Top News

Previous1234567Next

सियासी संकट : मध्य प्रदेश: कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

भोपाल (एजेंसी)। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री के पद से अपना इस्तीफा प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन को सौंप दिया है।
राजभवन सूत्रों ने बताया, ‘‘कमलनाथ ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा दे दिया है।’’
सुप्रीम कोर्ट द्वारा मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष एनपी प्रजापति को शक्ति परीक्षण के लिये शुक्रवार को सदन का विशेष सत्र बुलाये जाने और यह प्रक्रिया शाम पांच बजे तक पूरी करने के निर्देश दिये जाने के बाद कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से बचने के लिए यह इस्तीफा दिया है। शक्ति परीक्षण के लिए मध्य प्रदेश विधानसभा का विशेष सत्र शुक्रवार दोपहर दो बजे बुलाई गई थी, लेकिन कमलनाथ ने इससे करीब 40 मिनट पहले ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। 
मालूम हो कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने के बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के 11 मार्च को विधायक के पद से अपना त्यागपत्र देने से सियासी संकट पैदा हुआ। इनमें से छह के इस्तीफे विधानसभा अध्यक्ष ने तुरंत कर लिये थे, जबकि 16 बागी विधायकों के इस्तीफे कल देर रात को मंजूर हुए थे। इससे कमलनाथ की सरकार अल्पमत में आ गई थी। ये सभी विधायक वर्तमान में बेंगलुरू में ठहरे हुए हैं। (भाषा)

View More...

कोरोना संक्रमण से बचाव के उपायों के लिए नहीं होगी संसाधनों की कमी :भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में कोरोना वायरस से बचाव के लिए सभी सर्तकता मूलक उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। मुख्यमंत्री ने सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से इस संबंध में विस्तृत निर्देश दिए।

 श्री बघेल  ने कहा कि सभी नगरीय क्षेत्रों में धारा 144 प्रभावशील की जाए। लेकिन यह भी ध्यान भी रखा जाए की लोगों को विशेषकर गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले को राशन और दवाईयां की उपलब्धता बनी रहें। उन्होंने कहा कि यह ध्यान रखे कि ज्यादा भीड़ इकट्ठा न हो। उन्होंने कहा की आंगनबाड़ी और मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम बंद हो गया है। बच्चों को खाद्य सामग्री घर पहुंचाकर दी जाए। श्री बघेल ने सभी ट्रेनिंग प्रोग्राम रद्द करने, परीक्षाएं स्थगित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सी.जी. बोर्ड की परीक्षाए स्थगित की जाए।  मुख्यमंत्री ने रेल्वे के अधिकारियों से कहा कि राज्य के महत्वपूर्ण रेल्वे स्टेशन जहां आवाजाही होती है। वहां कोरोना वायरस के संक्रमण का पता लगाने के लिए आवश्यक व्यवस्था की जाए। उन्होंने इस संबंध में रेल्वे के अधिकारियों रेल मंत्री एवं उच्च अधिकारियों को अवगत कराने भी कहा। उन्होंने सीआरपीएफ के अधिकारियों को कैम्पों में सावधानी और सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ के डॉक्टरों और जवानों की जरूरत इन कार्यों के लिए पड़ेगी।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि एयरपोर्ट और रेल्वे स्टेशनों में विदेश से लौटने वाले लोगों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही इसकी जानकारी जिला प्रशासन को उपलब्ध कराए। सड़क मार्ग से आने वालों की स्क्रीनिंग सीमावर्ती चेक पोस्ट पर की जाए। अंतर्राज्यीय बसों पर रोक लगाई जाए। राज्य के अंदर संचालित की जा रही बसों में ओव्हर क्राउडिंग न हो तथा नियमित रूप से इन बसों की डिसइनफेक्शन की कार्यवाही की जाए। यू.जी.सी. की गाईड लाईन के अनुसार विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं स्थगित की जाए। पुलिस, राजस्व, स्वास्थ्य, परिवहन सहित सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की अवकाश निरस्त कर दिए जाए।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि स्पा, ब्यूटी पार्लर, मॉल, डिपार्टमेन्टल स्टोर, चौपाटी, स्वीमिंग पुल, लाईब्रेरी, कोचिंग सेन्टर जैसे भीड़ भाड़ वाले  स्थानों को तत्काल बंद कराया जाए। हॉस्टल तथा पीजी में आवाजाही सीमित की जाए। रैली, सभा, आयोजन आदि को हतोत्साहित किया जाए। वाट्सएप सहित सोशल मीडिया पर चलने वाले फेक न्यूज को रोक लगाए। शादी समारोह घरों में आयोजित करने के लिए लोगों को समझाईश दी जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के मरीजों के नाम और पते को उजागर न किए जाए। जिलों में क्वारेन्टाइन सेन्टर के लिए जगह का चिन्हांकन कर लिया जाए। विदेशों और बड़े शहरों से आ रहे लोगों की जानकारी रखी जाए। इसी प्रकार काम की तलाश में अन्य राज्यों में जाने वाले छत्तीसगढ़ के लोगों के लौटने पर उनकी जानकारी पंचायत सचिवों और कोटवारों को देना सुनिश्चित किया जाए। मास्क और सेनेटाईजर की कालाबाजारी करने वाले लोगों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाए।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि जेलों में मुलाकातियों की संख्या सीमित की जाए। ग्लास बेरियर के माध्यम से बातचीत की सुविधा दी जाए। इसी प्रकार पेरोल से लौटने वाले कैदियों को 14 दिन के आइसोलेशन में रखा जाए। वृद्धा आश्रम में भी मुलाकात करने वाले की संख्या कम से कम रखी जाए। कलेक्टरेट में कम से कम बैठक आयोजित की जाए। जरूरत पड़ने पर सीमित लोगों को बैठक में बुलाए। इसके अलावा वेबकास्टींग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, फेसबुक आदि के माध्यम से सम्पर्क कर जरूरी निर्देश दिए जाए।
 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि जनप्रतिनिधियों, मंत्रिगणों, विधायक, महापैार, जिला पंचायत, जनपद अध्यक्ष के बंगलों में लोगों की सभाएं न हो। सभी जिलों में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए राज्य स्तरीय कोर कमेटी के समान ही जिला कोर कमेटी का गठन कर लिया जाए। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए टीम का गठन कर लिया जाए। इसके लिए स्कूल शिक्षा, महिला बाल विकास, नगरीय प्रशासन आदि विभाग के अधिकारियों को लिया जाए। क्वारेन्टाइन सेन्टर का संचालन करते समय वहां सुरक्षा बल तैनात किए जाए।
 मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कोरोना वायरस के परीक्षण के लिए रायगढ़ और जगदलपुर में कोरोना वायरस परीक्षण के लिए लैब की व्यवस्था के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी प्रकार के प्रशिक्षण स्थगित किए जाए। मुख्यमंत्री ने क्वारेन्टाइन सेन्टर और कोरोना परीक्षण से जुड़े स्वास्थ्य कर्मचारियों को विशेष भत्ता दिए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के उपचार के दौरान स्वास्थ्यकर्मी से अच्छा व्यवहार करें, इसका ध्यान रखा जाए।  
 
बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने कोरोना वायरस के बचाव के कार्यों में सी.आर.पी.एफ. में पदस्थ डॉक्टरों तथा अन्य स्टाफ की सेवाएं लेने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि क्वारेन्टाइन सेन्टरों में सुरक्षा बलों की ड्यूटी लगाई जा सकती है। एम्स के डायरेक्टर डॉ. नितिन एम. नागलकर ने बताया कि एम्स में आइसोलेशन वार्ड और डायग्नोस्टिक लैब की व्यवस्था है। 

View More...

निर्भया को मिला इंसाफ, चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में दी गई फांसी

नई दिल्ली, (एजेंसी)।  दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को एक महिला के साथ हुए सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले के चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दे दी गई। इसके साथ ही देश को झकझोर देने वाले, यौन उत्पीड़न के इस भयानक अध्याय का अंत हो गया है।

मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को सुबह पांच बजे फांसी के फंदे पर लटकाया गया। इस मामले की 23 वर्षीय पीड़िता को ‘या निर्भया '' का नाम दिया गया था, जो फिजियोथैरेपी की वेबसाइट थी।

तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा, ने श डॉक्टरों ने शस की जांच की और चारों को मृत घोषित कर दिया। ’’ जेल अधिकारियों ने बताया कि चारों दोषियों के शव करीब आधे घंटे तक फंदे पर झुलने वाले जो जेल नियमावली के अनुसार फांसी के बाद की अनिवार्य प्रक्रिया।दक्षिण एशिया के सबसे बड़े जेल परिसर तिहाड़ जेल में पहली बार चार दोषियों को एक साथ एक कर दिया गया। इस जेल में 16,000 से अधिक कैदी हैं। आरतों दोषियों ने फांसी से बचने के लिए अपने सभी कानूनी विकल्पों का पूरा इस्तेमाल किया और बृहस्पतिवार की रात तक इस मामले की सुनवाई चली।

सामूहिक बलात्कार और हत्या के इस मामले के इन दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तीन बार सजा की तामील के लिए तारीखें तय हुईं लेकिन फांसी टलती गई। अंतत: आज सुबह चारों ओर दोषियों को फांसी दे दी गई.आखिरी पैंतरा का नेतृत्व एक दोषी ने दिल्ली उच्च न्यायालय और फांसी से कुछ घंटे पहले सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

फांसी से कुछ घंटे पहले पवन कुमार गुप्ता ने राष्ट्रपति द्वारा दूसरी दया याचिका खारिज किए जाने को चुनौती देते हुए सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया।A प्रारूप के से रात रात ढाई बजे सुनवाई शुरू हुई और एक घंटे तक चली गई। सर्वोच्च न्यायालय की एक पीठ ने उसकी याचिका खारिज करते हुए फांसी का रास्ता साफ कर दिया। नान्यालय ने गुप्ता और अक्षय सिंह को फांसी से पहले अपने परिवार के सदस्यों से मुलाकात करने की अनुमति देने पर भी कोई आदेश देने से इनकार कर दिया।
सात साल लंबी कानूनी लड़ाई के बाद अपनी बेटी को आखिरकार न्याय मिलने से राहत महसूस कर रही निर्भया के माता-पिता ने कहा कि वे ‘बेट भारत की बेटियों के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे।

निर्भया की मां आशा देवी ने फांसी के बाद पत्रकारों से कहा, ‘आखिर हमें आखिरकार न्याय मिला। हम भारत की बेटियों के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। न्याय में देरी हुई लेकिन न्याय मिला। ’’ उन्होंने कहा कि दोषियों की फांसी के बाद अब महिलाएं निश्चित रूप से सुरक्षित महसूस करती हैं ।गी। उन्होंने कहा कि पूरा देश जा रहा था और न्याय का इंतजार कर रहा था।

तिहाड़ जेल के बाहर शुक्रवार तड़के ही सैकड़ों लोग इकट्ठा हो गए। उनके हाथों में राष्ट्रध्वज था और वे निर् अमर रहें निर्भया ’और की भारत माता की जय’ के नारे रहे थे। जैसे ही फांसी हुई तो उनमें खुशी की लहर दौड़ पड़ी। उनमें से कुछ ने फांसी के बाद मिठाइयां बांटी।

चलती बस में निर्भया के साथ छह व्यक्तियों ने सामूहिक बलात्कार करने के बाद उसे बुरी तरह पीटा, घायल कर दिया और सर्दी की रात में चलती बस से नीचे सड़क पर फेंक दिया था। 16 दिसंबर 2012 को हुई इस घटना ने पूरे देश की आत्मा को झकझोर दिया था और निर्भया के लिए न्याय की मांग करते हुए लोग सड़कों पर उतर आए थे।
लगभग एक पखलेट तक जीवन के लिए जूझने के बाद अंतत: सिंगापुर के अस्पताल में निर्भया ने दम तोड़ दिया था। इस मामले में मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार सिंह सहित छह व्यक्ति आरोपी बनाए गए। इनमें से एक नाबालिग था।
मामले के एक आरोपी राम सिंह ने सुनवाई शुरू होने के बाद तिहाड़ जेल में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। नाबालिग को सुनवाई के बाद दोषी ठहराया गया और उसे सुधार गृह भेज दिया गया। तीन साल तक सुधाार घर में रहने के बाद उसे 2015 में रिहा कर दिया गया।
इस मामले में लंबी कानूनी लड़ाई चली गई और यह निचली अदालतों से उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय और राष्ट्रपति के पास पहुंच गए।
अदालत ने इस आधार पर तीन बार मौत का वारंट रोका कि दोषियों ने अपने सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल नहीं किया था और एक के बाद एक ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजी थी। पांच मार्च को एक निचली अदालत ने मौत का नया वारंट जारी किया जिसमें फांसी की अंतिम तारीख 20 मार्च को सुबह साढ़े पांच बजे तय की गई। (भाषा)

View More...

निर्भया मामला: दोषी पवन कुमार गुप्ता की क्यूरेटिव पिटीशन खारिज

नयी दिल्ली, (एजेंसी )।  उच्चतम न्यायालय ने 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार-हत्या मामले में दोषी पवन कुमार गुप्ता की क्यूरेटिव पिटीशन सोमवार को खारिज की। पवन समेत चार दोषियों को इस मामले में मौत की सजा सुनायी गई है।न्यायमूर्ति एन वी रमन्ना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि कहा दोषी की दोषसिद्धि और सजा की पुन: समीक्षा का कोई मामला नहीं बनता।पीठ के अन्य सदस्य न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन, न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण हैं।

अब सिर्फ पवन के पास दया याचिका का विकल्प
निर्भया के चार दोषियों में से केवल पवन के पास दया याचिका का इकलौता कानूनी विकल्प शेष है। बाकी तीन दोषी विनय शर्मा, मुकेश सिंह और अक्षय ठाकुर पहले ही सभी विकल्पों का इस्तेमाल कर चुके हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट पवन की नाबालिग होने की याचिका और इस पर उसकी रिव्यू पिटीशन खारिज कर दी थी।(भाषा)

View More...

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दो दिवसीय प्रवास पर बिलासपुर पहुंचे

रायपुर। राष्ट्रपति  रामनाथ कोविंद भारतीय वायुसेना की तीन हेलीकाप्टर के काफिश के साथ  दो दिवसीय प्रवास पर जिला मुख्यालय बिलासपुर के पंडित सुन्दर लाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय स्थित हेलीपेड पहुंचे। राष्ट्रपति श्री कोविंद के साथ छत्तीसगढ़ के राज्यपाल सुश्री इंदिरा उईके भी पहुंची। राज्य शासन की ओर से प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल ने हेलीपेड में राष्ट्रपति श्री कोविंद की अगुवानी की और उनका हार्दिक स्वागत किया। इस मौके पर राज्यपाल के सचिव श्री सोनमणि बोरा भी मौजूद थे। इस अवसर पर महापौर रामशरण यादव, कमिश्नर बी.एल.बंजारे, पुलिस महानिरीक्षक श्री दीपांशु काबरा, कलेक्टर डॉ। संजय अलंग, पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रितेश अग्रवाल ने भी स्वागत किया। तत्पश्चात राष्ट्रपति श्री कोविंद छत्तीसगढ़ भवन के लिए रवाना हुए। राष्ट्रपति श्री कोविंद 2 मार्च को गुरू गोसीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय कोनी में आयोजित दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे। कार्यक्रम पश्चात वे स्वामी विवेकानंद विमानतल रायपुर के लिए रवाना होंगे।

View More...

पवार की नजर अब देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश पर : संगठन को करेंगे मजबूत

लखनऊ (एजेंसी)।  महाराष्ट्र में भाजपा को पटखनी देने के बाद राकांपा अध्यक्ष शरद पवार की नजर अब देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश पर है और वह पार्टी का संगठन यहां मजबूत करना चाहते हैं।प्रदेश कार्यकर्ता सम्मेलन में पवार ने कहा, 'देश में अलग तरह का माहौल है। जिनके हाथ में हुकूमत है, उन्होंने आम जनता की समस्याओं को नजरअंदाज किया। देश के इतिहास में उत्तर प्रदेश का अलग स्थान है। स्वतंत्रता आंदोलन में काफी बड़ा योगदान है। सबसे ज्यादा नेता उत्तर प्रदेश से पैदा हुए। उत्तर प्रदेश में देश को सही रास्ते पर लाने की क्षमता है।' 
उन्होंने कहा, '2004 में जब मैं कृषि मंत्री बना तो शपथ के पहले ही दिन एक फाइल मेरे सामने आयी। उसमें था कि देश के पास गेहूं नहीं है और आयात करना होगा। यह जानकर बहुत दु:ख हुआ। इतना बड़ा देश और हमें अमेरिका, ब्राजील या आस्ट्रेलिया से गेहूं खरीदने की नौबत आये। फाइल दूर रख दी। अगले दिन तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का फोन आया कि गोदामों में अनाज काफी कम है। जितनी जल्दी संभव हो, इंतजाम किया जाए। मैंने अपने मन के खिलाफ विदेश से गेहूं मंगाया। तभी तय किया कि स्थिति में बदलाव लाना है। 2014 में मैंने कृषि मंत्री का पद छोडा तो खुशी इस बात की थी कि 2004 में आयात किया था लेकिन 2014 में जब छोड़ा तो भारत दुनिया के देशों को अनाज भेजने वाला देश बन गया। भारत ने पहले नंबर पर चावल पैदा किया और निर्यात किया। दूसरे नंबर पर गेहूं पैदा किया और निर्यात किया।पवार ने कहा कि आज किसान आत्महत्या करने पर मजबूत हो रहे हैं। खाद और तेल के दाम बढ़ रहे हैं। बैंकों और साहूकारों का पैसा वापस नहीं कर पाने की स्थिति में बेइज्जती से बचने के लिए कभी कभी किसान आत्महत्या कर लेते हैं। यह देश का दुर्भाग्य है।
उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में हर क्षेत्र में बेरोजगारी बढी। बेरोजगारी रहेगी तो मुल्क में शांति कैसे रहेगी। आज का नौजवान रोजी रोटी के लिए दूसरे राज्यों का रूख करता है। ये स्थिति ठीक नहीं है। सरकार जवाब दे कि बेरोजगारी कैसे जाएगी।
राकांपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा एक के बाद राज्यों में चुनाव हारती गयी, चाहे मध्य प्रदेश हो, राजस्थान हो या दिल्ली। दिल्ली में भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी थी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी जुटे। भाजपा नेताओं की डयूटी लगायी गयी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री लगाये गये । लेकिन दिल्ली की जनता ने दिखाया कि देश में बदलाव की शुरूआत हुई है। (भाषा)

View More...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गृह मंत्री अमित शाह से की मुलाकात

नयी दिल्ली (एजेंसी )। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बुधवार को मुलाकात की।हाल ही में दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में केजरीवाल के कामकाज संभालने के बाद यह उनकी शाह के साथ पहली बैठक है। यह बैठक करीब 20 मिनट तक शाह के आवास पर चली। पहले यह बैठक गृह मंत्रालय में होनी थी।
केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘ माननीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी से मुलाकात की। काफी सार्थक और अच्छी बैठक रही। दिल्ली से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा हुई। हम दोनों ही इस बात पर सहमत हुए कि दिल्ली के विकास के लिए हम साथ काम करेंगे।’’ 
शाह ने विधानसभा चुनाव के दौरान केजरीवाल पर आक्रामक निशाना साधा था। इस चुनाव में हालांकि भाजपा सिर्फ आठ सीटें ही जीत पाई और आम आदमी पार्टी के खाते में 62 सीटें आईं। (भाषा)

View More...

जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में मुठभेड़ में हिजबुल के तीन आतंकवादी ढेर

श्रीनगर (एजेंसी )।  जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल इलाके में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकवादी मारे गए। मारे गए आतंकवादियों में संगठन का एक स्वयंभू कमांडर भी शामिल है।पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।उन्होंने कहा कि आतंकवादियों के बारे में सूचना मिलने पर सुरक्षा बलों ने मंगलवार देर रात त्राल में तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हुई।पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि त्राल क्षेत्र में अभियान में हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकवादी मारे गए।सिंह ने कहा कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान जहांगीर अहमद वानी, राजा उमर मकबूल और सदात अहमद के रूप में हुयी है। वानी ने हम्माद के मारे जाने के बाद क्षेत्र में संगठन की कमान संभाली थी।
उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल से दो एके राइफल, एक पिस्तौल और दो हथगोले सहित अन्य हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं।डीजीपी ने कहा कि पिछले महीने से विभिन्न मुठभेड़ों में 23 आतंकवादियों का सफाया किया गया है। (भाषा) 

View More...

छत्तीसगढ़ में आईटी, आयुर्वेद और सर्विस इंडस्ट्री में निवेश की बेहतर संभावनाएं : मुख्यमंत्री

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अमेरिका प्रवास के दौरान न्यूयॉर्क में कांसुलेट जनरल ऑफ इंडिया में यूएस इण्डिया स्ट्रेटिजिक पार्टनरशिप फोरम के साथ एक बिजनेस मीटिंग में शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अपने उद्बोधन में कहा कि छत्तीसगढ़ में आईटी, इलेक्ट्रानिक्स, बायोे फ्यूल, टेक्सटाईल, फार्मा, आयुर्वेद और सर्विस इंडस्ट्री में निवेश की बेहतर संभावनाएं मौजूद है। उन्होंने राज्य सरकार की नई औद्योगिक नीति के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। कांसुलेट जनरल संदीप चक्रबर्ती ने मीटिंग की औपचारिक शुरूआत की।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने उद्बोधन में छत्तीसगढ़ और राज्य सरकार के नवाचारों और विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी । उन्होंने छत्तीसगढ़ में औद्योगिक निवेश की संभावनाओं पर विस्तार से जानकारी देते हुए इन सेक्टरों में निवेश हेतु उपस्थित निवेशकों को आमंत्रित किया।  मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़, उड़ीसा और झारखंड तीन ऐसे राज्य हैं जहां लोहा, कोयला और बाक्साइट है। हमारे छत्तीसगढ़ में हीरा भी है लेकिन उसकी खुदाई अभी शुरू नहीं हुई है।
श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में खनिज संसाधन पर्याप्त मात्रा में है। हमारे यहां कोर सेक्टर में बहुत से उद्योग हैं। यहां पहले साढे 4 हजार मेगावाट विद्युत का उत्पादन होता था जो बढ़कर 22 हजार मेगावाट हो चुका है। यहां से गोवा, तेलंगाना, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट सहित अनेक राज्यों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। उन्होंनेे कहा कि हमारे यहां सीमेंट प्लांट बहुत हैं। कोरबा जहां कोल ब्लाक भी है। यह जिला अकेले दस हजार मेगावाट विद्युत का उत्पादन करता है। यहां एल्युमिनियम प्लांट भी है। श्री बघेल ने राज्य की भौगोलिक, प्राकृतिक संसाधनों, सामाजिक-आर्थिक और सांस्कृतिक विशेषताओं की विस्तार से जानकारी देते हुए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी दी। इस मौके पर छत्तीसगढ़ राज्य पर बनी फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।

View More...

आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भारत पूर्ण रूप से सक्षम है : मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज आतंकवाद एक विचारधारा बन गया है जिसकी जड़ें हमारे पड़ोस में फलफूल रही हैं। आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भारत पूर्ण रूप से सक्षम है और हमने इसे करके दिखाया भी है।

मथुरा (एजेंसी )। प्रधानमंत्री ने कहा, कि आज आतंकवाद एक विचारधारा बन गया है जो किसी सरहद से नही बंधा है और एक वैश्विक समस्या है जिसकी जड़ें हमारे पड़ोस में विषबेल की तरह फलफूल रही हैं । इस विचारधारा को आगे बढ़ाने वालों, आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ आज पूरे विश्व को संकल्प लेने और कड़ी कार्रवाई की जरूरत हैं। उन्‍होंने कहा कि आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भारत पूर्ण रूप से सक्षम है और हमने इसे करके दिखाया भी है।

प्रधानमंत्री ने कहा, 'भारत अपने स्तर पर इस चुनौती से निपटने में पूरी तरह सक्षम है और हमने यह दिखाया भी है और आगे भी दिखायेंगे । आतंकवादी कानून को कड़ा करने का फैसला भी इसी दिशा में किया गया एक प्रयास है । अब संगठनों का नाम बदलकर अपने कारनामों को नही छुपा पायेंगे । समस्या चाहे आतंक की हो, प्रदूषण की हो, बीमारी की हो, हमें मिलकर इनको पराजित करना है। आइए, हम इसका संकल्प लें ।' 

मथुरा में मोदी ने बुधवार को राष्ट्रीय पशु रोग उन्मूलन कार्यक्रम लॉन्च किया। उन्होंने पशुओं के पैर और मुंह के रोगों को दूर करने और टीकाकरण की व्यवस्था कर, स्वास्थ्य से जुड़ी परियोजनाओं का लोकार्पण किया ।(भाषा)

View More...
Previous1234567Next