पूजन से साँप का काटना ठीक हो जाता है और श्वासपटल, चिकन पॉक्स आदि जैसी बीमारियों से छुटकारा पाया जाता है. बंगाल कि लोक कथाओ में भी इनका नाम काफी प्रचलित है. माना जाता है, कि समुद्र मंथन के दौरान भगवान् शिव ने जब हलाहल विष का पान किया था, तो इन्होने ही भगवान शिव कि हलाहल विष से रक्षा की थी .