International

Previous123456789...4647Next

अमेरिकी विदेश मंत्री भारत यात्रा पर ,इन अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

Date : 28-Jul-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन कि आज से दो दिवसीय भारत दौरे की शुरुआत हो रही है। इस दौरे पर वह कई अहम मुद्दों पर बातचीत करते नजर आ सकते हैं। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार वह अफगानिस्तान में सुरक्षा हालात हिंद प्रशांत में संपर्कों को बढ़ावा देना और कोरोनावायरस की चुनौतियों से निपटने समेत कई मुद्दों पर बातचीत कर सकते हैं।

सूत्रों ने बताया कि रक्षा के क्षेत्र में दोनों पक्ष सहयोग को प्रगाढ़ करने के तरीके तलाशे गए इसके अलावा भारत स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अंतरराष्ट्रीय यात्रा को चरणबद्ध तरीके से बहाल करने की मांग करेगा, जिसमें खास तौर पर छात्रों के सेवकों और कारोबारियों के लिए यात्रा नियमों में ढील तथा अन्य मानवीय मामलों के अलावा परिवारों को मिलना सुनिश्चित करने पर जोर रहेगा।

उन्होंने बताया कि भारत कोरोनावायरस की के की उत्पादन में उपयोग होने वाली सामग्री की बिना रुकावट आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने के लिए दबाव बनाना जारी रखेगा, ताकि टीके की घरेलू उत्पादन क्षमता को बढ़ावा मिल सके दो दिवसीय यात्रा के दौरान लिंकन विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से मुलाकात करेंगे, ब्लिंकन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे।

सूत्रों ने बताया कि भारत और अमेरिका के नेताओं के बीच क्वार्ड के मसौदे के तहत सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा होगी। 4 देशों के समूह को क्वार्ड के विदेश मंत्री स्तर की बैठक इस वर्ष के अंत में होने की संभावना है, दोनों पक्ष को टीकाकरण अभियान को भी आगे बढ़ाएंगे, ताकि इन प्रशांत क्षेत्र के देशों को 2022 की शुरुआत में ही पीको की आपूर्ति की जा सके।

उन्होंने बताया कि अफगानिस्तान में तेजी से बदलते हालात को लेकर भी भारतीय नेताओं और ब्लिंकन की भी चर्चा होने की उम्मीद है, क्योंकि उनकी यात्रा ऐसे में हो रही है जब अफगानिस्तान में हिंसा के मामलों में तेजी आई है अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बीच अफ़ग़ानिस्तान में पिछले कुछ सप्ताह में कई आतंकी हमले में आए हैं, सूत्रों ने बताया कि अमेरिका के विदेश मंत्री की याद यात्रा व्यापार निवेश स्वास्थ्य देखभाल शिक्षा डिजिटल क्षेत्र नवाचार और सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में तथा अन्य क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान करेगी।


उन्होंने कहा विदेश मंत्री क्लिंटन की यात्रा भारत के लिए अहम और इस दौरान भारत अमेरिका के साथ विपक्षीय, क्षेत्रीय कोविड से निपटने के तौर.तरीकों और वैश्विक विकास समिति इन मुद्दों पर बातचीत को आगे बढ़ाने को उत्सुक है, अमेरिका के विदेश मंत्रालय की कमान संभालने के बाद ब्लिंकन की यह पहली भारत यात्रा है। साथ ही जनवरी में जो वाइडन के सत्ता में आने के बाद प्रशासन किसी उच्च अधिकारी की यह दूसरी भारत यात्रा है।

View More...

इतनी कम उम्र में ही 11 बच्चों का पालन पोषण कर रही यह महिला, 105 बच्चे पैदा करने का इतिहास बनाना चाहती हैं ये दंपति

Date : 25-Jul-2021

रुस (एजेंसी)। बच्चे हर किसी को पसंद होते हैं, शायद ही कोई ऐसा होगा जो इनकी मासूम हंसी पर अपना दिल न हार बैठे. आजकल छोटे परिवार का चलन बढ़ गया है, ऐसे में ज्यादातर लोग एक-दो बच्चे ही पैदा करना पसंद करते हैं।

रूस में रहने वाली 23 साल की क्रिस्टिना ओज्टर्क को बच्चों से काफी ज्यादा ही लगाव है और यही कारण है कि वो इतनी कम उम्र में ही 11 बच्चों का पालन पोषण कर रही हैं. हालांकि उनका बच्चों को लेकर दीवानापन अभी भी खत्म नहीं हुआ है और वे फ्यूचर में भी कई बच्चों की मां बनना चाहती हैं. क्रिस्टिना ने कहा कि मैंने छह साल पहले एक लड़की को जन्म दिया था. उसके बाद से मैंने इन बच्चों को जन्म नहीं दिया है और हमने सरोगेसी की मदद से बाकी बच्चों को पैदा किया है।

क्रिस्टिना भविष्य में 100 बच्चों का परिवार चाहती हैं. इस कपल ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर कहा था कि वे 105 बच्चे चाहते हैं. हालांकि क्रिस्टिना ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि हम बच्चों के नंबर को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त नहीं हैं लेकिन इतना जरूर है कि हम 11 पर रूकने वाले नहीं है. हम फाइनल नंबर पर फैसला नहीं कर पाए हैं।

क्रिस्टिना का परिवार जॉर्जिया के बातुमी शहर में रहता है. क्रिस्टिना ने कहा कि बातुमी में जिस क्लीनिक में हम सरोगेसी के लिए जाते हैं वे ही हमारे लिए सरोगेट महिलाओं का चयन करते हैं. इस पूरी प्रक्रिया की जिम्मेदारी उनकी होती है. हम पर्सनल तौर पर इन सरोगेट महिलाओं के संपर्क में नहीं होते हैं और ना ही हमारा उनके साथ कोई डायरेक्ट कॉन्टेक्ट होता है।

View More...

तालिबान ने अफगानिस्तान के 90 फीसद बॉर्डर इलाकों पर जमाया अपना कब्जा, इनके हमले से मारे गए थे 100 नागरिक

Date : 23-Jul-2021

कंधार (एजेंसी)। अफगानिस्तान के कंधार प्रांत के स्पिन बोल्डक जिले में कथित तौर पर 100 लोगों की बड़ी ही बेरहमी से हत्या कर दी गई। अफगानिस्तान का गृह मंत्रालय हिंसा व हत्याओं की इन घटनाओं के लिए तालिबान को जिम्मेदार मान रहा है। इससे पहले कहा जा रहा था कि तालिबान ने अफगानिस्तान के 90 फीसद बॉर्डर इलाकों पर अपना कब्जा कर लिया है। पिछले हफ्ते तालिबान ने स्पिन बोल्डर जिले पर भी हमला किया था। 

00 अफगानिस्तान में शोक का माहौल
100 लोगों के मारे जाने से पूरे अफगानिस्तान में शोक का माहौल है। जानकारी के अनुसार यह 100 शव अभी भी जमीन पर ही पड़े हैं। तालिबान ने कब्जा करने के बाद नागरिकों के घरों को लूट लिया, वहां अपने झंडे फहराये और मासूमों को मौत के घाट उतार दिया। हालांकि, तालिबान ने इन मौतों की जिम्मेदारी नहीं ली है। उसने नागरिकों की हत्या में किसी भी तरह की संलिप्तता से इनकार किया है। 

आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता मीरवाइस स्टेनकजई ने कहा, ‘अपने पंजाबी आकाओं (पाकिस्तान) के आदेश पर क्रूर आतंकवादियों ने स्पिन बोल्डक के कुछ इलाकों में निर्दोष अफगानों के घरों पर हमला किया, घरों को लूट लिया और 100 निर्दोष लोगों को शहीद कर दिया। इससे ही क्रूर दुश्मन के असली चेहरे का खुलासा होता है।’

00 घटना से संबंधित एक वीडियो फ़ुटेज जारी
बता दें पिछले हफ्ते तालिबान ने स्पिन बोल्डक पर कब्जा कर लिया था और इसके बाद तोड़फोड़ की थी। फ्रांस 24 ने इस घटना से संबंधित एक वीडियो फ़ुटेज जारी किया जिसमें तालिबान के कई सदस्यों को शहर में तोड़फोड़ करते, घरों को लूटते और सरकारी अधिकारियों के वाहनों को जब्त करते हुए देखा गया, जो इलाका छोड़कर भाग गए थे।
उन्हें बाजार में मोटरसाइकिल पर घूमते और उस इलाके को लूटते देखा गया जो पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत तक सीधी पहुंच मुहैया कराता है। उन्होंने एक घर में तालिबान के झंडे भी फहराए।

कंधार की प्रांतीय परिषद के एक सदस्य ने बताया कि अज्ञात बंदूकधारियों ने ईद से एक दिन पहले उसके दो बेटों को घर से निकाल दिया और फिर उनकी हत्या कर दी । अफगान सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार, स्पिन बोल्डक में कई नागरिकों के शव अभी भी जमीन पर पड़े हैं। इस बीच, तालिबान ने नागरिकों की हत्या में किसी भी तरह की संलिप्तता से इनकार किया है।

View More...

कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज देने के बावजूद बढ़ रहे कोरोना मामले, पढे पूरी खबर

Date : 23-Jul-2021

ब्रिटेन (एजेंसी)। ब्रिटेन के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार सर पैट्रिक वालेंस ने घोषणा की है कि ब्रिटेन में कोविड-19 से पीड़ित 40 प्रतिशत लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन की दो डोज मिली हैं। पहली नज़र में यह बहुत गंभीर खतरे की घंटी बजाता है लेकिन ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा है कि वैक्सीन अभी भी बहुत अच्छा काम कर रही है। टीके की दोनों डोज लेने के बावजूद लोगों में कोरोना के मामले तेजी से क्यों बढ़ रहे हैं इसके कई कारण हैं।

दरअसल, COVID के टीके बेहद प्रभावी हैं, लेकिन 100 प्रतिशत नहीं। यह अपने आप में आश्चर्य की बात नहीं है- फ्लू के टीके भी 100 प्रतिशत प्रभावी नहीं होते हैं। फिर भी अकेले अमेरिका में फ्लू की वैक्सीन से बीमारी के लाखों मामलों, दस हजार लोगों के अस्पताल में भर्ती होने और हर साल हजारों मौतों को रोकने का अनुमान है।

COVID की वैक्सीन भी अभी यूके में ऐसा ही कर रही है। जैसे-जैसे मामले बढ़ रहे हैं अस्पताल में भर्ती होने और मौतें भी बढ़ रही हैं, लेकिन कहीं भी उस स्तर के करीब नहीं हैं जैसे सर्दियों में थी। दिसंबर 2020 की दूसरी छमाही में- एक समय जब यूके के मामले की दर वैसी ही थी जैसी वे अभी हैं। तब लगभग 3,800 लोगों को प्रत्येक दिन कोरोना संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ब्रिटेन में अभी औसतन लगभग 700 लोग अस्पतालों में भर्ती कराए जा रहे है। हालांकि यह अभी भी हमारी अपेक्षा से अधिक है, यह पिछली बार की तुलना में बहुत कम है जब इतने सारे कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए थे। टीका लगाने वालों के बीच भी COVID बढ़ रहा है क्योंकि यूके में दोनों डोज लेने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि जारी है।

View More...

हांगकांग पुलिस ने एप्पल डेली के पूर्व वरिष्ठ संपादक को किया गिरफ्तार

Date : 21-Jul-2021

हांगकांग (एजेंसी)। हांगकांगकी राष्ट्रीय सुरक्षा पुलिस ने अब बंद हो चुके, लोकतंत्र समर्थक समाचार-पत्र एप्पल डेली के एक पूर्व संपादक को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। इससे कुछ हफ्तों पहले अखबार की संपत्तियां जब्त कर लेने के कारण इसका संचालन बंद करना पड़ा था।

सूत्र के अनुसार एप्पल डेली के कार्यकारी प्रधान संपादक लाम मेन चुंग को राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेशी ताकतों के साथ मिलीभगत की साजिश करने के संदेह में गिरफ्तार किया गया है।
चुंग अखबार से जुड़े आठवें व्यक्ति हैं जिन्हें हाल के हफ्तों में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि जून के इसी तरह के एक मामले के सिलसिले में उसने बुधवार को 51 वर्षीय एक पूर्व संपादक को गिरफ्तार किया है लेकिन उसकी पहचान नहीं बताई।

जून में, पुलिस ने अखबार के दफ्तरों पर छापे मारे थे और वहां से हार्ड ड्राइव और लैपटॉप को साक्ष्य के तौर पर साथ ले गई थी। समाचार-पत्र के शीर्ष कार्यकारियों, संपादकों और पत्रकारों की गिरफ्तारी के साथ ही 23 लाख डॉलर की संपत्तियों की जब्ती के चलते एप्पल डेली को पिछले महीने अपना संचालन बंद करना पड़ा था। उसके अंतिम संस्करण की लाखों प्रतियां बिकी थीं।

2019 में कई महीनों तक चले सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद, बीजिंग ने पिछले साल अर्धस्वायत्त शहर में सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू कर दिया जिसके बारे में आलोचकों का कहना है कि यह ब्रिटेन के पूर्व उपनिवेश को किए गए उस आजादी के वादों को प्रतिबंधित करता है जो मुख्य भूभाग चीन पर लोगों को नहीं मिलती है। लोकतंत्र के 100 से अधिक समर्थकों को इस कानून के तहत गिरफ्तार किया गया और कई अन्य विदेश चले गए।

View More...

नेपाल के नए प्रधानमंत्री देउबा ने भारत के प्रधानमंत्री मोदी के साथ निकटता से मिलकर काम करने इच्छुक

Date : 20-Jul-2021

काठमांडू (एजेंसी)। नेपाल के नए प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने कहा है कि वह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ निकटता से मिलकर काम करने के इच्छुक हैं, ताकि दोनों पड़ोसी देशों के संबंध मजबूत किए जा सकें और लोगों के बीच आपसी संपर्क बढ़ाया जा सके। प्रधानमंत्री मोदी ने नेपाल की संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में विश्वास मत हासिल करने पर देउबा को रविवार रात को बधाई दी थी। मोदी ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा को बधाई और सफल कार्यकाल के लिये शुभकामनाएं। मैं उनके साथ काम करने को लेकर उत्सुक हूं।

देउबा ने इस बधाई संदेश के लिए अपने भारतीय समकक्ष का धन्यवाद किया और दोनों पड़ोसी देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने के लिए उनके साथ मिलकर काम करने की इच्छा जताई। उन्होंने रविवार देर रात ट्वीट किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बधाई संदेश देने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया। 75 वर्षीय देउबा ने बहाल की गई प्रतिनिधि सभा में आसानी से विश्वास मत जीत लिया। इसी के साथ कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच हिमालयी देश में आम चुनाव टल गए। नेपाली कांग्रेस के देउबा ने 275 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में 165 मत हासिल किए। उन्हें उच्चतम न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद 12 जुलाई को संविधान के अनुच्छेद 76(5) के तहत प्रधानमंत्री बनाया गया था। देउबा को संसद का विश्वास हासिल करने के लिए कुल 136 मतों की आवश्यकता थी।

View More...

शेर बहादुर देउबा बने नेपाल के प्रधानमंत्री, पीएम मोदी ने दी बधाई

Date : 19-Jul-2021

काठमांडू (एजेंसी)। शेर बहादुर देउबा रविवार को आधिकारिक रूप से नेपाल के नए प्रधानमंत्री बन गए हैं। रविवार को संसद के निचले सदन में उन्होंने आसानी से विश्वास मत जीत लिया है। देउबा को कुल 275 में से 165 वोट मिले। मतदान प्रक्रिया में कुल 249 सांसदों ने हिस्सा लिया था। इनमें से 165 वोट उनके पक्ष में पड़े, जबकि 83 वोट उनके खिलाफ पड़े।

नेपाली कांग्रेस, सीपीएन माओवादी सेंटर और जनता समाजवादी पार्टी-नेपाल के सांसदों ने देउबा के पक्ष में वोट डाला। जेएसपी-एन के ठाकुर-महतो धड़े ने आखिरी घंटे में देउबा को वोट देने का फैसला किया। यूएमएल के असंतुष्ट गुट के सांसद भी इस संबंध में बंटे हुए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शेर बहादुर देउबा को आधिकारिक रूप से प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, `शेर बहादुर देउबा को प्रधानमंत्री बनने पर बधाई। मैं आपके सफल कार्यकाल की कामना करता हूं। मुझे उम्मीद है कि हमलोग सभी सेक्टर्स में अपने यूनिक पार्टनरशिप को मजबूती से आगे बढ़ाएंगे और पुराने संबंधों में और मजबूती लाएंगे।`

नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष 75 वर्षीय देउबा ने 13 जुलाई को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। इससे एक दिन पहले ही नेपाल के उच्चतम न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश चोलेंद्र शमशेर राणा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा को बहाल करने का आदेश दिया था, जिसे पांच महीने में दूसरी बार 22 मई को तत्कालीन प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की अनुशंसा पर राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भंग कर दिया था। अदालत ने फैसले को असंवैधानिक करार दिया था।

नेपाल की प्रतिनिधि सभा में कुल 275 सदस्य होते हैं। इनमें से 271 की गिनती होनी थी। देउबा के लिए कम से कम 136 सदस्यों का समर्थन हासिल करना जरूरी था। अगर वह विश्वास मत हासिल करने में असफल होते हैं तो संसद भंग हो जाती और अगले छह महीने में चुनाव कराने होते।

संसद के निचले सदन में नेपाली कांग्रेस के 61 सदस्य हैं जबकि उसकी गठबंधन साझेदार नेपाली कम्युनिस्टी पार्टी (माओवादी केंद्र) के सप्कोटा के अलावा 48 सदस्य हैं। मुख्य विपक्षी ओली की पार्टी सीपीएन-यूएमएल (कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (यूनिफाइड मार्क्सिस्ट -लेनिनिस्ट)) के 121 सदस्य हैं। जबकि जनता समाजवादी पार्टी के 32 सदस्य हैं। इसके अलावा तीन छोटी पार्टियों के एक-एक सदस्य हैं. एक निर्दलीय सांसद भी हैं।

View More...

एतिहाद एयरवेज ने भारत, पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश के लिए विमानों की उड़ान को 31 जुलाई तक के लिए किया स्‍थगित

Date : 18-Jul-2021

अबू धाबी (एजेंसी)। संयुक्‍त अरब अमीरात में रह रहे और वहां जाने वाले लाखों भारतीयों को एतिहाद एयरवेज ने झटका दिया है। एतिहाद एयरवेज ने भारत, पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश के लिए विमानों की उड़ान को 31 जुलाई तक के लिए स्‍थगित कर दिया है। एतिहाद एयरवेज ने ट्विटर पर दी गई जानकारी में कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए भारत से उड़ानों पर प्रतिबंध को बढ़ाया गया है।

यूएई जाने के लिए केवल विदेशी राजनयिकों, यूएई के नागरिकों और गोल्‍डेन वीजा हासिल करने वालों को ही छूट दी गई है। ऐसे लोगों को विमान की उड़ान से अधिकतम 48 घंटे पहले पीसीआर टेस्‍ट कराना होगा। इस टेस्‍ट में निगेटिव आने वालों को ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी। इससे पहले शुक्रवार को एमिरात एयरलाइंस ने भी दक्षिण अफ्रीका और नाइजीरिया के लिए उड़ानों को स्थगित कर दिया था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यूएई से मुंबई, कराची और ढाका के लिए उड़ानों को सर्च करने पर संदेश आ रहा है कि इसे 31 जुलाई तक के लिए स्‍थगित किया गया है। इससे पहले एतिहाद ने कहा था कि भारत के लिए उड़ानों पर से बैन को हटाया नहीं गया है बल्कि इसे 21 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। अभी तक यूएई के अधिकारियों की ओर से भारत के लिए उड़ानों पर बैन हटाने के बारे में कोई ऐलान नहीं किया गया है।

संयुक्त अरब अमीरात के जनरल सिविक एविएशन अथॉरिटी (GCAA) ने कहा है कि 13 देशों से एंट्री पर बैन अभी लगा हुआ है। इस प्रतिबंध की वजह से बड़ी संख्‍या में कामगार खासकर हेल्‍थ सेक्‍टर में काम करने वाले लोग भारत में फंस गए हैं। ऐसे भारतीय कामगार लौटने की उम्मीद कर रहे थे। एतिहाद एयरलाइन्‍स अबूधाबी से उड़ानों को संचालित करती है। यही पर उसका मुख्‍यालय भी है।

View More...

कार्बन मोनोऑक्साइड के रिसाव के कारण 4 लोगों की मौत

Date : 18-Jul-2021

ब्रुकलिन (एजेंसी)। दक्षिणी मिशिगन में एक संगीत महोत्सव में भाग लेने जा रहे चार लोगों की एक वाहन के भीतर मौत हो गयी। ऐसी आशंका है कि कार्बन मोनोऑक्साइड के रिसाव के कारण उनकी मौत हुई। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि दो और लोगों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

लेनावी काउंटी के शेरिफ कार्यालय ने ट्वीट किया, ``इस त्रासद घटना की जांच की जा रही है और इनके ट्रैवल ट्रेलर (वाहन) के पास मिले एक जनरेटर से कार्बन मोनोऑक्साइड के रिसाव का संदेह है।`` इसके अलावा राज्य की पुलिस ने क्रॉसवेल निवासी 30 वर्षीय महिला मेलिसा हेवन्स की मौत की जानकारी दी है। मौत की वजह का अभी पता नहीं चला है। बहरहाल जांचकर्ता एक संदिग्ध की तलाश कर रहे हैं।

View More...

वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने के बाद भी कोरोना से संक्रमित हुए ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री

Date : 18-Jul-2021

लंदन (एजेंसी)। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए दुनियाभर के हेल्थ एडवाइजर वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने की बात कहते हैं। लेकिन ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने के बाद भी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने शनिवार को बताया कि वह कोरोना से संक्रमित हो गए हैं तथा क्वारंटाइन हैं।

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि उन्हें बीमारी के हल्के लक्षण हैं। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, `आज सुबह कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया हूं। अपनी पीसीआर जांच के नतीजे का इंतजार कर रहा हूं, सौभाग्य से मैंने टीका लगवा लिया था और लक्षण हल्के हैं। यदि आपने टीका नहीं लगवाया है तो टीकाकरण कराने के लिए आगे आएं।`

स्वास्थ्य मंत्री ने अपने ट्वीट में बताया कि उन्होंने कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक ले ली थी। उन्होंने बताया कि उनके लक्षण बहुत ही हल्के हैं। ज्ञातव्य है कि कोरोना महामारी की पहली लहर के दौरान ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। ब्रिटेन में कोरोना संक्रमण के 51,870 नए मामले सामने आए हैं, यह 15 जनवरी के बाद सबसे अधिक मामले हैं। इंग्लैंड में अभी तक लॉकडाउन लगा था लेकिन सोमवार से लॉकडाउन के नियम समाप्त हो रहे हैं।

View More...
Previous123456789...4647Next