Spiritual

 चैत्र नवरात्री के पहले सोने से सजा मां बम्लेश्वरी का दरबार

चैत्र नवरात्री के पहले सोने से सजा मां बम्लेश्वरी का दरबार

डोंगरगढ़। चैत्र नवरात्री 22 मार्च से शुरू होने वाली है। डोगरगढ़ में नवरात्री से पहले मां बम्लेश्वरी के दरबार में तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस बार मां के दरबार की सजावट बहुत ख़ास रहेगी। मंदिर के गर्भगृह की दीवारों को दान में मिले तीन किलोग्राम सोने से सजाया गया है। इसमें राजस्थान के कलाकारों ने कलाकृतियां उकेरी हैं। बताया गया कि इस काम में जयपुर के बीस कारीगरों की टीम लगी थी, जिन्होंने 19 दिन में इस सजावट को पूरा किया।

ट्रस्टी संजीव गोमास्ता के अनुसार उभारदार आकृति के लिए इम्पोर्टेट कैरेमिक कोटेट पेंट का उपयोग किया गया है। इस कलाकृति का उपयोग राजस्थान के ऐतिहासिक इमारतों में किया गया है। उसी तर्ज पर मां बम्लेश्वरी मंदिर में इस तरह का प्रयोग पहली बार ट्रस्ट ने किया है। जानकारी के अनुसार मां बम्लेश्वरी मंदिर में साज-सज्जा का काम चल रहा है। सोने की नक्काशी का काम राजस्थान से आए 20 कारीगरों ने किया है। मंदिर गर्भगृह में प्रवेश के दौरान कारीगरों ने भी पुजारियों की तरह धोती धारण करके ही काम पूरा किया है। कारीगरों को मंदिर ट्रस्ट सात लाख रुपए का भुगतान करेगी।

मां बम्लेश्वरी शक्तिपीठ का इतिहास 2200 वर्ष पुराना है। प्राचीन समय में डोंगरगढ़ वैभवशाली कामाख्या नगरी के रूप में जाना जाता था। मां बम्लेश्वरी को राजा विक्रमादित्य की कुल देवी भी कहा जाता है, जो मध्यप्रदेश में उज्जैन के एक प्रतापी राजा थे। इतिहासकारों और विद्वानों ने इस क्षेत्र को कल्चुरी काल का पाया है। मंदिर की अधिष्ठात्री देवी मां बगलामुखी हैं, जिन्हें मां दुर्गा का स्वरूप माना जाता है। मां को मंदिर में बम्लेश्वरी के रूप में पूजा जाता है।

Related Topics