Science

नाम गुम जाएगा  विज्ञान खोज लाएगा

नाम गुम जाएगा विज्ञान खोज लाएगा

नवनीत कुमार गुप्ता
पिछले  दिनों होमी भाभा विज्ञान षिक्षा केन्द्र द्वारा विज्ञान परिषद् , इलाहबाद में हिन्दी में षैक्षिक विज्ञान सामग्री के विकास पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसी कार्यक्रम के दौरान लेखक द्वारा भविष्य में विज्ञान की विभिन्न विधाओं से अनेक वैज्ञानिक एवं सामाजिक समस्याओं के हल निकलने पर विचार-विमर्श में किया गया। भविश्य में जिस दो क्षेत्रों से सबसे अधिक समाधान निकलेंगे उनमें नैनो टेक्नोलॉजी यानी नैनोप्रौद्योगिकी एवं बॉयोटेक्नोलॉजी यानी जैवप्रौद्योगिकी प्रमुख होंगे। 
   इस लेख में सबसे पहले हम इन दोनों विशयों को संक्षेप में समझने का प्रयास करते हैं। सबसे पहले यदि हम नैनोप्रौद्योगिकी  की बात करें तो इसमें हमें जो नैनो शब्द उपसर्ग के रूप में दिखता है असल में वह अत्यंत छोटे पैमाने को दषार्ता है। असल में नैनोमीटर एक मीटर का एक अरबवां हिस्सा होता है (मीटर का 10-9 हिस्सा) यानी अगर हमारे बाल की मोटाई लें तो वह करीब 80,000 नैनोमीटर होगी यानी बाल को मोटाई से 80,000 बार काटें तो एक टुकड़ा 1 नैनोमीटर होगा। इस सूक्ष्म स्तर पर कार्य करने से वैज्ञानिकों ने अनेक महत्वपूर्ण खोजें की हैं। नैनोमीटर की लघुता और महत्ता को हम इस बात से भी समझा जा सकता हैं कि अब छोटी चीजों में अनेक सुविधाएं दी जा रही हैं जैसे हमारा मोबाईल फोन जिसमें कैमरा, घड़ी, केलकुलेटर सहित अनेक एप्प हैं। आज मोबाईल से ई-बेंकिंग जैसी सुविधाएं हमारे पास हैं।  
   दूसरा महत्वपूर्ण क्षेत्र जैवप्रौद्योगिकी का है जिसके अंतर्गत कोषिका एवं जीन स्तर पर परिवर्तन कर वैज्ञानिक महत्वपूर्ण खोजें कर रहे हैं। इसी का परिणाम है कि आज डीएनए परीक्षण जैसे कार्यों से अनेक अपराधों का पता लगाया जा रहा है। बिछुड़ गए बच्चों को भी सालों बाद डीएनए परीक्षण के बाद अपने माता-पिता के पास पहुंचाया जा सकता है। जैवप्रौद्योगिकी के तहत अनेक असाध्य समझे जाने वाले रोगों का ईलाज भविश्य में संभव होगा। अनाज की नयी-नयी किस्में भी इसी की बदौलत विकसित हो रही हैं।  अब समझ सकते हैं कि किस तरह से विज्ञान के विभिन्न क्षेत्र आपस में मिलजुल कर कार्य करते है। उनकी इस परस्पर कार्यप्रणाली से अनेक सामाजिक एवं वैज्ञानिक समस्याओं को हल किया जा सकता है।  आज भारत ही नहीं पूरे विष्व में मानव तस्करी एवं मानव अंग व्यपार का गैरकानूनी कार्य बड़े स्तर पर किया जा रहा है। बच्चों की तस्करी करके लोग उन्हें खतरनाक एवं घरेलू कामों में गैरकानूनी ढंग से लगाकर उनका जीवन बर्बाद कर रहे हैं। भारत में हर दिन हजारों बच्चे गुम जाते हैं जिनमें से अधिकतर का पता नहीं लगता। तो क्या विज्ञान और प्रौद्योगिकी के पास इस समस्या का समाधान है ? 
     इस प्रश्न का हल हमें विज्ञान के कुछ क्षेत्रों में मिल सकता है। हमारे सामने सबसे पहला सवाल यह होता है कि हम क्या यह पता लगा सकते हैं कि कोई बच्चा किसी समय कहां पर है तो उसके लिए हम कह सकते हैं कि जिस तरह मोबाईल फोन से जीपीएस के माध्यम से फोन की लोकेषन यानी उसकी स्थिति का पता लगा कर हमें फोन के मालिक का पता लगा सकते हैं यदि इसी प्रकार से जीपीएस लगा कोई ऐसा उपकरण बच्चों को दिया जाए तो हम उसकी हर स्थिति का पता लगा सकते है। इसी तरह जीपीएस का प्रयोग हाल के वर्शों में वन्यजीव संरक्षण में किया जा रहा है। पहले षेरों या बाघों के पैरो के निषानों को देखकर उनकी संख्या का अनुमान लगाया जाता था। लेकिन अब इन जीवों के षरीर से जीपीएस प्रणाली से संबंधित एक चिप लगा दी जाती है जिससे इन जीवों के बारे में पल-पल की खबर हमें आसानी से मिल जाती है। इस तरह इन जीवों के अध्ययन और इनके संरक्षण के प्रयास ओर अच्छे से किए जा रहे हैं। इसी तरह से दिल्ली स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के एक दल ने ध्वनि विज्ञान की मदद से डॉल्फिन संरक्षण संबंधी प्रयोग किए। तो इस तरह के अनेक प्रयोगों के आधार पर हम कह सकते हैं कि किसी उपकरण के माध्यम से जीपीएस आदि प्रौद्योगिकीयों के माध्यम से हम किसी भी व्यक्ति की स्थिति का पता लगा सकते हैं।


    लेकिन इसमें सबसे बड़ी समस्या यह है कि व्यक्ति के पास हमेंषा वह उपकरण या चिप लगी हो तभी उसकी स्थिति का पता लग सकेगा। तो इस प्रकार कुंभ जैसे मेलों जैसी भीड़-भाड़ वाले स्थानों में जाने वाले बच्चों के साथ यदि कोई चिप लगा दी जाए तो जीपीएस के माध्यम से उस बच्चे के गुम हो जाने पर उसके बारे में पता लगाया जा सकेगा। लेकिन उस स्थिति में क्या होगा जब बच्चों की तस्करी या अपहरण करने वाले लोग उस चिप को बच्चों से अलग कर दें तब बच्चों को कैसे खोजा जाए? सरसरी तौर पर सबसे आसान तरीका तो यह होगा कि बच्चों के षरीर में आॅपरेषन करके कोई छोटी सी चिप फिट कर दी जाए जो जीपीएस प्रणाली से जुड़ी तो इस प्रकार हर बच्चे का पता लगाया जा सकेगा। लेकिन इस प्रयोग में खतरा यह है कि यदि अपहरण कर्ता या तस्कर लोग भी विज्ञान की मदद लें और स्कैनिंग मषीनों के माध्यम से षरीर में लगी चिप का पता लगा कर उस चिप को निकाल लें तो परेषानी और भी बढ़ जाएगी। तो इसके लिए भविश्य में विज्ञान की दो प्रमुख विधाएं जैवप्रौद्योगिकी एवं नैनोप्रौद्योगिकी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। यह तो हम जानते ही हैं कि जैवप्रौद्योगिकी की मदद से विकसित टीकों ने अनेक बीमारियों से मुक्ति दिला दी है। बचपन में ही समय-समय पर विभिन्न टीकों को दिया जाता है जिससे अनेक बीमारियों से हम जीवनभर बचे रहते हैं।   तो क्या ऐसा संभव है कि बचपन में ही कोई ऐसा नैनो उपकरण या नैनोचिप या नैनाकण हमारे रक्त में डाल दी जाए जिसका पता भी नहीं चले और वह जीपीएस प्रणाली से जुड़ी भी हो। यह तो हमें पता ही है कि हाल के वर्षों में वैज्ञानिकों ने पेंसिल से बनाए गए बिंदु से भी बहुत गुना छोटे रोबोट के द्वारा शरीर के अंदर की गतिविधियों या रोगों का पता लगाया जा रहा है। भविश्य में नैनोविज्ञान द्वारा इन सूक्ष्म नैनोकणों या नैनोरोबोट की मदद से कैंसर फैलाती कोशिकाओं को ढूंढ सकेंगे और उनका सफाया कर सकेंगे।   तो क्या ऐसा हो सकता है कि बचपन में ही ऐसे नैनोकणों को षरीर में छोड़ दिए जाएं जो जीपीएस या ऐसी अन्य प्रणाली से जुड़े हों जिससे व्यक्ति की स्थिति का पता लग सके। तो यदि भविश्य में ऐसा होता है तो गुम हुए बच्चों या अपहरण किए गए बच्चों का आसानी से पता लगाया जा सकेगा। दिल्ली के एक जवाहरलाल नेहरु विष्वविद्यालय से एक छात्र के गुम होने जैसे मामलें भी तब षायद नहीं होंगे। तो इस प्रकार विज्ञान सामाजिक सुरक्षा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। जिस तरह से जैवसंदीप्ति के कारण जुगनू नामक कीट षरीर से निकली रोषनी से वह अपने आप को छुपा नहीं सकता है इसी प्रकार मानव षरीर में भी नैनोस्तर पर हेरफेर करके किसी व्यक्ति की स्थिति का पता लगाना संभव हो सकेगा।  लेकिन हमें इसके दूसरे पक्ष पर भी ध्यान देना होगा यदि नैनोकण वाला बच्चा भविश्य में सेना में किसी खुफिया मिषन पर हो और उसके अंदर स्थित नैनोकण के माध्यम से उसकी स्थिति का पता लगा लिया जाए तो इससे उसे खतरा भी उत्पन्न हो सकता है ऐसे में जैवप्रौद्योगिकी की मदद से उन नैनोकणों को इस प्रकार कोडित किया जा सकता है जिससे केवल चयनित व्यक्ति ही उसकी स्थिति के बारे में पता लगा पाए। असल में विज्ञान के द्वारा हर समस्या का समाधान किया जा सकता है बस आवष्यकता होती है धैर्य के साथ विज्ञान को समझने और जानने की ताकि वह मानवता का सबसे बड़ा हितैशी बना रहे। लेख : नवनीत कुमार गुप्ता, परियोजना अधिकारी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग