Chhattisgarh

Previous123456789...601602Next

राज्य सरकार आदिवासियों के हकों और हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री बघेल

Date : 28-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्य सरकार आदिवासियों के हकों और हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार आदिवासी समाज को उनके संवैधानिक और कानूनी अधिकार देने के लिए हर संभव कदम उठा रही है। आदिवासी समाज से जुड़ी समस्याओं के निदान के लिए राज्य सरकार ने मंत्रिमण्डलीय उप समिति एवं मुख्य सचिव की अध्यक्षता में संबंधित विभागों के सचिवों की उच्च स्तरीय कमेटी गठित की गई है। सचिवों की उच्च स्तरीय कमेटी आदिवासी समाज के प्रतिनिधियों एवं प्रमुखों से सामाजिक, शैक्षणिक एवं आर्थिक विकास के साथ-साथ आदिवासी समाज के संवैधानिक हितों के संरक्षण के लिए विचार-विमर्श कर अपनी रिपोर्ट मंत्रिमण्डलीय उप समिति को प्रस्तुत करेगी। मंत्रिमंडलीय उप समिति यह रिपोर्ट केबिनेट में प्रस्तुत करेगी।

मुख्यमंत्री आज शाम यहां अपने निवास कार्यालय में राजनांदगांव, धमतरी, बालोद, गरियाबंद और महासमुंद जिले से आए आदिवासी समाज के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा कर रहे थे। ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री विभिन्न जिलों के आदिवासी समाज के प्रतिनिधियों को मुख्यमंत्री निवास में आमंत्रित कर उनसे सीधे संवाद करके राज्य सरकार की योजनाओं की मैदानी स्थिति की जानकारी, अंतिम व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुंच रहा है या नहीं, योजनाओं के क्रियान्वयन में यदि कोई समस्या आ रही है, तो इसकी जानकारी ले रहे हैं। साथ ही वे आदिवासी समाज के लोगों से यह भी पूछ रहे हैं कि समाज के हित में और कौन-कौन से कार्य करने की आवश्यकता है। इसी कड़ी में आज पांच जिलों से आए आदिवासी समाज के लोगों से मुख्यमंत्री विचार-विमर्श किया। इसके पहले बस्तर संभाग के 7 जिले से आदिवासी समाज और अन्य पिछड़ा वर्ग समाज के लोग मुख्यमंत्री निवास आ चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि मंडल को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार का यह प्रयास है कि आदिवासी समाज सहित सभी लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के बेहतर से बेहतर अवसर उपलब्ध हों और छत्तीसगढ़ की संस्कृति आगे बढ़े, और अधिक समृद्ध हो। उन्होंने कहा कि सामाजिक संगठन अपने समाज के अधिक से अधिक लोगों को राज्य शासन की योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि सामाजिक संगठन अपनी बैठकों में वन अधिकार मान्यता पत्रों के वितरण के विषय को चर्चा के प्रमुख बिन्दु के रूप में शामिल करें और समाज के लोगों से यह जानकारी लें कि उन्हें वन अधिकार पट्टे मिले हैं या नहीं यदि पट्टे नहीं मिले हैं तो इसके लिए संबंधित एसडीएम कार्यालय में आवेदन जमा कराए जाएं। श्री बघेल ने कहा कि आदिवासी अंचलों में बारहमासी नदी-नाले तो हैं लेकिन इन क्षेत्रों के 85 विकासखण्डों में सिंचाई का प्रतिशत कम है। राज्य सरकार द्वारा नदी-नालों में वाटर रि-चार्जिंग के लिए नरवा योजना का संचालन वन विभाग के माध्यम से किया जा रहा है। इस योजना का अधिक से अधिक लाभ लेने की पहल भी समाज द्वारा की जानी चाहिए। ऐसे नदी-नाले जहां वाटर रि-चार्जिंग करनी है, वहां के प्रस्ताव दिए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बड़े बांध बनाने से जंगल और आदिवासियों की जमीन डूब क्षेत्र में आ जाती है, लेकिन इसकी जगह पर यदि नरवा योजना के कार्य कराए जाते हैं तो उस क्षेत्र में न सिर्फ सिंचाई की सुविधा मिलेगी, बल्कि भू-जल स्तर भी बढ़ेगा। वन और जमीन भी सुरक्षित रहेगी।

श्री बघेल ने मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना की जानकारी देते हुए बताया कि यदि ग्राम पंचायतें अपने पंचायत क्षेत्र की शासकीय भूमि पर वृक्षारोपण कराती है और उनकी देखभाल करती है तो ग्राम पंचायतों को भी तीन वर्ष तक 10 हजार रूपए प्रति एकड़ के मान से प्रोत्साहन राशि मिलेगी। इस योजना का ग्राम पंचायतें अधिक से अधिक लाभ लेकर अपनी आय में वृद्धि कर सकती हैं। इस योजना में फलदार वृक्ष लगाने जाने चाहिए, जिससे आय में आय में और अधिक वृद्धि होगी। जाति प्रमाण पत्र की प्रक्रिया के सरलीकरण की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि पिता के पास जाति प्रमाण पत्र हैं तो उनके बच्चों को भी जाति प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं। स्कूलों में कैम्प लगाकर बच्चों के जाति प्रमाण पत्र बनाए जा रहे हैं। यदि किसी के पास प्रमाण स्वरूप कोई दस्तावेज नहीं है तो ग्राम पंचायतों के प्रस्ताव के आधार पर भी जाति प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से आदिवासियों सहित किसान, मजदूर, महिलाओं और गरीबों की आय में वृद्धि का प्रयास कर रही है। इस संदर्भ में उन्होंने कर्ज माफी, 2500 रूपए प्रति क्विंटल पर धान खरीदी, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि भूमिहीन कृषि मजदूरों के लिए भी राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना प्रारंभ की जा रही है। इस योजना के अंतर्गत प्रति वर्ष मजदूर परिवार को 6 हजार रूपए की राशि दी जाएगी। उन्होंने बताया कि एक सितम्बर से 30 नवम्बर तक इस योजना का फार्म भरे जा रहे हैं। समाज के लोग सभी पात्र लोगों से इस योजना के लिए आवेदन दिलाने का कार्य प्राथमिकता से करें।

उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य पर खरीदी जाने वाली लघु वनोपजों की संख्या 7 से बढ़ाकर 52 कर दी गई है। तेन्दूपत्ता संग्रहण दर 2500 रूपए से बढ़ाकर 4000 रूपए प्रति मानक बोरा कर दिया गया है। पहली बार कोदो-कुटकी, रागी का समर्थन मूल्य घोषित किया गया है। इन फसलों को खरीफ की फसलों के साथ राजीव गांधी किसान न्याय योजना में शामिल किया गया है। आय बढ़ाने के लिए तेलघानी बोर्ड गठित किया गया है, इससे गांव-गांव में तेल पेराई के लिए मशीन लगाने के लिए सहायता दी जाएगी। जिससे तिलहन फसलों- सरसों, अलसी सहित टोरा, नीम, करंज का तेल निकाला जा सकेगा और लोगों को आय का एक नया जरिया मिलेगा। छत्तीसगढ़ के तीज-त्यौहारों- हरेली, पोरा-तीजा, विश्व आदिवासी दिवस मुख्यमंत्री निवास में मनाया जा रहा है। इससे हमारे त्यौहारों को सम्मान मिला है। इस अवसर पर संसदीय सचिव द्वारिकाधीश यादव, इन्द्रशाह मंडावी, कुंवर सिंह निषाद, शिशुपाल सोरी, विधायक किस्मतलाल नंद, भुवनेश्वर बघेल, अमितेष शुक्ल ने भी प्रतिनिधि मंडल को सम्बोधित किया।

View More...

राजधानी रायपुर पहुंचे शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज, सीएम बघेल ने किए दर्शन

Date : 28-Sep-2021
रायपुर। पुरी पीठाधीश्वर गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज इन दिनों राजधानी रायपुर प्रवास पर है। इस दौरान यहां मीडिया से चर्चा करते हुए  स्वामी निश्चलानंद ने कहा कि धर्मांतरण में विदेशी तंत्र की सहभागिता है. उन्होंने कहा कि सनातन धर्म के आगे कोई टिक नहीं सकता है. उन्होंने ये भी कहा कि अगर किसी समस्या के कारण धर्मांतरण हो रहा है तो सामाजिक और राजनीतिक संस्थानों की ओर से उसका हल क्यों नहीं किया जा रहा।
 
 
बता दे कि महाराज के प्रवास कार्यक्रम के अंतर्गत रविवार से संगोष्ठी का आयोजन किया गया है वही संगोष्ठी में धर्मांतरण के विषय में स्थिति स्पष्ट करते हुए महाराज ने उपस्थित श्रद्धालु भक्त वृद्धों से धर्म राष्ट्र एवं जाति से संबंधित जिज्ञासाओं का समाधान किया।
 
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया स्वामी जी का दर्शन
 
स्वामी शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती महाराज के आगमन पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार शाम राजधानी रायपुर स्थित सुदर्शन संस्था नाम में गोवर्धन मठ पुरी पीठाधीश्वर गुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के दर्शन कर उनका आशीर्वाद ग्रहण किया और महाराज के उपदेशों का श्रवण भी किया।
 

इस दौरान उन्होंने कहा कि प्रदेश में शासन तंत्र की दिशाहीन व दूरदर्शिता  के कारण हिंदुओं को धर्मच्युत किया जाता है। वर्तमान में एटम बम मोबाइल तथा कम्प्यूटर युग में भी दार्शनिक व्यवहारिक एवं वैज्ञानिक धरातल पर सनातन धर्म सर्वोत्कृष्ट है। यह कटु सत्य है कि हिंदुओं के धन का उपयोग हिंदुओं के धर्मांतरण में किया जाता है ,धर्मांतरण के मूल कारणों का निवारण आवश्यक है।

उन्होंने कहा कि हमारे सनातन धर्म में कुटीर व लघु उद्योग रोजगार के पारंपरिक स्त्रोत है।  सनातन धर्म में किसी भी व्यक्ति को फल से वंचित नहीं रखा गया है।  सनातन वर्णाश्रम व्यवस्था में शिक्षा रक्षा अर्थ और सेवा के प्रकल्प में संतुलन रहता है ,परंतु आधुनिक युग में ऐसी कोई विधा उपलब्ध नहीं है
View More...

आकाशीय बिजली गिरने से एक ही परिवार के 3 लोगों की दर्दनाक मौत

Date : 28-Sep-2021

 बलरामपुर रामानुजगंज। बलरामपुर जिले के दुपपी गांव में आकाशीय बिजली गिरने से एक ही परिवार के 3 लोगों कि दर्दनाक मौत हो गई है। इस दर्दनाक घटना के बाद पुरे गांव में मातम पसरा हुआ है गांव में हर किसी कि आंखे नम हो गई है।

जानकारी के मुताबिक सभी लोग खेत में काम कर रहे थे। इसी दौरान तेज बारिश होने के कारण सभी पेड़ के नीचे खड़े हुए थे तभी अचानक तेज धमाके के साथ आकाशीय बिजली गिरी थी,मृतकों में दो बच्चे भी शामिल हैं।

आज मृतकों के अंतिम संस्कार के दौरान शोकाकुल परिवार को सांत्वना देने संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज पहुंचे हुए थे। कल रविवार को शाम को अचानक मौसम बदलते ही चमक गरज के साथ तेज बारिश होने लगी शाम 7 बजे राजपुर क्षेत्र के ग्राम पंचायत दुपपी में आकाशीय बिजली का कहर टुट पड़ा, तेज धमाके के साथ आकाशीय बिजली गिरी जिसमें एक ही परिवार के 3 लोगों कि दर्दनाक मौत हो गई जिले में कल रात आकाशीय बिजली गिरने से कुल 4 लोगों कि जान चली गई है साथ ही 2 लोग गंभीर रूप से घायल हैं जिनका उपचार चल रहा है।

 

View More...

15 बंदरों की हत्या मामले में कबीरधाम पुलिस ने तीन आरोपी को किया गिरफ्तार

Date : 28-Sep-2021

कवर्धा । जिला कबीरधाम में एक बार फिर पुलिस द्वारा बंदरो की हत्या मामले को सुलझाने में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है विगत दिनों पहले कवर्धा के पिपरिया धरमपुरा कोठार में 15 बंदरों की हत्या कर दिया गया था. जिसको लेकर पुलिस जांच में जुटी हुई थी इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

साथ ही 2 एयर गन भी बरामद कर लिया गया है जिसके साथ ही बड़ी मात्रा में छल्ला भी बरामद किया गया है आरोपी मंगतू पारदी, लखन पारदी और सियाराम यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसमे वन्य प्राणी सरंक्षण अधिनियम 1972 की तहत कार्यवाही किया जा रहा है साथ ही 5 से 7 वर्ष और जुर्माना होने की बात कही जा रही है।

 

View More...

सीएम बघेल ने शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती के किए दर्शन

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज शाम राजधानी रायपुर के रावांभाटा स्थित सुदर्शन संस्थानम में गोवर्धनमठ पुरी पीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती के दर्शन कर उनका आशीर्वाद ग्रहण किया। मुख्यमंत्री ने उनके उपदेश का श्रवण भी किया।

जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती सुदर्शन संस्थानम् में आयोजित 2 दिवसीय प्रांतीय संगोष्ठी एवं सत्संग समारोह में शामिल होने के लिए रायपुर आए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चर्चा के दौरान शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती को छत्तीसगढ़ में गौवंश संरक्षण एवं संवर्धन के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि गोधन न्याय योजना के तहत गोबर खरीदी कर गौठानों में महिला स्वसहायता समूहों द्वारा गोबर से वर्मी कम्पोस्ट बनाया जा रहा है, जिसका किसान भी स्वप्रेरणा से खेतों में उपयोग कर रहे हैं। इससे छत्तीसगढ़ जैविक खेती की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि अब राज्य सरकार की योजना गोबर से बिजली बनाने की है। इसकी संभावनाओं का अध्ययन किया जा रहा है। शंकराचार्य स्वामी निश्चलानन्द सरस्वती ने इन कार्यों की सराहना की। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, बिलासपुर विधायक शैलेष पांडेय, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल उपस्थित थे।

View More...

छत्तीसगढ़ योग आयोग के दूसरे नियमित निःशुल्क योगाभ्यास केन्द्र का शुभारंभ

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। छत्तीसगढ़ योग आयोग के दूसरे नियमित निःशुल्क योगाभ्यास केन्द्र का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा शामिल हुए। कार्यक्रम की अध्यक्षता वार्ड पार्षद उमा चन्द्रहास निर्मलकर ने की। बोरियाखुर्द के शासकीय प्राथमिक शाला भवन परिसर में आयोजित निःशुल्क नियमित योगाभ्यास कक्षा के पहले दिन 150 से अधिक लोगों ने योगाभ्यास किया।

योगाभ्यास में बच्चे, वयस्क, वृद्धजन, महिलाएं सहित सभी वर्ग के लोगों ने उत्त्साह दिखाया। इस अवसर पर आयोग के सचिव एम.एल. पांडेय, योग प्रशिक्षकगण सहित योग आयोग के कर्मचारी उपस्थित थे। अब वार्ड में योग प्रशिक्षक लच्छुराम निषाद के द्वारा प्रतिदिन प्रातः 6 से 7 बजे तक निःशुल्क योगाभ्यास सिखाया जाएगा, जिसमे सभी नागरिक भाग ले सकते है।

View More...

शासकीय छात्रावासों का सभी कलेक्टर व एसपी करें निरीक्षण : मुख्यमंत्री बघेल

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जशपुर जिले के छात्रावास में घटी अप्रिय घटना पर कड़ा रुख अपनाते हुए सभी जिले के कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को अपने जिले के अंतर्गत समस्त छात्रावासों के समय समय पर आकस्मिक निरीक्षण के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों को शासकीय छात्रावासों के निरीक्षण के लिए जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास सहित अन्य वरिष्ठ जिला स्तरीय अधिकारियों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए हैं। निरीक्षण के दौरान निरीक्षणकर्ता अधिकारी छात्रावास में रहने वाले बच्चों से बातचीत कर छात्रावास में संचालित गतिविधियों से संबंधित फीडबैक लेकर रिपोर्ट में प्रस्तुत करेंगे।

उन्होंने कहा कि निरीक्षण में यदि शासकीय छात्रावासों में कार्यरत किसी भी अधिकारी या कर्मचारी को अपने कर्तव्यों के निर्वहन में लापरवाही करते हुए पाया जाता है या अनैतिक गतिविधियो में संलिप्तता पाई जाती है, तो सम्बन्धित अधिकारी या कर्मचारी के विरुद्ध निलंबन/एफआईआर आदि की त्वरित कार्रवाई की जानी जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही बरतने वाले या अनैतिक गतिविधियो में शामिल अधिकारियों एवं कर्मचारियों के विरुद्ध कड़ी कारवाई सुनिश्चित की जाए जिस से अप्रिय घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।

View More...

समाज में सबकी भागीदारी से ही होता है समाज का विकास : सीएम बघेल

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार को महासमुंद में आयोजित चंद्रनाहूँ कुर्मी क्षत्रिय समाज, छत्तीसगढ़ प्रदेश के 51वें केन्द्रीय महाधिवेशन में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। उन्होंने महाधिवेशन को सम्बोधित करते हुए कहा कि समाज में सबकी भागीदारी से ही समाज का विकास होता है। समाज में समाजिक समरसता आती है। समाज वह है जो सबको साथ लेकर चलें, इससे सबके कल्याण का रास्ता निकालता है।

कार्यक्रम महासमुंद बागबाहरा रोड स्थित शांत्रीबाई स्कूल परिसर में आयोजित हुआ। मुख्यमंत्री ने सामाजिक एकता बनाये रखने पर जोर दिया। इस अवसर पर समाज के वरिष्ठजनों एवं पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत किया। इस मौक़े पर मुख्यमंत्री ने चंद्रोदय पब्लिक स्कूल और शांत्रीबाई महाविद्यालय के द्वितीय तल पर निर्मित अतिरिक्त निर्माण का लोकार्पण किया। दोनों द्वितीय तल पर निर्मित कार्यों की लागत 70 लाख रुपए है। इनका निर्माण छत्तीसगढ़ चंद्रनाहूँ शिक्षण समिति एवं विधायक निधि से किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समाज के पुरखों और विभूतियों ने भी छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। समाज की विभूतियों ने शिक्षा, कृषि, सहकारिता के साथ-साथ समाज सुधार जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया है। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार का उल्लेखनीय कार्य हुआ है। उन्होंने राज्य सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा की सरकार की योजनाओं का लाभ किसान, गरीब, मजदूर सहित समाज के सभी वर्गों को मिल रहा हैै।

श्री बघेल ने कहा कि राज्य में गोधन योजना से रोजगार और आय के नए स्त्रोत निकले है। जिनके पास कोई रोजगार नहीं होता था, वे भी गोबर बेचकर रोजगार के साथ लाभ कमा रहे हैं, महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के तहत प्रत्येक पात्र परिवार को सालाना 6000 रुपए की राशि सीधे उनके बैंक खाते में दी जाएगी। छत्तीसगढ़ में वृक्षारोपण कार्य को प्रोत्साहित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना के तहत जिन किसानों ने खरीफ वर्ष 2020 में धान की फसल ली है, अगर वो धान की फसल के बदले अपने खेतों में वृक्षारोपण करते हैं, तो उन्हें आगामी 3 साल तक प्रतिवर्ष 10 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में सुराजी गांव योजना के तहत स्वीकृत गौठानों में ग्रामीणों, किसानों और पशुपालकों से गोबर खरीदी की जा रही है। खरीदे गए गोबर से वर्मी कंपोस्ट बनाकर छत्तीसगढ़ के हजारों महिला स्वयं सहायता समूह आत्मनिर्भर बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने बच्चों की अच्छी शिक्षा के लिए सरकारी अंग्रेजी मीडियम स्कूल बनाये हैं। प्रदेश के सभी विकासखंड मुख्यालयों में एक-एक स्वामी आत्मानंद शासकीय इंग्लिश मीडियम स्कूल खोले जा रहे हैं। जल्द ही छत्तीसगढ़ के बच्चे फर्राटेदार अंग्रेजी बोलेंगे। उन्होंने कहा कि विभिन्न विभागों में भर्ती की कार्रवाई शुरू हो गई है। कार्यक्रम को राज्यसभा सदस्य श्रीमती छाया वर्मा, संसदीय सचिव एवं विधायक विनोद चंद्राकर और चंद्रनाहूँ कुर्मी क्षत्रिय समाज के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी चंद्राकर ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर समाज के द्वारा अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में बसना विधायक देवेंद्र बहादुर सिंह, खल्लारी विधायक द्वारिकाधीश यादव, पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चंद्राकर सहित निगम मंडल के अध्यक्ष, अनेक जनप्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग उपस्थित थे।

View More...

मुख्यमंत्री बघेल से कबीरधाम जिले के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र कुकदुर के निवासियों ने की मुलाक़ात

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से कल शाम उनके निवास कार्यालय में पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चंद्राकर के नेतृत्व में आये कबीरधाम जिले के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र कुकदुर के निवासियों ने सौजन्य मुलाक़ात की। कुकदुर क्षेत्रवासियों ने मुख्यमंत्री बघेल द्वारा कुकदुर को नई तहसील बनाने की घोषणा के लिए उनके प्रति आभार जताया। क्षेत्रवासियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि कुकदुर सुदूर वनांचल का इलाका है, जहां के निवासियों को हर कार्य के लिए वहां से लगभग 70 किलोमीटर दूर पंडरिया तहसील आना पड़ता था। तहसील बन जाने से अब कुकदुर का विकास होगा और उन्हें कृषि, राजस्व, से संबंधित कार्यों की बेहतर सुविधाएं अपने ही इलाके में उपलब्ध होंगी। उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल को बताया कि इस घोषणा से कुकदुर सहित आसपास गांवों के लोगों में हर्ष है।

प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को आदिवासी संस्कृति की पारम्परिक बीरन माला और कलगी पगड़ी पहनाकर तथा मिठाई खिला कर उनके प्रति आभार जताया। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की मंशा है कि विकेंद्रीकरण द्वारा प्रशासनिक इकाइयों के माध्यम से शासन की योजनाओं का लाभ आम जनता तक सुविधापूर्ण ढंग से पहुंचे। उल्लेखनीय है कि विगत दिनों मुख्यमंत्री बघेल ने कबीरधाम जिले में पिपरिया और कुकदुर को तहसील तथा इन्दौरी और कुण्डा को नगर पंचायत का दर्जा देने की घोषणा की थी। इस अवसर पर कुकदुर वनांचल क्षेत्र से मनीष शर्मा, सतीश कोठारी, साधु कोठारी, राकेश चंद्राकर, अमित डडसेना, करण सिंह धुर्वे, नानुक राम गढेवाल, सीताराम पटेल, ललित धुर्वे, तीरथ राम, वैभव ठाकुर, मनीष ठाकुर, इतवारी बैगा व अनेक लोग उपस्थित थे।

View More...

सीएम बघेल ने प्रदेशवासियों को विश्व पर्यटन दिवस की दी बधाई व शुभकामनाएं

Date : 27-Sep-2021

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 27 सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। श्री बघेल ने अपने बधाई संदेश में कहा है कि छत्तीसगढ़ पर्यटन की संभावनाओं से परिपूर्ण राज्य है। जहां प्राकृतिक सौंदर्य के मनोरम स्थलों के साथ धार्मिक और पौराणिक, आध्यात्मिक, ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक महत्व के अनेक स्थल हैं। नदियां, झरने, जल प्रपात, सघन वनों से आच्छादित पर्यटन स्थल बरबस ही पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। छत्तीसगढ़ के अनेक स्थल हमारी प्राचीन पौराणिक और सांस्कृतिक विरासत से जुड़े हुए हैं। राज्य सरकार का पूरा ध्यान यहां के पर्यटन को विकसित करने की ओर केंद्रित है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्राचीन दंडकारण्य वन और माता कौशल्या की जन्म-स्थली हमारे गौरव हैं। इंद्रावती नदी पर चित्रकोट जलप्रपात, सिरपुर का प्रसिद्ध लक्ष्मण मंदिर और बस्तर का दशहरा पूरे देश में प्रसिद्ध है। ऐसी मान्यता है कि छत्तीसगढ़ की रामगढ़ की पहाड़ियों में महाकवि कालीदास ने मेघदूत की रचना की है। यहां सबसे प्राचीन नाट्यशाला है। श्री बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ का पर्यटन परिदृश्य एवं सांस्कृतिक परंपरा अनोखी है। छत्तीसगढ़ के पौराणिक महत्व और उसकी खूबसूरती से देश-दुनिया का परिचय कराने के लिए राज्य सरकार प्रयासरत है। यहां के पर्यटन केन्द्रों को विकासित किया जा रहा है। भगवान रामचंद्र अपने वनवास के दौरान प्राचीन छत्तीसगढ़ (दक्षिण कोसल) के जिन क्षेत्रों से गुजरे थे, उसे राम वनगमन पर्यटन परिपथ के रूप में विकसित किया जा रहा है। कोरिया से लेकर सुकमा तक इस पर्यटन परिपथ का निर्माण किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत देश-विदेश के पर्यटकों को उच्च स्तर की सुविधाएं प्राप्त हो सकेंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजिम में लगने वाले मेले को राजिम पुन्नी मेला के नाम से छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परंपरा से जोड़ कर नया स्वरूप दिया गया है। जल एवं साहसिक पर्यटन के क्षेत्र में सतरेंगा का विकास एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इसके साथ ही राज्य में राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन कर छत्तीसगढ़ को विश्व पटल पर स्थापित करने का प्रयास किया गया है।

View More...
Previous123456789...601602Next