Top News

Previous123456789...5556Next

तेलंगाना से 50 से ज्यादा नक्सलियों के बीजापुर में घुसने की आसंका, सुरक्षा बलों को किया गया अलर्ट

Date : 22-Sep-2020

बीजापुर। तेलंगाना से 50 से ज्यादा नक्सलियों के बीजापुर में घुसने की आसंका के बाद सुरक्षा बलों को अलर्ट किया गया है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि 21 सितंबर से नक्सलियों सोलहवां स्थापना दिवस समारोह शुरू हुआ है। इस दौरान अपनी धमक दिखाने के लिए कोई बड़ी घटना कर सकते हैं।

हालांकि अफसरों का कहना है कि हाल में बीजापुर में तेलंगाना के दो सीनियर सदस्यों को पुलिस ने मार गिराया है। जबकि एक दिन पहले ही तेलंगाना पुलिस ने चिंतलनार के एक नक्सली को मारा है। ऐसी स्थिति में वहां दबाव बनने के कारण भी नक्सली बीजापुर की ओर छिपने के लिए आ सकते हैं। बीजापुर और सुकमा का एरिया मुख्य रूप से नक्सलियों का वॉर जोन माना जाता है। गंगालूर, बासागुड़ा और आवापल्ली के आसपास नक्सलियों के बटालियन का जमावड़ा रहता ही है। इस एरिया में 200 से 400 तक नक्सलियों की मौजूदगी रहती है। पिछले कुछ समय से बीजापुर पुलिस ने नक्सलियों को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। इस वजह से अब नक्सली लोगों में डर पैदा करने के उद्देश्य से जन अदालत लगाकर ग्रामीणों की हत्या कर रहे हैं। हाल में एक एएसआई और कांस्टेबल की नक्सलियों ने हत्या की है। इसके बाद पुलिस ने भी तेलंगाना के दो नक्सलियों को मारा है। इनके स्पेशल जोनल कमेटी के सदस्य होने की बात भी सामने आ रही है। यही वजह है कि बदले के लिए नक्सली कोई बड़ी वारदात न करें, इसलिए सुरक्षा बलों को अतिरिक्त सावधानी बरतने कहा गया है।

बीजापुर में पुलिस लगातार नक्सलियों पर दबाव बना रही है। यहां से नक्सली बॉर्डर से लगे तेलंगाना के चेरला, खम्मम, मनगुरु, भद्राचलम की ओर चले जाते हैं। बाद में तेलंगाना में ऑपरेशन होने पर फिर बीजापुर या सुकमा लौटते हैं। बीजापुर में नक्सलियों के खिलाफ बड़े अभियान के पीछे एसपी कमललोचन कश्यप भी एक अहम वजह हैं क्योकि ये यही के है।

View More...

भारत सरकार ने उड़ान योजना : छत्तीसगढ़ के 3 हवाई अड्डों के उन्नयन के लिए 108 करोड रुपए आवंटित

Date : 22-Sep-2020

रायपुर। भारत सरकार ने उड़ान योजना के तहत छत्तीसगढ़ के 3 हवाई अड्डों के उन्नयन एवं विकास के उद्देश्य से जगदलपुर के लिए 48 करोड़ रूपए (व्यय 45 करोड़ रुपए), अंबिकापुर के लिए 27 करोड़ रूपए (व्यय 27 करोड़ रुपए) और बिलासपुर के लिए 33 करोड़ रूपए (व्यय 20 करोड़ रूपए) आवंटित किये हैं। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने रायपुर हवाई अड्डे के विकास एवं विस्तार, जिसमें टर्मिनल भवन का विस्तार भी शामिल है, के लिए लगभग 900 करोड़ रुपये के निवेश की योजना बनाई है। हाल ही में, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने उड़ान-4.0 के तहत बिलासपुर से भोपाल तक आरसीएस फ्लाइट के संचालन, जिसके जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है, के लिए एलायंस एयर की बोली को मंजूरी दी थी। एयर इंडिया की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एलायंस एयर को उड़ान-3 बोली प्रक्रिया के तहत इस मार्ग पर परिचालन की अनुमति दी गयी थी। यह एयरलाइन दैनिक उड़ानों का संचालन करेगी और इस मार्ग पर 72 सीटों वाले लक्जरी एटीआर 70 विमानों को तैनात करेगी। जगदलपुर-रायपुर-हैदराबाद मार्ग की शुरूआत होने के साथ नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने आरसीएस–उड़ान के तहत कुल 285 मार्गों पर परिचालन शुरू किया है।

जगदलपुर हवाई अड्डा, बस्तर में स्थित है, जो अपनी अनूठी आदिवासी संस्कृति एवं विरासत के कारण पर्यटन की अपार संभावना वाला एक जनजातीय जिला है। इसके अलावा, इस क्षेत्र में कई फर्नीचर कारखानों एवं चावल मिलों के मौजूद होने के कारण जगदलपुर एक व्यावसायिक केंद्र भी है। नतीजतन, कई लोग व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए जगदलपुर और निकटतम महानगर हैदराबाद के बीच अक्सर यात्रा करते हैं। इन दोनों शहरों के बीच उड़ान शुरू होने से सड़क एवं ट्रेन यात्राओं में वर्तमान में लगने वाला 12 घंटे का समय घटकर 75 मिनट रह जायेगा। लोग अब जगदलपुर से राजधानी रायपुर सड़क मार्ग से 7 घंटे की यात्रा की तुलना में केवल 45 मिनट में पहुंच सकते हैं।

View More...

इतिहास में पहली बार 2 महिलाओं अफसरों को वॉर शिप पर तैनाती

Date : 21-Sep-2020

नई दिल्‍ली (एजेंसी)। महिलाओं का जज्बा और जुनून हर क्षेत्र में अपनी मिसाल पेश कर रहा है, आज फिर एक ऐतिहासिक अवसर आया। भारतीय नौसेना में लिंग-समानता को साबित करने वाले एक कदम के तहत पहली बार जंगी जहाज पर 2 महिला ऑफिसर्स की तैनाती होने वाली है। जी हां, भारतीय नौसेना ने पहली बार हेलीकॉप्टर स्ट्रीम में दो महिलाओं को तैनात करने का फैसला किया है।

दरअसल, भारतीय नौसेना के युद्धपोत पर सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को `ऑब्जवर्स` (एयरबोर्न टैक्टिशियंस) के रूप में तैनाती दी गई है। भारतीय नौसेना के इतिहास में पहली बार दो महिला अफसरों को वॉर शिप पर तैनात किया जाएगा। नौसेना ने इस ऐतिहासिक कदम के लिए 17 ऑफिसर्स में से इन 2 को चुना है।

डिफेंस स्टेटमेंट में बताया गया कि, दोनों महिलाएं नौसेना के 17 अधिकारियों के एक समूह का हिस्सा हैं, जिनमें 4 महिला अधिकारी और भारतीय तटरक्षक के 3 अधिकारी शामिल हैं, जिन्हें आज आईएनएस गरुड़ में आयोजित एक समारोह में `ऑब्जर्वर्स` के रूप में तैनाती को लेकर `विंग्स` से सम्मानित किया गया।ग्रुप में नियमित बैच के 13 अधिकारी और शॉर्ट सर्विस कमीशन बैच की 4 महिला अधिकारी शामिल थीं। समारोह की अध्यक्षता चीफ स्टाफ ऑफिसर (ट्रेनिंग) रियर एडमिरल एंटनी जॉर्ज ने की, जिन्होंने अधिकारियों को पुरस्कार और प्रतिष्ठित `विंग्स` भेंट किए।

रियर एडमिरल एंटनी जॉर्ज यह एक ऐतिहासिक अवसर है, जिसमें पहली बार महिलाओं को हेलीकॉप्टर ऑपरेशंस का प्रशिक्षण दिया जा रहा, जो अंततः भारतीय नौसेना के युद्धपोतों में महिलाओं की तैनाती का मार्ग प्रशस्त करेगा। बयान के अनुसार, 91वें नियमित कोर्स और 22वें एसएससी ऑब्जर्वर कोर्स के अधिकारियों को हवाई नेविगेशन, उड़ान प्रक्रियाओं, हवाई युद्ध में नियोजित रणनीति, पनडुब्बी रोधी युद्ध आदि का प्रशिक्षण दिया गया। ये अधिकारी भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल के समुद्री टोही और पनडुब्बी रोधी युद्धक विमानों की सेवा करेंगे।

हालांकि, भारतीय नौसेना कई महिला अधिकारियों को भर्ती करती रही है, लेकिन अब तक महिला अधिकारियों को युद्धपोतों पर लंंबे अरसे के लिए तैनात नहीं किया गया है, जिसके पीछे कई कारण हैं- क्रू क्वार्टरों में निजता की कमी तथा महिलाओं के लिए विशेष बाथरूम व्यवस्था की उपलब्धता न होना।

View More...

जगदलपुर एयरपोर्ट में वाटर कैनन सैल्यूट के साथ किया गया विमान का स्वागत

Date : 21-Sep-2020

जगदलपुर। जगदलपुर से रायपुर और हैदराबाद के तक हवाई सेवाएं सोमवार 21 सितम्बर को प्रारंभ हो गई। अपरान्ह 11.45 बजे हैदराबाद से जगदलपुर पहुंचने वाली 72 सीटर हवाई जहाज का स्वागत एयरपोर्ट में वाटर कैनन सैल्यूट के साथ किया गया, वहीं यात्रियों को भी पुष्पगुच्छ भेंट किया गया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। वे राजधानी रायपुर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़े रहे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी नई दिल्ली से जुड़े रहे। जगदलपुर से रायपुर और हैदराबाद तक प्रारंभ होने वाली इस उड़ान सेवा के शुभारंभ के अवसर पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, बस्तर जिले के प्रभारी एवं आदिम जाति कल्याण मंत्री डाॅ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उद्योग मंत्री कवासी लखमा शहरी विकास मंत्री डाॅ. शिव डहरिया एवं सांसद दीपक बैज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जुड़े रहे। वहीं मां दंतेश्वरी एयरपोर्ट जगदलपुर में बस्तर विधायक एवं बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल, जगदलपुर विधायक एवं संसदीय सचिव रेखचंद जैन, नारायणपुर विधायक एवं हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष चंदन कश्यप, चित्रकोट विधायक राजमन बेंजाम, मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एमआर निषाद, जगदलपुर नगर निगम की महापौर सफीरा साहू, कमिश्नर अमृत कुमार खलखो, आईजी पी सुंदरराज, कलेक्टर रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक दीपक झा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल, सहायक कलेक्टर रेना जमील सहित जनप्रतिनिधिगण और वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

00 हवाई सुविधा बदलेगी बस्तर की तस्वीर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल
जगदलपुर में हवाई सेवाएं प्रारंभ होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि यह आने वाले समय में बस्तर की तस्वीर को बदलने में मददगार होगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ शासन के अथक प्रयासों से 02 मार्च 2020 को नागरिक उड्डयन महानिदेशालय से विमान उड़ान हेतु अनुमति प्राप्त करने में हमें सफलता मिली। जिसके परिणाम स्वरूप आज से एयर इंडिया की सहायक कम्पनी एलायंस एयर बस्तर में उड़ान सेवा प्रारंभ कर रही है ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार प्रांरभ से ही बस्तर के सर्वागीण विकास हेतु कृत संकल्पित रही है। हम बस्तर की पहचान अंतराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने के लिए बहुआयामी प्रयास करेंगे । इसी कड़ी में बस्तर में आज विमान सेवा प्रदान किया जा रहा है इससे क्षेत्रवासियों को विकास के प्रत्येक क्षेत्र में अधिक से अधिक लाभ प्राप्त होगा। जैसे बस्तर से रायपुर एवं हैदराबाद की यात्रा का समय केवल एक घंटा लगेगा । हैदराबाद से आगे विश्व में कहीं भी जाया जा सकता है। वर्तमान में रायपुर की यात्रा 06 घंटे में पूरी होती है तथा हैदराबाद की यात्रा लगभग 12 घंटे में पूरी होती है। यात्रा के दौरान घाटियां एवं दुर्गम रास्ता भी पार करना होता है। बस्तर के लोग विषम परिस्थिति में चिकित्सा हेतु रायपुर, विशाखापटनम या हैदराबाद जैसे महानगर की हवाई यात्रा से जल्द से जल्द पहुंच सकेंगे तथा महानगरों के चिकित्सक, हवाई सेवा का लाभ लेकर बस्तरवासियों को आधुनिक चिकित्सा बस्तर में आसानी से दे सकेंगे। विमान सेवा के प्रारंभ होने से बस्तर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, जिससे देश-विदेश के लोगों को बस्तर की ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक विरासत की जानकारी प्राप्त होगी। पर्यटक बस्तर की हमारी सरकार प्रांरभ से ही बस्तर के

बस्तर में हवाई सेवाओं को फिर से प्रारंभ करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि बस्तर को उड़ान सेवा से जोड़ने हेतु दृढ़-निश्चय करते हुए जिला प्रशासन ने प्रत्येक क्षेत्र में समन्वय स्थापित किया और समस्त चुनौतियों का सामना सरलता पूर्वक करते हुए 02 मार्च 2020 को नागरिक उड्डयन महानिदेशालय से नई दिल्ली से विमान उड़ान हेतु अनुमति प्राप्त करने में सफलता हासिल की। एलांयस एयर ने 29 मार्च 2020 को तथा 05 अगस्त 2020 को जगदलपुर से उड़ान सेवा प्रारंभ करना सुनिश्चित किया गया था, किन्तु कोविङ-19 के बढ़ते प्रभाव के कारण उड़ान सेवा बाधित हो गई थी। वर्तमान में एयरपोर्ट में कोविड-19 के रोकथाम हेतु सभी प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने कहा कि समस्त बाधाओं को पार करते हुए बस्तरवासियों के उड़ान सेवा का सपना हकीकत में बदल गया है।

00 नागरिक उड्डयन मंत्री ने दी बधाई :
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने जगदलपुर में हवाई सेवाओं के प्रारंभ होने पर खुशी जताते हुए बस्तरवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि बस्तर में हवाई सेवाओं के प्रारंभ होने से बस्तर के प्राकृतिक सौंदर्य के साथ-साथ समृद्ध कला संस्कृति को और अधिक प्रसिद्धि मिलेगी।

00 मां दंतेश्वरी के नाम पर जगदलपुर एयरपोर्ट का हुआ नामकरण :
बस्तर की आराध्य देवी मां दन्तेश्वरी के नाम पर एयरपोर्ट जगदलपुर का नामकरण किया गया है। 21 सितम्बर 2020 से जगदलपुर हवाई अड्डा का नाम मां दन्तेश्वरी एयरपोर्ट जगदलपुर के नाम से जाना जाएगा। मां दन्तेश्वरी एयरपोर्ट जगदलपुर कुल 57.6 हेक्टेयर के क्षेत्रफल में स्थापित है। एयर स्ट्रीप की लम्बाई 1704 मीटर है। एयरपोर्ट के आधारभूत सुविधाओं का प्रबंधन लोक निर्माण विभाग, छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा किया जा रहा है एयरपोर्ट में एयर ट्रैफिक कंट्रोल का प्रबंधन एयरपोर्ट एथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा किया जावेगा। एयरपोर्ट में 70 सीटर यात्री क्षमता वाली हवाई जहाज को संचालित किया जा रहा है। यात्री विमान सुबह 09.00 बजे हैदराबाद से उड़ान भरकर जगदलपुर होते हुए दोपहर 12.00 बजे तक रायपुर पहुंचेगी। इसके पश्चात 12.30 बजे वापस हैदराबाद के लिए विमान रायपुर से प्रस्थान करेगी।

बस्तर के लोगों की सुविधा हेतु विमानों की उड़ान प्रतिदिन किया जाना सुनिश्चित किया गया है। टिकट की बुकिंग एलायंस एयर के वेबसाईट, ऐप एवं टिकट काउण्टर के माध्यम से किया जा सकता है । यात्री किराया भी न्यूनतम रखा गया है, जिसे आसानी से वहन किया जा सकता है । हैदराबाद से जगदलपुर का 1405.00, जगदलपुर से रायपुर का टिकट 1270.00 रूपये मात्र है । आम नागरिक कम खर्चे में आसानी से हवाई यात्रा का लाभ ले सकते हैं।

00 मुख्यमंत्री ने किया आमचो बस्तर कैंटीन का शुभारंभ :
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जगदलपुर एयरपोर्ट में संचालित आमचो बस्तर कैंटीन का भी शुभारंभ किया। इस कैंटीन में बस्तर और छत्तीसगढ़ के स्थानीय व्यंजन का आनंद लिया जा सकता है।

00 यात्रियों ने जताई खुशी :
जगदलपुर से रायपुर और हैदराबाद के लिए हवाई सेवाएं प्रारंभ होने पर यात्रियों ने खुशी जताई और कहा कि इससे सफर आसान होगा। इस दौरान बस्तर जिले के दुरस्थ अंचलों में रहने वाले ग्रामीणों को भी रायपुर तक यात्रा करने का अवसर मिला, जिनमें दरभा विकासखण्ड के बिसपुर, कुडूमखोदरा, चितालगुर, गुड़िया, पुलचा आदि ग्रामों के ग्रामीण शामिल थे। पहली बार हवाई यात्रा कर रहे इन यात्रियों के लिए एक रोमांचक क्षण बन गया। बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल ने भी इस सेवा का लाभ उठाया और पहली उड़ान से ही रायपुर के लिए रवाना हुए।

अपने स्वागत उद्बोधन में कलेक्टर रजत बंसल ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा अथक प्रयासों से पुनः जगदलपुर से हवाई सेवाएं प्रारंभ की गई। उन्होंने बताया कि 29 मार्च 2020 को तथा 05 अगस्त 2020 को एलांयस एयर ने जगदलपुर से उड़ान सेवा प्रारंभ करना सुनिश्चित किया गया था, किन्तु कोविङ-19 के बढ़ते प्रभाव के कारण उड़ान सेवा बाधित हो गई थी। वर्तमान में एयरपोर्ट में कोविड-19 के रोकथाम हेतु सभी प्रोटोकॉल का पालन करना सुनिश्चित किया गया है।

View More...

भारतीय सेना ने पिछले 20 दिनों में चीन सीमा पर 6 पहाड़ियों पर किया कब्जा

Date : 21-Sep-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत और चीन सीमा पर लगातार तनाव जारी है। इसी बीच भारतीय सेना ने बड़ी कामयाबी अपने नाम की है। भारतीय सेना ने पिछले 20 दिनों में चीन सीमा पर 6 पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया है। बताया जा रहा है कि पिछले लंबे समय से इन पहाड़ीयों पर चीन के सेना की नजर थी।
वहीं भारत और चीन सेनाओं के बीच आज कोर कमांडरों की बातचीत होगी। आज मोल्डो में होने वाल ये वार्ता छठे दौर की है। सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा से चीन की ओर मोल्डो में सुबह 9 बजे यह वार्ता शुरू होने वाली है।

00 इन पहाडियों पर भारतीये सेना का कब्जा
भारतीय सेना ने जीन 6 पहाड़ीयों पर अपना कब्जा किया है, इसमें मागर हिल, गुरुंग हिल, मोखपारी, रेजांग ला राचाना ला और फिंगर 4 रिज लाइन पर सबसे बड़ी चोटियां शमिल हैं। बताया जा रहा है कि ये पहाड़ियां दक्षिण से उत्तरी किनारे तक फैला है। वहीं चीन ने पैंगोंग झील के दक्षिणी तट के पास थाकुंग क्षेत्र के दक्षिण में ऊंचाइयों पर कब्जा करने की कोशिश की थी।

भारतीय सेना द्वारा इन चोटियों पर कब्जा किए जाने के बाद चीनी सेना ने संयुक्त्त बिग्रेड की लगभग 3000 अतिरिक्त टुकरियों को तैनात किया है। जिसमें रेजांग और राचाला हाइट्स के पास इंफैट्री और बख्तरबंद सैनिक शामिल है। बता दें कि भारत और चीनी सेना के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के साथ ऊंचाइयों पर कब्जा करने के लिए संघर्ष 29 अगस्त के बाद शुरू हुआ।

View More...

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में खराब मौसम की वजह से हुआ हेलिकॉप्टर क्रैश, पायलेट की मौत

Date : 21-Sep-2020

लखनऊ (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश में हुई एक भीषण हवाई दुर्घटना में एक हेलीकॉप्टर क्रैश होकर टुकड़े टुकड़े हो गया। इसमें पायलट की मौत हो गई है। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में खराब मौसम की वजह से हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया। हादसा इतना भयानक था कि आसपास के इलाके में हेलीकॉप्टर के टुकड़े बिखर गए हैं। इस हादसे में पायलट की मौके पर मौत हो गई है। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के सरायमीर थाना क्षेत्र के कुसहां गांव में आज 12 बजे खराब मौसम के चलते हेलिकॉप्टर क्रैश होकर जमीन पर गिर गया। धमाके की आवाज सुनकर गांव के लोग मौके पर पहुंच गए। हादसे में एक पायलट की मौत हो गई है। जबकि पायलट के साथ बैठे दूसरे व्यक्ति का अभी पता नहीं चल सका है।

View More...

पुरे विश्व में कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा मरीज ठीक हुए भारत में

Date : 21-Sep-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत समेत पुरे विश्व में कोरोना वायरस महामारी का कहर तेजी से बढ़ रहा है। भारत में हर रोज 90 हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं। लेकिन भारत के लिए एक अच्छी ख़बर ये है कि कोरोना से इतने मामले आने के साथ ही हमारे देश में कोरोना से ठीक हुए मरीजों का आंकड़ा दुनिया में सबसे ज्यादा यानि पहले नंबर पर है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी देते हुए एक आंकड़ा भी जारी किया है, जिसमें कोरोना रिकवरी के मामलों दिखाए गए हैं।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने एक ट्वीट में वर्ल्डोमीटर द्वारा जारी आंकड़ों को लेकर भारत ने कोरोना से कुल रिकवरी के मामले में दुनिया में शीर्ष स्थान पर कब्जा कर लिया है। भारत में 43 लाख से अधिक लोग कोरोना से ठीक हुए हैं। मंत्रालय ने ट्वीट में यह भी बताया कि भारत की रिकवरी दर कुल वैश्विक रिकवरी दर का 19% है। कोरोना रिकवरी रेट के मामले में भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। वर्ल्डोमीटर द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका का कुल रिकवरी रेट में योगदान 18.70 प्रतिशत है। इसके बाद अफ्रीकी देश ब्राजील का नाम आता है, जिसका कोरोना के कुल रिकवरी रेट में हिस्सा 16.90 प्रतिशत है।

डेवलपर्स, शोधकर्ताओं और स्वयंसेवकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा चलाए जाने वाले वर्ल्डोमीटर, दूसरों और लोगों के बीच जनसंख्या और रोग गणना पर लाइव विश्व आंकड़े देते हैं।

View More...

आगरा का ताजमहल हुला आज, एक दिन में 5000 पर्यटक कर सकेंगे एंट्री

Date : 21-Sep-2020

आगरा (एजेंसी)। छह महीने से अधिक समय तक पर्यटकों के लिए बंद रहने के बाद आगरा में ताजमहल को सख्त कोरोना वायरस सुरक्षा दिशानिर्देशों के साथ फिर से खोल दिया गया। आगरा का किला भी आज फिर से खुल गया। दोनों विश्व धरोहर स्थलों को 17 मार्च से कोरोना महामारी के कारण बंद कर दिया गया था।

केंद्र द्वारा जारी किए गए सभी सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन करते हुए मकबरे और किले को खोला गया है। इसमें सोशल डिस्‍टेंसिंग और हाथों को साथ रखने के लिए सैनेटाइजर का प्रयोग शामिल है। वसंत कुमार स्वर्णकार भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (आगरा सर्कल) के अधीक्षण पुरातत्वविद् ने दी बारे में मीडिया को जानकारी दी।

वसंत कुमार ने बताया कि ताजमहल पर प्रत्येक दिन केवल 5,000 पर्यटकों को जाने की अनुमति होगी, दोपहर 2 बजे से पहले 2,500 और उसके बाद बाकी। उन्होंने कहा कि आगरा फोर्ट में हर दिन 2,500 पर्यटकों को जाने की अनुमति दी जाएगी। स्मारकों में प्रवेश के लिए मास्क अनिवार्य हैं और सभी टिकट ऑनलाइन खरीदे जाएंगे। कोरोना को देखते हुए अभी टिकट काउंटर नहीं खुलेंगे।
बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटकों के साथ ताजमहल में हर साल लगभग सात मिलियन लोग आते हैं। आगरा के किले में भी एक साल में लगभग तीन मिलियन पर्यटक आते हैं। कई स्मारक उत्तर प्रदेश के राजस्व में बड़े पैमाने पर योगदान करते हैं।

जानकारी मुताबिक,एक परिवार कतार में खड़ा था और डिजिटल टिकट लेने के बाद वह ताज देखने को काफी उत्‍सुक थे। उन्‍होंने कहा, `यह अविश्वसनीय और ऐतिहासिक है। यह पहली बार है, जब ताज छह महीने के लिए बंद हुआ था। हम बदलाव के गवाह हैं। हमें नए और सामान्य जनजीवन की उम्मीद की जानी चाहिए और हमारे अच्छे के लिए सभी नियमों को अपनाया जाना चाहिए।``

सरकार द्वारा अनलॉक 4 की घोषणा किए जाने के बाद धरोहर स्थलों को फिर से खोलने के लिए सरकार की तरफ से कदम उठाया गया। हालांकि देश में कोरोनो वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। 3.48 लाख COVID-19 मामलों के साथ उत्तर प्रदेश देश का पांचवां सबसे अधिक प्रभावित राज्य है।

View More...

भूपेश कैबिनेट ने लिया बड़ा फैसला, ओबीसी आरक्षण के लिए राशनकार्ड को बनाया जाएगा गणना का आधार

Date : 20-Sep-2020

रायपुर। ओबीसी आरक्षण को लेकर सीएम आवास में बैठक के दौारान भूपेश कैबिनेट ने बड़ा फैसला किया है। OBC आरक्षण के लिए राशनकार्ड को गणना का आधार बनाया जाएगा। राशनकार्ड के आधार पर गणना की जाएगी। आपको बता दें हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के OBC को 27% आरक्षण देने पर रोक लगाई है। अब सरकार इसके लिए पटेल कमीशन को इसका डाटा देगी। राशनकार्ड के आधार और बैंक से लिंक जातिगत डाटा पटेल कमीशन को देगी।

ग्रामसभा से राशनकार्ड को अनुमोदित कराया जाएगा। OBC को 27% आरक्षण देने पर हेडकाउंट डाटा उपलब्ध कराने का कोर्ट ने निर्देश दिया था। इसी के आधार पर सरकार अब डेटा उपलब्ध कराएगी। बता दें हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के OBC को 27% आरक्षण देने पर रोक लगाई है। अब सरकार इसके लिए पटेल कमीशन को इसका डाटा देगी। राशनकार्ड के आधार और बैंक से लिंक जातिगत डाटा पटेल कमीशन को देगी।

OBC को 27% आरक्षण देने पर हेडकाउंट डाटा उपलब्ध कराने का कोर्ट ने निर्देश दिया था। इसी के आधार पर सरकार अब डेटा उपलब्ध कराएगी। आपको बता दें कि पिछले साल ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में 82 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा किया। हालांकि उस दौरान कई तरफ इसकी आलोचना भी हुई थी, वहीं मामले को कोर्ट में भी चुनौती दी गयी थी।

View More...

कोरोना वायरस : ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का अगले हफ्ते से थर्ड फेज ट्रायल होगा शुरू

Date : 20-Sep-2020

नईदिल्ली (एजेंसी। फोर्ड और एस्ट्रेजनेका द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए भारतीय सीरम संस्थान पूरी तरह से तैयार हो गया है। यह ट्रायल अगले हफ्ते से शुरू हो रहा है। वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल पुणे के ससून अस्पताल में होगा। सरकार संचालित ससून अस्पताल के डीन डॉक्टर मुरलीधर तांबे ने इसकी जानकारी दी है।

डॉक्टर मुरलीधर तांबे ने कहा, `अगले सप्ताह ``कोविशील्ड ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजनेका द्वारा विकसित टीके का नाम`` टीके के तीसरे चरण का परीक्षण ससून अस्पताल में शुरू होगा। इसके सोमवार से शुरू होने की संभावना है। तीसरे चरण के ट्रायल में लगभग 150 से 200 लोगों को यह टीका लगाया जाएगा। इसके लिए पहले ही कुछ स्वयंसेवक आगे आ चुके हैं।``

10 सिंतबर को ट्रायल रोकने की जानकारी दी थी। SII ने कहा था कि वह कोविड- 19 के संभावित टीके के चिकित्सकीय परीक्षण को रोक रही हे। सीरम ने इस टीके की एक अरब खुराक बनाने का समझौता किया हुआ है। सीरम इंस्टीट्यूट ने जारी एक बयान में कहा था, `हम स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं और भारत परीक्षण को फिलहाल स्थगित कर रहे हैं।`

भारतीय औषधि महानियंत्रक डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट को ऑक्सफोर्ड की कोराना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल को दोबारा शुरू करने के लिए 15 सितंबर को अनुमति दे दी। इसके बाद अब एक बार फिर से सीरम इंस्टीट्यूट इस ट्रायल को दोबारा शुरू करने के लिए तैयार है। यह ससून अस्पताल में सोमवार से शुरू हो सकता है।
कम से कम सात भारतीय दवा कंपनियां कोरोना वायरस संक्रमण का टीका तैयार करने में जुटी हैं। भारत बायोटेक, सीरम इंस्टिट्यूट, जायडस कैडिला, पैनेशिया बायोटेक, इंडियन इम्यूनोलॉजिकस, मायनवैक्स और बायोलॉजिकल ई कोविड-19 का टीका तैयार करने का प्रयास कर रही है।

View More...
Previous123456789...5556Next