Health

Previous123456789...3132Next

कोरोना अपडेेट : देश में पिछले 24 घंटो में मिले 53 हजार 256 नए कोरोना संक्रमित मरीज, वहीं 1422 लोगों की हुई मौत

Date : 21-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है पिछले 88 दिनों बाद आज जो कोरोना संक्रमण के आंकड़े सामने आये हैं वो सबसे कम है। कम हो रहे संक्रमण के मामलों को यह लगातार दूसरा दिन है जब देश में 60 हजार से कम कोरोना संक्रमण के मामले सामने आये हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने जो ताजा रिपोर्ट जारी की है उसके अनुसार पिछले 24 घंटो में देशभर में कोरोना के 53,256 नये मामले सामने आए हैं। इस संक्रमण ने 1422 संक्रमितों की जान ली है।

कोरोन संक्रमण के आंकड़ों की तुलना करे तो यह संक्रमण का आंकड़ा कम है और लगातार इसमें गिरावट दर्ज की जा रही है। कल संक्रमण के 78,190 लोग कोरोना से ठीक भी हुए। देश में लगातार हो रहे संक्रमण के मामलों की कमी को वैक्सीनेशन की तेज होती रफ्तार से भी जोड़कर देखा जा रहा है। 20 जून तक देशभर में 28 करोड़ कोरोना वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं।

कोरोना संक्रमण के कुल मामले देश में 2,99,35,221 हैं जबकि अबतक 2,88,44,199 लोग को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। आज देश में कुल संक्रमण के मामलों का आंकड़ा देखें तो 7,02,887 एक्टिव केस हमारे सामने हैं।
कोरोना संक्रमण से अबतक 3,88,135 लोगों की मौत हो चुकी है। एक्टिव केस घटकर 3 फीसदी से कम हो गए हैं। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने बताया है कि देश में अब तक कुल 39,24,07,782 लोगों की टेस्टिंग की जा चुकी है। रविवार को 13,88,699 लोगों की जांच हुई।

View More...

कोरोना अपडेट : देश में बीते 24 घंटे में मिले 58 हजार से अधीक मरीज, वहीं कोरोना से 1576 मरीजों ने गंवाई अपनी जान

Date : 20-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है लेकिन हर दिन सामने आने वाले आंकड़ों की संख्या कम होने लगी है। पिछले पांच दिनों से देश में कोरोना वायरस के दैनिक मामले 70,000 से कम आ रहे हैं।

बीते 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस के 58,419 मामले दर्ज हुए। वहीं इसी अवधि में 1576 मरीजों ने अपनी जान गंवाई है। इसी बीच 87,619 मरीजों ने कोरोना को हराया है। इसके बाद देश में रिकवरी रेट बढ़कर 96.27 फीसदी हो गया है और दैनिक पॉजिटिविटी रेट 3.22 फीसदी हो गया है। 

भारत में अब कोरोना के कुल मामले 2,98,81,965 हैं, वहीं अब तक कुल 2,87,66,009 संक्रमित स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। कोरोना संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या अब 3,86,713 है। इसके आलावा देश में अब कुल 7,29,243 सक्रिय मामले हैं।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक, भारत में कल कोरोना वायरस के लिए 18,11,446 सैंपल टेस्ट किए गए, कल तक कुल 39,10,19,083 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं।
देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 38,10,554 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 27,66,93,572 हुआ।

View More...

सिकल सेल से ग्रसित कमजोर बच्चों का नियमित टीकाकरण बनाया जा सकता है दीर्घायु : सीएमएचओ

Date : 19-Jun-2021

सुकमा। सिकल सेल के प्रति प्रभावी नियंत्रण करने तथा इस रोग से पीड़ित लोगों का सहयोग करने के लिए हर वर्ष 19 जून को विश्व सिकल सेल दिवस मनाया जाता है। साल 2008 में संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने पहली बार वर्ल्ड सिकल सेल डे मनाने की शुरुआत की थी ताकि इस बीमारी को सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या के रूप में पहचान मिल सके।

सिकल सेल कोई संक्रामक बीमारी नहीं है। यह बीमारी मुख्य रूप से एक आनुवांशिक त्रुटि या दोष के कारण होती है। जब किसी बच्चे को अपने माता-पिता दोनों से सिकल सेल के जीन्स मिलते हैं तो उस बच्चे को सिकल सेल बीमारी हो जाती है। यदि माता-पिता में किसी एक को सिकल सेल डिजीज है, तो शिशु के स्वस्थ होने की उम्मीद अधिक होती है, लेकिन वह इसका वाहक हो सकता है। यानी वे अपने बच्चों को सिकल सेल जीन ट्रांसफर कर सकते हैं। ऐसे लोगों में या तो बीमारी के बेहद हल्के लक्षण नजर आते हैं या फिर कोई लक्षण नहीं दिखते।

सीएमएचओ डॉ. सी.बी.पी. बंसोड़ ने बताया ` सिकलसेल एनीमिया दरअसल एक ऐसी स्थिति है जब लाल रक्त कोशिकाएं हीमोग्लोबिन में गड़बड़ी के कारण अर्धचन्द्राकार या अन्य टेढ़े-मेढ़े अकार की हो जाती हैं और कठोर हो जाती हैं। परिणामस्वरूप ये कोशिकाएं सामान्य रक्त प्रवाह की तरह नहीं बहतीं बल्कि एक दूसरे से चिपक कर खून का रास्ता जाम कर देती हैं। इससे शरीर के अन्य ऑर्गन व कोशिकाओं में उपयुक्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती। साथ ही ये कोशिकाएं आगे चलकर स्प्लीन में यानि ऐसी जगह जाकर अटक जातीं हैं जहां पुरानी रक्त कोशिकाएं नष्ट होतीं हैं। नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण सामान्य गति से नहीं हो पाता, जिससे मरीज के शरीर में खून की कमी होने लगती है। सामान्य आरबीसी की उम्र तकरीबन 120 दिन होती है, जबकि ये दोषपूर्ण सेल अधिकतम 10 से 20 दिन तक जीवित रह पाते हैं`।

उन्होंने बताया सिकल रोग से ग्रस्त बच्चे में खून की कमी होती है जिस कारण बच्चे कमजोर होते हैं व इन्हें संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे बच्चों का टीकाकरण व अन्य जरूरी दवाएँ देकर उन्हें दीर्घायु बनाया जा सकता है । सिकल सेल रोग के कारण होने वाले प्रभाव व विकारों के उचित इलाज से सिकल रोगी को लंबा जीवन मिल सकता है। इसके अतिरिक्त विवाह पूर्व अगर रक्त जाँच कर यह पता कर लिया जाए कि इनमें सिकल सेल के जीन तो नहीं है और यदि दोनों में सिकल सेल पाये जाते हैं या दोनों सिकल सेल रोगी हैं तो उन्हें शादी नहीं करनी चाहिए । इस प्रकार ऐसे लोगों को आपस में शादी न करके सिकलग्रस्त बच्चे की उत्पत्ति को भी रोकी जा सकती है। ऐसे में परिवार जिनमें किसी को यह रोग पहले से है, तो फैमिली प्लानिंग करने से पहले डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में जनवरी 2020 से मई 2021 तक ओपीडी में आए रोगियों के रक्त जांच में 400 से अधिक लोगों में सिकल सेल के लक्षण मिले हैं।

View More...

कोरोना अपडेट : देश में बीते 24 घंटे में मिले 60हजार 753 नए कोरोना मरीज, वहीं कोरोना से 1 हजार 647 लोगों की गई जान

Date : 19-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर अब सुस्त पड़ने लगी है। पिछले एक हफ्ते से देश में कोरोना के दैनिक मरीजों की संख्या एक लाख से नीचे बनी हुई है। वहीं शनिवार को मरने वालों की संख्या में भी गिरावट दर्ज की गई है। बीते 24 घंटे में 60,753 नए कोरोना मरीज मिले हैं, जबकि 1,647 की जान गई। देश में एक्टिव केस घटकर 7,60,019 रह गए हैं। यह संख्या 74 दिन बाद सबसे कम है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी। 

भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 60,753 नए मामले सामने आए और 1,647 संक्रमितों की मौत हो गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में अब कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 74 दिनों बाद सबसे कम हैं। रिकवरी रेट बढ़कर 96.16 फीसद हो गया है और दैनिक पॉजिटिविटी रेट 2.98 फीसद है।

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 33,00,085 वैक्सीन लगाई गईं। इसके अलावा 97,743 लोग संक्रमण से स्वस्थ हुए। देश में महामारी से बचाव के लिए 16 जनवरी को वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत हुई थी। इसके तहत अब तक 27,23,88,783 खुराकें दी जा चुकी हैं।

अब तक देश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 2,98,23,546 है और मरने वालों की संख्या 3,85,137 है। सक्रिय मामलों की बात करें तो फिलहाल यहां 7,60,019 लोग संक्रमण से जूझ रहे हैं और 2,86,78,390 लोग अब तक कोरोना को मात दे चुके हैं।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार, भारत में कल कोरोना वायरस के लिए 19,02,009 सैंपल टेस्ट किए गए, कल तक कुल 38,92,07,637 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं।

View More...

कोरोना अपडेट : देश में बीते 24 घंटों में मिले 62 हजार नए कोरोना मरीज, वही 1587 लोगों की हुई मौत

Date : 18-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना के संक्रमण में लगातार कमी आ रही है। बीते 24 घंटों में देश में कोरोना के 62 हजार नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही अब देश में कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या भी घट रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 62,480 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान मौत के आंकड़े में गिरावट देखी गई है। बीते 24 घंटे में देशभर में 1587 लोगों की कोरोना संक्रमण के कारण मौत हुई है।

इसके साथ ही देश में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। बीते 24 घंटों में देशभर में कोरोना से 88,997 लोग रिकवर हुए। इसको मिलाकर अबतक देश में कुल 2 करोड़ 85 लाख 80 हजार 647 लोग ठीक हो चुके हैं। इससे कोरोना की रिकवरी दर बढ़कर 96.03 फीसद हो गई है। देश में कोरोना से सक्रिय मामले कम हो रहे हैं। बीते 24 घंटों में देश में कोरोना के 28,084 एक्टिव केस कम हुए हैं। इसके बाद अब देश में सिर्फ कोरोना के 7 लाख 98 हजार 656 सक्रिय मामले बचे हैं। भारत की कोरोना एक्टिव दर अभी 2.68% है।

देश में कोरोना के कुल केस की बात करें तो अब तक देश में 2 करोड़ 97 लाख 62 हजार 793 मामले सामने आ चुके हैं। भारत में कोरोना से अभी तक कुल 3,83,490 लोगों की मौत हो चुकी है। देश की कोरोना मृत्यु दर फिलहाल 1.29% है।

देशभर में गुरुवार 17 जून तक 26 करोड़ 89 लाख 60 हजार 399 कोरोना वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। बीते एक दिन में 32 लाख 59 हजार 3 टीके लगाए गए। देश में कोरोना की जांच की बात करें तो अबतक 38 करोड़ 71 लाख 67 हजार 696 कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं। बीते दिन करीब 19 लाख 29 हजार 476 कोरोना सैंपल टेस्ट किए गए।

View More...

कोरोना अपडेट : देश में पिछले 24 घंटे में मिले कोरोना के 67 हजार 208 नए मामले, वहीं 2330 लोगों ने गवाई अपनी जान

Date : 17-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत में पिछले 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के कुल 67 हजार 208 नए मामले दर्ज किए गए हैं जो कि बीते दिन की तुलना में ज्यादा हैं। हालांकि, लगातार दो दिनों से कोरोना के नए मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

राहत की बात यह है कि अब एक्टिव मामलों की संख्या 71 दिनों बाद अपने निचले स्तर पर है। देश में अब कोरोना के 8 लाख 26 हजार 740 सक्रिय मामले हैं। हालांकि, इस दौरान कोरोना ने 2,330 मरीजों की जान भी ले ली है। अभी तक देश में कोरोना से कुल 3,81,903 लोगों की जान चली गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक देश में कोरोना से कुल 2 करोड़ 84 लाख 91 हजार 670 लोग ठीक हुए हैं। इनमें से 1,03,570 मरीज बीते 24 घंटे में ठीक हुए हैं। लगातार 35वें दिन कोरोना के नए मामलों से ज्यादा संख्या इससे ठीक होने वालों की है।

देश में अब कोरोना से ठीक होने वालों की दर भी 95.93 प्रतिशत तक पहुंच गई है और साप्ताहित संक्रमण दर भी पांच फीसदी से नीचे हैं। वहीं, दैनिक संक्रमण दर 3.48 प्रतिशत पर है। कोरोना एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत का तीसरा स्थान है। कुल संक्रमितों की संख्या के मामले में भी भारत का दूसरा स्थान है। जबकि दुनिया में अमेरिका, ब्राजील के बाद सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है।

देश में अब तक कोरोना के 38.52 करोड़ सैंपल की जांच कई गई है। इनमें से 19 लाख 31 हजार 249 नमूने बीते 24 घंटे में जांचे गए हैं। इसके अलावा 26.55 करोड़ लोगों को वैक्सीन की खुराक भी दी गई है।

View More...

क्या आप भी हैं कब्ज की समस्या परेशान, तो करें नारियल तेल का उपयोग

Date : 16-Jun-2021

हेल्थ डेस्क (एजेंसी)। अगर आप कब्ज की समस्या से परेशान हैं तो ये खबर आपके काम आ सकती है. आज हम आपके लिए कब्ज का इलाज लेकर आए हैं. आयुर्वेद के अनुसार, नारियल का तेल कब्ज के लिए एक बहुत अच्छा प्राकृतिक उपचार है, क्योंकि यह उचित मात्रा में उपयोग किए जाने पर प्रभावी तरीके से काम करता है. यह कठोर मल को नरम कर सकता है. नारियल का तेल लिपिड से भरपूर होता है, जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है।

जाने माने आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार, नारियल के तेल में मध्यम मात्रा में फैटी एसिड होता है, जो आपके कोलन और पाचन तंत्र को लाइन करने वाली कोशिकाओं को उत्तेजित करने का काम करता है, जिससे इन कोशिकाओं की ऊर्जा और मेटाबॉलिक क्षमता बढ़ती है. यह आपकी पाचन दर में सुधार कर सकता है और अधिक पोषक तत्वों को अवशोषित कर सकता है।

डॉक्टर अबरार मुल्तानी कहते हैं कि नारियल का तेल आंत को चिकनाई देता है, जो शरीर की आसान गति में मदद करता है और कब्ज को रोकता है. नारियल का तेल मेटोबॉलिज्म को बढ़ा सकता है, जो बदले में शरीर से अतिरिक्त अपशिष्ट को निकालता है और कब्ज को रोकता है।

ऐसे करें उपयोग
डॉक्टर अबरार मुल्तानी कहते बताते हैं कि वर्जिन कोकोनट ऑयल कब्ज के लिए सबसे अच्छा माना जाता है. इस प्रकार का नारियल तेल ताजे नारियल के दूध से निकाला जाता है, जिन लोगों को अक्सर कब्ज की शिकायत रहती है, उनके लिए रोजाना एक या दो चम्मच नारियल तेल का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है।

क्या कहते हैं डॉक्टर
डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार कब्ज से तत्काल राहत के लिए नारियल तेल का सेवन करने के दो तरीके हैं. आप हर सुबह एक चम्मच वर्जिन नारियल का तेल का सेवन कर सकते हैं या आप इसे अपनी सुबह की कॉफी या एक गिलास जूस में मिला सकते हैं. नारियल का तेल सेवन करने के लिए सुरक्षित है और इसका कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं है. हालांकि अगर आपको कोई पुरानी बीमारी है या आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस घरेलू उपाय को आजमाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

View More...

वजन घटाने और आंखों के लिए बेहद लाभकारी सौंफ का पानी, ऐसे करें सेवन

Date : 16-Jun-2021

हेल्थ डेस्क (एजेंसी)। अगर आप मोटापे से परेशान हैं तो ये खबर आपके काम आ सकती है. हम आपके लेकर आए हैं सौंफ का पानी. अधिकतर लोग खाना खाने के बाद सौंफ (Fennel) खाना पसंद करते हैं, ताकि मुंह की बदबू को दूर भगाया जा सके. सौंफ सिर्फ माउथ फ्रेशनर का काम ही नहीं करता है, बल्कि इसे खाने से शरीर की कई समस्याएं भी दूर होती हैं. सौंफ का पानी पीने से गर्मी के दिनों में शरीर ठंडा रहता है और पेट की समस्याएं भी दूर होती है.

सौंफ में क्या पाया जाता है?
सौंफ एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो लगभग हर किचन में मौजूद होती है. सौंफ में काफी मात्रा में कैल्शियम, सोडियम, आयरन और पोटैशियम जैसे तत्व पाए जाते हैं. वहीं कई लोग गर्मियों में सौंफ का पानी पीते हैं. 

वजन घटाने में कारगर
जाने माने आयुर्वेद डॉ. अबरार मुल्तानी के अनुसार, सौंफ में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है, जिससे व्यक्ति को पेट भरा हुआ महसूस होता है. सौंफ में कैलोरी न के बराबर होती है. इससे वजन कम करने में मदद मिलती है. यह शरीर में फैट को जमने नहीं देती, जिससे मोटापे का जोखिम कम रहता है. सौंफ का पानी पीने से शरीर के टॉक्सिन बाहर निकल जाते हैं. शरीर का मेटाबॉलिज्म मजबूत होता है. अच्छा मेटाबॉलिज्म वजन कम करने में मददगार होता है।

ऐसे तैयार करें सौंफ का पानी

  1. रात में एक गिलास पानी में 2 चम्मच सौंफ और थोड़ी सी मिश्री भिगोकर रख दें. 
  2. सुबह इस पानी को छानकर पी लें. 
  3. ऐसा करने से कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है. 

सौंफ पानी के अन्य फायदे

  1. डॉ. अबरार मुल्तानी कहते हैं कि जिन लोगों को कब्ज की शिकायत होती है, उन्हें दिन में एक बार सैंफ का पानी जरूर पीना चाहिए. 
  2. सौंफ आंखों की रोशनी बढ़ाती है. यदि रोज सौंफ का पानी पिया जाए तो इससे आंखें हेल्दी रहती हैं और इनमें कोई इंफेक्शन भी नहीं होता.
  3. नियमित रूप से सौंफ का पानी पीने से गैस और एसिडिटी की समस्या दूर होती है. जिन्हें हमेशा अपच और कब्ज की शिकायत होती है, उन्हें सौंफ का पानी पीना चाहिए. 
  4. 10 ग्राम सौंफ के रस को शहद में मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन करने से भी खांसी ठीक हो सकती है. 
View More...

छत्तीसगढ़ में नियमित टीकाकरण : राज्य में अब बच्चों को अब निःशुल्क लगाया जाएगा पीसीवी वैक्सीन

Date : 16-Jun-2021

रायपुर। छत्तीसगढ़ में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के तहत बच्चों को अब न्युमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन (पीसीवी) निःशुल्क लगाया जाएगा। यह टीका बच्चों को न्युमोकोकल बैक्टीरिया से होने वाली निमोनिया, मस्तिष्क ज्वर, सेप्टीसिमिया, साइनुसाइटिस, ओटाइटिस मीडिया (कान का इन्फेक्शन) जैसी कई बीमारियों से बचाएगी।

शिशुओं को छह सप्ताह, 14 सप्ताह और नौ माह की आयु में इसकी तीन खुराकें दी जाएंगी। तीन डोज में लगने वाला यह टीका बाजार में काफी महंगे दामों में मिलता है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने आज एक वर्चुअल कार्यक्रम में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदेश में पीसीवी टीकाकरण का शुभारंभ किया।

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने कार्यक्रम में सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा विभाग के मैदानी अमले को संबोधित करते हुए कहा कि न्युमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन को नियमित टीकाकरण में शामिल करने से पांच वर्ष तक के बच्चों की न्युमोकोकल बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियों से रक्षा हो सकेगी। इससे प्रदेश में बाल मृत्यु दर को कम करने में भी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि पीसीवी की महंगे दर पर उपलब्धता के कारण आम लोगों तक इसकी पहुंच सीमित थी। अब नियमित टीकाकरण में शामिल होने से सभी बच्चों को इसे निःशुल्क लगाया जा सकेगा।

श्री सिंहदेव ने अपने संबोधन में कहा कि देश में पांच वर्ष से कम उम्र में जान गंवाने वाले बच्चों में से 13 प्रतिशत निमोनिया पीड़ित होते हैं। इनमें से भी 15 प्रतिशत बच्चों की मौत न्युमोकोकल निमोनिया से होती है। उन्होंने बताया कि देश में वर्ष 2010 में एक लाख पांच हजार और 2015 में 53 हजार बच्चों की मौत न्युमोकोकल निमोनिया से हुई हैं। श्री सिंहदेव ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से पीसीवी को अधिक से अधिक शिशुओं तक पहुंचाने कहा। उन्होंने नवजातों के माता-पिता को भी इस बारे में जागरूक करने कहा जिससे वे शिशु की उम्र के अनुसार इसकी निर्धारित खुराक समय पर बच्चों को दिलवा सकें।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला ने शुभारंभ कार्यक्रम में कहा कि पांच वर्ष तक के बच्चे न्युमोकोकल बैक्टीरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। पीसीवी से इन बच्चों को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में जैपनीज इन्सेफेलाइटिस के ज्यादा खतरों वाले जिलों में इससे बचाव का टीका भी नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया गया है। डॉ. शुक्ला ने बताया कि कोरोना महामारी के बावजूद पिछले वित्तीय वर्ष 2020-21 में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदेश के 94 प्रतिशत बच्चों का टीकाकरण किया गया है। उन्होंने सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा मैदानी अमले की पीठ थपथपाते हुए कहा कि मुश्किल समय में भी वे अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने नए टीकों को भी अधिक से अधिक बच्चों तक पहुंचाना सुनिश्चित करने कहा।

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अमर सिंह ठाकुर ने कार्यक्रम में सभी जिलों के अधिकारियों को न्युमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन के उपयोग, प्रभाव और सावधानियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस टीके को प्रदेश में हर साल करीब छह लाख 33 हजार बच्चों तक पहुंचाने का लक्ष्य है। वर्ष 2017 में भारत में यह टीका चरणबद्ध तरीके से पांच राज्यों में शुरू किया गया था। नियमित टीकाककरण कार्यक्रम में शामिल कर अब पूरे देश में इसका विस्तार किया जा रहा है।

View More...

कोरोना अपडेट : देश में बीते 24 घंटे में मिले 62 हजार 224 नए कोरोना मरीज, वहीं 2 हजार 542 मरीजों की गई जान

Date : 16-Jun-2021

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का डर अभी भी बाकी है। हालांकि राष्ट्रीय संक्रमण दर पहले के मुकाबले बहुत ज्यादा कम हो गई है लेकिन देश में कोरोना की वजह से होने वाली दैनिक मौतें अभी भी परेशानी का सबब बनी हुई हैं।

पिछले एक हफ्ते से कोरोना के दैनिक मामले एक लाख से कम दर्ज किए जा रहे हैं। वहीं राष्ट्रीय रिकवरी दर भी सुधरकर 90 फीसदी के ऊपर है। देश में कोरोना के दैनिक मामलों हल्की बढ़ोतरी देखी गई है। बीते 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस के 62,224 नए मामले सामने आए जबकि इसी दौरान 2,542 मरीजों ने जान गंवाई है। 1,07,628 नए डिस्चार्ज के बाद कुल डिस्चार्ज की संख्या 2,83,88,100 हुई। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 8,65,432 है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी डाटा के मुताबिक, रिकवरी रेट बढ़कर 95.80 फीसदी हो गई है। साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 5 फीसदी से कम होकर वर्तमान में 4.17 फीसदी है। दैनिक पॉजिटिविटी रेट 3.22 फीसदी है जो लगातार 9 दिनों से 5 फीसदी से कम है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक, भारत में कल कोरोना वायरस के लिए 19,30,987 सैंपल टेस्ट किए गए, कल तक कुल 38,33,06,971 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 28,00,458 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 26,19,72,014 हुआ।

View More...
Previous123456789...3132Next