National

जम्मू-कश्मीर: हंदवाड़ा मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर, ऑपरेशन में सेना के 2 अफसर समेत 5 जवान भी शहीद

जम्मू-कश्मीर: हंदवाड़ा मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर, ऑपरेशन में सेना के 2 अफसर समेत 5 जवान भी शहीद

श्रीनगर (एजेंसी ). उत्तर कश्मीर में हंदवाड़ा इलाके के एक गांव में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक कर्नल और एक मेजर समेत पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गये. अधिकारियों ने रविवार को बताया कि हंदवाड़ा के चांजमुल्ला इलाके में हुई मुठभेड़ में दो आतंकवादी भी मारे गए. यह इलाका उत्तर कश्मीर के कुपवाड़ा जिले का हिस्सा है. उन्होंने बताया कि सेना के अधिकारी आतंकवादियों द्वारा बंधक बनाए गए नागरिकों को बचाने जा रही टीम का नेतृत्व कर रहे थे. भारतीय सेना की तरफ से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है, 'नागरिकों को सुरक्षित निकालते हुए हमारे जवान आतंकियों की भारी फायरिंग की चपेट में आ गये.शहीद होने वाले जवानों में चार भारतीय सेना और एक जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक जवान हैं. भारतीय सेना के सूत्रों के मुताबिक हंदवाड़ा में आतंकियों के छिपे होने की सूचना के बाद ऑपरेशन चलाया गया. इस दौरान छिपे हुए आतंकियों ने फायरिंग की, जिसमें 21 राष्ट्रीय रायफल्स के कर्नल, मेजर और दो जवान शहीद हो गए. जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर भी मुठभेड़ में शहीद हुए हैं. फिलहाल गोलीबारी रूक गई है, सुरक्षाबलों ने इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रखा है. पूरे इलाके को सील कर दिया गया है. गाड़ियों की आवाजाही पर रोक लगा दी गयी है.
यह मुठभेड़ शनिवार शाम से चल रही थी. देर रात मुठभेड़ में सेना के दो अफसरों समेत सुरक्षा बलों के पांच जवान लापता हो गए थे. इनका टीम से संपर्क कट गया था. आपको बता दें कि कुपवाड़ा में तलाशी अभियान के 20 घंटे बाद आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच शनिवार को दोपहर बाद मुठभेड़ शुरू हुई. इससे पहले करीब दो बार आतंकी जंगल क्षेत्र की ओर भाग खड़े हुए थे.
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके कहा है कि हंदवाड़ा में हमारे जवानों और सुरक्षाकर्मियों को खोना बेहद दर्दनाक है.उन्होंने आतंकवादियों के खिलाफ अपनी लड़ाई में अद्वितीय साहस दिखाया और देश की सेवा करते हुए शहीद हो गये. हम उनकी बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेंगे. उन्होंने कहा कि मैं सैनिकों और सुरक्षाकर्मियों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं जो शहीद हुए हैं. मेरी संवेदना उन परिवारों के लिए है जिन्होंने आज अपने प्रियजनों को खो दिया है. भारत इन बहादुर शहीदों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है.

Related Topics