National

राष्ट्रपति कोविंद आज पहुंचेंगे उधमपुर, जवानों के साथ मनाएंगे दशहरा

Date : 14-Oct-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शुक्रवार को दशहरा पर्व लद्दाख के द्रास में सैन्य जवानों के साथ मनाएंगे। राष्ट्रपति गुरुवार से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के दो दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं। वे दौरे की शुरुआत लद्दाख से करेंगे। 14 अक्तूबर को वह लेह के सिंधु घाट पर सिंधु दर्शन पूजा में शामिल होंगे।

राष्ट्रपति भवन से जारी हुई आधिकारिक सूचना के अनुसार, 14 अक्तूबर की शाम को रामनाथ कोविंद जम्मू-कश्मीर के उधमपुर जिले में सैन्य जवानों से भी मुलाकात करेंगे। 15 अक्तूबर को वे फिर लद्दाख जाएंगे, जहां द्रास स्थित कारगिल युद्ध स्मारक पर जाकर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। राष्ट्रपति का सैन्य अधिकारियों व जवानों से मुलाकात का कार्यक्रम भी है।

राष्ट्रपति आम तौर पर नई दिल्ली में ही दशहरा समारोह में हिस्सा लेते रहे हैं। लेकिन इस बार राष्ट्रपति ने द्रास में सैन्य जवानों के साथ दशहरा मनाकर उनका मनोबल बढ़ाने का फैसला लिया है।

View More...

ृपीएम मोदी ने की गति शक्ति योजना की शुरुआत

Date : 14-Oct-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक कार्यक्रम में `प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना` की शुरुआत की। इस मौके पर उन्होंने लोगों को संबोधित भी किया। पीएम मोदी ने कहा कि आज दुर्गाष्टमी है, पूरे देश में आज शक्ति स्वरूपा का पूजन हो रहा है। शक्ति की उपासना के इस पुण्य अवसर पर देश की प्रगति की गति को भी शक्ति देने का शुभ कार्य हो रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री गति शक्ति-राष्ट्रीय मास्टर प्लान 21वीं सदी के भारत की गति को शक्ति देगा।

अगली पीढ़ी के इंफ्रास्ट्रक्चर और `मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी` को इस राष्ट्रीय योजना से गति शक्ति मिलेगी। पीएम मोदी ने कहा कि इस योजना से सभी प्रोजेक्ट अब तय समय पर पूरे होंगे और टैक्स का एक भी पैसा बर्बाद नहीं होगा। इस दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि हमारे देश में इंफ्रास्ट्रक्चर का विषय ज्यादातर राजनीतिक दलों की प्राथमिकता से दूर रहा है। ये उनके घोषणा पत्र में भी नजर नहीं आता है। अब तो ये स्थिति आ गई है कि कुछ राजनीतिक दल, देश के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण पर आलोचना करने में गर्व करते हैं।

सरकारी व्यवस्थाओं की उस पुरानी सोच को पीछे छोड़कर आगे बढ़ रहा भारत

पीएम मोदी ने कहा कि आज 21वीं सदी का भारत, सरकारी व्यवस्थाओं की उस पुरानी सोच को पीछे छोड़कर आगे बढ़ रहा है। आज का मंत्र है, प्रगति के लिए इच्छा, प्रगति के लिए कार्य, प्रगति के लिए धन, प्रगति की योजना, प्रगति के लिए वरीयता।

आत्मनिर्भर भारत से हम अगले 25 वर्षों के भारत की बुनियाद रच रहे

पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ हम, अगले 25 वर्षों के भारत की बुनियाद रच रहे हैं। पीएम गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान, भारत के इसी आत्मबल को, आत्मविश्वास को आत्मनिर्भरता के संकल्प तक ले जाने वाला है।

सतत विकास के लिए क्वालिटी इंफ्रास्ट्रक्चर जरूरी: पीएम मोदी

जबकि दुनिया में ये स्वीकृत बात है कि सतत विकास के लिए क्वालिटी इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण एक ऐसा रास्ता है, जो अनेक आर्थिक गतिविधियों को जन्म देता है और बहुत बड़े पैमाने पर रोजगार का निर्माण करता है। 

गति शक्ति प्लान इन्वेस्टर्स की करेगा मदद: पीएम मोदी

पीएम गतिशक्ति नेशनल मास्टर प्लान देश की पॉलिसी मेकिंग से जुड़े सभी स्टेकहोल्डर्स को, इन्वेस्टर्स को एक analytical और डिसीजन मेकिंग टूल भी देगा। इससे सरकारों को प्रभावी प्लानिंग और पॉलिसी बनाने में मदद मिलेगी।

जानें क्या है यह मास्टर प्लान

इस योजना से करीब 100 लाख करोड़ रुपये की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के विकास को गति मिलेगी। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का उद्देश्य औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के साथ-साथ एयरपोर्ट, नई सड़कों और रेल योजनाओं सहित यातायात की व्यवस्था को दुरुस्त करना है। इसके जरिए युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। 

View More...

मुख्यमंत्री योगी महंत अवेद्यनाथ राजकीय महाविद्यालय का करेंगे लोकार्पण

Date : 14-Oct-2021

गोरखपुर (एजेंसी)। पांच दिन के दौरे पर मंगलवार की शाम गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को जंगल कौड़िया स्थित महंत अवेद्यनाथ राजकीय महाविद्यालय का लोकार्पण करेंगे। इस दौरान वह परिसर में स्थापित महंत अवेद्यनाथ की आदमकद कांस्य प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे।

लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और उच्च शिक्षा राज्यमंत्री नीलिमा कटियार भी मौजूद रहेंगी। महाविद्यालय की आधारशिला मुख्यमंत्री द्वारा ही 21 मई 2018 को रखी गई थी। 31 करोड़ की लागत से महाविद्यालय का निर्माण किया गया है।

मुख्यमंत्री की मंशा को देखते हुए इसी सत्र से इस महाविद्यालय में स्नातक प्रथम वर्ष की कक्षाएं शुरू होंगी। यह महाविद्यालय पंडित दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय से संबद्ध है और इसे कला, विज्ञान एवं वाणिज्य संकाय की कक्षाओं के संचालन की स्वीकृति भी मिल चुकी है। तीनों संकायों में चार सौ से अधिक विद्यार्थियों का प्रवेश भी हो चुका है। प्रवेश प्रक्रिया अभी जारी है।

प्राचार्य, शिक्षकों और कर्मचारियों की तैनाती भी हो चुकी है। महाविद्यालय के लोकार्पण कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार की शाम चार बजे माया बाजार स्थित कालीबाड़ी के सुंदरीकरण और सुदृढ़ीकरण कार्य का लोकार्पण करेंगे। इसपर 72 लाख रुपये खर्च हुए हैं। मुख्यमंत्री के शहर में दशहरा तक रुकने की उम्मीद है। वह 16 को लखनऊ प्रस्थान कर सकते हैं।

View More...

19 नवंबर को प्रधानमंत्री मोदी आगरा की इलेक्ट्रिक बसों को दिखाएंगे हरी झंडी

Date : 14-Oct-2021

आगरा (एजेंसी)। आगरा के एमजी रोड पर अगले महीने से पुरानी खटारा बसों की जगह नई इलेक्ट्रिक बसें फर्राटा भरती नजर आएंगी। 19 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगरा की इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी दिखाएंगे। झांसी में प्रदेशभर की इलेक्ट्रिक बसों के लोकार्पण का कार्यक्रम होगा, जहां से ताजनगरी के लिए 30 इलेक्ट्रिक बसों को रवाना किया जाएगा। पहले चरण में आगरा को 30 बसें मिलेंगी, यहां 100 बसों का संचालन किया जाना है।

नगर निगम ने नरायच में इलेक्ट्रिक बसों के लिए चार्जिंग स्टेशन बनाने को केवल एक रुपये में जमीन दी है। यहां अब तक चहारदीवारी का ही निर्माण हो पाया है। टोरंट पावर यहां बिजली सप्लाई के लिए केबिल बिछाने का काम कर रहा है। चार्जिंग स्टेशन का निर्माण निजी कंपनी को सौंपा गया है। कंपनी ने यहां स्टेशन बनाने का काम शुरू नहीं किया है।

नगर आयुक्त निखिल टी. फुंडे ने बताया कि एमजी रोड समेत शहर के सभी क्षेत्रों को जोड़ते हुए इलेक्ट्रिक बसों के रूट तय किए गए हैं। इसके साथ पर्यटन स्थलों और स्मारकों को जोड़ने वाली बसें भी चलाई जाएंगी। जल्द ही बस स्टॉपेज के निर्माण का काम भी शुरू कराया जाएगा। 

View More...

कोयले संकट के लिए राज्य जिम्मेदार : कोयला मंत्री प्रह्लाद

Date : 13-Oct-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। अभी तक देश में कोयले की कोई कमी होने का दावा करने वाली केंद्र सरकार ने मंगलवार को मौजूदा संकट के पीछे कुछ राज्यों को जिम्मेदार ठहराया। केंद्रीय कोयला मंत्री ने कहा कि हमने राज्यों से पहले ही कहा था कि कोयले का स्टॉक बढ़ा लें लेकिन तब हमारी नहीं सुनी गई। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने तो आपूर्ति बंद कर देने के लिए भी कहा था।

केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मंगलवार को कहा कि हमने कल (सोमवार को) 19.40 लाख टन कोयले की आपूर्ति की, यह घरेलू कोयले की अब तक की सबसे अधिक आपूर्ति है। जहां तक राज्यों का संबंध है, इस साल जून तक हमने उनसे कोयले का स्टॉक बढ़ाने का अनुरोध किया था, तो कुछ ये तक कहने लगे थे कि `कृपया एक उपकार करें, अब कोयला न भेजें`।

समाचार एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार जोशी ने कहा कि बारिश के कारण कोयले की कमी हुई थी, जिसके चलते अंतरराष्ट्रीय कीमतें 60 रुपये प्रति टन से बढ़ कर 190 रुपये पर पहुंच गईं। उन्होंने कहा, इसी के चलते आयातित कोल पावर प्लांट या तो 15-20 दिन के लिए बंद हो गए या बहुत कम उत्पादन कर रहे हैं। इससे घरेलू कोयले पर दबाव बढ़ा है।

जोशी ने कहा कि हमने अपनी आपूर्ति जारी रखी है, यहां तक कि पिछले बकाये के बावजूद हमने इसे जारी रखा है। हम राज्यों से कोयले का स्टॉक बढ़ाने का अनुरोध कर रहे हैं… कोयले की कमी नहीं होगी।

राज्यों की मदद करना केंद्र की जिम्मेदारी: गहलोत

वहीं, राजस्थान के मुख्यमंत्री राजस्थान अशोक गहलोक ने इस संकट को लेकर कहा कि यह केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि वह राज्यों की मदद करे। यह अच्छी तरह से पता था कि कोयले की कमी है और राज्य समस्या में हैं।

महाराष्ट्र: `कोयले की कमी से नहीं होगी लेड शेडिंग`

दूसरी ओर महाराष्ट्र के बिजली मंत्री नितिन राउत ने कहा कि कोयला संकट के बावजूद हमने हमारे नागरिकों तक बिजली आपूर्ति पहुंचाने की कोशिश की है। राज्य में कोयले की कमी के बाद भी इस समय राज्य में 27 बिजली उत्पादन इकाइयों में से केवल चार बंद हुई हैं। उन्होंने कहा, `एक मंत्री के रूप में, मैं गारंटी दे सकता हूं कि कोयला संकट के कारण कोई लोड शेडिंग नहीं होगी।`

View More...

प्रदेश में निर्बाध बिजली आपूर्ति बनाए रखने के लिए हर संभव कदम उठाए जाएं : सीएम योगी

Date : 13-Oct-2021

लखनऊ (एजेंसी)। कोयले की आपूर्ति में किल्लत की खबरों के बीच उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को स्थिति की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ बैठक की है। बैठक में सीएम योगी ने अधिकारियों से दो टूक कहा कि प्रदेश में निर्बाध बिजली आपूर्ति बनाए रखने के लिए हर संभव कदम उठाए जाएं। इस दौरान वह ओवरबिलिंग, फेक बिलिंग पर भी सख्त नजर आए। डन्होंने कहा कि एजेंसी के खिलाफ दर्ज की जाए। सीएम ने कहा कि प्रदेश में अनवरत बिजली आपूर्ति की मांग को लेकर अतिरिक्त बिजली खरीदें।

उन्होंने कहा कि खराब ट्रांसफार्मर्स को निर्धारित व्यवस्था के अनुसार ग्रामीण इलाकों में 48 तथा शहरी क्षेत्रों में 24 घण्टों में आवश्यक रूप से बदला जाए. ट्रांसफार्मर्स की क्षमता वृद्धि के सम्बन्ध में पूर्व में लागू व्यवस्था को पुनः क्रियान्वित किया जाए। किसानों को दी जाने वाली सब्सिडी के सम्बन्ध में तत्काल कार्यवाही की जाए।

ट्यूबवेल के कनेक्शन समयबद्ध ढंग से प्रदान किए जाएं। सीएम योगी ने कहा कि सौभाग्य योजना सहित अन्य योजनाओं के लाभार्थियों के विद्युत बिलों में गड़बड़ी के मामलों का तत्काल समाधान कराया जाए। सभी विद्युत वितरण निगमों को विद्युत व्यवस्था सुचारु बनाए रखने तथा लाइन लॉस को कम करने के निर्देश भी दिए।

View More...

यूएस-भारत रक्षा साझेदारी को साथ चलाने के लिए प्रतिबद्ध : माइकल गिल्डे

Date : 13-Oct-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। बंगाल की खाड़ी में नौसेना का सबसे प्रसिद्ध मालाबार युद्धाभ्यास का दूसरा चरण आज से शुरू हो गया। यह युद्धाभ्यास 12-15 अक्तूबर के बीच चलेगा। इसमें भारतीय नौसेना, जापान की जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स, ऑस्ट्रेलिया की रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी और अमेरिकी नेवी शामिल है। इस युद्धाभ्यास में नौसेनाओं की अग्रिम पंक्तियों के कई युद्धपोत एवं अन्य पोत करतब दिखाएंगे। मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास 1992 में हिंद महासागर में भारतीय नौसेना और अमेरिकी नौसेना के बीच द्विपक्षीय अभ्यास के रूप में शुरू हुआ था। 2015 में जापान भी इसका सदस्य बना। भारत के निमंत्रण के बाद पिछले साल ऑस्ट्रेलिया भी मालाबार अभ्यास में हिस्सा लेना शुरू किया था। 

भारत दौरे पर पहुंचे अमेरिकी नेवी चीफ 

मालाबार युद्धाभ्यास को देखने के लिए अमेरिकी नेवी चीफ एडमिरल माइकल गिल्डे भी भारत दौरे पर आए हैं। इस दौरान गिल्डे ने कहा कि भारत यात्रा के दौरान मेरी मेजबानी करने के लिए एडमिरल सिंह और भारतीय नौसेना का आभार व्यक्त करता हूं। हम अपनी यूएस-भारत रक्षा साझेदारी को साथ चलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जिसमें बढ़ी हुई जानकारी साझा करना, क्षेत्रीय सुरक्षा और समुद्र में एक साथ अभ्यास करना शामिल है। 

अमेरिकी सील से कम नहीं मार्कोस

मार्कोस (MARCOS) को मरीन कमांडो फोर्स भी कहा जाता है। यह भारतीय नौसेना की विशेष फोर्स टीम है। 1980 के दशक से लेकर अभी तक मार्कोस ने सीक्रेट मिशन को अंजाम दिया है। मार्कोस अपने ऑपरेशन को इतनी  तेजी और तत्परता से अंजाम देते हैं कि इन्हें किसी मायनों में अमेरिकी सील से कम नहीं आंका जा सकता है। भारतीय नौसेना की एलीट स्पेशल फोर्स आतंकी हमले के मुकाबले से लेकर पानी के भीतर ऑपरेशन, एंटी-पायरेसी ऑपरेशन समेत हर चीज में माहिर है। मार्कोस कमांडोज टीएआर-21 असॉल्ट राइफल समेत दुनिया के सर्वश्रेष्ठ हथियार से लैस होते हैं।

मार्कोस का प्रशिक्षण सबसे कठिन

मरीन कमांडो या मार्कोस  भारतीय नौसेना की एक विशेष बल इकाई है, शुरुआत में इसका नाम भारतीय समुद्री विशेष बल के तौर पर हुई थी। हालांकि, दो साल बाद, उनका नाम बदलकर मरीन कमांडो फोर्स  कर दिया गया।  इसकी स्थापना 1987 में की गई थी।  मार्कोस का प्रशिक्षण इतना व्यापक होता है कि इनको आतंकवाद से लेकर, नेवी ऑपरेशन, और एंटी पायरेसी ऑपरेशन में भी इस्तेमाल किया जाता है।  मरीन कमांडो का मोटो है – द फ्यू द फियरलेस। मरीन कमांडोज की ट्रेनिंग को दुनिया की सबसे कठिन ट्रेनिंग में से एक है। 1000 सैनिकों में से एक मार्कोस तैयार हो पाता है।

View More...

सावरकर 20वीं सदी में देश का पहला रक्षा विशेषज्ञ : राजनाथ सिंह

Date : 13-Oct-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचारक सावरकर को  20वीं शताब्दी में भारत के सबसे बड़े और पहले रक्षा और रणनीतिक मामलों का विशेषज्ञ बताया।

किताब के विमोचन के मौके पर रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि मार्क्सवादी और लेनिनवादी विचारधाराओं का पालन करने वाले लोगों ने सावरकर पर फासीवादी और हिंदुत्व के समर्थक होने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने बहुत स्पष्ट रूप से कहा कि अन्य देशों के साथ भारत के संबंध इस बात पर निर्भर होने चाहिए कि वे हमारी सुरक्षा और राष्ट्रीय हितों के लिए कितने अनुकूल हैं। वह स्पष्ट थे कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दूसरे देश में किस तरह की सरकार थी। कोई भी देश तब तक दोस्त रहेगा जब तक यह हमारे हितों के अनुकूल रहेगा।”

राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्हें बदनाम करने के लिए एक अभियान चलाया गया था। उन्होंने कहा, “वह एक स्वतंत्रता सेनानी थे और इसके बारे में कोई दो राय नहीं है। उसे अन्यथा चित्रित करना क्षम्य नहीं है।”

View More...

राज्य सरकार का फैसला, अब 10वीं, 12वीं व डिग्री कॉलेजों के छात्र.छात्राओं को दी जाएगी निशुल्क टैबलेट

Date : 13-Oct-2021

देहरादून (एजेंसी)। उत्तराखंड मंत्रिमंडल ने मंगलवार को राजकीय स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 10वीं और 12वीं तथा डिग्री कॉलेजों के छात्र-छात्राओं को निशुल्क टैबलेट दिए जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इसके अलावा, मंत्रिमंडल ने आशा कार्यकर्ताओं का मानदेय बढ़ाकर न्यूनतम 6500 रुपये प्रतिमाह करने का भी फैसला लिया है।

बैठक के बाद निर्णयों की जानकारी देते हुए प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि निशुल्क टैबलेट योजना से राजकीय स्कूलों में 10 वीं और 12 वीं में पढ़ने वाले 1,59,015 विद्यार्थी तथा डिग्री कॉलेज में पढ़ने वाले 1,15,000 विद्यार्थी लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि टैबलेट की खरीद के लिए एक समिति गठित की गई है।

मंत्रिमंडल ने एक अन्य निर्णय में हल्द्वानी एवं दून राजकीय मेडिकल कॉलेज में पढ़ने के बाद राज्य को अपनी सेवाएं देने का बांड भरने वाले छात्रों की फीस कम करने पर सैद्धांतिक सहमति दी और तय किया गया कि इस संबंध में कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्ताव लाया जाएगा।

View More...

मेरी सरकार गिराने वाले महापापी, कांग्रेस में आने से पहले मांगे माफी : पूर्व मुख्यमंत्री रावत

Date : 13-Oct-2021

देहरादून (एजेंसी)। उत्तराखंड कांग्रेस में यशपाल आर्य की वापसी के बाद अन्य बागियों के लिए रास्ता खुलने के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने तीखे अंदाज में जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में सदन के पटल पर पैसों में बिककर जिन लोगों ने उनकी सरकार गिराई थी, वह लोग महापापी हैं। हरीश ने कहा कि यह लोग जब तक सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते हैं, उनके रहते कांग्रेस में इनकी एंट्री नहीं हो सकती।

अपने आवास से निकलते हुए पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम रावत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व.अटल विहारी वाजपेयी ने भी खरीद-फरोख्त की राजनीति को महापाप की संज्ञा दी थी। हरीश ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि यदि फिर भी ऐसे महापापी कांग्रेस में आना चाहते हैं तो पहले उन्हें अपने पाप को स्वीकार करना पड़ेगा।

सार्वजनिक तौर पर खेद प्रकट करना पड़ेगा, वह चाहें तो अपने कुलदेवता के सम्मुख भी ऐसा कर सकते हैं, लेकिन उन्हें बताना पड़ेगा कि उन्होंने महापाप किया था और वह इसके लिए क्षमा चाहते हैं। यदि ऐसा करते हैं तो वह रास्ते में नहीं आएंगे। बिना माफी ऐसे लोग कांग्रेस में प्रवेश करते हैं तो यह उनके लिए बहुत कठिन हो जाएगा। हरीश ने कहा कि यह सवाल सिर्फ उनकी सरकार गिराने का नहीं है, यह सवाल उत्तराखंड की मूल मान्यता और यहां की राजनीतिक संस्कृति पर भी एक काले धब्बे की तरह है।

यशपाल आर्य उन लोगों में शामिल नहीं : हरीश

हरीश रावत ने कहा कि यशपाल आर्य उन लोगों में शामिल नहीं थे। वह व्यक्तिगत कारणों से पार्टी से बाहर गए थे। उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ कभी कोई गलत बयान नहीं दिया। इनमें से एक-दो लोग ऐसे थे, जो बेबस होकर गए। उन्हें भी वह पार्टी में स्वीकार करने को तैयार हैं। कहा कि वह एक महिला के विषय में जानते हैं, जिसे एक मंत्री ने गाली देकर अपनी तरफ खींचा था, वह नहीं जाना चाहती थी। उस मंत्री ने अभद्र टिप्पणी करते हुए कहा था कि तुमने पैसे तो ले लिए और अब आने से मना कर रही हो। 

एक उजाड़ू बल्द से तो मैं कहता था, तुम मुख्यमंत्री बनोगे

हरीश रावत ने कहा कि उनका किसी से व्यक्तिगत द्वेष नहीं है। यदि वह अपने घर के कुल देवता के सामने भी सार्वजनिक माफी मांगते हैं तो भी उन्हें स्वीकार है। बिना किसी का नाम लिए उन्होंने कहा कि एक उजाड़ू बल्द को तो वह हमेशा बोलते थे कि वह भविष्य में मुख्यमंत्री बनेगा, लेकिन अब वह इतना उज्याड़ खा चुका है कि सब गड़बड़ हो गई है।  

भाजपा के कोर ग्रुप के विधायक भी संपर्क में

हरीश रावत ने कहा भाजपा के कोर ग्रुप के विधायक भी उनके संपर्क में हैं। वह कांग्रेस में आना चाहते हैं, लेकिन वह दलबदल की राजनीति में ज्यादा विश्वास नहीं करते हैं। 

क्या यशपाल आर्य ने माफी मांगी : हरक

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के माफी मांगने वाले बयान पर कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने अपने अंदाज में जवाब दिया। उन्होंने सवाल दागा कि हरीश रावत बताएं कि क्या यशपाल आर्य ने माफी मांग ली है?

कैप्टन यदि भाजपा का मुखौटा बनना चाहते हैं तो यह सही नहीं है : हरीश रावत

उत्तराखंड के पूर्व सीएम और पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह को पद से इस्तीफा देना पड़ा, उनका गुस्सा कहीं तो निकलेगा ही। यदि इसके लिए वह हरीश रावत से नाराज हैं तो नम्रता से इस स्वीकार करते हैं। अपने आवास पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए हरीश रावत ने कहा कि यदि वह किसी मसले पर पार्टी से नाराज हैं तो सोनिया गांधी उनकी नेता हैं, वह उनसे अपनी बात रख सकते हैं। यदि वह भाजपा का मुखौटा बनना चाहते हैं तो यह सही नहीं है। उन्होंने खुद को इससे जोड़ते हुए कहा कि यदि कल मैं ऐसा करूं तो इसका मतलब मेरा पालन-पोषण सही नहीं हुआ है।

View More...