National

राहुल गांधी ट्रैक्टर चलकर पहुंचे संसद भवन

Date : 26-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। संसद के मानसून सत्र का दूसरा हफ्ता भी हंगामेदार रहने की संभावना है। आज भी नए कृषि कानूनों और पेगासस जासूसी विवाद को लेकर लोकसभा और राज्यसभा में हंगामा होने के पूरे आसार हैं। जब से मानसून सत्र शुरू हुआ है, तब से विपक्ष इन मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर है। इस बीच, सोमवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी किसान आंदोलन के समर्थन में ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने सोमवार को उस वक्त सभी को हैरान कर दिया, जब वह दिल्ली की सड़कों पर ट्रैक्टर चलाते हुए नजर आए। दरअसल, राहुल गांधी किसान आंदोलन के समर्थन और नए कृषि कानून के विरोध में ट्रैक्टर चलाकर संसद भवन पहुंचे। राहुल गांधी के साथ ट्रैक्टर पर रणदीप सुरजेवाला, दीपेंद्र हुड्डा समेत अन्य कई कांग्रेसी नेता नजर आए। ट्रैक्टर के सामने कृषि कानूनों के खिलाफ पोस्टर चिपका था और किसानों के समर्थन में बातें कही गईं। बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर देशभर के किसान पिछले कई महीनों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। 

मॉनसून सत्र में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी ने कहा कि मैं किसानों का संदेश लेकर संसद आया हूं। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की आवाज को दबा रही है और उनके मुद्दों पर संसद में चर्चा नहीं होने दे रही। तीन नए कृषि कानूनों को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि ये काले कानून हैं और सरकार को इन्हें वापस लेना ही होगा। पूरा देश यह जानता है कि ये कानून देश के 2 से 3 कारोबारियों को ही फायदा पहुंचाने वाले हैं। कांग्रेस लीडर ने सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा, `सरकार के मुताबिक किसान काफी खुश हैं। संसद के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोग आतंकवादी है। लेकिन हकीकत में किसानों के अधिकारों को छीना जा रहा है।`

View More...

कन्नड़ की जानी मानी एक्ट्रेस जयंती का निधन

Date : 26-Jul-2021

बेंगलुरु (एजेंसी)। सोमवार की सुबह सिने प्रेमियों के लिए दुखद खबर सामने आई है। कन्नड़ की जानी मानी एक्ट्रेस जयंती का निधन हो गया है। उन्होंने 100 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था। जयंती के बेटे कृष्ण कुमार ने अभिनेत्री के निधन की पुष्टि की है। वह उम्र संबंधित होने वाली दिक्कतों से परेशान थीं, उन्होंने अपने घर पर सोते हुए आखिरी सांस ली। आपको बता दें, साल 2018 में जयंती के निधन की अफवाह उड़ी थी, तब उन्होंने सामने आकर सफाई दी थी।

जयंती का जन्म 6 जनवरी 1945 को कर्नाटक में हुआ था। अपने करियर की शुरूआत बाल कलाकार के तौर पर करने वाली जयंती ने अभिनय, प्रोडक्शन और गायकी में हाथ आजमाया। 60 से  80 के दशक की बेहद खूबसूरत और बेहतरीन अदाकाराओं में से एक मानी जाने वाली जयंती ने जेमिनी गणेशन, एमजीआर और जयललिता जैसे बड़े स्टार्स के साथ काम किया।

00 हिंदी फिल्मों में भी किया काम
जयंती ने तीन बॉलीवुड फिल्मों तीन बहुरानियां, तुमसे अच्छा कौन है और गुंडा में काम किया। उन्होंने मलयालम, तेलुगु, तमिल सहित अन्य भाषाओं को मिलाकर करीब 100 फिल्मों में काम किया। कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री ने उन्हें अभिनय शारदे उपाधि से सम्मानित किया था।

View More...

सीएम योगी का बडा फैसला, एक लाख लोगों को मानदेय पर रोजगार देने की तैयारी

Date : 26-Jul-2021

लखनऊ (एजेंसी)। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले एक ओर जहां सरकार सरकारी नौकरियां देने पर फोकस कर रही है वहीं दूसरी ओर विभिन्न सरकारी महकमों में एक लाख से अधिक पदों पर मानदेय पर नौकरी देकर अर्द्धकुशल श्रमिक स्तर के लोगों को भी रोजगार से जोड़ने की तैयारी है।

प्रदेश में बड़ी संख्या में शिक्षित युवा बेरोजगार है। कोरोना काल में रोजगार छीनने से भी बेरोजगारी बढ़ी है। वहीं संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान अन्य प्रदेशों से भी अपने गांव लौटकर आए प्रवासी श्रमिकों में से हजारों श्रमिक भी तीसरी लहर के भय से अभी वापस नहीं लौटे है। सरकार ने शिक्षित बेरोजगारों, महिलाओं और अर्द्धकुशल श्रमिक स्तर के लोगों को गांवों में ही रोजगार मुहैया कराने के लिए कुछ विभागों में मानदेय पर भर्तियां शुरू की है।

बीते दिनों कैबिनेट ने 58 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों में हर ग्राम पंचायत में एक पंचायत सचिव कम अकाउंटेंट नियुक्ति करने का निर्णय लिया है। प्रत्येक पंचायत सचिव को छह हजार रुपये महीने मानदेय दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने इसकी प्रक्रिया छह महीने में पूरी करने के निर्देश दिए हैं, लिहाजा चुनाव से पहले गांवों में 58 हजार से अधिक युवाओं को मानदेय पर रोजगार मिल जाएगा।

00 22 हजार महिला मेट नियुक्त होंगी
मनरेगा में कामकाज के पर्यवेक्षण के लिए 22 हजार से अधिक महिला मेट की नियुक्ति की जाएगी। महिला मेट का चयन राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत संचालित महिला स्वयं सहायता समूहों के जरिये किया जाएगा। प्रत्येक महिला मेट को हर महीने 8 हजार 400 रुपये महीने से अधिक मानदेय मिलेगा। मनरेगा के नियमों के तहत 50 श्रमिकों के कामकाज पर निगरानी के लिए एक मेट की नियुक्ति का प्रावधान है।

प्रदेश सरकार ने 50 प्रतिशत महिला मेट नियुक्त करने का निर्णय लिया है। प्रदेश में वर्तमान में करीब 22 लाख से अधिक श्रमिक प्रतिदिन मनरेगा में काम कर रहे हैं। ऐसे में करीब 44 हजार मेट नियुक्त होने है, इनमें से 22 हजार महिला मेट नियुक्त की जाएंगी।

महिला मेट को अर्द्ध कुशल श्रमिक के बराबर (320 से 405 रुपये) प्रतिदिन की दर से महीने में 26 दिन का मानदेय दिया जाएगा। मनरेगा के अपर आयुक्त योगेश कुमार ने बताया कि मिशन के जरिये मेट नियुक्ति की कवायद शुरू हो गई है। मेट को उनके कामकाज के लिए प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

00 35 हजार महिलाओं को मिलेंगे शौचालय
प्रदेश सरकार ने सामुदायिक शौचालयों के रखरखाव और उन्हें महिलाओं की आय का जरिया बनाने के लिए उन्हें सामुदायिक शौचालय दिए जाएंगे।  35,512 ग्राम पंचायतों महिला स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को शौचालय संचालन की जिम्मेदारी दी जाएगी।

समूह की एक महिला को छह हजार रुपये मानदेय और शौचालय में साफ-सफाई की सामग्री व उपकरण खरीदने के लिए तीन हजार रुपये महीने अतिरिक्त दिया जाएगा।

View More...

प्रधानमंत्री मोदी सहित कई नेताओं ने कारगिल युद्ध की 22वीं सालगिरह पर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

Date : 26-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (26 जुलाई) को कारगिल विजय दिवस की 22वीं सालगिरह के अवसर पर युद्ध में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। बता दें, भारत ने 1999 में पाकिस्तान के साथ कारगिल युद्ध किया था, जिसमें भारतीय जवानों ने जीत हासिल की थी। कारगिल विजय दिवस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी, उनकी बहादुरी हर एक दिन भारतीयों को प्रेरित करती है। 

00 ट्वीट कर प्रधानमंत्री ने शहीद जवानों को किया नमन
प्रधानमंत्री मोदी ने एक ट्वीट में कहा, `हम उनके बलिदानों को याद करते हैं। हम उनकी वीरता को याद करते हैं। आज, कारगिल विजय दिवस पर हम उन सभी को श्रद्धांजलि देते हैं, जिन्होंने हमारे देश की रक्षा करते हुए कारगिल में अपनी जान गंवाई। उनकी बहादुरी हमें हर एक दिन प्रेरित करती है।’ इस ट्वीट के साथ ही प्रधानमंत्री ने पिछले साल के `मन की बात` कार्यक्रम का एक वीडियो भी शेयर किया।

00 गृह मंत्री अमित शाह ने वीर जवानों को दी श्रद्धांजलि
पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह ने भी कारगिल विजय दिवस के मौके पर भारतीय सेना के वीरों को याद किया। उन्होंने ट्वीट किया, `कारगिल विजय दिवस पर इस युद्ध के सभी वीर सेनानियों का स्मरण करता हूं। आपके अदम्य साहस, वीरता और बलिदान से ही कारगिल की दुर्गम पहाड़ियों पर तिरंगा पुनः गर्व से लहराया। देश की अखंडता को अक्षुण्ण रखने के आपके समर्पण को कृतज्ञ राष्ट्र नमन करता है। कारगिल विजय दिवस की शुभकामनाएं।`
00 रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का ट्वीट
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कारगिल विजय दिवस के मौके पर ट्वीट के माध्यम से लिखा, `कारगिल विजय दिवस के अवसर पर मैं भारतीय सेना के अदम्य शौर्य, पराक्रम और बलिदान को नमन करता हूं।` उन्होंने एक वीडियो भी ट्वीट किया। 

00 कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शहीदों को किया याद
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इस मौके पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट किया, `हमारे तिरंगे की गरिमा में अपनी जान देने वाले प्रत्येक सेनानी को दिल से श्रद्धांजलि। देश की सुरक्षा के लिए आपके व आपके परिवारों के इस सर्वोच्च बलिदान को हम हमेशा याद करेंगे। जय हिंद।`

00 सेना का खास ट्वीट
विजय दिवस के मौके पर भारतीय सेना की ओर से खास ट्वीट किया गया। सेना ने तमन्ना बी कुकरेती की कुछ पंक्तियां ट्वीट की, ‘करगिल की चोटियों पे, दुश्मनों को हमने झुकाया है, हिन्द के वीरों ने, अपने लहू से तिरंगे को फहराया है।` 
बताते चलें कि भारतीय सशस्त्र बलों ने 26 जुलाई, 1999 को पाकिस्तान को हराया था। यह जंग मई के माह में शुरू हुई थी जब पाकिस्तानी सेना ने घुसपैठ कर कई भारतीय इलाकों पर कब्जा कर लिया था। अपने पराक्रम और बहादुरी से भारत के जवानों ने पाकिस्तानी सेना को आखिरकार जुलाई माह में हार का स्वाद चखा दिया। इस युद्ध में देश के कई जवानों ने अपने प्राणों का बलिदान कर दिया था।

तभी से ऑपरेशन विजय में भाग लेने वाले जवानों की वीरता को याद करते हुए हर साल 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन करगिल के द्रास में स्थित वॉर मेमोरियल पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन होता है। इसी कार्यक्रम में सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और अन्य कई लोग हिस्सा लेंगे।

View More...

दिल्ली हाईकोर्ट में बाबा रामदेव के दिए कथित बयानों को लेकर दाखिल याचिका पर सुनवाई आज

Date : 26-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। एलोपैथी चिकित्सा और एलोपैथिक डॉक्टरों पर बाबा रामदेव के बयान का मामला अब हाईकोर्ट तक पहुंच गया है। दिल्ली हाईकोर्ट बाबा रामदेव के दिए कथित बयानों को लेकर दाखिल याचिका पर सोमवार (26 जुलाई) को सुनवाई करेगा। यह याचिका डॉक्टरों के सात संगठनों ने संयुक्त रूप से दाखिल की है। आपको बता दें कि कोविड-19 महामारी के बीच कथित तौर पर एलोपैथी के खिलाफ गलत सूचना फैलाने का आरोप डॉक्टरों ने योग गुरु रामदेव पर लगाया है। 

डॉक्टरों के संगठनों ने रामदेव पर आरोप लगाया है कि वे बड़े पैमाने पर जनता को गुमराह कर रहे थे और गलत तरीके से यह पेश कर रहे थे कि कोविड-19 से संक्रमित हुए कई लोगों की मौत के लिए एलोपैथी जिम्मेदार थी। साथ ही एलोपैथिक डॉक्टर मरीजों की मौत का कारण बन रहे थे। अपनी याचिका में डॉक्टरों के संगठनों ने बताया है कि रामदेव न सिर्फ एलोपैथिक के इलाज पर बल्कि कोविड वैक्सिनों की सुरक्षा और उसके प्रभाव को लेकर भी जनता के मन में संदेह फैला रहे थे। 

डॉक्टरों के संगठनों ने अपनी दलील में आरोप लगाया कि रामदेव की ऐसी गलत टिप्पणियां उनके द्वारा बेचे जा रहे उत्पादों की बिक्री को आगे बढ़ाने के लिए थीं, जिसमें कोरोनिल भी शामिल है। उन्होंने विज्ञापन और मार्केटिंग रणनीति के लिए ऐसी टिप्पणीयां कीं। याचिका में कोर्ट से यह अनुरोध किया गया है कि अगस्त में कोविड-19 की तीसरी लहर के आने की आशंका को देखते हुए जरूरी हो गया है कि रामदेव के दुष्प्रचार अभियान पर रोक लगाई जाए।

जानकारी के अनुसार इस मामले की सुनवाई जस्टिस सी हरि शंकर करेंगे। आपको बता दें कि कोर्ट ने तीन जून को दिल्ली चिकित्सक संघ की याचिकाओं पर रामदेव के बयानों को लेकर समन जारी किया था।

View More...

किसान आंदोलन को लेकर प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा सरकार के पास नहीं है शहीद किसानों का आंकड़ा बस अपमान किए जा रही है

Date : 26-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने केंद्र सरकार पर किसानों का अपमान करने का आरोप लगाते हुए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने संसद में कहा कि न तो उसने ‘काले’ कृषि कानूनों पर किसानों की मंशा जानने की कोई कोशिश की और न ही उसके पास शहीद किसानों का कोई आंकड़ा है. अपने खरबपति मित्रों का चश्मा लगाकर आंखों का पानी मार चुकी यह सरकार बस किसानों का अपमान किए जा रही है.’’ प्रियंका ने ‘‘काले कृषि कानून वापस लो’’ हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए यह टिप्पणी की।

दरअसल, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को संसद को बताया कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ साल 2020 से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन के दौरान मृत किसानों के बारे में सरकार के पास कोई रिकॉर्ड नहीं है. जिसके बार प्रियंका गांधी का ये ट्विट सामने आया है।

कृषि कानूनों को लेकर पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार इन कानूनों को रद्द करें. लेकिऩ सरकार लगातार इस कानून को लागू करने की बात कह रहा है. किसान नेताओं और सरकार के बीच इन कानूनों को लेकर कई दौर की बातचीत हो चुकी है. लेकिन अभी तक इस मसले पर कोई हल नही निकल पाया है. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ साथ गृहमंत्री अमित शाह भी किसानों के साथ बैठक कर चुके है, लेकिन उनके साथ हुई बैठक में भी बात नहीं बनी. लिहाजा किसान अभी तक आंदोलन कर रहे है।

View More...

प्रदेश में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत, दो लोगों की हालात गंभीर

Date : 26-Jul-2021

इंदौर (एजेंसी)। मध्य प्रदेश में एक बार फिर जहरीली शराब के सेवन से मौत का मामला सामने आया है. मंदसौर जिले के खंखराई गांव में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई. दो लोगों की हालात गंभीर बताई जा रही है, दोनों को इलाज के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बहरहाल पुलिस और आबकारी विभाग की टीम जांच में जुटी हुई है. इधर मामले की जानकारी मिलते ही वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा कलेक्टर व एसपी से चर्चा कर इस मामले में जांच कर तत्काल दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि शनिवार शाम को ही ग्राम में ही 40 वर्षीय मनोहरलाल पुत्र लक्ष्मण बागरी की भी मौत हो गई थी. रविवार सुबह उसका दाह संस्कार किया जबकि 40 वर्षीय घनश्याम पुत्र रायसिंह बावरी और 21 वर्षीय श्यामलाल पुत्र मोड़ीराम मेघवाल की मौत रविवार को हुई।

मृतक घनश्याम के पुत्र निर्मल ने बताया कि पिता ने रात को शराब पी थी. इससे उन्हें उल्टियां होने लगीं. रविवार को जब मंदसौर अस्पताल ले जा रहे थे तो रास्ते में ही मौत हो गई. श्यामलाल के स्वजन ने बताया कि रविवार को तबीयत बिगड़ने पर वे उसे भी मंदसौर अस्पताल ले जा रहे थे, तभी उसने रास्ते में दम तोड़ दिया. वहीं मृतक घनश्याम के भाई 45 वर्षीय मुरली और 45 वर्षीय पर्वतसिंह पुत्र भंवरसिंह राजपूत का जिला चिकित्सालय में उपचार चल रहा है. जहरीली शराब से मौत की सूचना पाते ही कलेक्टर मनोज पुष्प और पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ चौधरी गांव पहुंचे।

कलेक्टर ने बताया कि मामले की जांच की जाएगी. उस क्षेत्र में जो लोग अवैध शराब बेच रहे हैं, उनके विरद्ध कार्रवाई भी शुरू हो गई है. जिस स्थान से शराब बेची जा रही थी, उसे तोड़ने के निर्देश दिए गए हैं. फिलहाल जिन लोगों की मौत हुई, उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

View More...

कोरोना अभी गया नहीं, त्योहारों मनाते समय रखें यादा, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य : पीएम मोदी

Date : 25-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम `मन की बात` के जरिए राष्ट्र को संबोधित किया। ओलंपिक खेलों में गए भारतीय खिलाड़ियों को उन्होंने शुभकामनाएं दी और लोगों से ओलंपिक में गए भारतीय दल को प्रोत्साहित करने की अपील की। पीएम मोदी ने कहा कि खिलाड़ी चुनौतियों को पार कर पहुंचे हैं। उनका हौसला बढ़ाना जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा कि  टोक्यो ओलंपिक में तिरंगा देखकर पूरा देश रोमांचित हुआ। 

मन की बात कार्यक्रम के 79वें एपिसोड को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री  मोदी ने कारगिल युद्ध से लेकर अमृत महोत्सव और स्वतंत्रता दिवस के बारे में चर्चा की। पीएम मोदी ने अपने संबोधन के आखिरी में कहा कि त्योहारों के दौरान हम यह नहीं भूले कि कोरोना हमारे बीच से चला गया है। इस दौरान सभी को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य है।  

00 आप लोगों से मिला सुझाव ही मन की बात की असली ताकत : प्रधानमंत्री
मन की बात कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आप लोगों से मिला सुझाव ही `मन की बात` की असली ताकत है।  आपके सुझाव ही मन की बात के माध्यम से भारत कि विविधिता को प्रकट करते हैं, भारवासियों के सेवा और त्याग के खुशबू को चारों दिशाओं में फैलाती हैं।  मन की बात में आप कई तरह के आइडिया भेजते हैं। हम सभी पर तो नहीं चर्चा कर पाते हैं, लेकिन उनमें से बहुत सुझावों को मैं संबंधित विभागों को जरूर भेजता हूं ताकि उन पर आगे का काम किया जा सके। 

00 करगिल के वीरों को नमन करें
पीएम ने कहा कि कल यानि 26 जुलाई को करगिल विजय दिवस भी है। करगिल का युद्ध भारत की सेनाओं के शौर्य और संयम का प्रतीक है। इस बार ये गौरवशाली दिवस भी अमृत महोत्सव के बीच मनाया जाएगा। इसलिए ये और भी खास हो जाता है मैं चाहूंगा कि आप सभी करगिल के रोमांचित कर देने वाली गाथा जरूर पढ़ें, करगिल के वीरों को हम सब नमन करें।

00 हमें आजादी के 75 साल होने पर गर्व
पीएम मोदी ने कहा कि  इस बार 15 अगस्त को आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं। यह बहुत बड़ा सौभाग्य है कि जिस आजादी के लिए देश ने सदियों का इंतजार किया, उसके 75 साल होने के हम साक्षी बन रहे हैं।इस बार अमृत महोत्सव पर बड़ा कार्यक्रम होगा। उन्होंने कहा कितने ही स्वतंत्रता सेनानी और महापुरुष हैं, जिन्हें अमृत महोत्सव में देश याद कर रहा है। सरकार और सामाजिक संगठनों की तरफ से भी लगातार इससे जुड़े कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। अमृत महोत्सव किसी सरकार का, किसी राजनीतिक दल का कार्यक्रम नहीं है।  यह कोटि-कोटि भारतवासियों का कार्यक्रम है। 

00 15 अगस्त पर होगा बड़ा कार्यक्रम
मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि इस बार 15 अगस्त पर एक बड़ा आयोजन होने जा रहा है, जो राष्ट्रगान से जुड़ा हुआ है।  इस दिन ज्यादा से ज्यादा लोग राष्ट्रगान गाएं, इसके लिए एक वेबसाइट भी बनाई तैयार की गई है। सांस्कृतिक मंत्रालय की कोशिश से यह वेबसाइट तैयार हुई है। 
पीएम मोदी ने कहा कि देश के विकास के लिए हमें एकजुट होना होगा। छोटे-छोटे प्रयास से ही नतीजे मिलेंगे। हम नौकरी करते हुए भी सेवा कार्य से जुड़ सकते हैं। 

00 मन की बात कार्यक्रम का यह 79वां संस्करण
बता दें कि मन की बात कार्यक्रम का यह 79वां संस्करण है। इस कार्यक्रम को आकाशवाणी, दूरदर्शन के पूरे नेटवर्क ,और मोबाइल ऐप पर प्रसारित किया जा रहा है। इसके साथ ही सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के यूट्यूब चैनलों पर भी देखा जा सकता है। 

View More...

कर्नाटक के मुख्यमंत्री आज दे सकते हें अपने पद से इस्तीफा

Date : 25-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। हाल ही में उन्होंने एलान किया था कि 25 जुलाई को अपनी सरकार के दो साल पूरा होने पर वह पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के निर्देश का पालन करेंगे। इस बीच उनके उत्तराधिकारी के तौर पर केंद्रीय कोयला, खनन व संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी और प्रदेश सरकार में खनन मंत्री व उद्योगपति एमआर निरानी का नाम आगे चल रहा है। हालांकि जोशी ने कहा कि उनसे इस बारे में अभी तक शीर्ष नेतृत्व ने कोई बात नहीं की है जबकि निरानी का कहना है कि पार्टी जो भी आदेश देगी, वह उसका पालन करेंगे।

2004 से लगातार धारवाड़ से सांसद 58 वर्षीय जोशी ने कहा कि येदियुरप्पा के उत्तराधिकारी बनने के बारे में उनसे किसी ने बात नहीं की है। यह केवल मीडिया ही है जो इस बार चर्चा कर रही है। ऐसे में इस पर कोई प्रतिक्रिया देने की जरूरत नहीं है। सीएम बनाए जाने पर उन्होंने कहा कि वह कभी भी अगर, मगर या काल्पनिक सवालों के जवाब नहीं देते हैं और ऐसे सवालों के जवाब देना भी नहीं चाहते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि वह इससे भी अनजान हैं कि किसी ने येदियुरप्पा को अपने पद से इस्तीफा देने को भी कहा है।

साथ ही उन्होंने कहा कि सीएम पद के बारे में कोई भी फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह व पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के नेतृत्व में शीर्ष नेतृत्व लेगा। उन्होंने येदियुरप्पा को हटाए जाने पर लिंगायत समुदाय के संतों की धमकी पर भी कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। वह जुलाई 2012 से जनवरी 2016 तक कर्नाटक प्रदेश इकाई के अध्यक्ष भी चुके हैं।

00 सीएम पद के लिए लॉबिंग नहीं, पार्टी का आदेश मानेंगे : निरानी
तीन बार से विधायक और एमआरएन समूह के मालिक निरानी ने सीएम पद के लिए लॉबिंग करने से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि वह पार्टी के आम कार्यकर्ता है और पार्टी के निर्देशों का पालन करना उनका कर्तव्य है। साथ ही कहा कि भाजपा एक अनुशासित पार्टी है और दूसरे दलों की तरह यहां पदों के लिए लॉबिंग काम नहीं आती है। उन्होंने कहा कि अभी येदियुरप्पा को हटाने के लिए कोई निर्देश नहीं है। वह अभी हमारे नेता हैं और हम सभी उनके साथ हैं। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व सीएम पद के लिए फैसला लेगा और हम सब इसका पालन करेंगे।

कुछ दिनों पहले ही उन्होंने दिल्ली का दौरा किया था और अपनी इस यात्रा को उन्होंने सफल करार दिया था। उन्होंने कहा कि जिंदगी में किसी भी पद के लिए लॉबिंग नहीं की। पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी, उसे निभाऊंगा। उन्होंने कहा कि न केवल वह बल्कि पार्टी के सभी 120 विधायक मुख्यमंत्री बनने की योग्यता रखते हैं। वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर के दर्शन करने से उनके सीएम बनाए जाने की अटकलें तेज हो गई हैं।

00 मुख्यमंत्री बनने से लेकर अब तक की राह आसान नहीं रही
कर्नाटक के सीएम येदियुरप्पा के लिए मुख्यमंत्री बनने से लेकर अब तक की राह आसान नहीं रही। हालांकि भाजपा की तरफ से कर्नाटक के अगले सीएम के लिए अभी आधिकारिक तौर पर कुछ भी पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन खुद मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने अब यह स्पष्ट कर दिया था कि राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में उनके दिन गिने-चुने हैं।
कर्नाटक के सीएम येदियुरप्पा ने कहा कि जब से मैंने मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला, तब तक मुझे प्राकृतिक आपदाओं जैसी कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा था, जिनका सामना राज्य ने पहले कभी नहीं किया था और कोरोना महामारी, जिसने जीवन को तबाह कर दिया था। अब एक बार फिर बाढ़ जैसी आपदा कर्नाटक के सामने है।

भाजपा हाईकमान की तरफ से कोई आधिकारिक तौर पर कोई पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन माना जा रहा है येदियुरप्पा का 26 जुलाई को मुख्यमंत्री के रूप में उनका आखिरी दिन हो सकता है। सीएम येदियुरप्पा ने कहा कि मुझे संतोष है कि इन सब चुनौतियों के बावजूद मैं लोगों के जीवन स्तर और उनकी वित्तीय स्थिति में सुधार के लिए कदम उठा सका हूं। मैं चुनौती का सामना करने में लोगों के समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं।

कर्नाटक की राजनीति में येदियुरप्पा काफी बड़ा नाम हैं। येदियुरप्पा का लंबा राजनीतिक जीवन शिकारीपुरा में पुरसभा अध्यक्ष के रूप में शुरू हुआ। पहली बार 1983 में शिकारीपुरा से विधान सभा के लिए चुने गए और वहां से आठ बार जीते। कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में यह उनका चौथा कार्यकाल है। इस बीच उन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे। सरकार गिराने में भी उनका नाम आया। यह कार्यकाल विवादों में घिर गया था क्योंकि कई भाजपा नेताओं ने येदियुरप्पा के खिलाफ खुले विद्रोह की घोषणा की थी।

येदियुरप्पा ने कहा है कि सीएम की कुर्सी छोड़ने के बाद वह पार्टी के लिए काम करेंगे। साथ ही कहा, पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और नड्डा का मेरे प्रति विशेष प्रेम और विश्वास है। आप जानते हैं कि 75 वर्ष की आयु पार करने वालों को कोई पद नहीं दिया गया है।

View More...

राष्ट्रपति कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में भारतीय स्टेट बैंक एसबीआई की नई शाखा का किया उद्घाटन

Date : 25-Jul-2021

नई दिल्ली (एजेंसी) । राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शनिवार को राष्ट्रपति भवन में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की नई शाखा का उद्घाटन किया। एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई है। राष्ट्रपति भवन परिसर में यह एसबीआई की पहली शाखा है। राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी बयान के अनुसार एसबीआई की शाखा में पहले ग्राहक स्वयं राष्ट्रपति कोविंद रहे। उनका खाता खोलने के बाद बैंक ने उन्हें पासबुक भी दी। इस मौके पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री डॉ. भागवत किशन राव और एसबीआई के चेयरमैन दिनेश खारा मौजूद थे।

इस शाखा की कुछ महत्वपूर्ण खूबियों के तहत इसमें विभिन्न प्रक्रियाओं के लिए पूरी तरह डिजिटलीकरण की नीति अपनाई गई है। इस शाखा में एक छत के नीचे सभी वित्तीय सेवाएं उपलब्ध हैं। इसके अलावा यह शाखा नवीनतम डिजिटल सुविधाओं मसलन वीडियो केवाईसी, ऑटोमेटेड नकद जमा एवं निकासी मशीन और पासबुक प्रिटिंग मशीन से लैस है। बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति भवन परिसर में स्थित इस शाखा का इस्तेमाल वे लोग भी कर सकेंगे जो राष्ट्रपति एस्टेट के निवासी नहीं हैं। एसबीआई देश का सबसे बड़ा बैंक है।

View More...