Entertainment

एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को मुंबई क्राइम ब्रांच पुलिस ने किया गिरफ्तार, अश्लील फिल्में बनाने का आरोप

Date : 20-Jul-2021

मुंबई (एजेंसी)। बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा को मुंबई क्राइम ब्रांच पुलिस ने अश्लील फिल्में बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया है. शिल्पा के पति राज को क्राइम ब्रांच ने पूछताछ के लिए बुलाया था. कई घंटों की पूछताछ के बाद शाम के वक्त राज कुंद्रा को गिरफ्तार किया गया. राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाकर ऐप पर दिखाने का आरोप लगा है. इसी साल फरवरी 2021 में राज कुंद्रा के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी.

क्राइम ब्रांच का कहना है कि राज कुंद्रा इस मामले में मुख्य आरोपी है जिसके सबूत क्राइम ब्रांच के पास है. पुलिस के मुताबिक उनके ऊपर इसी साल फरवरी 2021 में मामला दर्ज किया गया था. उनपर आरोप सही साबित होने के सबूतों के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया है. राज कुंद्रा से मुबंई पुलिस के प्राॉपर्टी सेल ने लंबी पूछताछ की जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद राज कुंद्रा को मेडिकल करने के लिए देर रात जेजे अस्पताल ले जाया गया. साथ ही कमिश्नर के ऑफिस में भी उन्हें पेश किया गया.

राज कुंद्रा इससे पहले भी कई बार आरोपों के चलते सुर्खियों में आ चुके हैं. कुछ समय पहले एक्ट्रेस पूनम पांडे ने राज और उनके एक सहयोगी पर उनकी तस्वीरों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया था. हालांकि राज ने अपने ऊपर लगे आरोपों से इंकार किया था.

राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया यूजर्स उनका जमकर विरोध कर रहे हैं. ट्वीटर पर हैशटेग शिल्पा शेट्टी और बॉयकॉट बॉलीवुड ट्रेंड हो रहा है.

View More...

बालिका वधू में दादी सा का रोल निभाने वाले एक्ट्रेस सुरेखा सिकरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन

Date : 16-Jul-2021

नईदिल्ली (एजेंसी)। पॉपुलर शो हो गया। वे 75 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। बताया जा रहा है कि सुरेखा सिकरी लंबे समय से बीमार चल रही थी। 2020 में सुरेखा सीकरी को दूसरी बार ब्रेन स्ट्रोक आया था। तभी से उनकी तबीयत खराब चल रही थी। 2018 में सुरेखा सीकरी को पैरालाइटिक स्ट्रोक आया था। इससे पहले उन्हें 2018 में पैरालिटिक स्ट्रोक आया था और तभी से वो व्हीलचेयर पर थीं।

ब्रेन स्ट्रोक की हुई थीं शिकार

‘बालिका वधू’ फेम सुरेखा सीकरी सितंबर 2020 में ब्रेन स्ट्रोक की शिकार हुई थीं। उस वक्त उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी। उन्होंने इलाज के लिए आर्थिक मदद भी मांगी थी। इससे पहले नवंबर 2018 में सुरेखा सीकरी को ब्रेन स्ट्रोक हुआ था। जिसकी वजह से वह पैरालाइज्ड हो गई थीं। वह शूटिंग के दौरान ही गिर पड़ी थीं।

कैसा रहा सुरेखा सीकरी का करियर?

सुरेखा सीकरी ने थियेटर, फिल्मों और टीवी में काफी काम किया था। साल 1978 में पॉलिटिकल ड्रामा फिल्म किस्सा कुर्सी का से सुरेखा ने एक्टिंग डेब्यू किया था। सुरेखा को तीन बार बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है। उन्हें ये सम्मान फिल्म तमस (1988), मम्मो (1995) और बधाई हो (2018) के लिए मिला था।

NSD पासआउट थीं सुरेखा सीकरी

सुरेखा का जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ था। 1971 में सुरेखा ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से ग्रेजुएशन की थी। 1989 में सुरेखा ने संगीत नाटक अकेडमी अवॉर्ड जीता था। सुरेखा के पिता एयरफोर्स में और माता टीचर थीं। सुरेखा ने हेमंत रेगे से शादी की थी। इस शादी के उनके एक बेटा है जिसका नाम राहुल सीकरी है।

बालिका वधू ने दिलाई पहचान

सुरेखा सीकरी ने अपने लंबे करियर में यूं तो कई दमदार रोल्स किए थे। लेकिन एक रोल जिन्हें उन्हें घर घर में पॉपुलर बनाया वो था बालिका वधू में किया गया कल्याणी देवी का रोल। इसके बाद सुरेखा ने 2018 में आई फिल्म बधाई हो में दुर्गा देवी कौशिक का रोल प्ले किया था। इस रोल में भी सुरेखा ने लोगों का दिल जीता। अपने इस रोल के लिए सुरेखा को नेशनल अवॉर्ड मिला था। सुरेखा व्हील चेयर पर बैठकर राष्ट्रीय पुरस्कार लेने पहुंची थीं।

View More...

सौरव गांगुली की बनेगी बायोपिक फिल्म, बायोपिक को लेकर सौरव गांगुली ने भरी हामी

Date : 14-Jul-2021

नईदिल्ली (एजेंसी)। खेलों से बॉलीवुड का पुराना नाता रहा है. खेलों को लेकर तमाम फिल्में बनीं हैं. खिलाड़ियों पर आधारित फिल्मों ने सिल्वर स्क्रीन को अपना बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ा है. उनमें से ज्यादातर फिल्मों का ताल्लुक क्रिकेट से जुड़े खिलाड़ियों से ही रहा है. हिंदुस्तान अब तक सचिन तेंदुलकर पर बनीं बायोपिक देख चुका है. एमएस धोनी पर बनी फिल्म देख चुका है. मोहम्मद अजहरुद्दीन के रियल लाइफ को रील में देख चुका है. और, अब वो बहुत जल्द ही भारतीय क्रिकेट के दादा यानी सौरव गांगुली पर बनने वाली फिल्म को भी रुपहले पर्दें पर छाया देखेगा.

खबर है कि बायोपिक को लेकर सौरव गांगुली ने हामी भर दी है. और, इसी के साथ जो एक लंबे समय से इंतजार था, वो खत्म हुआ और फिल्म के बनने का रास्ता साफ हुआ है. सौरव गांगुली ने इस मामले की पुष्टि करते हुए कहा है , ” हां, मैंने बायोपिक को लेकर हामी भरी है. ये हिंदी में होगी. पर इसका निर्देशक कौन होगा, ये मैं आपको अभी नहीं बता सकता. बाकी चीजें साफ होने में अभी कुछ दिन और लग सकता है.”

दादा के रोल के लिए रणबीर कपूर का नाम आगे- रिपोर्ट

फिलहाल उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, फिल्म में सौरव गांगुली के रोल के लिए रणबीर कपूर का नाम रेस में सबसे आगे हैं. ये फिल्म एक बड़े बैनर तले बनेगी, जिसका बजट 200 से 250 करोड़ रुपये तक होगा. हालांकि, इससे पहले छपी रिपोर्ट में ये कहा गया था कि ऋतिक रोशन, गांगुली पर बनने वाली फिल्म में लीड रोल करेंगे और ये फिल्म धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बनेगी. लेकिन गांगुली और ऋतिक दोनों ही तब इस रिपोर्ट पर कुछ भी कहने से बचते दिखे थे. फिल्म के लिए गांगुली को सबसे पहले फिल्म मेकर एकता कपूर और फॉक्स स्टार स्टूडियो ने अप्रोच किया था. लेकिन तब गांगुली ने उनका ऑफर ठुकरा दिया था.

फिल्म में दिखाई जाएगी गांगुली की पूरी कहानी, स्किप्ट पर काम चालू

अब फिल्म को लेकर जो ताजा रिपोर्ट सामने आई है, उसके मुताबिक प्रोडक्शन हाउस के साथ चले बैठकों के कई दौर के बाद रणबीर कपूर के नाम को लीड रोल के लिए गांगुली ने खुद से कन्फर्म किया है. सूत्रों के मुताबिक फिल्म में गांगुली के यंग लाइफ से इंटरनेशनल क्रिकेटर बनने तक की कहानी दिखाई जाएगी. फिल्म में उनकी कप्तानी की कहानी के अलावा भारतीय क्रिकेट में संभाले उनके आधिकारिक पदों की दास्तान भी होगी. ये फिल्म कब रिलीज होगी ये तय नहीं है. फिलहाल, स्क्रिप्ट पर काम चल रहा है.

View More...

एमजे कॉलेज में छॉलीवुड के कलाकारों ने किया ड्रामा क्लब का शुभारंभ

Date : 13-Jul-2021

भिलाई। एमजे कालेज में ड्रामा क्लब का विधिवत शुभारंभ भोजपूरी, छत्तीसगढी फिल्मों के प्रसिद्ध अभिनेता एवं कमेडियन प्रदीप शर्मा और शमशीर सिवानी ने नाटयप्रेमी एवं समाजसेवी पुरूषोत्तम टावरी की उपस्थिति में किया। इस दौरान बॉलीवुड के ट्रेजिडी किंग दिलीप कुमार को उपस्थित अतिथियों, कॉलेज की निदेशक डॉ श्रीलेखा विरुलकर एवं प्राचार्य डॉ अनिल कुमार चौबे सहित कॉलेज के सभी स्टाफ एवं ड्रामा क्लब के सदस्यों ने श्रद्धांजलि देते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किए।

इस दौरान कॉमेडी के मंजे हुए कलाकार प्रदीप शर्मा एवं शमशीर सिवानी ने इस पर भावपूर्ण प्रस्तुतियां देकर स्व. दिलीप कुमार को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर एक्टर एवं कमेडियन प्रदीप शर्मा ने जहां अपने कई फिल्मों के कमेडी सीन के डायलॉग तथा चिडिय़ों सहित कई प्रकार के आवाज निकालकर लोगों का खूब मनोरंजन किया। वहीं फिल्मों के चरित्र अभिनेता एवं गीतकार तथा संवाद लेखक शमशीर सिवानी ने भी कोरोना सहित अन्य विषयों पर अपने चुटिले हास्य-व्यंग्य से और अपने हिन्दी, छत्तीसगढ़ी और भोजपूरी फिल्मों के डॉयलांग सुनाकर तथा अपने फिल्मी कमेडी सीन करके कॉलेज के उपस्थित सभी लोगों को खूब हंसाया।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए प्रदीप शर्मा ने अपनी कला यात्रा का संक्षिप्त वर्णन करते हुए कहा कि हालांकि वे 164 से अधिक फिल्मों में काम कर चुके हैं पर आज भी उन्हें थिएटर में काम करना ज्यादा चुनौतीपूर्ण लगता है। उन्होंने एमजे कॉलेज को ड्रामा क्लब के लिए बधाई देते हुए का कि शहर लंबे समय से इसकी जरूरत महसूस कर रहा था।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री टावरी ने कहा कि ड्रामा लोगों का केवल मनोरंजन नहीं करता बल्कि काफी कुछ सिखाता भी है। उन्होंने ड्रामा क्लब को पूर्ण सहयोग का वायदा करते हुए कहा कि इसमें सभी कलाकारों को जोडऩे के प्रयास किये जाएं। उन्होंने क्लब के कुछ सदस्य विद्यार्थियों का इस अवसर पर सम्मान भी किया।

महाविद्यालय की निदेशक डॉ श्रीलेखा विरुलकर ने इस अवसर पर स्व. दिलीप कुमार पर फिल्माए गए गीत `नैन लड़ जइहें तो...` प्रस्तुत कर दिवंगत कलाकार को स्वरांजलि दी। शंकराचार्य महाविद्यालय की निदेशक प्राचार्य डॉ रक्षा सिंह ने `हर करम अपना करेंगे ऐ वतन तेरे लिए` तथा डॉ लक्ष्मी वर्मा ने `सुहाना सफर और ये मौसम हसीं` को ऑनलाइन प्रस्तुत कर अपनी भागीदारी दी।

आरंभ में महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ अनिल कुमार चौबे ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि रंगमंच लोगों के व्यक्तित्व को निखारता है। यह पर्सनालिटी डेवलपमेंट का अभिन्न हिस्सा है। क्लब के कार्यक्रम में प्रदीप शर्मा और शमशीर सिवानी जैसे वरिष्ठ कलाकारों को पाकर महाविद्यालय परिवार गौरवान्वित है। क्लब के संयोजक सहा. प्राध्यापक दीपक रंजन दास ने `ये मेरा दीवानापन है` प्रस्तुत किया। कोरोना प्रोटोकॉल के तहत कार्यक्रम का आयोजन ऑनलाइन एवं ऑफलाइन मोड में किया गया। कार्यक्रम का संचालन क्लब के संयोजक सहा. प्राध्यापक दीपक रंजन दास ने एवं धन्यवाद ज्ञापन ड्रामा क्लब की सचिव ममता एस राहुल ने किया।

View More...

हॉरर फिल्मों के मशहूर कुमार रामसे का दिल का दौरा पड़ने से निधन

Date : 08-Jul-2021

मुंबई (एजेंसी)। हॉरर फिल्मों के लिए मशहूर कुमार रामसे का दिल का दौरा पड़ने से गुरुवार को निधन हो गया। 85 साल की उम्र में रामसे ब्रदर्स में सबसे बड़े कुमार रामसे नहीं रहे। हॉरर फिल्मों की पटकथा लिखने वाले कुमार रामसे अपने पीछे पत्नी शीला और उनके तीन बेटे राज रामसे, गोपाल रामसे और सुनील रामसे को छोड़ गए हैं। उनके बेटे गोपाल के मुताबिक गुरुवार सुबह साढ़े 5 बजे दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। फिल्म निर्माता एफयू रामसे के बेटे कुमार रामसे सात भाईयों में सबसे बड़े थे। इन भाईयों ने हॉरर फिल्म बनाई और इनका नाम ही डरावनी फिल्मों के लिए जाना जाता है।

View More...

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार का निधन

Date : 07-Jul-2021

मुंबई (एजेंसी)। हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता रहे दिलीप कुमार का बुधवार सुबह निधन हो गया। सुबह करीब 7.30 बजे 98 साल की उम्र में उन्होंने मुंबई के हिंदुआ अस्पताल में अंतिम सांस ली। वे पिछले दिनों से बीमार चल रहे थे और बार-बार अस्पताल में भर्ती करवाया जा रहा था।

उल्लेखनीय है कि पिछले एक महीने में उन्हें दूसरी बार अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। हर बार उनकी पत्नी सायरा बानो साथ रहीं और हर बार उन्होंने फैन्स से अपील की कि वे दिलीप साहब की अच्छी सेहत के लिए कामना करें। दिलीप कुमार पिछले कुछ दिनों से उम्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे थे और उन्हें 30 जून को मुंबई के हिंदुजा अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था।

इससे पहले दिलीप कुमार को 6 जून को सांस लेने में तकलीफ के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें फेफड़ों में पानी भरने की समस्या थी। तब एक छोटी सी सर्जरी हुई थी और पांच दिन बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई थी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सायरा बानो से फोन पर की बात कर दिलीप साहब के निधन पर दुःख व्यक्त किया। सूचना मिलने के बाद प्रधानमंत्री ने करीब 10 मिनट फोन पर बात की और परिवार को ढांढस बंधाया।

बॉलीवुड के `ट्रेजेडी किंग` के रूप में जाने जाने वाले इस दिग्गज अभिनेता का करियर छह दशकों से अधिक का है। उन्होंने अपने करियर में 65 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है और उन्हें `देवदास` (1955), `नया दौर` (1957), `मुगल-ए-आजम` (1960), `गंगा जमुना` (1961), `क्रांति` (1981), और `कर्म` (1986) जैसी फिल्मों में उनकी प्रतिष्ठित भूमिकाओं के लिए जाना जाता है। उन्हें आखिरी बार 1998 में `किला` में देखा गया था।

दिलीप कुमार का असली नाम यूसुफ खान था। उनका जन्म और पालन-पोषण नासिक में हुआ था। अभिनेता बनने से पहले वह आर्मी क्लब में सैंडविच स्टॉल चलाते थे। बाद में उनकी मुलाकात बॉम्बे टॉकीज की मालिक देविका रानी से हुई, जहां उन्होंने एक कहानीकार के रूप में पटकथा विभाग में काम करना शुरू किया। दिलीप कुमार ने 1944 में फिल्म ज्वार भाटा के साथ बॉलीवुड का सफर शुरू किया था। उन्होंने 1947 में जुगनू में अभिनय किया और यह बॉक्स ऑफिस पर उनकी पहली बड़ी हिट फिल्म बन गई। अभिनेता ने आगे इंसानियत, देवदास, कोहिनूर और आन जैसी फिल्में कीं। वे सांसद भी रह चुके हैं। दिलीप कुमार 1950 के दशक में प्रति फिल्म 1 लाख रुपये चार्ज करने वाले पहले अभिनेता हैं।

View More...

बॉलीवुड अभिनेता दिलीप कुमार को सांस लेने में तकलीफ, उपचार के लिए फिर से अस्पताल में कराया गया भर्ती

Date : 30-Jun-2021

मुंबई (एजेंसी)। बॉलीवुड के जाने माने एक्टर दिलीप कुमार को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी, जिसके बाद उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्हें आईसीयू में रखा गया है। कुछ दिन पहले ही इन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली थी। एक्टर दिलीप कुमार को सांस लेने में हो रही परेशानी के चलते हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल उनका स्वास्थ्य ठीक बताया जा रहा है। यह अस्पताल कोविड-19 केन्द्र नहीं है।

अस्पताल से जुड़े एक सूत्र ने बताया, उन्हें सांस लेने में तकलीफ के बाद कल दोपहर को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनकी उम्र और हाल में ही अस्पताल में भर्ती कराए जाने के मद्देनजर परिवार ने एहतियाती तौर पर उन्हें अस्पताल लाने का फैसला किया। वह ठीक हैं। वह गहन चिकित्या विभाग (आईसीयू) में भर्ती हैं, ताकि चिकित्सक उनके स्वास्थ्य पर नजर रख पाएं।

दिलीप कुमार को सांस में तकलीफ के कारण छह जून को भी इसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उस समय उनके फेफड़ों के बाहर तरल पदार्थ एकत्र हो गया, जिसे चिकित्सकों ने सफलतापूर्वक निकाल दिया था और पांच दिन बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

दिलीप कुमार ने 1944 में ह्यज्वार भाटा’ फिल्म से अपने करियर शुरूआत की थी और अपने पांच दशक लंबे करियर में ‘मुगल-ए-आजम’, ‘देवदास’, ‘नया दौर’, ‘राम और श्याम’ जैसी हिट फिल्में दीं। वह आखिरी बार 1998 में आई फिल्म ‘किला’ में नजर आए थे।

View More...

मंदिरा बेदी के पति का दिल का दौरा पडने से निधन

Date : 30-Jun-2021

मुंबई (एजेंसी)। मंदिरा बेदी के पति राज कौशल का आज सुबह निधन हो गया। पारिवारिक सूत्रों का कहना है कि उनका निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ है।

राज ने अभिनेता के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने अपने करियर में तीन फिल्मों, `प्यार में कभी कभी`, `शादी का लड्डू` और `एंथनी कौन है` का निर्देशन किया है। राज कौशल के निधन पर बॉलीवुड की तमाम हस्तियों ने शोक जताया है।

मंदिरा बेदी और राज कौशल की पहली मुलाकात 1996 में मुकुल आनंद के घर पर हुई थी। मंदिरा वहां ऑडिशन देने पहुंची थीं और राज, मुकुल आनंद के असिस्टेंट के रूप में काम कर रहे थे। यहीं से दोनों के प्यार की शुरुआत हुई। मंदिरा बेदी ने 14 फरवरी 1999 को राज कौशल से शादी की थी। 

मंदिरा बेदी और राज कौशन ने 14 फरवरी 1999 को शादी की थी। दरअसल मंदिरा के माता-पिता उनकी शादी एक फिल्म निर्देशक से कराना चाहते थे। लेकिन दोनों के प्यार के आगे किसी की नहीं चली।

View More...

14 साल की आदिवासी लड़की की दर्दनाक कहानी, 100 बार से भी ज्यादा बार हुआ रेप, बाथरूम में बच्चे को देना पड़ा जन्म

Date : 29-Jun-2021

नईदिल्ली (एजेंसी)। रीजनल सिनेमा में काफी हैरान कर देने वाला टैलेंट और कंटेंट देखने को मिल जाता है। हाल ही में जो फिल्म जबरदस्त चर्चाएं बटोर रही है, वो इस टैलेंट का सबूत है। हम बात कर रहे हैं फिल्म ‘धूम्ककुड़िया’ की जो, 14 साल की आदिवासी लड़की की दर्दनाक कहानी पर आधारित है। इस लड़की के साथ 100 बार से भी ज्यादा बार रेप हुआ और उसे मजबूरत एक बाथरूम में बच्चे को जन्म देना पड़ा। वहीं ये दिल दहला देने वाली कहानी पर्दे पर उतारी डायरेक्टर नंदलाल नायक ने… जो अब 2021 में आयोजित होने जा रहे कान्स फिल्म फेस्टिवल में दिखाई जाएगी।

कई लोगों से मांगी मदद

‘धूम्ककुड़िया’ के डायरेक्टर नंदलाल ने ये फिल्म बनाने के लिए अपनी सारी सेविंग्स खर्च कर दी थी। उन्होंने कई लोगों से मदद मांगी लेकिन नहीं मिली। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ये फिल्म 3.5 करोड़ के बजट पर बनी है, जो काफी नहीं थे। कि एक सच्ची घटना पर आधारित है। नंदलाल ये भी बता चुके हैं कि वो इस लड़की की कहानी सुनकर इतने दुखी हो गए थे कि डिप्रेशन में चले गए थे। वो अमेरिका में थे और 2003 में आदिवासी लोक संगीत के रिसर्च को लेकर अपने गांव लौटे थे, तभी उन्होंने इस लड़की की कहानी सुनी थी जो मानव तस्करी का शिकार हो गई थी।

बता दें कि फिल्म के लीड एक्टर्स में रिंकल कच्चप और प्रद्युमन नायक जैसे कलाकार शामिल हैं। नंदलाल ने बताया कि जब उन्होंने लड़की से बात की तो पहले वो शांत रही और किसी से भी बात करने की इच्छुक नहीं थी लेकिन जब उसे मेकर्स पर भरोसा हो गया तब उसने अपनी कहानी बताई कि किस तरह उसे कई बार बेचा गया और जब वो प्रेग्नेंट हो गई तो एक कमरे में बंद कर दिया गया, जहां उसने बाथरूम एक बच्चे को जन्म दिया… लेकिन इसके बाद उसने अपनी सारी हिम्मत बटोर कर वहां से भागने का फैसला किया और रांची की ट्रेन लेकर, किसी तरह अपने गांव पहुंच गई।

View More...

ऑनलाइन क्लास लेने में छात्रों को हो रही परेशानी, अभिनेता सोनू सूद लगवाएंगे खुद का मोबाइल टावर

Date : 29-Jun-2021

मुंबई (एजेंसी)। सोनू सूद परेशान, गरीब, जरूरमंद और बच्चों की मदद करने के लिए हर समय तैयार रहते हैं। वह इन सभी को हर संभव मदद पहुंचाने की कोशिश करते हैं। कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन के कारण ज्यादातर छात्र ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं, लेकिन देश से बहुत से हिस्से हैं जहां मोबाइल नेटवर्क की काफी दिक्कत है। जिसके चलते ऑनलाइन क्लास लेने में परेशानी हो रही है।

ऐसे में सोनू सूद ने ऑनलाइन क्लास लेने में हो रही परेशानी हो दूर करने के लिए बड़ा फैसला लिया है। दरअसल उत्तरी केरल के वायनाड में मोबाइल नेटवर्क की परेशानी हो रही है। जिसके चलते वहां के बहुत से बच्चों को ऑनलाइन क्लास लेने पर परेशानी हो रही है। बच्चों की इन परेशानी को देखते हुए सोनू सूद ने वायनाड में मोबाइल नेटवर्क लगाने का फैसला किया है।

इस बात की जानकारी सोनू सूद ने सोशल मीडिया के जरिए दी है। सोनू सूद सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहते हैं। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘किसी की भी पढ़ाई अधूरी नहीं रहेगी। वायनाड में सभी को बता दीजिए कि हम वहां पर मोबाइल टावर लगाने के लिए एक टीम भेज रहे हैं। अब वक्त आ गया है कि हम अपनी सीटबेल्ट कस कर बांध लें। एक और मोबाइल टावर लगाने का वक्त आ गया है।’

View More...