International

Previous123456789...1314Next

कीव यूक्रेन में एक विमान हादसा का शिकार, 25 की मौत

Date : 26-Sep-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। कीव यूक्रेन में एक विमान हादसा का शिकार हो गया। इस हादसे में अबतक 25 लोगों के मारे जाने की खबर है। यह विमान यूक्रेन की वायुसेना का है। सूत्रों के मुताबिक इस दुर्धटना में मिलिट्री कैडेट्स समेत 25 लोग मारे गए हैं। इसके अलावे दो लोगों के बहुत ही गंभीर रूप से घायल होने की सूचना मिली है। यह हादसा यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में खारकीव इलाके में हुई है। यूक्रेन के एक मंत्री ने इस हादसे की पुष्टि की है। उप गृह मंत्री एंटोन गेराशेंको ने एफपी को जानकारी देते हुए कहा ​कि हादसे में 25 लोग मारे गए हैं। जबकि दो घायल हुए हैं। विमान में 28 लोग थे सवार, दो अभी भी लापता है।

View More...

कीव यूक्रेन में एक विमान हादसा का शिकार, 25 की मौत

Date : 26-Sep-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। कीव यूक्रेन में एक विमान हादसा का शिकार हो गया। इस हादसे में अबतक 25 लोगों के मारे जाने की खबर है। यह विमान यूक्रेन की वायुसेना का है। सूत्रों के मुताबिक इस दुर्धटना में मिलिट्री कैडेट्स समेत 25 लोग मारे गए हैं। इसके अलावे दो लोगों के बहुत ही गंभीर रूप से घायल होने की सूचना मिली है। यह हादसा यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में खारकीव इलाके में हुई है। यूक्रेन के एक मंत्री ने इस हादसे की पुष्टि की है। उप गृह मंत्री एंटोन गेराशेंको ने एफपी को जानकारी देते हुए कहा ​कि हादसे में 25 लोग मारे गए हैं। जबकि दो घायल हुए हैं। विमान में 28 लोग थे सवार, दो अभी भी लापता है।

View More...

अन्य देशों की संप्रभुता का सम्मान करना सीखे तुर्की : भारत

Date : 23-Sep-2020

संयुक्त राष्ट्र (एजेंसी)। तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोगन के संयुक्त राष्ट्र महासभा में जम्मू-कश्मीर को लेकर दिए गए बेतुके बयान का संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति ने कड़ा विरोध करते हुए कहा कि तुर्की को अन्य देशों की संप्रभुता का सम्मान करना सीखना चाहिए।

श्री तिरुमूर्ति ने ट्वीट कर कहा, “हमने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति के बयान को पढ़ा है और उनका भारत के आतंरिक मामलों में दखल देना पूरी तरह से अस्वीकार्य है। तुर्की को अन्य देशों की संप्रभुता का सम्मान करना सीखना चाहिए और अपनी नीतियों पर विचार करना चाहिए।”
तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच से दरअसल एक बार फिर कश्मीर को लेकर जहर उगलते हुए कहा है कि कश्मीर एक ज्वलंत मुद्दा है और जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने वाले अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद यह समस्या और भी गंभीर हो गई है।

00 तैयब एर्दोआन ने क्या कहा था
संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र में आम चर्चा में अपने रिकॉर्डेड संदेश में एर्दोआन ने जम्मू-कश्मीर का जिक्र करते हुए कहा था कि कश्मीर का मुद्दा, `जो दक्षिण एशिया की स्थिरता और शांति के लिए भी महत्वपूर्ण है, वह अब भी एक ज्वलंत मुद्दा है। जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के लिए उठाए गए कदमों ने इस समस्या को और बढ़ा दिया है।`

उन्होंने कहा कि तुर्की `संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के मसौदों के तहत और विशेष रूप से कश्मीर के लोगों की अपेक्षाओं के अनुरूप, बातचीत के जरिए इस मामले को हल करने के पक्ष में हैं।` पाकिस्तान के करीबी सहयोगी तुर्की के राष्ट्रपति ने पिछले साल महा सभा कक्ष में उच्च स्तरीय चर्चा में भी कश्मीर का मुद्दा उठाया था।

भारत कश्मीर मामले पर तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप को लगातार खारिज करता रहा है और उसका कहना है कि भारत-पाकिस्तान संबंधों से जुड़े सभी लंबित मामले द्विपक्षीय रूप से हल किए जाने चाहिए।

View More...

व्हाइट हाउस के पते पर जहर `रिसिन` वाला एक पत्र भेजने की संदिग्ध महिला को न्यूयॉर्क-कनाडा सीमा पर किया गया गिरफ्तार

Date : 21-Sep-2020

वाशिंगटन (एजेंसी)। व्हाइट हाउस के पते पर जहर `रिसिन` वाला एक पत्र भेजने की संदिग्ध एक महिला को न्यूयॉर्क-कनाडा सीमा पर गिरफ्तार कर लिया गया। कानून प्रवर्तन तीन अधिकारियों ने यह जानकारी दी। पत्र को व्हाइट हाउस पहुंचने से पहले गत सप्ताह की शुरुआत में बीच में ही रोक लिया गया था।

महिला को अमेरिकी सीमाशुल्क एवं सीमा रक्षा अधिकारियों ने सीमा के निकट पीस ब्रीज से गिरफ्तार किया और ऐसी संभावना है कि वह संघीय आरोपों का सामना करेगी। अभी महिला का नाम जाहिर नहीं किया गया है। व्हाइट हाउस के पते पर भेजा गया यह पत्र मूलत: कनाडा में तैयार किया गया प्रतीत होता है। रॉयल कनाडा माउंटेड पुलिस ने इसकी जानकारी दी है। यह पत्र उस सरकारी प्रतिष्ठान में रोका गया जो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस आने वाली डाक की जांच करता है।

अधिकारी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में इसमें जहर `रिसिन` होने की पुष्टि हुई है। अधिकारी ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर यह जानकारी दी। इससे पहले भी पत्र के जरिए रिसिन भेजकर अमेरिकी अधिकारियों को निशाना बनाने की कई कोशिशें हुई हैं। नौसेना के पूर्व कर्मचारी को ट्रंप और उनके प्रशासन के सदस्यों को इसी प्रकार के लिफाफे भेजने के आरोप में 2018 में गिरफ्तार किया गया था।

View More...

अमेरिका में चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जहर देकर मारने की कोशिश हुई नाकाम, जाने क्या है मामला

Date : 20-Sep-2020

अमेरिका (एजेंसी) । अमेरिका में चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जहर देकर मारने की नाकाम कोशिश हुई है। व्हाइट हाउस में इस जहर को एक खत के जरिए पहुंचाया गया था । कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने इस सप्ताह के शुरुआत में एक पैकेट की छानबीन की जिसमें रिसिन नाम के जहर की पुष्टि हुई है। जहर की पुष्टि के लिए दो जांच की जा चुकी है।
क्या होता है रिसिन नामक जहर ?
रिसिन बेहद घातक तत्व होता है जिसे कास्टर बीन्स से निकाला जाता है. इसका उपयोग आतंकी हमलों में किया जा चुका है. इसका उपयोग पाउडर, धुंध, गोली या एसिड के रूप में किया जा सकता है. यदि किसी के शरीर में यह जहर प्रवेश कर जाता है तो पेट-आंतों में जलन के अलावा यह आतंरिक रक्तस्त्राव का कारण भी बनता है. इसके कारण व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।
 

कैसे हुई जहर की जांच ?

अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार कोई भी पत्र या पार्सल व्हाइट हाउस पहुंचती है, तो राष्ट्रपति तक पहुंचने तक उसकी गहन जांच की जाती है. जिस पर अंदेशा होता है उसे अलग कर लिया जाता है. जांच अधिकारियों ने रिसिन को बहुत घातक जहर बताया है।

कहां से आया घातक जहर ?
अमेरिका की कानून प्रवर्तन एजेंसी के एक अधिकारी ने कहा कि पैकेज संभवतः कनाडा से अमेरिका भेजा गया है। इस मामले की जांच जारी है। आपको बता दें कि अमरिकी खुफिया एजेंसी कनाडा के साथ मिलकर इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रही है कि किसने इस पैकेट को कुरियर किया।?

View More...

अमेरिका में चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जहर देकर मारने की कोशिश हुई नाकाम

Date : 20-Sep-2020

अमेरिका (एजेंसी)। अमेरिका में चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जहर देकर मारने की नाकाम कोशिश हुई है। व्हाइट हाउस में इस जहर को एक खत के जरिए पहुंचाया गया था । कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने इस सप्ताह के शुरुआत में एक पैकेट की छानबीन की जिसमें रिसिन नाम के जहर की पुष्टि हुई है। जहर की पुष्टि के लिए दो जांच की जा चुकी है।

क्या होता है रिसिन नामक जहर ?

रिसिन बेहद घातक तत्व होता है जिसे कास्टर बीन्स से निकाला जाता है. इसका उपयोग आतंकी हमलों में किया जा चुका है. इसका उपयोग पाउडर, धुंध, गोली या एसिड के रूप में किया जा सकता है. यदि किसी के शरीर में यह जहर प्रवेश कर जाता है तो पेट-आंतों में जलन के अलावा यह आतंरिक रक्तस्त्राव का कारण भी बनता है. इसके कारण व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।
कैसे हुई जहर की जांच ?

अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार कोई भी पत्र या पार्सल व्हाइट हाउस पहुंचती है, तो राष्ट्रपति तक पहुंचने तक उसकी गहन जांच की जाती है. जिस पर अंदेशा होता है उसे अलग कर लिया जाता है. जांच अधिकारियों ने रिसिन को बहुत घातक जहर बताया है।

कहां से आया घातक जहर ?
अमेरिका की कानून प्रवर्तन एजेंसी के एक अधिकारी ने कहा कि पैकेज संभवतः कनाडा से अमेरिका भेजा गया है। इस मामले की जांच जारी है। आपको बता दें कि अमरिकी खुफिया एजेंसी कनाडा के साथ मिलकर इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रही है कि किसने इस पैकेट को कुरियर किया।?

View More...

सड़क हादसे में 8 किशोर फुटबॉल खिलाड़यिों की मौत, 30 अन्य घायल

Date : 20-Sep-2020

अकारा (एजेंसी)। अफ्रीकी देश घाना के अशांति क्षेत्र में हुए एक सड़क हादसे में 8 किशोर फुटबॉल खिलाड़यिों की मौत हो गई और 30 अन्य घायल हो गए है। स्थानीय पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी है।
पुलिस मोटर ट्रैफिक एंड ट्रांसपोर्ट विभाग के कमांडर एडमंड न्यामेके ने मीडिया को बताया कि गंभीर रूप से घायल चार लागों को अस्पताल ले जाया गया।
न्यामेके ने बताया कि हादसा उस समय हुआ जब 12-15 वर्ष की आयु के फुटबॉल खिलाड़ी अशांति क्षेत्र के अफ्रचो से वापस लौट रहे थे। दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है।

View More...

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन पर दी बधाई, और बताया महान नेता और वफादार दोस्त

Date : 18-Sep-2020

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके जन्मदिन पर बधाई दी। राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर पीएम मोदी को शुभकामना देते हुए उन्हें `महान नेता और वफादार दोस्त` बताया। डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया, `भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 70 वें जन्मदिन की ढेर सारी शुभामनाएं। एक महान नेता और वफादार दोस्त के लिए यह दिन बार-बार आए।`

अमेरिकी राष्ट्रपति की शुभकामनाओं के लिए भारतीय प्रधानमंत्री ने शुक्रिया कहा है। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे बीच की दोस्ती बहुत मजबूत है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, `डोनाल्ड ट्रंप आपकी शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद। हमारे देशों के बीच की दोस्ती मजबूत है और यह पूरी मानवता की भलाई के लिए एक ताकत है।`

View More...

पाकिस्तान सरकार ने की कार्रवाई, जमात-उद-दावा (जेयूडी) और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) की 964 संपत्तियों को किया फ्रीज

Date : 18-Sep-2020

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान सरकार ने आतंकी वित्तपोषण और मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जमात-उद-दावा (जेयूडी) और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) की कुल 964 संपत्तियों को फ्रीज कर दिया है।

पाकिस्तान की ओर से यह कार्रवाई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के 27 सूत्री एक्शन प्लान का लक्ष्य पूरा करने के प्रयासों के हिस्से के रूप में की गई है। आंतरिक मंत्रालय के अनुसार, फ्रीज की गई संपत्तियों में से 907 जेयूडी और 57 जेईएम की हैं।
संसदीय कार्य राज्यमंत्री अली मुहम्मद खान ने कहा कि प्रांतीय गृह विभागों ने विदेश मंत्रालय द्वारा जारी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (फ्रीजिंग और जब्ती) आदेश 2019 के तहत जेयूडी और जेईएम की संपत्ति को फ्रीज करने की कार्रवाई की है।

खान ने अभियुक्त संगठनों के खिलाफ सरकार की प्रगति के बारे में पाकिस्तान के ऊपरी सदन सीनेट में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, पंजाब में जेयूडी की कुल 611 संपत्तियां फ्रीज की गई हैं। इसके अलावा खैबर पख्तूनख्वा में 108, सिंध में 80, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में 61, बलूचिस्तान में 30 और इस्लामाबाद में 17 संपत्तियां फ्रीज की गई हैं। खान ने कहा, जेईएम की आठ संपत्तियां पंजाब में, खैबर पख्तूनख्वा में 29, पीओके में 12, इस्लामाबाद राजधानी क्षेत्र में चार, सिंध में तीन और एक बलूचिस्तान में फ्रीज की गई हैं।

विस्तृत विवरण देते हुए खान ने कहा, जेयूडी की फ्रीज की गई संपत्तियों में 75 स्कूल, चार कॉलेज, 330 मस्जिद और सेमिनरी, 186 औषधालय, 15 अस्पताल, 62 एम्बुलेंस, एक अंतिम संस्कार बस (हार्से), तीन आपदा प्रबंधन कार्यालय, 10 नावें, 17 इमारतें, एक भूखंड, कृषि भूमि और दो मोटरसाइकिल शामिल हैं।
खान ने कहा कि जेईएम की फ्रीज की गई संपत्ति में 53 मस्जिद, दो डिस्पेंसरी और दो एम्बुलेंस शामिल हैं। यह कदम ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तान खुद को `ग्रे लिस्ट` से बाहर देखने के लिए एफएटीएफ द्वारा दिए गए एक्शन प्लान के सभी 27 बिंदुओं का पालन करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है।

इस साल की शुरुआत में, पाकिस्तान की आतंकवाद-रोधी अदालत ने जेयूडी प्रमुख हाफिज मुहम्मद सईद को दो मामलों में पांच साल और छह महीने के कारावास की सजा सुनाई थी। उसे आतंकी वित्तपोषण और अन्य प्रतिबंधित संगठनों के साथ संबंध रखने के लिए दोषी पाया गया है।

View More...

बांग्लादेश ने किसी सूचना के बिना प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के भारत के फैसले पर की चिंता व्‍यक्‍त

Date : 17-Sep-2020

ढाका (एजेंसी)। बांग्लादेश ने किसी सूचना के बिना प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के भारत के फैसले पर आधिकारिक रूप से अपनी गहरी चिंता व्‍यक्‍त की है। भारत सरकार ने सोमवार को घरेलू बाजार में प्याज की उपलब्धता बढ़ाने और बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए प्याज की सभी किस्मों के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया था।
बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने ढाका स्थित भारत के उच्चायोग के माध्यम से भेजे पत्र में कहा कि 14 सितंबर को भारत सरकार द्वारा अचानक की गई घोषणा से इस संबंध में दो मित्र देशों के बीच 2019 और 2020 में हुई चर्चाओं और इस दौरान बनी आपसी समझ को कमजोर किया गया है।

बांग्लादेश की मीडिया को यह पत्र बुधवार की देर शाम उपलब्ध कराया गया। पत्र में प्याज के निर्यात को फिर से शुरू करने के लिए आवश्यक उपाय करने का अनुरोध किया गया है। पत्र में कहा गया है कि भारत के अचानक इस संबंध में घोषणा करने से बांग्लादेश के बाजार में आवश्यक खाद्य पदार्थों की आपूर्ति प्रभावित होगी। पत्र के मुताबिक ढाका में 15-16 जनवरी, 2020 को हुई दोनों देशों के वाणिज्य मंत्रालयों की एक सचिव-स्तरीय बैठक में बांग्लादेश ने भारत से आवश्यक खाद्य वस्तुओं के निर्यात प्रतिबंध नहीं लगाने का अनुरोध किया गया था।
बांग्लादेश ने इस तरह के प्रतिबंध जरूरी होने पर भारत को समय से पहले उसे सूचित करने का अनुरोध भी किया है। इस मामले को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने अक्टूबर 2019 में भारत की यात्रा के दौरान भी उठाया था।

View More...
Previous123456789...1314Next