Trend News

चूहे की हत्या के आरोप में व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज

चूहे की हत्या के आरोप में व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज

बदायूं (एजेंसी)। उत्तरप्रदेश के बदायूं शहर में अनोखा मामला सामने आया है, जहां चूहे की हत्या के आरोप में एक व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज हुई है। यह पूरा मामले बदायूं शहर के पनवड़िया मुहल्ले का है, जहां रहने वाले मनोज के खिलाफ एक पशु प्रेमी ने चूहे की हत्या के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

मनोज के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज हो गई और शांति भंग में चालान भी हो गया। देश विदेश में सुर्खियां बटोरने वाली इस खबर के केंद्र मनोज ने अब एक सवाल किया है। उनका कहना है कि जब चूहे को मारने पर कार्रवाई हो सकती है, तो मुर्गे, बकरे आदि को काटने वालों पर केस क्यों दर्ज नहीं किया जाता।

चूहे की हत्या में फंसे मनोज ने कहा कि चूहों से उन्हें कितना नुकसान हुआ यह वही जानते हैं, लेकिन मुर्गा बकरा तो किसी को नुकसान नहीं पहुंचा रहे, फिर उन्हें क्यों काटा जा रहा है। पशु प्रेमी को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए, उन्हें इन पशुओं की भी हत्या बंद करानी चाहिए।

पनवड़िया मुहल्ले में मनोज का घर उसी नाले के पास है, जिस नाले में उन्होंने चूहे को डुबो कर मार दिया था। वह कहते हैं नाले के पास घर होने के चलते चूहे उनके और आसपास के घरों में घुसे ही रहते हैं। पूरे मुहल्ले के लोग चूहा पकड़ कर लाते हैं और नाले के पास छोड़ जाते हैं। किसी से मना करो तो विवाद खड़ा हो जाता है।

मनोज बताते हैं कि वह अपने माता पिता, पत्नी और तीन बेटियों के साथ रहते हैं। मिट्टी के बर्तन का काम करते हैं। जरा सा ध्यान भटक जाए तो चूहे उनके बनाए हुए मिट्टी के बर्तन तोड़ जाते हैं। बताते हैं कि एक बार बनाया हुआ बर्तन जरा सा सूख जाए तो वह मिट्टी किसी काम नहीं आती।

मनोज ने चूहाें से जुड़ी एक दर्द भरी कहानी भी बयां की। बताया कि उनकी सबसे छोटी बेटी जब गोद में थी। उस समय एक चूहा उसके हाथ की खाल नोंच ले गया था। बेटी बोल भी नहीं पाती थी, जब वह रोई तब वह लोग पहुंचे तो चूहा भाग गया। उस समय उसके इलाज में काफी रुपये खर्च हुआ था। उस समय तो कोई पशु प्रेमी नहीं आया था। उन्होंने पशु प्रेमी विकेंद्र को लेकर कहाकि वह सच्चे पशु प्रेमी हैं तो देश भर में कट रहे मुर्गे, बकरों को बचाएं। बोले- मैं अपने किए पर माफी मांग रहा हूं।

दरअसल 24 नवंबर को मनोज ने एक चूहे की पूंछ में पत्थर बांधकर उसको नाले में फेंक दिया था। ये घटना एक पशु प्रेमी विकेंद्र ने देख ली थी। विक्रेंद्र ने चूहे को बाहर भी निकाला और मनोज के खिलाफ शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने मनोज को थाने बुलाया और फिर उसको छोड़ दिया था। बरेली में चूहे का पोस्टमार्टम भी करवाया। फिर मनोज के खिलाफ पशु क्रूरता का केस 28 नवंबर को दर्ज हुआ है।

Related Topics