Astrology

Previous123456789...4041Next

आज का राशिफल शनिवार 6 मार्च

Date : 06-Mar-2021

मेष- पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में चल रहा प्रयास फलीभूत होगा। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा।

वृष- अधीनस्थ कर्मचारी, मित्र या भाई के कारण तनाव मिल सकता है। वाणी पर संयम रखें। झगड़ा, विवाद से बचें। पिता या उच्च अधिकारी का सहयोग मिलेगा।

मिथुन- दांपत्य जीवन सुखमय होगा। आर्थिक योजना को बल मिलेगा। स्वास्थ्य एवं प्रतिष्ठा के प्रति सचेत रहने कीआवश्यकता है। पिता अथवा धर्म गुरु का सहयोग मिलेगा।

कर्क- आर्थिक पक्ष मजबूत होगा, लेकिन स्वास्थ्य गड़बड़ होगा। ननिहाल पक्ष से तनाव मिल सकता है। जीवनसाथी का सहयोग रहेगा एवं सानिध्य मिलेगा। वाणी पर संयम रखें।

सिंह- संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी। व्यावसायिक प्रयास फलीभूत होगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा।

कन्या- यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी, लेकिन सचेत रहें। पारिवारिक महिला के कारण तनाव भी मिल सकता है। गृह उपयोगी वस्तुओ में वृद्धि होगी। संयम से काम लें।

तुला- शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव तथा वर्चस्व में वृद्धि होगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।

वृश्चिक- आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। शिक्षा के क्षेत्र में किया गया प्रयास सार्थक होगा।

धनु- भावुकता में नियंत्रण रखें। व्यक्ति विशेष के कारण तनाव मिल सकता है। वाहन चलाते समय सावधानी रखें। वाणी पर संयम रखें। जीवनसाथी कासहयोग मिलेगा।

मकर- दांपत्य जीवन में तनाव आ सकता है। कुछ व्यावसायिक परेशानी रहेगी। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। बुद्धि कौशल से किया गया कार्य पूर्ण होगा।

कुंभ- शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में आशातीत सफलता मिलेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। मधुर संबंध बनेंगे।

मीन- गृह उपयोगी वस्तुओं में वृद्धि होगी। भागदौड़ रहेगी। महिला अधिकारी का सहयोग रहेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा।

View More...

आज का हिन्दू पंचांग

Date : 06-Mar-2021

 हिन्दू पंचांग 
 दिनांक 06 मार्च 2021
 दिन - शनिवार
 विक्रम संवत - 2077
 शक संवत - 1942
 अयन - उत्तरायण
 ऋतु - वसंत
 मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)
 पक्ष - कृष्ण
 तिथि - अष्टमी शाम 06:10 तक तत्पश्चात नवमी
 नक्षत्र - ज्येष्ठा रात्रि 09:38 तक तत्पश्चात मूल
 योग - वज्र शाम 06:10 तक तत्पश्चात सिद्धि
 राहुकाल - सुबह 09:53 से सुबह 11:21 तक
 सूर्योदय - 06:57
 सूर्यास्त - 18:43
 दिशाशूल - पूर्व दिशा में

 व्रत पर्व विवरण -
 विशेष - अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
 अष्टमी तिथि के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)

लक्ष्मी माँ की प्रसन्नता पाने हेतु 
 समुद्र किनारे कभी जाएँ तो दिया जला कर दिखा दें ...समुद्र की बेटी है लक्ष्मी ... समुद्र से प्रगति है ...समुद्र मंथन के समय.... अगर दिया दिखा कर " ॐ वं वरुणाय नमः " जपें और थोड़ा गुरु मंत्र जपें मन में तो वरुण भगवान भी राजी होंगे और लक्ष्मी माँ भी प्रसन्न होंगी ।

 तुलसी को पानी अर्पण से पुण्य 
 अपने घर में तुलसी का पौधा अवश्य लगाना चाहिए उसकी हवा से भी बहुत लाभ होते हैं और तुलसी को एक ग्लास पानी अर्पण करने से सवा मासा सुवर्ण दान का फल मिलता है ।

 बलवर्धक 
 २ से ४ ग्राम शतावरी का चूर्ण गर्म दूध के साथ ३ माह तक सेवन करें इससे शरीर में बल आता है, साथ ही नेत्र ज्योति भी बढ़ती है ।

View More...

आज का राशिफल गुरुवार 5 मार्च

Date : 05-Mar-2021

मेष- अधिकारी या घर के मुखिया का सहयोग मिलेगा। स्थानांतरण, विभागी परिवर्तन, नई नौकरी की दिशा में चल रहा प्रयास फलीभूत हो सकता है। नए संबंध बनेंगे।

वृष- ससुराल पक्ष का सहयोग रहेगा। महत्वाकांक्षा बढ़ेगी। महिला अधिकारी का सहयोग मिलेगा। धर्म गुरु या पिता से सहयोग मिल सकता है। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

मिथुन- रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे। विरोधी सक्रिय रहेगा। स्वास्थ्य के प्रति सचेतरहें। धन हानि की आशंका है। बुद्धि कौशल से किए गए कार्य में आशातीत सफलता मिलेगी।

कर्क- आर्थिक मामलों में सफलता मिलेगी। पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धन, यश, कीर्ति में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। रचनात्मक प्रयासों में सफलता मिलेगी।

सिंह- व्यावसायिक योजना फलीभूत होगी, लेकिन पारिवारिक महिला से तनाव मिल सकता है। स्वास्थ्य के प्रति उदासीन न रहें। शिक्षा के क्षेत्र में प्रयास फलीभूत होगा।

कन्या- शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी। भाई का सहयोग मिलेगा। व्यावसायिक मामलों में प्रगति होगी। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होगा। मधुर संबंध बनेंगे।

तुला- आर्थिक मामलों में सफलता मिलेगी। बुद्धि कौशल से किया गया कार्य सफल होगा। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

वृश्चिक- छोटी-छोटी बातों पर उत्तेजित न हों। कुछ पारिवारिक, कुछ व्यावसायिक तनाव मिल सकता है। रचनात्मक कायोर्ं में सफलता मिलेगी। वाणी पर संयम बनाए रखें।

धनु- पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। व्यय अधिक होगा। भावुकता में नियंत्रण रखें। अधिक उदारता कष्टदायी होगी।किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

मकर- शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। रचनात्मक कार्यों में सफलता मिलेगी।

कुंभ- रचनात्मक कार्यों में सफलता मिलेगी। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। जीवनसाथी का सहयोग रहेगा। रिश्तों में मधुरता आएगी। महिला अधिकारी से सहयोग मिल सकता है।

मीन- किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। नेत्र या उदर विकार के प्रति सचेत रहें। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक मामलों में प्रगति होगी। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।

View More...

आज का हिन्दू पंचांग

Date : 05-Mar-2021

हिन्दू पंचांग 
 दिनांक 05 मार्च 2021
 दिन - शुक्रवार
 विक्रम संवत - 2077
 शक संवत - 1942
 अयन - उत्तरायण
 ऋतु - वसंत
 मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)
 पक्ष - कृष्ण
 तिथि - सप्तमी रात्रि 07:54 तक तत्पश्चात अष्टमी
 नक्षत्र - अनुराधा रात्रि 10:38 तक तत्पश्चात ज्येष्ठा
 योग - हर्षण रात्रि 08:44 तक तत्पश्चात वज्र
 राहुकाल - सुबह 11:22 से दोपहर 12:50 तक
 सूर्योदय - 06:57
 सूर्यास्त - 18:43
 दिशाशूल - पश्चिम दिशा में

 व्रत पर्व विवरण -
 विशेष - सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है था शरीर का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

 घर में सुख-सम्पति लाने के लिए 
 गाय के दूध के दही में थोडा जौ और तिल मिला दें | फिर उससे रगड़-रगड़कर
 “ॐ लक्ष्मीनारायणाय नम: ॐ लक्ष्मीनारायणाय नम: |” जप करके स्नान करें |

 श्रद्धा -भक्ति बढ़ाने हेतु 
 गीता के १२ वें अध्याय का दूसरा (२) और बीसवां (२०) श्लोक .. केवल दो श्लोक का पाठ कर के... भगवद गीता हाथ में रख कर..हम शुभ संकल्प करें कि " हे भगवन ! आप ने ये दो श्लोकों में जो परम श्रद्धा की बात बताई है वो हमारी हमारे गुरु चरणों में हो जाये " तो वो वचन भगवन के हैं ...भगवान सत्स्वरूप हैं तो उनके वचन भी सत है और हम उन वचनों का पाठ कर के संकल्प करें तो जो सचमुच अपने गुरु में श्रद्धा भक्ति बढ़ाना चाहते हैं उनका संकल्प भी ऐसा ही हो जाएगा ।

 शोल्क :-
मय्यावेश्य मनो ये मां नित्ययुक्ता उपासते।
श्रद्धया परयोपेतास्ते मे युक्ततमा मताः।।2।।
 श्री भगवान बोलेः मुझमें मन को एकाग्र करके निरन्तर मेरे भजन-ध्यान में लगे हुए जो भक्तजन अतिशय श्रेष्ठ श्रद्धा से युक्त होकर मुझ सगुणरूप परमेश्वर को भजते हैं, वे मुझको योगियों में अति उत्तम योगी मान्य हैं।(2)
 ये तु धर्म्यामृतमिदं यथोक्तं पर्युपासते।
श्रद्दधाना मत्परमा भक्तास्तेऽतीव मे प्रियाः।।20।।
 परन्तु जो श्रद्धायुक्त पुरुष मेरे परायण होकर इस ऊपर कहे हुए धर्ममय अमृत को निष्काम प्रेमभाव से सेवन करते हैं, वे भक्त मुझको अतिशय प्रिय हैं।(20)

 उम्र बढाने हेतु 
 स्कन्द पुराण में आया है कि भोजन करते समय ५ अंग धोकर जो भोजन करता है उसकी उम्र १०० साल की होती हैं ... उसकी आयु बढ़ती है ५ अंग ...२ हात ....२ पैर... और मुंह धोकर भोजन करने बैठें ।

View More...

आज का राशिफल गुरुवार 4 मार्च

Date : 04-Mar-2021

मेष- पारिवारिक समस्या से ग्रसित हो सकते हैं। यात्रा देशाटन की स्थिति आ सकती है। वाहन चलाते समय सावधानी रखें। संयम बनाए रखें। जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी।

वृष- व्यावसायिक मामलों में जोखिम न उठाएं। दांपत्य जीवन सुखमय होगा। पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य रहेगा। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

मिथुन- रोग और शत्रु हावी हो सकते हैं। व्यावसायिक मामलों में जोखिम न उठाएं। अपनों से पीड़ा मिलसकती है। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होगा। किया गया पुरुषार्थ फलदायी होगा।

कर्क- बुद्धि कौशल से किया गया कार्य संपन्न होगा। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। नेत्र या उदर विकार के प्रति सचेत रहें।

सिंह- जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक कार्य में व्यस्त रहेंगे। कुछ पारिवारिक परेशानी भी मिलेगा। राजनैतिक महात्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। नए संबंध बनेंगे।

कन्या- उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। मैत्री संबंध प्रगाढ़ होंगे। रिश्तों मे मधुरता आएगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक और व्यावसायिक मामलों में सफलता मिलेगी।

तुला- व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक योजना को बल मिलेगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव तथा वर्चस्व में वृद्धि होगी। सामाजिक कार्यों में रुचि लेंगे।

वृश्चिक- शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीवनसाथी से मतभेद हो सकता है। वाणी पर संयम रखें। किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

धनु- यात्रा देशाटन की स्थिति सुखद होगी। संतान के कारण तनाव मिल सकता है। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। शिक्षाप्रतियोगिता के क्षेत्र में किया गया प्रयास सार्थक होगा।

मकर- किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। कर्मक्षेत्र में व्यवधान आ सकता है। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। संयम से काम लेना हितकर होगा।

कुंभ- रचनात्मक प्रयास फलीभूत होगा। शासन सत्ता से सहयोग लेने में सफल होंगे। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

मीन- भाग्यवश सुखद समाचार मिलेगा। व्यावसायिक मामलों में सफलता मिलेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। किया गया पुरुषार्थ फलीभूत होगा।

View More...

आज का हिन्दू पंचांग

Date : 04-Mar-2021

हिन्दू पंचांग 
 दिनांक 04 मार्च 2021
 दिन - गुरुवार
 विक्रम संवत - 2077
 शक संवत - 1942
 अयन - उत्तरायण
 ऋतु - वसंत
 मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)
 पक्ष - कृष्ण
 तिथि - षष्ठी रात्रि 09:58 तक तत्पश्चात सप्तमी
 नक्षत्र - विशाखा रात्रि 11:58 तक तत्पश्चात अनुराधा
 योग - व्याघात रात्रि 11:35 तक तत्पश्चात हर्षण
 राहुकाल - दोपहर 02:19 शाम 03:47 तक
 सूर्योदय - 06:57
 सूर्यास्त - 18:43
 दिशाशूल - दक्षिण दिशा में

 व्रत पर्व विवरण -
 विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

 बाल बढ़ाने के लिए 
 पहला प्रयोगः स्नान के समय तिल के पत्तों का रस लगाने से, मुलहठी, आँवला या भृंगराज का तेल लगाने से, करेले की जड़ अथवा मेथी को पानी में घिसकर लगाने से, निबौली का तेल लगाने से बाल बढ़ते हैं।
 दूसरा प्रयोगः बड़ की पुरानी जटाओं को नींबू के रस में घिसकर अच्छे से लेप करें। आधे घण्टे पश्चात् बाल धो डालें। फिर नारियल का तेल लगायें। ऐसा तीन दिन करने से बालों का झड़ना बंद होता है। बाल लंबे, काले तथा मजबूत होते हैं।

 धन – सम्पदा के स्थायी निवास हेतु 
➡ ॐ ह्रीं गौर्यै नम:
 इस मंत्र से ७ बार अभिमंत्रित करके अन्न का भोजन करनेवाले के पास सदा श्री ( धन–सम्पदा ) बनी रहती है | (अग्नि पुराण :३१३.१९,२४ )

 घर के सदस्य की मृत्यु पर 
 अगर घर में किसी की मृत्यु हो गई हो तो रोज 12 दिन तक घर की छत पे एक कटोरी में दूध और एक कटोरी में पानी रख के आयें दूसरे दिन सुबह वो पानी और दूध पीपल के मूल में ड़ाल दें ऐसा 12 दिन करने से जिसकी मृत्यु हुई है उसकी आत्मा को शान्ति मिलती है उनका आशीर्वाद घर वालों को मिलता है ।

View More...

आज का हिन्दू पंचांग

Date : 03-Mar-2021

 हिन्दू पंचांग 
 दिनांक 03 मार्च 2021
 दिन - बुधवार
 विक्रम संवत - 2077
 शक संवत - 1942
 अयन - उत्तरायण
 ऋतु - वसंत
 मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)
 पक्ष - कृष्ण
 तिथि - पंचमी रात्रि 12:21 तक तत्पश्चात षष्ठी
 नक्षत्र - स्वाती 04 मार्च रात्रि 01:36 तक तत्पश्चात विशाखा
 योग - ध्रुव 04 मार्च रात्रि 02:41 तक तत्पश्चात व्याघात
 राहुकाल - दोपहर 12:51 से दोपहर 02:19 तक
 सूर्योदय - 06:58
 सूर्यास्त - 18:42
 दिशाशूल - उत्तर दिशा में

 व्रत पर्व विवरण -
 विशेष - पंचमी को बेल खाने से कलंक लगता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

 सिर में जूँ एवं लीख 
 पहला प्रयोगः निबौली, सरसों कि तेल लगाने से अथवा अरीठे का फेन लगाने से जूँ और लीखें मर जाती हैं।
 दूसरा प्रयोगः तुलसी के पत्ते पीसकर सिर पर लगा लें। तदुपरांत सिर पर कपड़ा बाँध लें। सारी जुएँ मरकर कपड़े से चिपक जाएँगी। दो-तीन बार लगाने से ही सारी जुएँ साफ हो जायेंगी।

 लक्ष्मी की चाहवाले किनसे बचें 
 भगवान श्रीहरि कहते हैं : “जो अशुद्ध ह्रदयवाला, क्रूर, हिंसक, दूसरों की निंदा करनेवाला होता है, उसके घर से भगवती लक्ष्मी चली जाती हैं |
 जो नखों से निष्प्रयोजन तिनका तोड़ता है अथवा नखों से भूमि को कुरेदता रहता है उसके घर से मेरी प्रिय लक्ष्मी चली जाती हैं |
 जो सूर्योदय के समय भोजन, दिन में शयन तथा दिन में मैथुन करता है उसके यहाँ से मेरी प्रिया लक्ष्मी चली जाती हैं |” (श्रीमद् देवी भागवत )

 मृत्यु के समय 
 मरते समय भी गौ के गोबर का लेप करके मुर्दे को रखो ..उसकी सद्गति होगी | मरते समय जो मर जा रहे हैं उनके मुँह में तुलसी के पत्ते रखो | गाय के गोबर के कंडे का धुआं करो तो उसके बैक्टेरिया दूसरे को नहीं सताएँगे |

View More...

आज का राशिफल बुधवार 3 मार्च

Date : 03-Mar-2021

मेष- दैनिक कार्य में सफलता मिलेगी। विरोधी परास्त होगा। शासन सत्ता से सहयोग लेने में सफलता मिलेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। रचनात्मक कार्यों में सफलता मिलेगी।

वृष- किसी पड़ोसी या अधीनस्थ कर्मचारी से तनाव मिल सकता है। मौसम के रोग के प्रति सचेत रहें। मन अशांत रहेगा। वाणी पर संयम रखें। रचनात्मक कार्यों में मन लगाएं।

मिथुन- उत्तेजना पर नियंत्रण करें। संतान के दायित्व की पूर्तिहोगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में आशातीत सफलता मिलेगी। संयम से काम लें। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा।

कर्क- गृह कार्य में व्यस्त हो सकते हैं। पारिवारिक महिला से तनाव मिलेगा। ऐसा कोई कार्य न करें जिससे प्रतिष्ठा प्रभावित हो। संयम से काम लें। रचनात्मक कार्यों में मन लगाएं।

सिंह- किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। व्यावसायिक मामलों में प्रगति होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। आपसी संबंध मधुर बनेंगे।

कन्या- संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में चल रहा प्रयास सार्थक होगा। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा।

तुला- व्यावसायिक सफलता मिलेगी। भावुकता में नियंत्रण रखें। व्यर्थ की भागदौड़ रहेगी। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। बुद्धि कौशल से किया गया कार्य सफलता देगा।

वृश्चिक- पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी, लेकिन शाही खर्च पर नियंत्रण करना होगा। स्वास्थ्य एवं प्रतिष्ठा के प्रति सचेत रहें। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

धनु- उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। रिश्तों मेंमधुरता आएगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। गृह कार्य में व्यस्त हो सकते हैं। किया गया पुरुषार्थ फलीभूत होगा।

मकर- जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। महिला अधिकारी का सहयोग मिलेगा। व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। व्यर्थ की भागदौड़ रहेगी। जीविका के क्षेत्र में आशातीत प्रगति होगी।

कुंभ- स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। बहुप्रतिक्षित कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव तथा वर्चस्व में वृद्धि होगी। आर्थिक मामलों में आशातीत प्रगति होगी।

मीन-  रचनात्मक कार्यों में सफलता मिलेगी। धन, सम्मान, यश, कीर्ति में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

View More...

आज का राशिफल मंगलवार 2 मार्च

Date : 02-Mar-2021

मेष- दांपत्य जीवन सुखमय होगा। व्यावसायिक मामलों में सुधार होगा। सहयोगियों से सहयोग मिलेगा। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा।

वृष- भावुकता में नियंत्रण रखें। लापरवाही में किया गया कार्य किसी तरह की भी दुर्घटना दे सकता है। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

मिथुन- आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। बुद्धि कौशल से किया गया कार्य संपन्न होगा। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में आशातीत सफलता मिलेगी।जीविका के क्षेत्र में आशातीत प्रगति होगी।

कर्क- पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में चल रहा प्रयास फलीभूत होगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा।

सिंह- व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीवनसाथी का सहयोग रहेगा। विरोधी सक्रिय रहेगा। संतान या शिक्षा के कारण चिंतित रहेंगे। बुद्धि कौशल से किए गए काम में सफलता मिलेगी।

कन्या- आर्थिक योजना फलीभूत होगी। पिता या धर्म गुरु से मतभेद हो सकते हैं। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। जीवनसाथी का सहयोग एवं सानिध्य मिलेगा।

तुला- आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। शासन सत्ता का सहयोग रहेगा। पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। सामाजिक कार्यों में दखल बढ़ेगा।

वृश्चिक- दांपत्य जीवन में मतभेद हो सकते हैं। उदासीनता कष्टकारी होगी। पारिवारिक कार्यों में व्यस्त रहेंगे। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

धनु- स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। किया गया पुरुषार्थ सार्थक होगा। दूसरे से सहयोग लेने में सफलता मिलेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। जीविका केक्षेत्र में प्रगति होगी।

मकर- स्वास्थ्य में सुधार होगा। व्यावसायिक प्रयास फलीभूत होगा। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।

कुंभ- व्यर्थ की कार्यों में व्यस्त रहेंगे। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। अहंकार कष्टकारी हो सकता है। वाणी पर संयम रखें जिससे परिवार और व्यवसाय प्रभावित न हो।

मीन- व्यर्थ की भागदौड़ रहेगी। दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप न करें और न ही अपने कार्यों में किसी का हस्तक्षेप स्वीकार करें। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा।

View More...

आज का हिन्दू पंचांग

Date : 02-Mar-2021

हिन्दू पंचांग 

 दिनांक 02 मार्च 2021
 दिन - मंगलवार
 विक्रम संवत - 2077
 शक संवत - 1942
 अयन - उत्तरायण
 ऋतु - वसंत
 मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)
 पक्ष - कृष्ण
 तिथि - चतुर्थी 03 मार्च प्रातः 03:00 तक तत्पश्चात पंचमी
 नक्षत्र - हस्त 03 मार्च प्रातः 03:29 तक तत्पश्चात स्वाती
 योग - गण्ड सुबह 09:26 तक तत्पश्चात वृद्धि
 राहुकाल - शाम 03:47 से शाम 05:15 तक
 सूर्योदय - 06:59
 सूर्यास्त - 18:42
 दिशाशूल - उत्तर दिशा में

 व्रत पर्व विवरण - अंगारकी-मंगलवारी चतुर्थी (सूर्योदय से 03 मार्च प्रातः 03:00 तक), संकष्ट चतुर्थी (चन्द्रोदय रात्रि 09:58)
 विशेष - चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

 मंगलवारी चतुर्थी 
 मंत्र जप व शुभ संकल्प की सिद्धि के लिए विशेष योग
 मंगलवारी चतुर्थी को किये गए जप-संकल्प, मौन व यज्ञ का फल अक्षय होता है ।
 मंगलवार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना ... जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है...

 मंगलवारी चतुर्थी 
 अंगार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना …जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है…
 > बिना नमक का भोजन करें
 > मंगल देव का मानसिक आह्वान करो
 > चन्द्रमा में गणपति की भावना करके अर्घ्य दें
 कितना भी कर्ज़दार हो ..काम धंधे से बेरोजगार हो ..रोज़ी रोटी तो मिलेगी और कर्जे से छुटकारा मिलेगा |

 कोई कष्ट हो तो 
 हमारे जीवन में बहुत समस्याएँ आती रहती हैं, मिटती नहीं हैं ।, कभी कोई कष्ट, कभी कोई समस्या | ऐसे लोग शिवपुराण में बताया हुआ एक प्रयोग कर सकते हैं कि, कृष्ण पक्ष की चतुर्थी (मतलब पुर्णिमा के बाद की चतुर्थी ) आती है | उस दिन सुबह छः मंत्र बोलते हुये गणपतिजी को प्रणाम करें कि हमारे घर में ये बार-बार कष्ट और समस्याएं आ रही हैं वो नष्ट हों |
 

छः मंत्र इस प्रकार हैं –
 ॐ सुमुखाय नम: : सुंदर मुख वाले; हमारे मुख पर भी सच्ची भक्ति प्रदान सुंदरता रहे ।
 ॐ दुर्मुखाय नम: : मतलब भक्त को जब कोई आसुरी प्रवृत्ति वाला सताता है तो… भैरव देख दुष्ट घबराये ।
 ॐ मोदाय नम: : मुदित रहने वाले, प्रसन्न रहने वाले । उनका सुमिरन करने वाले भी प्रसन्न हो जायें ।
 ॐ प्रमोदाय नम: : प्रमोदाय; दूसरों को भी आनंदित करते हैं । भक्त भी प्रमोदी होता है और अभक्त प्रमादी होता है, आलसी । आलसी आदमी को लक्ष्मी छोड़ कर चली जाती है । और जो प्रमादी न हो, लक्ष्मी स्थायी होती है ।
 ॐ अविघ्नाय नम:
 ॐ विघ्नकरत्र्येय नम:

View More...
Previous123456789...4041Next