Chhattisgarh

Previous123456789...403404Next

प्रदेश में अनुकंपा नियुक्ति के 12 मामले में की नवीन पदस्थापना, आदेश जारी

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। सामान्य प्रशासन विभाग मंत्रालय नवा रायपुर द्वारा संचालनालय उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी विभाग के अंतर्गत अनुकंपा नियुक्ति के 12 मामले में नवीन पदस्थापना आदेश जारी किया गया है। संचालक उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अनुकंपा नियुक्ति हेतु गठित छानबीन समिति द्वारा परीक्षणों के उपरान्त उपयुक्त पाए गए आवेदनों को माली के पद पर पदस्थ किया गया है।

जारी आदेश के तहत सोनमती कुंजाम को माली के पद पर सहायक संचालक उद्यान जिला सुकमा के अधीन, सुशील कुमार पैकरा को सहायक संचालक उद्यान जिला गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, अजय कुमार बंजारे को उप संचालक उद्यान जिला बिलासपुर, निद्रावती चौहान को सहायक संचालक उद्यान जिला जशपुर, बाबूलाल को सहायक संचालक उद्यान जिला सूरजपुर, नवीन राज को सहायक संचालक उद्यान जिला जांजगीर, चिरंजीव झारिया को सहायक संचालक उद्यान जिला राजनांदगांव, आनंद सिंह कुशवाहा को सहायक संचालक उद्यान जिला जांजगीर, कु. शैलेन्द्री पोया को सहायक संचालक उद्यान जिला धमतरी, नागुल देव लाल को सहायक संचालक उद्यान जिला कोण्डागांव, अपर्णा चतुर्वेदी को उप संचालक उद्यान जिला बिलासपुर तथा रेणुका निषाद को उप संचालक उद्यान जिला दुर्ग के अधीन माली के पद पर अस्थायी रूप से पदस्थ किया गया है।

View More...

प्लॉट और दुकान खरीदने से पहले हो जाये सावधान, जिला.प्रशासन ने जारी की एडवाइजरी

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। भवन अथवा भूखंड खरीद में दस्तावेज काफी अहम होते हैं। आए दिन इस तरह के मामले सामने आते हैं जिनमें प्रॉपर्टी की खरीद फरोख्त में धोखाधड़ी हो जाती है। आमतौर पर लोग पूरी जिंदगी की गाढ़ी कमाई घर, प्लॉट या दुकान खरीदने में लगा देते हैं।

ऐसे में अगर उनके साथ धोखा हो जाए फिर वह कहीं के नहीं रह जाते। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए नगर तथा ग्राम निवेश क्षेत्रीय कार्यालय कबीरधाम के सहायक संचालक ने एक एडवाइजरी की है। नगर तथा ग्राम निवेश क्षेत्रीय कार्यालय कबीरधाम के सहायक संचालक ने बताया कि भवन अथवा भूखंड खरीदने के पूर्व बिल्डर, कॉलानाईजर, भूखंड, भवन विक्रेता, सहकारी समिति अथवा अर्द्धशासकीय संस्थाओं में निम्न दस्तावेजों की मांग कर आवश्यक जांच कर लें एवं वैद्य पाए जाने पर भवन, भूखंड क्रय करने की कार्यवाही करें।

उन्होंने बताया कि बिल्डर या संस्था का नगर निगम/नगर पालिका अथवा अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) द्वारा जारी कॉलोनाईजर रजिस्ट्रेशन का प्रमाण पत्र होना चाहिए। भूमि क्रय संबंधी दस्तावेज, नगर तथा ग्राम निवेश द्वारा स्वीकृत अभिन्यास (एप्रूव लेआउट) की प्रति एवं उसमें भूखंड की स्थिति, नगर निगम/नगर पालिका/अनुविभागीय अधिकारी-राजस्व द्वारा जारी कॉलोनी विकास की अनुमति क्रमांक एवं दिनांक सहित उल्लेख होना चाहिए। इसी प्रकार शासन के राजस्व विभाग के भू-व्यपवर्तन प्रमाण पत्र, कॉलोनी अथवा समूह आवास की स्थिति में नगर पालिक निगम/नगर पालिका/नगर तथा ग्राम निवेश विभाग द्वारा स्वीकृत भवन निर्माण अनुज्ञा एवं विक्रेता के पक्ष में नवीनतम बी-1 की प्रति होनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि स्वीकृत अभिन्यास में आरक्षित 15 प्रतिशत ई. डब्ल्यू. एस. भूमि, स्कूल, उद्यान हेतु आरक्षित भूमि बंधक भूखंड/बंधक फ्लैट न खरीदें। कृषि भू-उपयोग वाली भूमि का आवास मद में उपयोग नहीं किया जा सकता है तथा अवैध प्लाटिंग की भूमि भी न खरीदें।

View More...

मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह योजना में शामिल होंगे सीएम बघेल, रायपुर के इन्डोर स्टेडियम में परिणय सूत्र में बंधेंगे 240 जोड़े

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री राजधानी रायपुर के सरदार बलवीर सिंह जुनेजा इन्डोर स्टेडियम में आयेजित मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह कार्यक्रम में शमिल होंगे। महिला एंव बाल विकास विभाग के द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में 240 जोड़े परिणय सूत्र में बंधेगे, जिसमें 3 ईसाई और 1 मुस्लिम जोड़ा भी शामिल है।

उल्लेखनीय है कि 27 फरवरी को सुबह 11 बजे प्रदेश के 22 जिलों में एक साथ सामूहिक विवाह का आयोजन किया जा जा रहा है। इनमें करीब एक साथ 3 हजार 300 जोड़ियां विवाह बंधन में बंधेंगे। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विघानसभा अघ्यक्ष चरणदास महंत, सहित मंत्रीमंडल के सदस्य, सांसद, विधायकगण, महापौर और कई जनप्रतिनिधि, राज्य शासन के वरिष्ठ अधिकारी, रायपुर के बूढ़ा तालाब के समीप इंडोर स्टेडियम परिसर में आयोजित इस विवाह कार्यक्रम में शामिल होंगे। अन्य जिलों में दाम्पत्य जीवन में बंधने वाले वर-वधुओं को मुख्यमंत्री डिजीटल माध्यम से आर्शीवाद भी देंगे।

राज्य सरकार द्वारा निम्न आय वर्ग परिवार के बेटियों की शादी की चिंता दूर करने और शादियों में होने वाले फिजूलखर्ची को सामूहिक विवाह के माध्यम से कम करने के उद्देश्य मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह के तहत विवाह का पूरा खर्च किया जाता है। उल्लेखनीय है कि बेटियों के विवाह में किसी प्रकार की कमी न हो इसे देखते हुए राज्य सरकार नेयोजना के तहत राशि 15 हजार से बढ़ाकर 25 हजार की है। इसके तहत वर-वधुओं को सुहाग सहित श्रृंगार और नए जीवन के लिए घरेलु उपयोग की विविध सामग्री प्रदाय की जाएगी।

View More...

राजिम माघी पुन्नी मेले की मुख्यमंत्री बघेल ने प्रदेशवासियों को दी बधाई व शुभकामनाएं

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री ने 27 फरवरी से प्रारंभ हो रहे राजिम माघी पुन्नी मेला और शिवरीनारायण मेला की प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। श्री बघेल ने कहा है कि राजिम माघी पुन्नी मेला में पूरे छत्तीसगढ़ की लोक कला संस्कृति का दर्शन होता है। छत्तीसगढ़ के प्रयागराज के रूप में प्रसिद्ध राजिम में महानदी, पैरी और सोंढूर नदियों का पवित्र त्रिवेणी संगम है।

इस पवित्र संगम में सदियों से इस मेले का आयोजन हो रहा है। छत्तीसगढ़ ही नहीं आसपास के राज्यों के लोग भी बड़ी संख्या में श्रद्धा के साथ इस मेले में शामिल होते हैं। राज्य सरकार ‘राजिम माघी पुन्नी मेला‘ को उसका मूल स्वरूप प्रदान कर छत्तीसगढ़ की गौरवशाली सांस्कृतिक परम्पराओं को संरक्षित और संवर्धित करने का प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है, इसके खतरे की चुनौतियां अभी भी कायम हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि माघी पुन्नी मेले में जाते समय कोविड-19 से बचाव के लिए मास्क पहनें, शारीरिक दूरी बनाए रखें और सभी आवश्यक दिशा-निर्देशों का पालन करें।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल लालबहादुर नगर डोंगरगढ़ में दो दिवसीय लोक मड़ई व कृषि मेला का करेंगे शुभारंभ

Date : 27-Feb-2021

राजनांदगांव। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लालबहादुर नगर (डोंगरगढ़) में 27 फरवरी को दो दिवसीय लोक मड़ई एवं कृषि मेला का शुभारंभ करेंगे। जिले के विकासखंड डोंगरगढ़ के लालबहादुर नगर में इस साल 27 फरवरी एवं 28 फरवरी को लोक मड़ई एवं कृषि मेले का आयोजन किया जा रहा है। लोक मड़ई के दौरान प्रतिदिन शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति होगी। डोंगरगांव विधायक एवं अध्यक्ष छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण एवं अन्य पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण दलेश्वर साहू लोक मड़ई एवं कृषि मेले के संरक्षक हैं।

खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत शुभारंभ समारोह की अध्यक्षता करेंगे। विधायक मोहला-मानपुर एवं संसदीय सचिव इन्द्रशाह मंडावी, विधायक डोंगरगढ़ एवं अध्यक्ष अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण भुनेश्वर बघेल, विधायक खुज्जी श्रीमती छन्नी चन्दु साहू, वरिष्ठ जनप्रतिनिधि पदम कोठारी, अध्यक्ष जनपद पंचायत भावेश सिंह शुभारंभ समारोह के विशिष्ठ अतिथि होंगे। लोक मड़ई का समापन 28 फरवरी को होगा। समापन समारोह दोपहर 2 बजे शुरू होगा। संसदीय कार्य, विधि एवं विधायी कार्य, कृषि और जैव प्रौद्योगिकी पशुपालन, मछली पालन, जल संसाधन एवं आयकट मंत्री रविन्द्र चौबे लोक मड़ई एवं कृषि मेले के समापन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। परिवहन, वन, आवास एवं पर्यावरण तथा जिले के प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर समापन समारोह की अध्यक्षता करेंगे। महापौर नगर निगम राजनांदगांव श्रीमती हेमा देशमुख, अध्यक्ष राजगामी संपदा न्यास राजनांदगांव विवेक वासनिक, सदस्य अल्पसंख्यक आयोग हफीज खान, वरिष्ठ जनप्रतिनिधि नवाज खान, जनप्रतिनिधि हीरा सोनी समापन समारोह के विशिष्ठ अतिथि होंगे।

00 27 फरवरी के सांस्कृतिक कार्यक्रम -
पंडवानी जुगलबंदी - शांति बाई चलक, चेतन मानिक पुरी, मीना साहू, अल्का चन्द्राकर परगनिहा - लोक गायिका, कविता वासनिक - लोक गायिका, सुनील सोनी - लोक गायक, शैलेश साव - प्रहसन, प्रभू सिन्हा - लोक गायक, दिलीप षडंगी - जस गायक, नीलकमल वैष्णव - लोक गायक, विष्णु कश्यप - लोक गायक, लोक धारा लोक कला मंच कार्यक्रम होंगे।

00 28 फरवरी के सांस्कृतिक कार्यक्रम -
ओडिसी नृत्य - संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ शुशान्त, नाचा जुगलबंदी - नरेश साहू एवं साथी, गरिमा, स्वर्णा दिवाकर - लोक गायिका, घेवर यादव, भोला साहू -प्रहसन, ननकी ठाकुर, निर्मला ठाकुर- लोक गायिका, महादेव हिरवानी - लोक गायक, दुकालू यादव - जस गायक, संजय सुरीला - लोक गायक, राग अनुराग लोक कला मंच दुर्ग, रिंकी देवांगन - लोक गायिका के कार्यक्रम होंगे।

View More...

सीएम बघेल ने केंद्रीय खाद्य मंत्री से मिलकर दोहराई एफसीआई में 40 लाख टन चावल लेने की मांग

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री बघेल ने केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल से नई दिल्ली के रेल भवन में मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ से केन्द्रीय पूल में 40 लाख मैट्रिक टन चावल उपार्जित किये जाने की मांग की ओर गोयल का ध्यान पुनः आकृष्ट कराया।

मुख्यमंत्री बघेल ने बैठक के दौरान केन्द्रीय मंत्री गोयल को इस सबंध में एक पत्र भी दिया। पत्र में यह उल्लेखित है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के लिए भारत सरकार की खाद्य सचिवों की बैठक में छत्तीसगढ़ के लिए 60 एलएमटी चावल केन्द्रीय पूल में लिये जाने की सैद्धांतिक सहमति प्रदान की गई है । भारतीय खाद्य निगम में केन्द्रीय पूल अंतर्गत 24 एलएमटी चावल ही लिये जाने की अनुमति प्रदान की गई है। छत्तीसगढ़ प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में विकेन्द्रीकृत उपार्जन योजनांतर्गत समर्थन मूल्य पर 20.53 लाख किसानों से 92 एलएमटी धान का उपार्जन किया गया है।

उल्लेखनीय है कि एम.ओ. यू. के तहत उपार्जित धान में से राज्य की पीडीएस की आवश्यकता के अतिरिक्त चावल का स्टॉक भारतीय खाद्य निगम को प्रदाय किये जाने के निर्देश हैं, अतः उक्त प्रावधानों के तहत भारत सरकार द्वारा राज्य की आवश्यकता के अतिरिक्त शेष समस्त सरप्लस धान का अनुपातिक चावल 40 एलएमटी को भारतीय खाद्य निगम में केन्द्रीय पूल अंतर्गत लिये जाने का अनुरोध है।

खरीफ वर्ष 2019-20 में 1.24 करोड़ किसानों से खरीदी की गई थी जो खरीफ वर्ष 2020-21 में 1.54 करोड़ किसानों (24 प्रतिशत वृद्धि) से खरीदी की गई है । जबकि छत्तीसगढ़ प्रदेश में खरीफ वर्ष 2019-20 में 18.38 लाख किसानों से 83.94 लाख टन धान की खरीदी की गई थी जो खरीफ वर्ष 2020-21 में बढ़कर 20.53 लाख किसानों (11.69 प्रतिशत वृद्धि) से 92 लाख टन (9.60 प्रतिशत वृद्धि) धान की खरीदी की गई है। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में उपार्जित धान की मात्रा का गतवर्ष खरीफ विपणन वर्ष 2019 20 में उपार्जित धान की मात्रा से तुलनात्मक वृद्धि राष्ट्रीय औसत के अंतर्गत है ।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना अंतर्गत बोनस की कोई राशि नहीं दी जा रही है । रकबा आधारित कृषि (इनपुट सपोर्ट) योजना है, जो कि खरीफ की 4 फसलों के लिए है । 2020-21 वर्ष के लिए कोई राशि घोषित नहीं की गई है
उल्लेखनीय है कि पूर्व खरीफ विपणन वर्षों 2016-17, 2017 -18, 2018-19 में भी राज्य शासन द्वारा धान पर प्रोत्साहन राशि (बोनस) प्रदाय किये जाने पर भी खाद्य विभाग भारत सरकार द्वारा भारतीय खाद्य निगम में चावल जमा किये जाने की अनुमति दी जाती रही है । अतः वर्तमान खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समस्त सरप्लस धान का चावल भारतीय खाद्य निगम में उपार्जन करने के लिए 24 लाख टन अनुमति मात्रा को बढ़ाकर 40 लाख टन किये जाने का अनुरोध है ।

खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में छत्तीसगढ़ में 92 लाख मे टन धान का उपार्जन 4.60 लाख गठान बारदानों में किया गया है जूट कमिश्नर द्वारा मात्र 1.09 लाख गठान नये जूट बारदाने की ही आपूर्ति की गई है। अतः प्रदेश में नये जूट बारदाने की उपलब्धता काफी कम है। राज्य शासन द्वारा पीडीएस की आवश्यकतानुसार लगभग 24 लाख टन चावल नागरिक आपूर्ति निगम (सेंट्रल एवंस्टेट पूल हेतु) में भी जमा किये जाने की कार्यवाही प्रचलित है ।

उल्लेखनीय है कि भारतीय खाद्य निगम में चावल जमा करने हेतु अधिकतम 49 हजार गठान नवीन जूट बारदाना ही उपलब्ध कराये जा सकेंगे, जबकि 24 लाख मे० टन चावल जमा करने के लक्ष्य हेतु 96 हजार नवीन बारदानों की आवश्यकता है। अतः चावल जमा करने हेतु नवीन जुट बारदानो की लगभग 47 हजार गठान की कमी है। नये बारदानों की कमी के कारण भारतीय खाद्य निगम में दी गई अनुमति 24 लाख टन के विरूद्ध मात्र 4.57 लाख टन चावल ही उपार्जन हो पाया है । नये जूट बारदाने की आपूर्ति धान खरीदी हेतु कुल बारदाने की आवश्यकता का मात्र 25 प्रतिशत ही की गई है अतः नये जूट बारदाने की कमी के कारण used gunny bags का उपयोग भारतीय खाद्य निगम में सीएमआर उपार्जन कार्य में किया जाना आवश्यक हो गया है। उपरोक्त के संबंध में भारत सरकार से अनुरोध किया गया है। विषय की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में नये जूट बारदाने की कम आपूर्ति को ध्यान में रखते हुए भारतीय खाद्य निगम में used gunny bags में भी चावल उपार्जन किये जाने हेतु भारतीय खाद्य निगम को निर्देशित किये जाने का अनुरोध है।

बघेल ने इसके साथ ही केन्द्रीय मंत्री से खाद्य सब्सिडी की दावा राशि 5214.97 करोड़ की प्रतिपूर्ति जल्द किए जाने का आग्रह किया, जिस पर गोयल ने बजट की राशि जारी होने पर 4832 करोड़ रूपए जारी करने का भरोसा दिलाया है। मुलाकात के दौरान छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत और कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी और खाद्य विभाग के सचिव डॉ कमलप्रीत सिंह उपस्थित रहे।

View More...

विधानसभा अध्यक्ष महंत ने श्यामाचरण शुक्ल की जयंती पर उन्हें स्मरण करते हुए दी श्रद्धांजलि

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता स्वर्गीय श्यामाचरण शुक्ल की जयंती पर उन्हें स्मरण करते हुए श्रद्धांजलि दी है।

विस् अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने कहा कि, पंडित श्यामाचरण शुक्ल कांग्रेस के वरिष्ठ एवं कद्दावर नेता रहे हैं। वे एक अनुभवी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेता थे और तीन बार अविभाजित मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया। पंडित श्यामाचरण शुक्ल छत्तीसगढ़ की माटी के सच्चे सपूत थे। सरल-सहज व्यक्तित्व के धनी पंडित शुक्ल ने अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में एक सजग और कर्मठ राजनेता के रूप में छत्तीसगढ़ सहित समूचे मध्यप्रदेश की प्रगति के लिए अनेक क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य किया है।

View More...

कॉमन सर्विस सेंटर पर बनेंगे निःशुल्क आयुष्मान कार्ड 1 मार्च से

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। नेशनल हेल्थ ऑथोरिटी तथा कॉमन सर्विस सेंटर के बीच 18 फ़रवरी को एमओयू पर हुए हस्ताक्षर के बाद अब छत्तीसगढ़ सहित देश के 10 राज्यों में आयुष्मान कार्ड नि:शुल्क बनाया जा सकेगा। भारत सरकार द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि यह सुविधा 1 मार्च से प्रारंभ होगी।

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत इन राज्यों के लाभुकों को पीवीसी (पोलिविनाइल क्लोराइड) आयुष्मान कार्ड निःशुल्क दिए जाएंगे। इसको लेकर यह प्रक्रिया पहले चरण में 10 राज्यों व संघ शासित प्रदेशों में शुरू की जा रही है, जिसमें छत्तीसगढ़ सहित मणिपुर, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, त्रिपुरा, नागालैंड, चंडीगढ़, पुदूचेरी, बिहार तथा मध्यप्रदेश आदि शामिल हैं। अन्य प्रदेशों में भी नि:शुल्क पीवीसी आयुष्मान कार्ड वितरण की तिथि जल्द ही घोषित की जायेगी।

00 सीएससी पर नहीं देने होंगे 30 रुपये शुल्क:
नेशनल हेल्थऑथोरिटी तथा कॉमन सर्विस सेंटर-ई गर्वेंनेंस द्वारा आपसी सहमति के बाद हुए करार के बाद लाभुकों के लिए पीवीसी आयुष्मान कार्ड नि:शुल्क बनाया जाना है। पूर्व में आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर पर 30 रुपये का शुल्क देना पड़ता था। आयुष्मान योजना के तहत सूचीबद्ध किये गये अस्पतालों में इलाज के लिए बनाये जाने वाले आयुष्मान कार्ड को अब बिना किसी शुल्क के जेनेरेट किया जाना है।

00 लाभुकों को मिलेगा पीवीसी प्रिंट किया कार्ड:
इस नई व्यवस्था के तहत आयुष्मान भारत के लाभुकों को पहले पेपर आधारित कार्ड दिया जायेगा। फिर इसके बाद एक पीवीसी प्रिंट किया हुआ कार्ड दिया जायेगा। पीवीसी आयुष्मान कार्ड किसी भी कॉमन सर्विस सेंटर से प्राप्त किया जा सकेगा। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना के तहत स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त करने व इलाज आदि के लिए आयुष्मान कार्ड आवश्यक रूप से हो ऐसा नहीं है, बल्कि यह लाभुकों को चिन्हित करने की प्रक्रिया है। साथ ही इसकी मदद से स्वास्थ्य सेवाओं के मुहैया कराने में होने वाली गड़बड़िया व धोखेबाजी को रोकना है।

00 5 लाख रुपये तक इलाज की है व्यवस्था:
भारत सरकार द्वारा स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराये जाने की दिशा में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना एक मुख्य कार्यक्रम है. इस योजना के तहत सालाना प्रति परिवार प्रति 5 लाख रुपये का इलाज की सुविधा दी गयी है, जिसमें 10.74 करोड़ लाभुकों यानी लगभग 53 लाख परिवारों को दूसरे एवं तीसरे स्तर की चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए चिन्हित किया गया है। आयुष्मान भारत योजना के लाभुक को स्वास्थ्य सेवा प्राप्त करने के लिए कैश या पेपर आदि नहीं होने के बावजूद सुविधाएं मुहैया कराती है। इलाज की सभी सुविधाएं मुहैया कराता है।

इस योजना के तहत 937 हेल्थ पैकेज हैं। योजना के तहत देश के 32 प्रदेशों के 24000 से अधिक सरकारी व गैरसरकारी अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना की शुरुआत 23 सितंबर 2018 को हुई थी। इस योजना के तहत अब तक 20911 करोड़ रुपये मूल्य के 1.67 करोड़ हॉस्पीटल ट्रीटमेंट दिए जा चुके हैं। पूरे देश में इस योजना के तहत 14 करोड़ आयुष्मान कार्ड लाभुकों को निर्गत किया जा चुके हैं।

00 एनएचए भारत सरकार की संस्था:
नेशनल हेल्थ ऑथोरिटी भारत सरकार की संस्था है जिसके द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना की पूरी प्रक्रिया तथा प्रबंधन का डिजाइन किया गया है। नेशनल हेल्थ ऑथोरिटी केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से संबंधित हैं और यह राज्य सरकार के साथ समन्वय स्थापित कर कार्य करती है।

View More...

राजिम माघ पूर्णिमा मेला पर विस अध्यक्ष डॉ महंत ने प्रदेशवासियों को दी बधाई

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने राजीव माघी पुन्नी मेला की प्रदेशवासियों को दी बधाई शुभकामनाएं। विस् अध्यक्ष डॉ महंत ने कहा कि राजिम का माघ पूर्णिमा का मेला संपूर्ण भारत में प्रसिद्ध है। छत्तीसगढ़ के लाखों श्रद्धालु इस मेले में जुटते हैं। माघ पूर्णिमा से महाशिवरात्रि तक पंद्रह दिनों का मेला लगता है।

महानदी, पैरी और सोढुर नदी के तट पर लगने वाले इस मेले में मुख्य आकर्षण का केंद्र संगम पर स्थित कुलेश्वर महादेव जी का मंदिर है। इस मंदिर का संबंध राजिम की भक्तिन माता से है। कहते हैं कि छत्तीसगढ़ राज्य के राजिम क्षेत्र राजिम माता के त्याग की कथा प्रचलित है और भगवान कुलेश्वर महादेव का आशीर्वाद इस क्षेत्र को प्राप्त है, दोनों ही कारणों से राजिम मेला का महत्व है।

View More...

चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि पर उन्हें मुख्यमंत्री बघेल ने किया नमन

Date : 27-Feb-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारी महानायक चंद्रशेखर आजाद को 27 फरवरी उनकी पुण्यतिथि पर नमन किया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि चंद्रशेखर आजाद का जीवन आज भी हजारों युवाओं को प्रेरित करता है। उनका देशप्रेम और साहस अनुकरणीय है।

आजाद का संकल्प था कि ब्रिटिश सरकार के सामने कभी घुटने नहीं टेकेंगे। उन्होंने अपना संकल्प टूटने नहीं दिया और देश के लिए अपने प्राणों की आहूति दे दी। आजाद का बलिदान खाली नहीं गया। उन्होंने हजारों युवाओं के अंदर क्रांति की ज्वाला जला दी और वे स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े। बघेल ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी जैसे माटीपुत्रों का बलिदान अमूल्य है, जिसका ऋण कभी चुकाया नहीं जा सकता।

View More...
Previous123456789...403404Next