International

Previous123456789...3839Next

चीन ने विश्व के सबसे ऊंचे रडार स्थल पर खोला 5जी सिग्नल बेस

Date : 13-Apr-2021

बीजिंग (एजेंसी)। चीन ने तिब्बत के सुदूर हिमालयी क्षेत्र में विश्व की सर्वाधिक ऊंचाई पर गनबाला रडार स्टेशन पर एक 5जी सिग्नल बेस खोला है। यह मानव की उपस्थिति में संचालित रडार स्टेशन है। चीन की सेना की आधिकारिक वेबसाइट पर सोमवार को इस बारे में जानकारी दी गई।

यह रडार स्टेशन 5,374 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह पर्वत तिब्बत की नागरजे काउंटी में स्थित है, जो भारत और भूटान की सीमाओं के पास है। वेबसाइट ने कहा कि पिछले साल के अंत में पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने सीमावर्ती इलाकों में सैनिकों को मोबाइल नेटवर्क मिलने में हो रही दिक्कत को दूर करने के लिए गनबाला में 5जी स्टेशन का निर्माण असैन्य कंपनियों के सहयोग से शुरू किया था।

View More...

चीन को रोकने के लिए अमेरिका को भारत का साथ जरुरी : आईटीआईएफ

Date : 13-Apr-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (आईटी) नीति संबंधी मुख्य अमेरिकी थिंक टैंक का कहना है कि अमेरिका उभरते चीन को रोकना चाहता है और ऐसे में उसके लिए भारत के महत्वपूर्ण कोई अन्य देश नहीं है, जिसके पास अत्यंत दक्ष तकनीकी पेशेवर हैं और जिसके अमेरिका के साथ मजबूत राजनीतिक एवं सांस्कृतिक संबंध हैं।

थिंक टैंक `इन्फर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फाउंडेशन` (आईटीआईएफ) ने सोमवार को जारी रिपोर्ट में यह कहा। उसने अमेरिका को भारत पर ``अत्यधिक निर्भर`` होने को लेकर सचेत करते हुए यह भी कहा कि यदि दोनों देशों के बीच बौद्धिक सम्पदा, डेटा संचालन, शुल्क, कर, स्थानीय विषय वस्तु की आवश्यकताएं या व्यक्तिगत निजता जैसे मामलों पर बड़े मतभेद पैदा होते हैं, तो आईसी सेवा प्रदाता भारत रणनीतिक समस्या बन सकता है।

रिपोर्ट में सबसे खराब और सबसे अच्छे परिदृश्यों पर गौर किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक परिदृश्य यह है कि भारत और चीन के बीच तनाव कम हो और दोनों पड़ोसी देशों के बीच कारोबारी संबंध मजबूत हों।

ऐसी स्थिति में वैश्विक अर्थव्यवस्था पूर्व दिशा की ओर स्थानांतरित हो जाएगी और अमेरिका इस बारे में कुछ खास नहीं कर पाएगा। रिपोर्ट के अनुसार, दूसरा परिदृश्य यह है कि चीन के कारण आर्थिक, सैन्य और अंतरराष्ट्रीय संबंध से जुड़ी चुनौतियां बढ़ने के बीच भारत और अमेरिका के हित समान हों।

ऐसी स्थिति में अधिकतर विकसित देशों में लोकतांत्रिक नियम कायम रहेंगे, क्योंकि विकासशील देश `बीजिंग मॉडल` के बजाए `दिल्ली मॉडल` को देखेंगे। थिंक टैंक ने कहा, ``अमेरिका उभरते चीन को रोकना चाहता है और ऐसे में, भारत से महत्वपूर्ण कोई अन्य देश नहीं है, जिसका आकार बहुत बड़ा है, जिसके पास अत्यधिक कुशल तकनीकी पेशेवर हैं और जिसके अमेरिका के साथ मजबूत राजनीतिक एवं सांस्कृतिक संबंध हैं।``

आईटीआईएफ के सदस्य एवं रिपोर्ट के सह लेखक डेविड मोशेला ने कहा कि जो ताकतें अमेरिका और चीन के बीच मतभेद बढ़ा रही हैं, वही ताकतें अमेरिका और भारत को निकट ला रही हैं। उन्होंने कहा, ``अमेरिका, भारत और चीन के संबंध आगामी कई वर्षों तक वैश्विक प्रतिद्वंद्वता और डिजिटल नवोन्मेष को आकार देंगे।
व्यापक संभावित परिदृश्य होने के बीच दो बातें स्पष्ट हैं: चीन से मुकाबला करने और उस पर निर्भरता को कम करने के लिए भारत को अमेरिकी प्रयासों का अहम हिस्सा होना चाहिए और इससे अमेरिका की वैश्विक निर्भरताएं विनिर्माण से लेकर सेवा क्षेत्र तक अवश्य बढ़ जाएंगी।``

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत अनुसंधान एवं विकास, नवोन्मेष केंद्रों, मशीनों संबंधी जानकारी, विश्लेषण, उत्पाद के डिजाइन एवं जांच और आईटी एवं जीव विज्ञान समेत विभिन्न क्षेत्रों में अहम प्रगति कर रहा है।

View More...

बहलोलपुर गांव में लगी भीषण आग, दो मासूम बच्चों की मौत, 700 से अधिक कबाड़ गोदाम जलकर खाक

Date : 12-Apr-2021

नोएडा (एजेंसी)। सेक्टर-65 स्थित बहलोलपुर गांव में रविवार को दोपहर लगी भीषण आग में दो मासूम बच्चों की जलकर मौत हो गई, जबकि 600 से अधिक झुग्गियां व 700 से अधिक कबाड़ गोदाम जलकर खाक हो गए। भीषण आग में 3 हजार लोग बेघर हुए हैं, वहीं लाखों का नुकसान भी हुआ है। आग की सूचना पर दमकल की 17 से अधिक गाड़ियां पहुंची और करीब 5 घंटे की मशक्कत से आग को बुझाया।

बहलोलपुर गांव में करीब 6 हजार वर्ग फीट के एक खाली प्लाट में 600 से अधिक झुग्गियां बनी हुई थीं, इसमें बिहार के विभिन्न जिलों के 700 से अधिक परिवारों के लोग किराए पर रहते थें। यहां रहने वाले अधिकांश पुरुष कबाड़ का व्यवसाय करते हैं और महिलाएं सोसायटियों में घरेलू सहायिका के रूप में काम करती है। बुधवार दोपहर जब अधिकांश पुरुष काम से बाहर गए थे। वहीं महिलाएं भी घर से बाहर थी, तो करीब 12:45 बजे एक झुग्गी में गैस चूल्हे पर खाना बनाते समय सिलेंडर में ब्लास्ट से आग लग गई। कुछ ही देर में आग ने विकराल रूप ले लिया।

आग देख झुग्गियों में रहने वाले लोगों के चीख पुखार मच गई। सूचना पर फेस-3 कोतवाली पुलिस के साथ 100 के करीब दमकलकर्मी पहुंचे और आग बुझाने के काम में जुट गए। लेकिन तेज हवा चलने के कारण आग बुझाने में उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा। जबतक आग बुझाई जाती तब तक अधिकांश झुग्गियां जलकर खाक हो चुकी थी। आग इतनी भयंकर थी कि ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में भी इसका धुआं देखा गया।

आग में जलकर दो मासूमों की मौत भी हुई है। जिनकी आयु क्रमश: 6 माह व 2 वर्ष के करीब बताई जा रही है, दोनों बालिकाएं हैं। दोनों बच्चियां सुलेखा नाम की महिला की है, जो मूलत: नालंदा की रहने वाली है। मासूमों की पहचान के लिए उनका डीएनए सैंपल फारेंसिक लैब भेजा जाएगा। जिससे उनकी पहचान हो सके।
संभवता झुग्गी बस्ती में सिलेंडर फटने से आग लगी है। हवा तेज चलने से आग बुझाने में परेशानी हुई। आग में दो बच्चों की मौत हुई है। घटना के वक्त दोनों बच्चे झुग्गी में सो रहे थे।

View More...

कैरेबियाई द्वीप सेंट विंसेंट पर ला सॉफरीयर ज्वालामुखी में हुआ धमाका, आसपास के क्षेत्र में हो गई राख का बारिश

Date : 10-Apr-2021

सेंट विंसेंट (एजेंसी)। कैरेबियाई द्वीप सेंट विंसेंट पर दशकों से निष्क्रिय पड़े ला सॉफरीयर ज्वालामुखी में धमाका हो गया। शुक्रवार को हुई यह घटना इतनी भायनक थी की आसपास के क्षेत्र में राख का बारिश सी हो गई। हालात इतने बिगड़ गए हैं कि स्थानीय लोगों को भागकर अन्य स्थानों पर शरण लेनी पड़ी है। हालांकि, सरकार ने भी उन्हें क्षेत्र खाली करने और सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा था।

सेंट विंसेंट और द ग्रेनेडाइंस की सबसे ऊंची चोटी माने जाने वाले ला सॉफरियर में कई शक्तिशाली धमाके हुए। ज्वालामुखी में हुआ इस धमाके की वजह से गर्म राख और धुआं हवा में 6 हजार मीटर की ऊंचाई तक फैल गए। यह जानकारी स्थानीय आपातकालीन प्रबंधन एजेंसी ने दी है। यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्ट सीजमिक रिसर्च सेंटर ने कहा कि इसके बाद शुक्रवार दोपहर हुए एक अन्य धमाके में 4 हजार मीटर की ऊंचाई पर राख के बादल जम गए।

नेशनल इमरजेंसी मैनेजमेंट ऑर्गेनाइजेशन ने ट्विटर पर कहा `रेड और ऑरेंज जोन में मौजूद लोगों को बाहर निकाला जाना जारी है। ज्यादा राख गिरने की वजह से प्रक्रिया कुछ हद तक प्रभावित हुई है, क्यों यहां द्रश्यता काफी ज्यादा खराब है।` मामले से जुड़े कई वीडियो सामने आ रहे हैं, जिनमें नजर आ रहा है कि लोग अपना सामान लेकर सड़कों पर निकल रहे हैं। एक दूसरे वीडियो में एक युवक कहता हुआ नजर आ रहा है कि लोगों के घरों पर पत्थर गिर रहे हैं।
प्रधानमंत्री राल्फ गोंजाल्वेस ने नेशनल रेडियो के जरिए लोगों से इलाके से हटने की अपील की है। उन्होंने लोगों से ज्वालामुखी के रेड जोन को छोड़ने की बात कही है। साथ ही यह जानकारी भी दी गई है कि इलाके बचकर बाहर निकल रहे लोगों के लिए 800 होटल के कमरे तैयार किए गए हैं। 4049 फीट का यह ज्वालामुखी 1979 के बाद से ही नहीं फटा था. वहीं, 1902 में हुए धमाके में 1 हजार से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी।

View More...

विश्व बैंक के अध्यक्ष ने भारत को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा अमेरिका, चीन और भारत की अगुवाई में दुनिया की तरक्की

Date : 09-Apr-2021

वॉशिंगटन डीसी (एजेंसी)। विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मालपास ने भारत को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वैश्विक वृद्धि अधिक तेजी से होगी, जिसकी अगुवाई अमेरिका, चीन और भारत करेंगे। हालांकि उन्होंने कोविड-19 के कारण बढ़ती असमानता पर चिंता भी जताई।

उन्होंने कहा कि कुछ देशों में टीकाकरण और औसत आय को लेकर बढ़ती असमानता चिंता की बात है। विश्व बैंक की ओर से अमेरिका और चीन की कतार में भारत को खड़ा करना देश के आर्थिक विकास को दर्शाता है।

00 सभी देशों के एक समान टीका उपलब्ध नहीं होना चिंता का विषय
उन्होंने कहा, `लेकिन बढ़ती असमानता को लेकर चिंताएं भी है। टीकाकरण और औसत आय के संदर्भ में असमानता, जो कुछ देशों में और भी बढ़ सकती हैं। ब्याज दरों में अंतर है, जहां गरीब देशों को अधिक ब्याज चुकाना पड़ रहा है, और वहां ब्याज दरों में उनती तेजी से कमी नहीं हुई है, जितनी की वैश्विक स्तर पर हुई।`

डेविस मालपास ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक की शुरुआत में संवाददाताओं से कहा कि अच्छी खबर है कि अमेरिका, चीन और भारत की अगुवाई में वैश्विक वृद्धि तेजी पकड़ रही है। इस वार्षिक बैठक में वैक्सीन, जलवायु परिवर्तन, ऋण और सुधार जैसे मुद्दों पर विचार किया जाएगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों मालपास ने कहा था कि भारत सौभाग्यशाली है कि उसके पास सीरम इंस्टीट्यूट जैसा वैश्विक टीकों का एक बड़ा निर्माता है, जो देश की जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ दुनिया के लिए भी अहम है।

View More...

देश में 19 अप्रैल से हर वयस्क को लगेगा कोरोना टीकाकरण : राष्ट्रपति जो बाइडन

Date : 08-Apr-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि देश में 19 अप्रैल से हर वयस्क टीकाकरण के लिए पात्र होगा। इससे पहले सभी वयस्कों के लिए टीकाकरण अभियान को शुरू करने की तारीख एक मई तय की गयी थी।

राष्ट्रपति ने मंगलवार को यह घोषणा ऐसे वक्त की जब अमेरिका में कोविड-19 के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कोविड-19 के मामलों पर नजर रखने वाले जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के मुताबिक अमेरिका में संक्रमण के 3,08,46,300 मामले आ चुके हैं और 5,56,500 लोगों की मौत हो चुकी है। बाइडन ने कहा, जब तक हम महामारी पर काबू नहीं पा लेते और अपने अभियान में सफल नहीं हो जाते तब तक यह जरूरी है कि हर कोई अपने हाथों को धोए, सामाजिक दूरी का पालन करे और मास्क पहने। बाइडन ने कहा कि 19 अप्रैल से हर वयस्क टीका लगवा सकेगा और टीकाकरण अभियान का विस्तार होगा।

राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में घोषणा की कि 19 अप्रैल से 18 साल या उससे अधिक उम्र का हर कोई टीका लगवाने का पात्र होगा। उन्होंने कहा, अब कोई भ्रामक नियम नहीं। और अधिक भ्रामक पाबंदी नहीं। बाइडन ने कहा कि अमेरिका वायरस के खिलाफ जंग में अब भी संघर्ष कर रहा है और उनके प्रशासन ने महज 75 दिन के भीतर रिकॉर्ड 15 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया है। राष्ट्रपति ने अपने प्रशासन के शुरुआती 100 दिन के भीतर 10 करोड़ लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा था, लेकिन महज 75 दिन के भीतर रिकॉर्ड 15 करोड़ लोगों का टीकाकरण हो चुका है। बाइडन ने अब अपने प्रशासन के पहले 100 दिन में 20 करोड़ देशवासियों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा, मैं आपको बताना चाहता हूं कि हम अभी जीत की कगार पर नहीं पहुंचे हैं। अभी बहुत कुछ करना बाकी है। जब तक अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण नहीं होता, तब तक अपने हाथों को धोएं, सामाजिक दूरी का पालन करें और मास्क पहनें।

उन्होंने कहा, इसे ऐसे सोचें कि अच्छा समय आने वाला है और मैंने पहले भी कहा था कि जुलाई तक हम एक सुरक्षित, खुशहाल माहौल में अपने परिवार और दोस्तों के साथ छोटे समूहों में खुशी के पल बिता सकेंगे, लेकिन वास्तविक सवाल यह है कि तब तक हमें कितनी और मौतें, बीमारियां और दुख देखना बाकी है? बाइडन ने कहा कि नए मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है और अस्पतालों में मरीज बढ़ रहे हैं। राष्ट्रपति ने वाशिंगटन डीसी के वर्जीनिया उपनगर में एक टीकाकरण केंद्र का दौरा करने के दौरान भारतीय मूल की एक प्रवासी सेविया खान से मुलाकात की। राष्ट्रपति के पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि वह भारत से हैं। सेविया ने कहा, वह कई बार भारत जा चुकी हैं। उन्होंने कहा, मैंने यहां अपने तीन बच्चों को पाला है। एक ग्रेजुएट है और एक ग्रेजुएट होने वाला है, वहीं तीसरा 11वीं कक्षा में है। मुझे अमेरिकी नागरिक होने पर गर्व है। बाइडन ने कहा, आप ही अमेरिका हैं। अमेरिका प्रवासियों का देश है। उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की मां भी भारत से थीं।

View More...

अमेरिका ने भारत.पाक विवाद सुलझाने के लिए प्रत्यक्ष वार्ता का किया समर्थन

Date : 07-Apr-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका ने मंगलवार को कहा कि वह भारत और पाकिस्तान के बीच आपसी विवाद को सुलझाने के लिए प्रत्यक्ष वार्ता का समर्थन करता है। बहरहाल, अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने भारत से चीनी और कपास आयात नहीं करने के पाकिस्तानी कैबिनेट के हालिया फैसले पर कोई टिप्पणी नहीं की। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ``मैं इस पर कोई विशेष टिप्पणी नहीं करना चाहता।``

प्राइस ने एक सवाल के जवाब में कहा, ``मैं यही कहना चाहता हूं कि हम भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के मामलों पर प्रत्यक्ष वार्ता का समर्थन करते हैं।`` पाकिस्तानी सरकार के मंत्रिमंडल ने एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति के भारत से कपास और चीनी आयात करने के प्रस्ताव को एक अप्रैल को खारिज कर दिया था और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि रिश्ते तब तक सामान्य नहीं हो सकते, जब तक जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा रद्द करने के अपने फैसले को भारत वापस नहीं ले लेता।

यह फैसला पाकिस्तान के नए वित्त मंत्री हम्माद अजहर द्वारा इससे एक दिन पहले की गई उस घोषणा के बाद आया था, जिसमें उन्होंने उनकी अध्यक्षता में हुई ईसीसी की बैठक के बाद भारत से कपास और चीनी के आयात पर लगे करीब दो साल पुराने प्रतिबंध को वापस लेने की घोषणा की थी।

View More...

सिंगापुर कोविड.19 संबंधी साइबर घोटालो की जांच करने इंटरपोल के कार्यबल में भी शामिल

Date : 04-Apr-2021

सिंगापुर (एजेंसी)। सिंगापुर इंटरपोल के नेतृत्व वाले एक वैश्विक वित्तीय अपराध कार्यबल में शामिल हो गया, जो कोविड-19 से संबंधित घोटालों समेत विभिन्न मामलों की जांच करेगा। इस कार्य बल में अमेरिका और ब्रिटेन भी शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार, गृह मंत्रालय ने बताया कि सिंगापुर दुनिया में साइबर धोखाधड़ी के बढ़ते खतरे के खिलाफ वृहद अंतरराष्ट्रीय सहयोग की जरूरत के कारण कार्य बल में शामिल हो रहा है। मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ``कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान हालात और खराब हो गए हैं, क्योंकि अधिक से अधिक लोग घर से काम कर रहे हैं और ऑनलाइन लेन देन कर रहे हैं। साइबर अपराधियों ने इस अवसर का फायदा उठाया है।``

इंटरपोल के साइबर अपराध के निदेशक क्रैग जोन्स ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय वित्तीय अपराधों में अवैध धन की जांच और टीकों की ऑनलाइन बिक्री पर नजर रखना कार्यबल के प्रमुख कार्यों में शामिल हैं। जोन्स ने कहा, ``ये टीके इस समय ऑनलाइन नहीं बिक रहे हैं। लोगों को यह समझना होगा।

View More...

पुलिस अधिकारियों को कैपिटल हिल पर कार ने कुचला एक की मौत

Date : 04-Apr-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिकी संसद भवन (कैपिटल हिल) के बाहर एक कार चालक ने लगे बैरिकेड में को टक्कर मारने के बाद दो पुलिस अधिकारियों को कुचल दिया। इसमें एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई जबकि दूसरा घायल हो गया। वहीं पुलिस द्वारा चलाई गई गोली से कार चालक भी घायल हो गया जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई। एक पुलिस अधिकारी की हालत गंभीर बनी हुई है। इस घटना के बाद यूएस कैपिटॉल में लॉकडाउन लगा दिया गया है। 

कार टकराने और गोलीबारी की यह घटना कैपिटॉल के पास एक तलाशी चौकी पर हुई। इस घटना ने करीब तीन महीने पहले अमेरिकी कैपिटॉल में घुसी भीड़ द्वारा मचाए गए उत्पात की यादें ताजा कर दीं, जब राष्ट्रपति पद पर जो बाइडन की जीत के संबंध में अमेरिकी संसद के सदस्य मतदान कर रहे थे।

कैपिटॉल पुलिस ने कहा कि एक व्यक्ति ने पुलिस के दो अधिकारियों को वाहन से टक्कर मार दी गई। अधिकारियों ने कहा कि ऐसा लगता है कि कार चालक के पास चाकू था, जिसके बाद पुलिस ने गोली चलाई।
वहीं, अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस ने इस घटना पर दुख जताया है। उन्होंने मारे गए पुलिस अधिकारी के प्रति संवेदना जताई। उन्होंने कहा की हमले में मारे गए पुलिस अधिकारी विलियम इवांस ने कैपिटल हिल को बचाने के लिए अपनी जान दे दी।

View More...

फ्रांस में कोरोना की तीसरी लहर : सरकार देशव्यापी लॉकडाउन लगाने को मजबूर

Date : 01-Apr-2021

पेरिस (एजेंसी)। फ्रांस में कोरोना की तीसरी लहर ने सरकार को देशव्यापी लॉकडाउन लगाने को मजबूर कर दिया है। राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने बुधवार को देशव्यापी लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया और कहा कि स्कूलों को तीन सप्ताह के लिए बंद कर दिया जाए ताकि कोविड-19 संक्रमण की तीसरी लहर को पीछे धकेलने में मदद मिले, नहीं तो तीसरी लहर अस्पतालों पर भी भारी पड़ सकता है। इमैनुएल मैक्रों ने कहा कि `अगर अभी हमने अभी ठोस कदम नहीं उठाया तो हम कोरोना पर नियंत्रण खो देंगे।`

00 चार सप्ताह का देशव्यापी लॉकडाउन
इमैनुएल मैक्रों ने शनिवार से चार सप्ताह का देशव्यापी लॉकडाउन लगाने की घोषणा की है। टेलीविजन पर प्रसारित एक संदेश में उन्होंने कहा कि इस दौरान केवल जरूरी सामान की दुकानों को खुलने की इजाजत होगी और लोगों को दफ्तरों की बजाय घर से काम करना होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि इस दौरान सार्वजनिक सभाओं पर पूरी तरह रोक होगी। बिना उचित कारण के अपने घरों से 10 किलोमीटर से अधिक दूर जाने पर भी रोक होगी।

अगले सप्ताह से स्कूलों को भी तीन सप्ताह के लिए बंद रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस दौरान पड़ने वाले इस्टर शुक्रवार के दिन लोगों को इजाजत होगी कि लॉकडाउन के दौरान जहां रहना चाहते हैं वहां जा सकते हैं। मैक्रों ने कहा कि देश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन इस पर काबू पाना अभी मुश्किल नहीं है, ऐसे में लोगों को डरने की जरूरत नहीं है।

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के डैशबोर्ड के अनुसार, फ्रांस में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 46.46 लाख पहुंच चुका है जबकि यहां कोराना वायरस से अब तक 95,502 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में फिलहाल 5,000 लोग कोरना के कारण आईसीयू में भर्ती हैं। हाल के दिनों में यहां ब्रिटेन के नए वेरिंएट के कोरोना वायरस के कारण संक्रमण के मामलों में तेजी आई है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 31 मार्च को यहां एक दिन में संक्रमण के 29,575 मामले दर्ज किए गए। वहीं 28 मार्च को 41,682 और 29 मार्च को 37,014 मामले दर्ज किए गए थे।

00 जर्मनी में भी हालात खराब
वहीं जर्मनी में भी कोरोना वायरस से हालात खराब होते जा रहे हैं। यहां फिर से 14 दिनों के सख्त लॉकडाउन लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। जर्मन स्वास्थ्य मंत्री जेंस स्पैन ने कहा कि महामारी नियंत्रण पाने के लिए देश में 10 से 14 दिनों का लॉकडाउन जरूरी है।
जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के चीफ ऑफ स्टाफ हेग ब्राउन ने भी देश में कोरोना के हालात को लेकर चिंता जताई है। ब्राउन ने कहा, हम इस समय सबसे खतरनाक फेज से गुजर रहे हैं। हमें अगले कुछ हफ्तों में कोरोना पर काबू पाना होगा।

ब्राउन ने कहा, अगले कुछ हफ्ते यह निर्धारित करेंगे कि क्या हम महामारी पर नियंत्रण पा सकते हैं या नहीं? अगर संक्रमण ऐसे ही बढ़ता रहा, तो कोरोना के नए स्ट्रेन का खतरा भी बढ़ जाएगा और शायद इससे वैक्सीन के प्रभाव पर भी असर पड़ेगा। अगर ऐसा हुआ, तो हमें नई वैक्सीन की जरूरत होगी और हमें वैक्सीनेशन प्रोग्राम फिर से शुरू करना होगा। ब्राजील में हालात दिन-पर-दिन बिगड़ते जा रहे हैं।

View More...
Previous123456789...3839Next