Chhattisgarh

मुख्यमंत्री बघेल ने जशपुर हादसे पर जताया शोक, दिए जांच के आदेश

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। जशपुर जिले में मूर्ति विसर्जन करने जा रहे लोगों पर तेज रफ्तार कार चढ़ गई। इस हादसे में एक की मौत हो गई, जबकि दर्जनभर से ज्यादा लोग घायल हो गए। दुर्घटना पर मुख्यमंत्री बघेल ने शोक व्यक्त किया है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा- जशपुर की घटना बहुत दुखद और हृदयविदारक है। दोषियों को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया है। प्रथमदृष्टया दोषी दिख रहे पुलिस अधिकारियों पर भी कार्रवाई हुई है। जांच के आदेश दिए गए हैं। कोई भी बख्शा नहीं जाएगा। सबके साथ न्याय होगा। ईश्वर दिवंगतजनों की आत्मा को शांति दे।

View More...

सीएम बघेल जाएंगे दिल्ली, कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में होंगे शामिल, पार्टी को मिल सकता है नया राष्ट्रीय अध्यक्ष!

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। नई दिल्ली में  16 अक्टूबर को कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीएडब्ल्यूसी) की अहम बैठक होने वाली है. सोनिया गांधी की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में कई अहम मुद्दों पर सरकार को घेरने की रणनीति बनाई जाएगी।

इस बैठक में शामिल होने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी दिल्ली रवाना होने वाले हैं. मुख्यमंत्री बघेल विजयादशमी के खास मौके राजधानी रायपुर और दुर्ग जिले में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। इसके बाद रात 10 बजे विमान से दिल्ली जाएंगे।

माना जा रहा है कि इस बैठक में उत्तरप्रदेश, पंजाब सहित कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के साथ-साथ उपचुनावों की रणनीति पर मंथन किया जाएगा। साथ ही चर्चा है कि राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव भी आ सकता है.

बता दें कि लंबे समय से कांग्रेस के नेता राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे हैं। वहीँ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी यह प्रस्ताव रख चुके हैं। बैठक में संगठन में फेरबदल की अटकलें भी लगाई जा रही हैं.

View More...

बस्तरवासियों को सीएम बघेल देंगे 230 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

Date : 16-Oct-2021

जगदलपुर। बस्तर दशहरा में शामिल होने के लिए जगदलपुर पहुंच रहे मुख्यमंत्री बघेल बस्तरवासियों को लगभग 230 करोड़ रुपए के विकास कार्यों की सौगात देंगे। मुख्यमंत्री अपने दो दिवसीय बस्तर प्रवास के दौरान मुरिया दरबार सहित विभिन्न समारोहों में शामिल होंगे। इस दौरान वे बस्तर एकेडमी ऑफ़ डांस, आर्ट एंड लैंग्वेज, कलागुड़ी, लालबाग में की गई रोशनी की व्यवस्था के साथ ही कई अन्य प्रमुख विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री आसना में स्थित बादल परिसर में आयोजित समारोह में बादल के लोकार्पण सहित 183 करोड़ 62 लाख रुपए से अधिक के 29 कार्यों का लोकार्पण और 45 करोड़ 42 लाख रुपए से अधिक के 15 कार्यों का भूमिपूजन करेंगे।

इसके तहत श्री बघेल ने लगभग 6 करोड़ रूपए की लागत से बस्तर विश्व विद्यालय जगदलपुर में नव निर्मित एमबीए अध्ययन शाला भवन, 68 लाख रूपए की लागत से ग्राम कुरंदी में निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन, 95 लाख 35 हजार रूपए की लागत से जगदलपुर विकासखण्ड के पुसपाल में निर्मित उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन, 23 करोड़ 17 लाख रूपए की लागत से जगदलपुर शहर में मां दन्तेश्वरी मंदिर से एनएमडीसी रेस्ट हाऊस तक 3.52 किलोमीटर लम्बी प्रगति पथ, 43 करोड़ 21 लाख रूपए की लागत की 25.50 किलोमीटर नानगूर-नेतानार-कोलेंग मार्ग, 14 करोड़ 4 लाख रूपए की लागत से ग्राम-परपा मंे निर्मित 112 नग जी टाईप पुलिस आवासगृह, 22 करोड़ 82 लाख रुपए की लागत से निर्मित 29 किलोमीटर लंबी दरभा से कटेकल्याण मार्ग, 35 करोड़ 90 लाख रुपए की लागत से निर्मित 45 किलोमीटर लंबी चित्रकोट बारसूर मार्ग, लगभग 2 करोड़ 57 लाख रुपए की लागत से निर्मित सात किलोमीटर लंबी एरमुर से कस्तुरपाल मार्ग, लगभग 2 करोड़ 72 लाख रुपए की लागत से निर्मित 5 किलोमीटर लंबी लामकेर-टिकनपाल-बालेंगा मार्ग, लगभग 1 करोड़ 68 लाख रुपए की लागत से निर्मित 3.20 किलोमीटर लंबी घाटपाली से महुपाल बरई मार्ग, लगभग 1 करोड़ 85 लाख रुपए की लागत से निर्मित 5.5 किलोमीटर लंबी केशरपाल-सोरगांव मार्ग, लगभग 2 करोड़ 66 लाख रुपए की लागत से निर्मित 7 किलोमीटर लंबी मुंडागांव से राजपुर मार्ग, 1 करोड़ 63 लाख रूपए की लागत से निर्मित 2.20 किलोमीटर लंबी दरभा से तीरथगढ़ मार्ग तथा 1 करोड़ 48 लाख रूपए की लागत से तीरथगढ़ कटेकल्याण मार्ग, 69 लाख 30 हजार रूपए की लागत से 3-3 केव्ही के 6 स्थानों पर स्थापित सोलर स्ट्रीट लाईट संयंत्र, 4 करोड़ 10 लाख रूपए की लागत से ग्राम चित्तालुर में 6 स्थानों में स्थापित 120 एचपी का सामुदायिक सौर सिंचाई योजना, लगभग 2 करोड़ 66 लाख रूपए की लागत से 18 स्थानों में जल जवीन मिशन अन्तर्गत स्थापित सोलर ड्यूल पम्प, लगभग 1 करोड़ 13 लाख रूपए की लागत से 20 स्थानों में पेजयल सोलर ड्यूल पम्प, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के अन्तर्गत लगभग 49 लाख रूपए की लागत से जिला पंचायत जगदलपुर के पास सीएससी भूतल एवं प्रथम तल, लगभग 19 लाख रूपए की लागत से शहीद पार्क जगदलपुर में गढ़कलेवा में निर्मित कार्य, लगभग 2 करोड़ 58 लाख रूपए की लागत से जगदलपुर में निर्मित कन्या क्रीड़ा परिसर भवन, लगभग 1 करोड़ 21 लाख रूपए की लागत से जिला पुरातत्व संग्रहालय भवन में निर्माण एवं अन्य मरम्मत कार्य, लगभग 1 करोड़ 92 लाख रूपए की लागत से दलपत सागर की उतरी छोर में बनाए गए पाथवे, पेंटिंग एवं विद्युतीकरण कार्य, लगभग 76 लाख रूपए की लागत से दलपत सागर के आईलैण्ड में सौन्दर्यीकरण के कार्य, लगभग 54 लाख रूपए की लागत से प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तितिरगांव और कुम्हरावंड में निर्मित 2-2 एच टाईप स्टाॅफ क्वार्टर, लगभग 16 लाख रूपए की लागत से हर्राकोडेर में निर्मित आयुर्वेदिक औषधालय भवन लोकार्पण करेंगे।

इसके साथ ही लगभग 9 करोड़ 16 लाख रूपए की लागत से जगदलपुर शहर के गोल बाजार के विकास कार्य एवं विद्युतीकरण कार्य, 50 लाख रूपए की लागत से माता रूकमणी सेवा संस्थान विनोबा ग्राम डिमरापाल जगदलपुर में मिनी फुटबाल ग्राउण्ड का निर्माण, 7 करोड़ 63 लाख रूपए की लागत से 150 स्थानों पर सोलर हाईमास्ट, 1 करोड़ 50 लाख रूपए की लागत से 15 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों प्री बर्थ वेटिंग कक्ष, 20 लाख रूपए की लागत से धुरवा समाज के लिए सामाजिक भवन, लगभग 50 लाख रूपए की लागत से ग्राम छिन्दावाड़ा में आश्रम भवन का नवीनीकरण एवं प्रथम तल में अतिरिक्त कक्ष निर्माण, लगभग 1 करोड़ 89 लाख रूपए की लागत से ग्राम नगरनार के बाजार स्थल को विकसित करने का कार्य, लगभग 50 लाख रूपए की लागत से ग्राम बुरूंदवाड़ा सेमरा में अहाता निमार्ण कार्य, 2 करोड़ रूपए की लागत से मेडिकल काॅलेज डिमरापाल जगदलपुर परिसर में गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों के परिवारजनों एवं सुश्रुषा करने वालों के लिए ट्रांजिट हाॅस्टल का निर्माण, 4 करोड़ 54 लाख रूपए की लागत से विभिन्न मार्गों 24 मार्ग पर नवीनीकरण एवं पेच रिपेयर कार्य, लगभग 4 करोड़ 93 लाख रूपए की लागत से विभिन्न मार्गों 25 मार्ग पर नवीनीकरण एवं पेच रिपेयर कार्य, 5 करोड़ 46 लाख रूपए की लागत से बस्तर विकासखण्ड अन्तर्गत विभिन्न मार्गों 12 मार्ग पर नवीनीकरण एवं पेच रिपेयर कार्य का भूमिपूजन करेंगे। 5 करोड़ 1 लाख रूपए की लागत लोहण्डीगुड़ा विकासखण्ड अन्तर्गत विभिन्न मार्गों 18 मार्ग पर नवीनीकरण एवं पेच रिपेयर कार्य, 1 करोड़ 85 लाख रूपए की लागत से लोहण्डीगुड़ा विकासखण्ड अन्तर्गत विभिन्न मार्गों 7 मार्ग पर नवीनीकरण एवं पेंच रिपेयर कार्य, 13 लाख 60 हजार रूपए की लागत से जगदलपुर विकासखण्ड अन्तर्गत दलपत सागर के उत्तरी छोर में दुकान निर्माण कार्य का भूमिपूजन करेंगे।

View More...

राज्यपाल उइके दंतेश्वरी माई के दर्शन कर अश्वपूजा में हुईं शामिल, प्रदेश की सुख .समृद्धि और खुशहाली की कामना

Date : 16-Oct-2021

जगदलपुर। बस्तर दशहरा में शामिल होने के लिए यहां तीन दिवसीय प्रवास पर बस्तर पहुंची राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके ने आज माई दंतेश्वरी के मंदिर पहुंचकर माई जी का दर्शन किया और माई दंतेश्वरी का विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना कर प्रदेश की सुख -समृद्धि और खुशहाली की कामना की। इसके साथ ही इस अवसर पर वे राजमहल परिसर में आयोजित अश्वपूजा कार्यक्रम में भी माटी पुजारी कमलचंद भंजदेव के साथ शामिल हुईं। इस अवसर पर कमिश्नर जी आर चुरेन्द्र, आईजी सुंदरराज पी,कलेक्टर रजत बंसल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जितेंद्र मीना, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी  ऋचा प्रकाश चैधरी, उपस्थित थीं।

View More...

रायपुर के डब्ल्यूआरएस कालोनी में दशहरा उत्सव में मुख्यमंत्री बघेल ने किया रावण के पुतले का दहन

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। विजयादशमी के अवसर पर 15 अक्टूबर की शाम रायपुर के डब्ल्यू.आर.एस. कालोनी में आयोजित दशहरा उत्सव में मुख्यमंत्री बघेल ने रावण के पुतले का दहन किया। उन्होंने प्रदेशवासियों को विजयादशमी पर्व की शुभकामनाएं दी और सभी के जीवन में सुख, शांति एवं प्रेम के संचार की कामना की। उन्होंने कहा कि यह पर्व बुराई पर अच्छाई का, असत्य पर सत्य का, अनीति पर नीति के विजय का पर्व है। उन्होंने कहा कि दशहरा पर्व के माध्यम से रावण का पुतला इस बात का द्योतक है कि बुराई और अहंकार चाहे कितनी भी बड़ी और ऊंची हो उसका पतन अवश्य होता है। इसके पहले मुख्यमंत्री ने डब्ल्यूआरएस मैदान पहुंचकर धर्मपत्नी श्रीमती मुक्तेश्वरी बघेल के साथ रामलीला में भगवान बने राम और लक्ष्मण की तिलक लगाकर पूजा की और प्रदेश की खुशहाली की कामना की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान श्रीराम का छत्तीसगढ़ से गहरा नाता रहा है। दक्षिण कौशल राज्य की पुत्री से राजा दशरथ का विवाह हुआ और इससे उनके आंगन में भगवान राम का जन्म हुआ। वनवासी के रूप में भगवान राम ने लगभग 10 वर्ष छत्तीसगढ़ में बिताए। इस कारण वे वनवासी राम हैं। उन्होंने यहां शिवरीनारायण में माता शबरी से जुठे बेर खाए। इस कारण वे शबरी के राम है और माता कौशल्या के कारण वे कौशल्या के राम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ का जन मानस आज भी भांजे के रूप में भगवान राम को देखता है और इसी कारण केवल छत्तीसगढ़ में मामा द्वारा भांजे की चरण स्पर्श करने की परंपरा है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने स्वयं भगवान राम का जयकारा लगवाया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा भगवान राम के छत्तीसगढ़ में कोरिया के सीतामणि हरचौका से लेकर दक्षिण सुकमा के रामाराम तक करीब 2200 किलोमीटर के रास्ते को राम वन गमन परिपथ के रूप में विकसित किया जा रहा है और इसके प्रथम चरण में 9 स्थानों को विकसित करने के लिए चयन किया गया है। हाल ही में छत्तीसगढ़ के चंदखुरी में माता कौशिल्या के मंदिर के जीर्णोद्धार का कार्य किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान राम द्वारा स्थापित जीवन मूल्य आज भी हमारे लिये आदर्श एवं मार्गदर्शक हैं। आज आवश्यकता है कि हम अपने अंदर के अहंकार, क्रोध, घृणा जैसे मनोविकारों को समाप्त करें। भगवान श्रीराम के आदर्शों को हृदय में संजोए हुए समाज और देश का उत्थान करने का संकल्प लें और छत्तीसगढ़ की प्रगति में अपना योगदान दें।

कार्यक्रम को डब्ल्यू.आर.एस. सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति के अध्यक्ष तथा विधायक एवं छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा ने भी सम्बोधित किया और बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य में प्रथम चरण में 137 करोड़ रूपए की राशि से राम वन गमन पथ को विकसित करने का कार्य किया जा रहा है।

इस अवसर पर संस्कृति एवं खाद्य मंत्री अमरजीत सिंह भगत, डब्ल्यू.आर.एस. सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति के संरक्षक एवं महापौर एजाज ढेबर, महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती किरणमयी नायक, डी.आर.एम. श्याम सुन्दर गुप्ता, सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति के सलाहकार श्रीनिवास राव तथा अन्य जनप्रतिनिधि व नागरिक उपस्थित थे।

इस अवसर पर कोलकता और रायपुर के कलाकारों द्वारा आकर्षक आतिशबाजी की गई और रामलीला का मंचन किया गया। मुख्यमंत्री सहित उपस्थित नगरवासियों ने इस अवसर पर खूबसूरत और मनमोहक आतिशबाजी का आनंद उठाया।

डब्लू.आर.एस. कालोनी रायपुर में डब्ल्यू.आर.एस. सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति तथा नेशनल क्लब के द्वारा संयुक्त दशहरा उत्सव के लिए करीब 51 फीट से उंचा रावण पुतले का निर्माण किया गया था। इसे बनाने में राजपाल लुम्बा और उसकी टीम द्वारा अथक परिश्रम किया गया। कार्यक्रम के अंत में सचिव राधेश्याम विभार ने आभार व्यक्त किया।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को दी जन्मदिन की बधाई

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को जन्मदिन की बधाई दी है। मुख्यमंत्री बघेल ने ट्वीट कर लिखा- छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री और राजनांदगांव विधायक डॉ रमन सिंह को जन्मदिन की शुभकामनाएं। आपकी दीर्घायु की कामना करता हूँ।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल दुर्ग जिले के कुम्हारी महामाया मंदिर प्रांगण के दशहरा उत्सव कार्यक्रम में हुए शामिल

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री बघेल 15 अक्टूबर को दुर्ग जिले के कुम्हारी स्थित महामाया मंदिर प्रांगण के दशहरा उत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर भगवान राम-लक्ष्मण की पूजा-अर्चना कर प्रदेश की खुशहाली के लिए कामना की। उन्होंने प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी और सभी के जीवन में सुख-शांति की कामना की। उन्होंने भगवान राम के जयकारे के साथ कहा कि यह पर्व बुराई पर अच्छाई का, असत्य पर सत्य का विजय पर्व है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान राम का छत्तीसगढ़ से बहुत गहरा नाता है। छत्तीसगढ़ में भगवान राम को भांचा के रूप में पूजा जाता है इसलिए भगवान राम पूजनीय है। उन्होंने रामलीला मंडली कुम्हारी को वेशभूषा के लिए एक लाख रूपए देने की घोषणा की। इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे, एसपी बन्द्रीनारायण मीणा एवं नगर पालिका परिषद कुम्हारी के उपाध्यक्ष के. रवि कुमार सहित निर्वाचित जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

View More...

दूधाधारी मठ द्वारा आयोजित उत्सव माना जाता है छत्तीसगढ़ के सबसे प्राचीन दशहरा उत्सव : सीएम बघेल

Date : 16-Oct-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री बघेल 15 अक्टूबर को सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति दूधाधारी मठ द्वारा आयोजित राजधानी रायपुर के रावणभाठा-टिकरापारा के दशहरा उत्सव में शामिल हुए। उन्होंने इस अवसर पर भगवान राम-लक्ष्मण और भगवान बालाजी की पूजा-अर्चना कर प्रदेश की समृद्धि तथा खुशहाली की कामना की। मुख्यमंत्री बघेल ने इस दौरान रावणभाठा मैदान के सौन्दर्यीकरण तथा विकास के लिए स्वीकृत एक करोड़ रूपए की राशि के विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन भी किया।

मुख्यमंत्री बघेल ने दशहरा उत्सव में शामिल होने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि दूधाधारी मठ द्वारा आयोजित यह उत्सव छत्तीसगढ़ के सबसे प्राचीन दशहरा उत्सव में माना जाता है। इसके लिए उन्होंने संरक्षक राजेश्री महंत डॉ. रामसुन्दर दास तथा अध्यक्ष मनोज वर्मा सहित पूरे आयोजन समिति की सराहना की। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि दशहरा का पर्व असत्य पर सत्य की जीत, अंधकार पर प्रकाश की जीत और अधर्म पर धर्म की जीत का पर्व है। यह पर्व हमें अपने अहंकार तथा बुराई को समाप्त कर अच्छाई तथा सत्य की राह पर चलने की सीख देता है। जब तक हमारे समाज, आस-पास तथा स्वयं में जो बुराई है वह समाप्त नहीं होगी तब तक हम और हमारा समाज आगे नहीं बढ़ पाएगा। इसलिए समाज में अहंकार, बुराई तथा असत्य के प्रतीक रावण का नाश जरूरी है, तभी हम आगे बढ़ पाएंगे।

श्री बघेल ने बताया कि रावणभाठा में आयोजित दशहरा उत्सव की छत्तीसगढ़ के सबसे प्राचीन दशहरा उत्सव के रूप में विशिष्ट ख्याति और पहचान है। उन्होंने बताया कि राजधानी रायपुर में नागपुर के भोसले वंश के शासन काल से लगभग 400 वर्ष से अब तक यहां दशहरा उत्सव उत्साह के साथ मनाया जाता रहा है। दशहरा उत्सव कार्यक्रम में खाद्य तथा संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, सांसद सुनील सोनी, नगरपालिक निगम रायपुर के महापौर एजाज ढेबर सहित पार्षद तथा नागरिक उपस्थित थे।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल पाटन ब्लॉक में विराजित देवियों का दर्शनकर की पूजा अर्चना

Date : 14-Oct-2021

दुर्ग। मुख्यमंत्री बघेल ने नवरात्रि के अवसर पर पाटन ब्लॉक में विराजित देवियों का दर्शन किया और पूजा अर्चना की। उन्होंने पाटन में मां महामाया का दर्शन किया। सोनपुर में ज्वाला देवी का दर्शन किया तथा अग्रेसर में डिडनेश्वरी देवी का दर्शन किया। इसके साथ ही उन्होंने ग्राम कौही में मां काली के दर्शन किए।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि नवरात्रि के पवित्र अवसर पर आप लोगों के बीच उपस्थित हुआ हूं। यह मेरे लिए हार्दिक खुशी का अवसर है। देवी मां की अपार कृपा छत्तीसगढ़ पर रही है। नवरात्रि के इस पावन अवसर पर आज देवी का आशीर्वाद लेने आया हूं। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ग्राम आगेसरा में ग्रामीणों को संबोधित भी किया।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि ग्रामीण विकास की योजनाओं के माध्यम से छत्तीसगढ़ सरकार ने तेजी से ग्रामीण क्षेत्रों की सूरत बदलने की दिशा में काम किया है। इसके लिए हमने परंपरागत और आधुनिक साधन अपनाये हैं। किसानों को मजबूत करने के लिए राजीव गांधी किसान न्याय योजना तथा गोधन न्याय योजना के माध्यम से बड़े कार्य किए हैं। इसका लाभ दिख रहा है, सिंचाई के अवसरों के लिए कार्य किया गया है। किसानों के चेहरे पर खुशहाली लाना तथा ग्रामीण विकास करना हमारी पहली प्राथमिकता है। इस दिशा में हम काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मां के दर्शन कर प्रदेश की खुशहाली की कामना भी की।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल ने राम कौही में किए माँ काली के दर्शन

Date : 14-Oct-2021

दुर्ग। जैसे काशी में मां अन्नपूर्णा और विश्वनाथ जी का एक साथ वास है, उसी तरह से पुण्यभूमि कौही में भी भगवान शिव और मां काली का वास है। इस तरह यह जगह बहुत पवित्र है। यहां आने पर मुझे बनारस की कथा याद आती है, जब भगवान शिव भूखे होकर मां अन्नपूर्णा के द्वार पहुंचते हैं और मां अन्नपूर्णा उन्हें भोजन कराती है। मुख्यमंत्री ने यह बातें ग्राम कौही में मां काली और भगवान शिव के दर्शन के पश्चात कही। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि छत्तीसगढ़ के लोग इस मायने में भाग्यशाली हैं कि हमारे यहां देवियों का वास है। मैं अभी रतनपुर में मां महामाया के दर्शन कर आया हूं। हमारे यहां मां दंतेश्वरी भी है, मां बमलेश्वरी भी है, धमतरी में विंध्यवासिनी है, खल्लारी मां है, चंद्रहासिनी हैं। अभी मैं आगेसरा जाऊंगा, वहां देवी के दर्शन करूंगा।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को सही समय पर आर्थिक सहयोग किया जा सके। इसके लिए हम उपयुक्त समय पर राजीव गांधी न्याय योजना की किस्त प्रदान करते हैं। इसके पहले दो किस्त दी जा चुकी है। इसकी तीसरी किस्त 1 नवंबर को दी जाएगी। इस दिन यह धनतेरस का पहला दिन है। यह किस्त जब किसानों के खाते में जाएगी, तब किसान पैसा निकालेंगे और उनकी दिवाली बहुत खुशहाली से मनेगी। इसी समय रानीतराई का मड़ई भी रहता है। इस मडई में आप छोटी-छोटी खुशियां खरीद पाएंगे। आपके जीवन में समृद्धि लाना ही सरकार की पहली प्राथमिकता है।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि सभी कलेक्टरों को निर्देश दिया गया था कि बारिश की स्थिति पर नजर रखें और खेतों का नजरी सर्वे करते रहे। सौभाग्य से सितंबर के महीने में अच्छी बारिश हुई और अब हम धान खरीदी की तैयारी कर रहे हैं। पूरे देश भर में खाद का संकट है हमने छत्तीसगढ़ में रासायनिक खाद को तवज्जो दी। इस वजह से खाद संकट में भी जैविक खाद के रूप में वैकल्पिक व्यवस्था हमने तैयार की। किसानों को खाद बिजली मिलती रहे यह सरकार की प्राथमिकता में है। गोधन न्याय योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक वृद्धि के प्रयास किए गए हैं। इसके साथ ही गोबर से बिजली बनाने की दिशा में भी महत्वपूर्ण कार्य हुआ है। बेमेतरा के ग्राम राखी, रायपुर के ग्राम पंचायत बन चरौदा, दुर्ग के सिकोला में गोबर से बिजली बनाने की का कार्य हमने 2 अक्टूबर से शुरू किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने माँ कौशल्या के मंदिर में सौंदर्यीकरण का कार्य किया है। आप मंदिर में शाम के वक्त जाइए। मंदिर की सजावट और पूरा तीर्थ परिसर शाम के समय तीर्थ यात्रियों के लिए अपूर्वानंद का असर बनता है। मैं चाहता हूं कि आप लोग सभी चंदखुरी जरूर जाइए। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लिफ्ट इरीगेशन परियोजना भी देखी।

View More...