Top News

शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने धीरेंद्र शास्त्री को दी खुली चुनौती, कहा-ऐसा किया तो उनके चमत्कार पर विश्वास कर लेंगे

Date : 23-Jan-2023

 नई  दिल्ली (एजेंसी)। बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री से जुड़ा विवाद तूल पकड़ता जा रहा है।  जादू-टोना और अंधविश्वास के आरोपों से शुरू हुआ मामला धर्मांतरण तक पहुंच गया है।  देश में सनातन धर्म बनाम ईसाई-इस्लाम पर चर्चा तेज हो गई है। 

बागेश्वर महाराज धीरेंद्र शास्त्री को लेकर जारी विवाद में अब शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद भी कूद पड़े हैं। उन्होंने धीरेंद्र शास्त्री को खुली चुनौती दी है।  शंकराचार्य ने कहा कि वह जोशीमठ आएं और यहां धंसती जमीन और दरकते मकानों को रोक कर दिखाएं। यदि वह ऐसा कर पाते हैं तो वह भी उनके चमत्कार पर विश्वास कर लेंगे। 

शंकराचार्य ने यह भी कहा कि वेदों के अनुसार चमत्कार दिखाने वालो को मैं मान्यता देता हूं, लेकिन अपनी वाहवाही और चमत्कारी बनने की कोशिश करने वालों को मैं मान्यता नहीं देता। मनमाना बोलने के लिए ना हम अधिकृत हैं और ना हम मनमाना कहते हैं। 

शंकराचार्य ने कहा कि ज्योतिष शास्त्र में किसी का भविष्य बताया जाता है, लेकिन यह फलादेश होता है। 

उन्होंने बागेश्वर महाराज को चुनौती देते हुए कहा कि आपके पास अलौकिक शक्तियां हैं तो धर्मांतरण रोकिए, घरों के झगड़ों सुलझाएं, लोगों में सुमति लाएं। यदि वह अपने चमत्कार से आत्महत्या रोक दें तो हम चमत्कार मानेंगे। 

शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि कहीं भी धर्मांतरण धार्मिक रूप से नहीं हो रहा है बल्कि यह विशुद्ध रूप से राजनीतिक कारणों की वजह से हो रहा है। 

View More...

राजकोट पुलिस ने किया नकली नोट चलाने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़, बरामद किये 35 लाख रूपए

Date : 21-Jan-2023

राजकोट (एजेंसी)। गुजरात की राजकोट पुलिस ने नकली नोट चलाने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है और सात लोगों को गिरफ्तार किया है। सातों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड के लिए मांगेगी।प्राथमिक जानकारी के मुताबिक गैंग ने अंगदिया पेढ़ी (पारंपरिक कूरियर सेवा) के माध्यम से बाजार में 35 लाख रुपए के नकली नोटों को उतारा था। जांच अधिकारी ने मीडियाकर्मियों को बताया कि अंगड़िया पेढ़ी के एक कर्मचारी ने संदेह के आधार पर पुलिस को सूचना दी कि दो व्यक्ति ढाई लाख रुपए जमा करने आए हैं और इसे अन्य शहरों में स्थानांतरित करना चाहते हैं, लेकिन नोट नकली लग रहे हैं।

सूचना के बाद एक पुलिस अधिकारी अंगदिया पेढ़ी कार्यालय पहुंचा और ढाई लाख रुपए मूल्य के नकली नोटों के साथ दो अन्य को गिरफ्तार कर लिया। प्राथमिक पूछताछ के दौरान, उन्होंने भरत बोरिचा और महाराष्ट्र के कमलेश पूनावाला को गैंग का सरगना बताया। पुलिस हरकत में आई और तीन अन्य को गिरफ्तार कर लिया और देर रात तक पुलिस ने कुल सात लोगों को गिरफ्तार किया है।अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक पूछताछ के दौरान, बोरिचा और पूनावाला ने पुलिस को बताया कि अब तक उन्होंने 10 से 15 अगंडिया पेढ़ी के जरिए 35 लाख रुपए के नकली नोट उड़ाए हैं।

View More...

देश को जल्द मिल सकता है पहला समलैंगिक हाई कोर्ट जज !

Date : 20-Jan-2023

नई दिल्ली (एजेंसी)। वरिष्ठ वकील सौरभ कृपाल का नाम बतौर जज दिल्ली हाई कोर्ट  में नियुक्ति के लिए एक बार फिर केंद्र सरकार को भेजा गया है. सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस बी एन कृपाल के बेटे सौरभ LGBTQ अधिकारों पर काम करते रहे हैं. वह खुद भी घोषित रूप से समलैंगिक हैं. 2017 से अब तक कृपाल की नियुक्ति सरकार की कुछ आपत्तियों के चलते अटक रही है। अब यह उम्मीद की जा रही है कि अगले कुछ दिनों में वह ऐतिहासिक मौका आ जाएगा, जब LGBTQ वर्ग का कोई व्यक्ति इस उच्च संवैधानिक पद पर होगा।

हाई कोर्ट कॉलेजियम की तरफ से उनके नाम की सिफारिश 2017 में भेजी गई थी. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने भी उनका नाम केंद्र को भेजा. लेकिन सरकार की असहमति के चलते मामला अटका रहा. अब एक बार फिर चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़, जस्टिस संजय किशन कौल और केएम जोसफ के कॉलेजियम ने उनका नाम सरकार को दोबारा भेज दिया है।

सरकार ने सुरक्षा के लिहाज़ से बताया ‘आपत्तिजनक’

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने एक से ज़्यादा बार कृपाल के नाम की सिफारिश केंद्र को भेजी है. हर बार केंद्र सरकार ने जवाब में बताया है कि खुफिया ब्यूरो (IB) ने इस नियुक्ति के विरोध में रिपोर्ट दी है. उस रिपोर्ट में सौरभ के पार्टनर का विदेशी मूल का होना और दिल्ली में स्विस दूतावास के लिए काम करना, सुरक्षा के लिहाज़ से आपत्तिजनक बताया गया है. अब कॉलेजियम ने इस आपत्ति को खारिज करते हुए कहा है कि देश में बड़े पदों पर बैठे कई लोगों के पति या पत्नी विदेशी मूल के रह चुके हैं. पूर्व एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी के चैंबर में बतौर जूनियर करियर की शुरुआत करने वाले सौरभ की छवि एक मेहनती और काबिल वकील की है.उनकी योग्यता पर मुहर लगाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट के सभी 31 जजों ने सर्वसम्मति से उन्हें वरिष्ठ वकील का दर्जा दिया।

यहां से की सौरभ कृपाल ने कानून की पढ़ाई

सौरभ कृपाल ने दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज से फिजिक्स में ऑनर्स के अलावा विदेश के प्रतिष्ठित ऑक्सफोर्ड और कैंब्रिज विश्वविद्यालयों से कानून की पढ़ाई की है. समलैंगिकता को अपराध ठहराने वाली आईपीसी की धारा 377 के खिलाफ कानूनी लड़ाई में भी वह सक्रिय रहे. उन्होंने याचिकाकर्ता नवतेज जौहर के लिए कोर्ट में जिरह की. माना जा रहा है कि उनकी हाई कोर्ट जज के रूप में नियुक्ति समाज में इस वर्ग के बारे में स्थापित धारणाओं को तोड़ने में मददगार होगी. LGBTQ वर्ग के वकीलों को प्रोत्साहित करेगी.समाज में स्वीकार्यता बढ़ने से दूसरे क्षेत्रों में भी इस वर्ग के लोग मुख्यधारा से जुड़ सकेंगे।

आईबी रिपोर्ट के आधार पर लौटाई गई थी सिफारिश

केंद्र ने आईबी रिपोर्ट के आधार पर वकील सोमशेखर सुंदरेशन को बॉम्बे हाई कोर्ट का जज बनाने को सिफारिश लौटा दी थी. लेकिन कॉलेजियम ने उनके नाम की सिफारिश केंद्र को फिर से भेज दी है. केंद्र ने कहा था कि सोमशेखर सोशल मीडिया पर मुखर रूप से अपनी राय रखते रहे हैं. लेकिन कॉलेजियम ने कहा है कि यह कोई अयोग्यता नहीं है. हर नागरिक अपनी राय रखने के लिए स्वतंत्र है।

View More...

योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में आशीष मिश्रा की जमानत याचिका का किया विरोध

Date : 20-Jan-2023

लखनऊ (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश सरकार  ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के आरोपियों में से एक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे  आशीष मिश्रा की जमानत याचिका का विरोध किया। इस दौरान यूपी सरकार ने कहा कि यह अपराध गंभीर और जघन्य था।

उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता गरिमा प्रसाद ने न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति जेके माहेश्वरी की पीठ से कहा कि यह एक गंभीर और जघन्य अपराध है और इससे समाज में गलत संदेश जाएगा। दरअसल, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फरवरी 2022 में आशीष मिश्रा को जमानत दी थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे रद्द कर दिया और मामले को पुनर्विचार के लिए वापस हाईकोर्ट भेज दिया। हाईकोर्ट ने दोबारा सुनवाई के बाद जुलाई 2022 में जमानत याचिका खारिज कर दी, जिसके बाद आशीष मिश्रा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

गुरुवार को लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि उसने आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत याचिका का विरोध किया था। साथ ही कोर्ट को बताया कि घटना के चश्मदीद गवाह ने आरोपी आशीष मिश्रा को मौके से भागते देखा था और यह बात चार्जशीट में भी है। यूपी सरकार ने कोर्ट में कहा कि अपराध गंभीर श्रेणी का है और ऐसे में आरोपी को जमानत देना समाज पर बुरा असर डाल सकता है।

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर 2021 को नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान सड़क पर उतर आए थे। आरोप है कि केंद्रीय मंत्री और स्थानीय सांसद अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने विरोध कर रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी। इसके बाद हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। प्रदर्शनकारियों ने एसयूवी सवार लोगों पर हमला कर दिया था, जिसमें कार का ड्राइवर और दो बीजेपी कार्यकर्ता मारे गए थे।

जमानत पर आशीष मिश्रा की रिहाई का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था और कोर्ट ने जमानत रद्द करते हुए केस इलाहाबाद हाईकोर्ट में नए सिरे से विचार के लिए भेज दिया था। जिसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत याचिका रद्द कर दी थी। हाईकोर्ट ने कहा था कि आशीष राजनीतिक रूप से प्रभावशाली है और वह गवाहों को प्रभावित करेगा।

View More...

मुंबई गोवा हाईवे पर भीषण सड़क हादसा, 9 लोगों की मौत

Date : 19-Jan-2023

नई दिल्ली (एजेंसी)। मुंबई गोवा हाईवे पर गुरुवार सुबह भीषण सड़क हादसा हो गया। कार और ट्रक की टक्कर में 9 लोगों की मौत होने की सूचना है। ये हादसा सुबह 5 बजे हुआ। कार में सवार सिर्फ एक बच्ची जिंदा बची है।

जिस जगह हादसा हुआ, वहां घाट है। पिछले हफ्ते भी यहां हादसा हुआ था। बताया जा रहा है कि कार में सवार होकर परिवार मुंबई जा रहे थे।

मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि परिवार अपने रिश्तेदार के अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रहा था। मारुति की ईको कार जब मुंबई से रत्नागिरी की ओर जा रही थी, तभी कार से टक्कर हो गई। टक्कर के बाद कार चकनाचूर हो गई।

View More...

जीएसटी अधिकारियों ने व्यापारी के ठिकाने पर मारा छापा, वसूला करीब 1 करोड़ का टैक्स

Date : 17-Jan-2023

रायपुर। छत्तीसगढ़ में TAX चोरी पर लगाम लगाने के लिए GST (राज्य कर) ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी है. इसी दौरान GST प्रवर्तन अदिकारियों की टीम ने छापा मारकर व्यापारी से करीब 1 करोड़ का टैक्स वसूल लिया है.

बता दें कि, GST की प्रवर्तन शाखा ने प्राप्त जानकारी के आधार पर राजधानी के महावीर ट्रांस सर्विस भनपुरी, में ताबड़तोड़ छापेमार कार्रवाई की है. इस दौरान प्राप्त दस्तावेजों और वस्तुओं का अवलोकन करने के बाद विभाग द्वारा कारोबारी से करीब 99,56,000 रुपये जमा करवाई है. वहीं राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप TAX चोरी रोकने के लिए जीएसटी विभाग द्वारा कार्रवाई जारी रहेगी.

View More...

आईबी ने जारी किया अलर्ट : गणतंत्र दिवस पर आईएसआईएस रच रहा भारत को दहलाने की साजिश

Date : 17-Jan-2023

नई दिल्ली (एजेंसी)। गणतंत्र दिवस पर दिल्ली और पंजाब समेत देश के कई शहरों में बड़ा आतंकी हमला हो सकता है। आईबी ने सोमवार को अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और इस्लामिक स्टेट अल कायदा करवा सकता है।

26 जनवरी के मद्देनजर दिल्ली, पंजाब और देश के कई बड़े शहरों में आतंकी हमला हो सकता है। जिसके लिए आईएसआई ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इरबाहिम के गुर्गों की मदद ली है।

सुरक्षा एजेंसियों को इस संबंध में एक गोपनीय रिपोर्ट मिली है। देश में होने वाले जी-20 समिट पर भी इस्लामिक स्टेट अल कायदा की साइबर विंग साइबरस्पेस पर काफी एक्टिव हो चुकी है और सम्मिट के दौरान बड़े साइबर हमले करने की फिराक में है।

आईएसआई अपने स्लीपर सेल और रोहिंग्या का इस्तेमाल कर सकती है। 26 जनवरी के मौके पर दिल्ली और पंजाब में आरडीएक्स ब्लास्ट करवा सकती है। यही नही अल कायदा के आतंकी लोन वुल्फ अटैक के भी फिराक में है। प्लान के मुताबिक, अगर 26 जनवरी पर आतंकी प्लान फेल हुआ तो जी 20 समिट पर बड़ी आतंकी स्टाइक दिल्ली में करने का प्लान है।

आईएसआई ने इस बार दिल्ली और पंजाब को टारगेट करने के लिए रोहिंग्या और दो बांग्लादेशी संगठन अंसार उल बंगला और जमात उल मुजाहिदीन का इस्तेमाल कर सकता है। सुरक्षा एजेंसियों के अलर्ट में कहा गया है कि पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने पर इसके लो प्रोफाइल विंग वापस सक्रिय हो सकते है और वो एक स्लीपर सेल की तरह गोरिल्ला अटैक कर सकते हैं।

यह भी कहा गया है कि सिख टेरर ग्रुप बड़ी टेरर स्टाइक को दिल्ली और पंजाब में अंजाम दे सकते है। सुरक्षा एजेंसियों ने दल खालसा और वारिश पंजाब पर कड़ी नजर रखने को भी कहा ये दोनों संगठन देश का माहौल खराब की पुरजोर कोशिश में जुटे हैं।

View More...

50 लाख की घूसखोरी के आरोप में रेलवे अधिकारी सहित 6 गिरफ्तार

Date : 16-Jan-2023

नई दिल्ली (एजेंसी)। सीबीआई ने रविवार को कथित रूप से 50 लाख रुपये की रिश्वत के मामले में गुवाहाटी में तैनात एक अतिरिक्त रेल मंडल प्रबंधक, एक बिचौलिए और एक हवाला ऑपरेटर सहित छह अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

अधिकारियों ने बताया, हरिओम नाम के एक व्यक्ति को भारतीय रेलवे सेवा के अधिकारी (1997 बैच) जितेंद्र पाल सिंह के नाम पर रिश्वत लेते पकड़ा गया था। इसके बाद जितेंद्र सिंह को भी गिरफ्तार किया गया।

आरोप था कि जितेंद्र सिंह ने निजी ठेकेदारों को अनुचित लाभ देने के इरादे से अनुबंध देने, माप पुस्तिका तैयार करने, चालू खाता बिलों की प्रोसेसिंग, लंबित बिलों का शीघ्र भुगतान करने और पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे में चल रहे निर्माण कार्य के साथ-साथ सुरक्षा जमा और बैंक गांटरी को जल्द जारी करने के लिए साजिश रची थी।

सीबीआई ने आरोप लगाया है कि जब जितेंद्र सिंह न्यू जलपाईगुड़ी में मुख्य अभियंता (निर्माण) के पद पर तैनात थे, तब उन्होंने नियमित रूप से कई ठेकेदारों से रिश्वत की मांग की और रिश्वत को स्वीकार किया।

रिश्वत की राशि एक ठेकेदार श्यामल कुमार देब के जरिए भेजी गई थी, जो दिल्ली स्थित हवाला ऑपरेटर विनोद कुमार सिंघल के माध्यम से इसे चैनलाइज करता था, जिसे भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

एजेंसी ने कहा, संभावित रिश्वतखोरी की जानकारी मिलने पर सीबीआई ने एक जाल बिछाया गया, जिसके बाद सिंह के एक परिचित को अधिकारी की ओर से कथित तौर पर पचास लाख रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया। बाद में सीबीआई ने अधिकारी और हवाला ऑपरेटर को भी गिरफ्तार किया और उन्हें रविवार को दिल्ली की एक विशेष अदालत में पेश किया।

प्रवक्ता ने कहा, दिल्ली, नरौरा, गुवाहाटी, सिलीगुड़ी और अलीगढ़ सहित विभिन्न स्थानों पर एडीआरएम और अन्य के परिसरों में तलाशी ली गई, जिसमें करीब 47 लाख रुपये नकद, लैपटॉप और कई आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए। एजेंसी ने पैसे की व्यवस्था करने वाले ठेकेदार देब, हरिओम के ड्राइवर योगेंद्र कुमार सिंह और दिल्ली में हवाला दुकान के कैशियर दिलावर खान और संजीत रे को भी गिरफ्तार किया है।

View More...

धान खरीदी का महाभियान : प्रदेश में धान खरीदी का आंकड़ा 97 लाख मीट्रिक टन से पार

Date : 14-Jan-2023

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में 1 नवम्बर 2022 से शुरू हुई धान खरीदी का महाभियान निरंतर जारी है। धान खरीदी का यह अभियान 31 जनवरी 2023 तक चलेगा। प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का आंकड़ा 97 लाख मीट्रिक टन से पार हो गया है। राज्य के 22 लाख से अधिक किसानों धान के एवज में 19,875 करोड़ रूपए का भुगतान बैंक लिंकिंग व्यवस्था के तहत किया गया है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री की पहल पर पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी धान खरीदी के साथ-साथ कस्टम मिलिंग के लिए निरंतर धान का उठाव जारी है। अब तक कुल धान खरीदी 97 लाख मीट्रिक टन धान में से 82 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान के उठाव के लिए डीओ जारी किया गया है, जिसके विरूद्ध मिलर्स द्वारा 71 लाख मीट्रिक टन धान का उठाव किया जा चुका है।

खाद्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि 13 जनवरी को 34 हजार 480 किसानों से 1.43 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसके अलावा ऑनलाइन प्राप्त टोकन के जरिए किसानों से 09 हजार टन धान की भी खरीदी हुई है।

गौरतलब है कि इस साल राज्य में 25.96 लाख किसानों का पंजीयन हुआ है, जिसमें लगभग 2.30 लाख नये किसान शामिल हैं। राज्य में धान खरीदी के लिए 2617 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं। सामान्य धान 2040 रूपए प्रति क्विंटल तथा ग्रेड-ए धान 2060 रूपए प्रति क्विंटल की दर से खरीदा जा रहा है। इसी तरह राज्य में धान खरीदी की व्यवस्था पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। सीमावर्ती राज्यों से धान के अवैध परिवहन को रोकने के लिए चेक पोस्ट पर माल वाहकों की चेकिंग की जा रही है।

View More...

सुरक्षाबलों पर नक्सली हमला, सीआरपीएफ ने कही ये बात

Date : 13-Jan-2023

जगदलपुर। बस्तर संभाग के सुकमा जिले से इस वक्त एक बड़ी खबर सामने आ रही है। गस्त पर निकले संयुक्त पुलिस फोर्स पर नक्सलियों ने बड़ा हमला किया है। छत्तीसगढ़-तेलंगाना सीमा पर हेलीकॉप्टर द्वारा नक्सलियों पर हमला किया गया है। वहीं पुलिस ने भी इस कायराना हमले में जवाबी कार्रवाई की जिसमे एक नक्सली भी मारा गया है।

नक्सल प्रभावित जिले  से खबर है कि एलेमगुंडा क्षेत्र में सर्चिंग के दौरान डीआरजी के जवानों पर नक्सलियों ने हमला किया। एलेमगुंडा कैंप से लगभग 15-17 किलोमीटर दूर स्थित एक गांव के जंगल में नक्सलियों द्वारा हमले को अंजाम दिया गया।

वहीं पुलिस की ओर से दावा किया जा रहा है कि सुरक्षाबलों ने नक्सलियों पर बड़ा सर्जिकल स्ट्राइक किया है। इस सर्जिकल स्ट्राइक में पहली बार हेलीकॉप्टर का उपयोग किया गया है। मुठभेड़ में नक्सलियों को बहुत नुकसान पहुंचा ऐसी संभावनाएं भी है । बताया जाता है कि नक्सली कमांडर हिड़मा को टारगेट में रखकर पुलिस ने इस एनकाउंटर को अंजाम दिया।

उधर, हवाई फायरिंग की खबर से सीआरपीएफ आईजी ने इंकार किया है। सीआरपीएफ के आईजी की ओर से जारी एक वक्तव्य में कहा गया है कि फॉरवर्ड ऑपरेटिंग बेस जा रही कोबरा बटालियन के जवानों पर नक्सलियों ने फायरिंग की थी।

वहीँ इस हमले पर पुलिस ने कहा है कि ‘विभिन्न सोशल मीडिया द्वारा यह सूचना प्रचारित किया जा रहा है कि सुरक्षा बलों द्वारा दिनांक 11/01/2023 को बीजापुर सुकमा तेलंगाना सीमा पर हेलीकाप्टर इत्यादि द्वारा नक्सलियों पर हमला किया गया है।

बीजापुर सुकमा तेलंगाना सीमावर्ती क्षेत्र मे नक्सलियों के विरूद्ध लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इसी कम में दिनांक 11/01/2023 को सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन की टुकडी हेलीकाप्टर द्वारा फारवर्ड आपरेटिंग बेस भेजी जा रही थी। इस पार्टी के हेलीकाप्टर से उतरते वक्त कोबरा और नक्सलियों के बीच फायरिंग हुई और नक्सली भागने पर मजबूर हो गये। कोबरा बटालियन की टुकड़ी को कोई नुकसान नहीं हुआ है। नक्सलियों के नुकसान की सूचना प्राप्त करने की कोशिश की जा रही है। क्षेत्र में सर्च अभियान जारी है।’ सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन एक विशेष फोर्स है, जिसे राष्ट्रविरोधी तत्वों से निपटने की सीख हासिल है और नक्सलियों से निपटने में पूर्णतः निपुण है।

सरकार द्वारा की जा रही विकास सम्बंधी गतिविधियों के कारण स्थानीय आबादी का समर्थन माओवादी तेजी से खोते जा रहे है।’

View More...