Top News

Previous123456789...8283Next

भारतीय सेना ने अपनी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन का किया सफल परीक्षण

Date : 24-Nov-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। एलएसी पर चीन और एलओसी पर पाकिस्तान से तनातनी के बीच भारतीय सेना को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। भारतीय सेना ने अपनी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन का आज सफल परीक्षण कर दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय सेना ने मंगलवार को अंडमान और निकोबार द्वीप से इस क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया। ब्रह्मोस मिसाइल का निशाना वहां मौजूद एक अन्य द्वीप पर था।

इस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का परीक्षण सुबह दस बजे किया गया और मिसाइल ने सफलतापूर्वक अपने लक्ष्य पर निशाना साधा। यह परीक्षण भारतीय सेना ने किया था। सेना में डीआरडीओ की ओर से विकसित मिसाइल प्रणाली की कई रेजिमेंट शामिल हैं। ब्रह्मोस मिसाइल की स्ट्राइक रेंज अब 400 किलोमीटर से ज्यादा बढ़ा दी गई है। सूत्रों के अनुसार, चीन और पाकिस्तान के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा और नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच भारत इस सप्ताह सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के कई लाइव परीक्षण करेगा।

बता दें कि भारत चीन और पाकिस्तान के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच अपनी ताकत में इजाफा करने में जुटा हुआ है। भारत लगातार क्रूज और बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण कर रहा है। जिसमें उसे सफलता भी मिल रही है। पहले जितने परीक्षण पूरे साल में हुआ करते थे, उससे ज्यादा परीक्षण गत दो से तीन माह के भीतर हो चुके हैं।

View More...

भारत सरकार ने लगाई देश में इस्तेमाल किए जा रहे 43 मोबाइल ऐप रोक

Date : 24-Nov-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत सरकार ने देश में इस्तेमाल किए जा रहे 43 मोबाइल ऐप पर मंगलवार को रोक लगा दी है। इसे सूचना प्रौद्योगिकी एक्ट की धारा 69ए के तहत प्रतिबंधित किया गया। केन्द्र सरकार की तरफ से यह कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि ऐसे इनपुट्स थे कि ये ऐप भारत की संप्रभुता, एकता और सुरक्षा के लिए खतरा हैं। गौरतलब है कि इससे पहले चीनी मोबाइल कंपनियों के टिकटॉक और यूसी समेत कई ऐप को सुरक्षा और एकता के लिए खतरा बताते हुए केन्द्र सरकार ने बैन किया था। चीनी मोबाइल कंपनियों पर बैन का यह कदम भारत सरकार की ओर से पहली बार ऐसे समय पर उठाया गया था जब एलएसी पर चीन के साथ तनाव चरम पर चल रहा है।

00 भारत में जिन मोबाइल ऐप के इस्तेमाल को प्रतिबंधित किया गया है वो हैं-
AliSuppliers Mobile App
Alibaba Workbench
AliExpress - Smarter Shopping, Better Living
Alipay Cashier
Lalamove India - Delivery App
Drive with Lalamove India
Snack Video
CamCard - Business Card Reader
CamCard - BCR (Western)
Soul- Follow the soul to find you
Chinese Social - Free Online Dating Video App & Chat
Date in Asia - Dating & Chat For Asian Singles
WeDate-Dating App
Free dating app-Singol, start your date! Adore App
TrulyChinese - Chinese Dating App
TrulyAsian - Asian Dating App
ChinaLove: dating app for Chinese singles
DateMyAge: Chat, Meet, Date Mature Singles Online
AsianDate: find Asian singles
FlirtWish: chat with singles
Guys Only Dating: Gay Chat
Tubit: Live Streams
WeWorkChina
First Love Live- super hot live beauties live online
Rela - Lesbian Social Network
Cashier Wallet
MangoTV
MGTV-HunanTV official TV APP
WeTV - TV version
WeTV - Cdrama, Kdrama&More
WeTV Lite
Lucky Live-Live Video Streaming App
Taobao Live
DingTalk
Identity V
Isoland 2: Ashes of Time
BoxStar (Early Access)
Heroes Evolved
Happy Fish
Jellipop Match-Decorate your dream island!
Munchkin Match: magic home building
Conquista Online II

View More...

शिवराज सरकार का बडा एलान, महिला आरक्षक भर्ती में ऊंचाई की सीमा को घटाया, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया को दी जानकरी

Date : 24-Nov-2020

भोपाल (एजेंसी)। पुलिस बनने का सपना देख रहे मध्यप्रदेश की महिलाओं के लिए अच्छी खबर निकलकर सामने आई है। दरअसल शिवराज सरकार ने महिला आरक्षक भर्ती में ऊंचाई की सीमा को घटा दिया है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ऊंचाई की सीमा कम होने की जानकारी मीडिया को दी।

मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि महिला आरक्षक भर्ती में ऊंचाई की सीमा अब कम होगी। सरकार का यह नया नियम अगली भर्ती प्रक्रिया में लागू होगी। उल्लेखनीय है कि लंबे समय से ऊंचाई की सीमा घटाने की मांग की जा रही थी। वहीं अब सरकार ने मांग पर अमल किया है।
बता दें कि मध्यप्रदेश में म​हिला आरक्षक भर्ती में पहले 158 सेंटीमीटर ऊंचाई की सीमा तय थी। इसे 3 सेंटीमीटर तक सरकार ने घटाया है। सरकार के ऐलान के बाद महिला आरक्षक भर्ती में ऊंचाई की सीमा अब 155 सेंटीमीटर होगी, जो अगली भर्ती प्रक्रिया में लागू होगी।

View More...

कोरोना वैक्सीन : सबसे पहले प्रदेश के सरकारी और निजी अस्पतालों के 5 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को लगाया जाएगा टीका

Date : 24-Nov-2020

भोपाल (एजेंसी)। मध्यप्रदेश में कोरोना महामारी ने एक बार फिर पैर पसारना शुरु कर दिया है। इस बीच मध्यप्रदेश सरकार ने कोरोना टीकाकरण की तैयारी कर ली है। फिलहाल ये तो तय नहीं है कि कोरोना की वैक्सीन कब उपलब्ध होगी? लेकिन सरकार ने जरूर ये तैयारी कर ली है कि जब भी वैक्सीन उपलब्ध होगी तो सबसे पहले टीका किसे लगाया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, सबसे पहले प्रदेश के सरकारी और निजी अस्पतालों के 5 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को यह टीका लगाया जाएगा। इसके बाद राज्य के 60 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों को बुलाकर टीका लगाया जाएगा। इसके लिए उन्हें एसएमएस के जरिए सूचना दी जाएगी।

बता दें कि फिलहाल इस श्रेणी के 30 लाख लोग शामिल हैं। कोरोना का टीकाकरण चरणबद्ध तरीके से कैसे संभव होगा? इसकी रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग ने तैयार करके सरकार को भेज दी है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को सभी मुख्यमंत्रियों से कोरोना के टीकाकरण को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात करेंगे। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश में कोरोना के टीकाकरण को लेकर तैयारियों की जानकारी प्रधानमंत्री को दे सकते हैं।

View More...

भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए लेंगे सबकी मदद, देश भर में अभियान चलाएगा विश्व हिंदू परिषद

Date : 24-Nov-2020

अयोध्या (एजेंसी)। अयोध्या में राम मंदिर की नींव के मुख्य काम की शुरुआत अक्टूबर से हो चुकी है। नींव के फाउंडेशन का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य जून 2021 तय किया गया है। भव्य राम मंदिर के निर्माण को लेकर धन जुटाने के लिए विश्व हिंदू परिषद ने राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के साथ मिलकर अयोध्या में जनवरी से एक देशव्यापी अभियान शुरू करने की योजना बनाई है।

राम मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाने के कार्यक्रम का फैसला विहिप की बुलाई गई दो दिवसीय केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल सभा में लिया गया। विहिप ने अपने एक बयान में कहा कि अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए मार्गदर्शक मंडल खुले दिल से योगदान करने के लिए दुनिया भर के राम भक्तों का स्वागत करता है। विहिप मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाने के महत्वाकांक्षी अभियान की शुरुआत 15 जनवरी को करेगा जो 27 फरवरी तक चलेगा। इस अभियान की तैयारी की समीक्षा करने के लिए, राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य दिसंबर के पहले हफ्ते में पटना में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात करेंगे।

जानकारी के अनुसार, ट्रस्ट और आरएसएस प्रमुख के सदस्यों के बीच मंदिर निर्माण के लिए धन इकठ्ठा करने के अभियान को लेकर यह पहली औपचारिक बैठक होगी। विहिप की आरएसएस प्रमुख के साथ होने वाली बैठक का मकसद इस अभियान के एक कोर्स को पूरा करना और योजना को प्रभावी ढंग से लागू करना है।

00 11 करोड़ परिवारों तक पहुंचने की उम्मीद
सूत्रों के मुताबिक, विहिप ने संघ और उसके सहयोगियों से चंदा इकट्ठा करने में हाथ बंटाने की अपील की है। इस अभियान के तहत राम मंदिर निर्माण के लिए फंड जुटाने को लेकर 11 करोड़ परिवारों तक पहुंच बनाने की उम्मीद जताई है, जिसके लिए वह संघ के साथ-साथ अन्य हिंदू संगठनों की मदद भी ले रहा है।

एक सूत्र से मिली जानकारी के मुताबिक, कई लोग अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान देना चाहते हैं। ऐसे लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए इस अभियान का मकसद फंड इकठ्ठा करने लिए ऐसे 4 लाख से ज्यादा गांवों और लगभग 11 करोड़ परिवारों तक पहुंचना है।

00 दान देने के लिए बनाए गए कूपन
सूत्रों ने कहा कि इस कैंपेन के जरिए जो भी फंड इकठ्ठा किया जाएगा, उसे अगले दिन भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं में ट्रस्ट के खाते में जमा किया जाएगा।राम मंदिर निर्माण के लिए धन देने वालों को किट दी जाएगी। उन्होंने बताया कि दान देने की प्रक्रिया बहुत ही पारदर्शी बनाई गई है और दान देने वालों के लिए अलग-अलग राशियों के कूपन भी बनाकर रखे गए हैं। दान के लिए 10 रुपये, 100 रुपये और 1,000 रुपये के कूपन होंगे, वहीं 2,000 रुपये से ज्यादा की दान राशि के लिए बाकायदा रसीदें भरी जाएंगी।

View More...

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय पंडा और उनकी पत्नी पर लगा दलितों की जमीन हड़पने का आरोप, पढे पूरी खबर

Date : 24-Nov-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत उर्फ़ जय पंडा और उनकी पत्नी जगी मंगत पंडा के ऊपर अब ख़तरे के बादल मंडराने लगे हैं। दलितों की ज़मीन हड़प करने के कथित आरोप में ओडिशा पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने दोनों के ख़िलाफ़ एक केस दायर किया है। पंडा दंपति ने इस मामले में ओडिशा हाईकोर्ट में पुलिस के केस के ख़िलाफ़ एक याचिका दायर की थी जिसे कोर्ट ने शुक्रवार को ख़ारिज कर दिया। साथ ही अदालत ने पांच नवंबर को जय और जगी को दी गई अंतरिम सुरक्षा हटा दी। हाईकोर्ट के इस निर्णय के बाद जय और जगी की गिरफ़्तारी का रास्ता साफ़ हो गया है।

00 क्या है मामला?
31 अक्तूबर को ओडिशा पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और ओडिशा भूसंस्कार क़ानून के तहत ओडिशा इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड (ओआईपीएल) के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की थी। जय और जगी इस कंपनी के प्रमोटर हैं।

ओआईपीएल पर आरोप है कि 2010 से 2013 के बीच कंपनी ने खुर्दा ज़िले के सारूआ गांव में ग़ैर-क़ानूनी ढंग से 22 दलितों से 7.924 एकड़ ज़मीन ख़रीदी।ग़ौरतलब है कि ओडिशा में आदिवासियों और दलितों की ज़मीन को ग़ैर-आदिवासी/दलित नहीं ख़रीद सकते हैं। केवल विशेष परिस्थितियों में और ज़िलाधीश की अनुमति मिलने पर ही एक दलित, किसी ग़ैर-दलित को अपनी ज़मीन बेच सकता है। लेकिन ऐसी अनुमति मिलना आमतौर पर काफ़ी मुश्किल होता है।

ओआईपीएल पर आरोप है कि उसने इस क़ानून से बचने के लिए रवि सेठी नाम के अपने एक दलित कर्मचारी का इस्तेमाल किया, जो पंडा परिवार के ओड़िया टीवी चैनल `ओटीवी` में ड्राइवर की नौकरी किया करते थे।

एफ़आईआर के अनुसार ओआईपीएल ने रवि के ज़रिए 22 दलितों से ज़मीन ख़रीदवा कर अपने नाम करवा लिया। आरोप ये भी है कि ख़रीद-फ़रोख़्त के दस्तावेज़ में तो यह दिखाया गया है कि रवि ने यह ज़मीन 22 लाख में ख़रीदी और फिर उस ज़मीन को ओआईपीएल को 65 लाख में बेच दिया लेकिन असल में रवि और ओआईपीएल के बीच पैसे का कोई लेनदेन नहीं हुआ। केवल ज़मीन संबंधी काग़ज़ात पर उसके हस्ताक्षर लिए गए। एफ़आईआर में बताया गया है कि रवि का वेतन सिर्फ़ आठ हज़ार रुपये प्रति महीना था और 22 लाख देकर ज़मीन ख़रीदने की उनकी हैसियत नहीं थी।

एफ़आईआर दर्ज करने के अगले ही दिन यानी एक नवंबर को पुलिस ने ओआईपीएल के तत्कालीन निदेशक और ओटीवी के मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफ़ओ) मनोरंजन सारंगी को गिरफ़्तार कर लिया था।

00 मामला हाईकोर्ट में
पुलिस केस को चुनौती देते हुए जय और जगी ने हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी जिसमें इस संदर्भ में दर्ज एफ़आईआर को ख़ारिज किए जाने की अपील की गई थी। पांच नवंबर को मामले की पहली सुनवाई में जय और जगी ने यह कहकर कोर्ट से सुरक्षा माँगी थी कि पुलिस उन दोनों को गिरफ़्तार कर सकती है क्योंकि वे दोनों इस कंपनी के प्रमोटर हैं। हाईकोर्ट ने उन्हें अंतरिम सुरक्षा प्रदान की थी और मामले की अगली सुनवाई के लिए 13 नवंबर की तारीख़ मुक़र्रर की।

13 नवंबर की सुनवाई में मनोरंजन सारंगी ने उन्हें मुक़दमे से बाहर रखे जाने की अपील की क्योंकि वे इस बीच ओआईपीएल के निदेशक पद और ओटीवी के सीएफ़ओ पद से भी इस्तीफ़ा दे चुके हैं। हाईकोर्ट ने उनके आवेदन को स्वीकार किया और उन्हें इस मामले से बाहर रखने का आदेश जारी कर दिया। लेकिन मुख्य याचिका पर अपनी राय संरक्षित रखते हुए पाँच नवंबर को पंडा दंपति को दी गई अंतरिम सुरक्षा की अवधि मामले पर अंतिम फ़ैसला होने तक बढ़ा दी गई थी।

पिछले शुक्रवार को मामले पर अपना फ़ैसला सुनाते हुए न्यायाधीश बीपी राऊतराए की खंडपीठ ने पंडा दंपति द्वारा दायर याचिका को यह कहकर ख़ारिज कर दिया कि इस समय मामले की जाँच में कोर्ट के हस्तक्षेप करने की कोई आवश्यकता नहीं है। कोर्ट ने उनकी इस दलील को स्वीकार नहीं किया कि यह मामला सत्तारूढ़ पार्टी के द्वेष और ग़लत मंशा का नतीजा है।

कोर्ट ने कहा कि इस आरोप को साबित करने के लिए आवेदनकारियों की ओर से कोई दस्तावेज़ पेश नहीं किया गया। साथ ही खंडपीठ ने उन्हें दी गई अंतरिम सुरक्षा भी हटा दी।
इस फ़ैसले के बाद अब जय और जगी की गिरफ़्तारी के लिए रास्ता साफ़ हो गया है। हालांकि उन्हें सचमुच गिरफ़्तार किया जाएगा या नहीं, इस बारे में पुलिस आर्थिक अपराध शाखा ने अभी तक कोई संकेत नहीं दिया है।

00 पंडा दंपति की प्रतिक्रिया
मामले पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जगी पंडा ने कहा कि सारे आरोप ग़लत और निराधार हैं। उन्होंने कहा, `असल में जिस क़ानून के तहत एफ़आईआर दर्ज की गई है, वह क़ानून इस मामले में लागू नहीं होता क्योंकि जिस इलाक़े में यह ज़मीन ख़रीदी गई वह औद्योगिक इलाक़ा है। वहाँ हमने 100 एकड़ से अधिक ज़मीन ख़रीदी है और उसपर एक `इको फ़्रेंडली` और सौर ऊर्जा चालित फ़िल्म सिटी बनाई है जहां सैकड़ों लोग काम करते हैं। यहाँ सिनेमा और टीवी सीरियल बनाए जाते हैं। जिस सात एकड़ की बात की जा रही है वह इस फ़िल्म सिटी का एक छोटा सा हिस्सा है। यह ज़मीन ख़रीदते समय हमने सारे क़ानून और नियमों का पालन किया है। हम इस मामले की निष्पक्ष जाँच की माँग करते हैं और हमें पूरा विश्वास है कि अंत में हम सही साबित होंगे।`

जगी ने कहा कि ओटीवी ने जिस तरह नवीन पटनायक सरकार में हुए भ्रष्टाचार को उजागर किया है, उससे नाराज़ होकर सरकार ने पिछले कुछ हफ़्तों में उनकी कंपनियों, कर्मचारियों और परिवार के सदस्यों पर लगभग 20 मामले दायर किए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि `सभी मामलों में पुलिस ने पक्षपात किया है और सारे नियमों को ताक पर रखा।`

00 कौन हैं जय पंडा और क्या है राजनीति
एक समय था जब जय पंडा, बीजू जनता दल अध्यक्ष और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के सबसे क़रीबी दोस्तों में से एक थे। वैसे तो इस मित्रता के कई कारण थे लेकिन सबसे बड़ा कारण यह था कि नवीन के स्वर्गीय पिता और पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक और जय के पिता और जाने माने उद्योगपति डॉक्टर बंशीधर पंडा अच्छे मित्र थे और दोनों में पारिवारिक संबंध थे। जय बीजू को बीजू अंकल पुकारा करते थे। ऐसे में यह स्वाभाविक था कि नब्बे के दशक के अंत में जब नवीन पटनायक अपने पिता के देहांत के बाद राजनीति के मैदान में उतरे तो जय उनके क़रीबी मित्र बन गए। यह मित्रता क़रीब डेढ़ दशक तक चली।
साल 2000 से लेकर 2014 तक जय पंडा, राजधानी दिल्ली में बीजेडी का `चेहरा` हुआ करते थे और लगभग हर टीवी बहस में पार्टी का प्रतिनिधित्व करते थे। नवीन से मित्रता के कारण जय दो बार राज्यसभा और दो बार लोकसभा सदस्य बने और केंद्रापड़ा लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया।

00 रिश्तों में दरार
लेकिन 2014 के चुनाव के आसपास दोनों के रिश्तों में दरार नज़र आने लगी। दोनों के बीच फूट का सही कारण किसी को नहीं पता। लेकिन इस मामले को क़रीब से देखने वालों की मानें तो जय की राजनीतिक महत्वकांक्षाएं और पार्टी में किसी दूसरे का क़द बढ़ने को लेकर नवीन पटनायक की असहिष्णुता के कारण ही दोनों में अनबन शुरू हुई।

साल 2014 से लेकर 2019 के आम चुनाव के पहले तक दोनों के बीच रस्साकशी चलती रही। इस दौरान जय, नवीन के ख़िलाफ़ खुलकर सामने नहीं आये। लेकिन चुनाव के ठीक पहले जब जय ने भाजपा से नज़दीकियां बढ़ानी शुरू की, तब दोनों के बीच की लड़ाई खुलकर सामने आ गई।

साल 2019 के चुनाव में जब भाजपा ने जय को केंद्रापड़ा लोकसभा क्षेत्र से अपना प्रत्याशी चुना तो उन्हें हराने के लिए नवीन और बीजेडी ने सब कुछ झोंक दिया। नतीजा यह हुआ कि जय जिस लोकसभा क्षेत्र का लगातार दो बार प्रतिनिधित्व कर चुके थे, वहीं से वे क़रीब डेढ़ लाख वोट से हार गए और सिने स्टार अनुभव मोहंती वहाँ से सांसद बन गए।

00 आगे क्या होगा?
चुनाव के बाद नवीन और जय के बीच लड़ाई और भी तीखी हो गई। जय पंडा पर कभी चिलका झील के ऊपर हेलिकॉप्टर उड़ाने के लिए मामला दर्ज कर उनके हेलिकॉप्टर को ज़ब्त किया गया। कभी पंडा परिवार की कंपनी इंफा द्वारा क्रोम खनिज परिवहन के रास्ते पर पर्याप्त सिंचाई न करने के आरोप में कंपनी द्वारा खनन का काम बंद किया। जय पंडा की कंपनियों के ख़िलाफ़ 20 मामले दर्ज किए गए हैं। दलित ज़मीन हड़प का मामला भी इसी क्रम में आता है। लेकिन मामले से संबंधित तथ्यों के आधार पर यह ज़रूर कहा जा सकता है कि शायद इस मामले से पीछा छुड़ाना आसान नहीं होगा।

View More...

इस बार धान के बंपर आवक की संभावना, लेकिन बारदाने की कमी से हो सकती दिक्कत : खाद्य मंत्री भगत

Date : 23-Nov-2020

रायपुर। धान खरीदी के संबंध में खाद्य मंत्री का बड़ा बयान सामने आया है। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इस बार धान के बंपर आवक की संभावना है, लेकिन बारदाने की कमी से दिक्कत हो सकती है। श्री भगत ने कहा कि इस साल पहले से ज्यादा धान के आवक की संभावना है, और तैयारी भी हम उसी स्तर पर कर रहे हैं, जो दिक्कत होगी वो बारदाने की कमी से ही आएगी। केन्द्र सरकार से जो बारदाना मिलता था, वो इस साल आधे से भी कम आया है।

उन्होंने कहा कि हर साल हम मांग पत्र भेजते थे, और उसी के अनुरुप आपूर्ति होती थी, लेकिन इस साल धान की बंपर पैदावार हुई है, बारदाना नहीं मिलने पर हमने प्रदेश में पुराने बारदाने के इस्तेमाल की व्यवस्था की है। डीलर्स और पीडीएस में जो बारदाने हैं, उनकों इकट्ठा करवा रहे हैं। लेकिन जो गैप आ रहा है उसकी भरपाई के लिए प्लास्टिक के बैग के लिए टेंडर किया है।

उन्होंने बिचौलियों को लेकर कहा कि हमने प्रशासनिक स्तर पर तैयारी कर ली है। अधिकारियों से कह कि दूसरे प्रदेश के लोग भी धान खपाने की कोशिश करेंगे, उसे लेकर सख्ती से कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जो धान खरीदी की नीति बनाई ती, वो अपने प्रदेश के किसानों को लाभ देने के लिए है, ना कि अन्य प्रदेशों के लोगों के लिए। अन्य प्रदेश के लोगों के धान खपाने से यहां की व्यवस्था में प्रभाव पड़ेगा, बलरामपुर, गरियाबंद कलेक्टर ने गाड़ी भी पकड़ी है। बाकी लोगों को भी हमने कहा है कि बिचौलियों पर तुरंत कार्रवाई करें।

View More...

कोरोना की स्‍वदेशी वैक्‍सीन का ट्रायल अगले एक से दो महीने में पूरा होने की संभावना : स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन

Date : 23-Nov-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना संकट से पूरी दुनिया जूझ रही है. हर किसी को इसकी वैक्सीन का इंतजार है। वहीं, कोरोना वायरस की अधिकांश भारतीय वैक्‍सीन का अंतिम ट्रायल अगले दो महीनों में पूरा हो जाएगा, जो काफी सस्‍ती होगी। इसकी जानकारी केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन ने दी। उन्होंने बताया कि कोरोना की स्‍वदेशी वैक्‍सीन का ट्रायल अगले एक से दो महीने में पूरा होने की संभावना है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन ने यह बात एक वेब कॉन्‍फ्रेंस के दौरान कही।

00 स्वदेशी टीके का ट्रायल अंतिम चरण
बताया जा रहा है कि यह सबसे विकसित भारतीय प्रायोगिक टीका है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा, हम अपने स्वदेशी टीके को विकसित करने की प्रक्रिया के अंतिम चरण में हैं। हम अगले एक-दो महीनों में तीसरे चरण के परीक्षण को पूरा करने की प्रक्रिया में है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार की योजना जुलाई तक 20 से 25 करोड़ भारतीयों का टीकाकरण करने की है।

00 कोरोना वैक्‍सीन की कीमत करीब 100 रुपये हो सकती है
बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) भारत बायोटेक ने इस महीने कोवैक्सिन (COVAXIN) के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू कर दिया है, जिसमें 26,000 लोग हिस्सा ले रहे हैं। माना जा रहा है कि कोरोना वैक्‍सीन के स्‍वदेशी टीके की कीमत करीब 100 रुपये हो सकती है। फिलहाल, इसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

00 अमेरिका में 11 से 12 दिसबंर के बीच लग सकता है पहला टीका
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा था कि वैक्‍सीन के क्षेत्र में हम तेजी से काम कर रहे हैं। भारत वैक्‍सीन को बनाने में विश्‍व के किसी भी देश से पीछे नहीं हैं। अगले साल 2021 की शुरुआत में भारत में वैक्सीन लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगी। उन्‍होंने कहा था कि कोरोना वैक्‍सीन जब बनकर तैयार हो जाएगी, तो सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों बुजुर्गों को प्राथमिकता दी जाएगी। बताया जा रहा है कि अमेरिका में कोरोना वायरस की वैक्सीन का पहला टीका 11 से 12 दिसंबर के बीच लग सकता है, जिसके लिए वहां पर तैयारियां जोरों पर चल रही है।

View More...

कोरोना से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीकी मूल के पड़पोते सतीश धुपेलिया का निधन

Date : 23-Nov-2020

जोहानिसबर्ग (एजेंसी)। कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। दुनियाभर में कोरोना महामारी की वजह से लोगों की जिंदगी खतरे में है। अब तक कई बड़ी शख्सियतें भी इस महामारी के चलते अपना जान गंवा बैठे हैं। हाल ही में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीकी मूल के पड़पोते सतीश धुपेलिया के निधन की खबर सामने आई है।

सतीश धुपेलिया की मौत भी कोरोना वायरस की वजह से हुई है। 66 साल के सतीश धुपेलिया ने तीन दिन पहले ही अपना जन्मदिन मनाया था। सतीश धुपेलिया की बहन उमा उनकी मौत से सदमे में हैं। उमा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए बताया था कि उनके भाई को निमोनिया हो गया था। निमोनिया के इलाज के लिए पिछले एक महीने से वो अस्पताल में भर्ती थे।

अस्पताल में निमोनिया के इलाज के दौरान ही सतीश धुपेलिया कोरोना की चपेट में आ गए। उमा ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा,``निमोनिया से एक माह पीड़ित रहने के बाद मेरे प्यारे भाई का निधन हो गया। अस्पताल में उपचार के दौरान वह कोविड-19 की चपेट में आ गए थे। सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में उन्होंने कहा कि आज शाम उन्हें दिल का दौरा पड़ा। उनके परिवार में दो बहने उमा और कीर्ति मेनन हैं, जो यहीं रहती हैं।

ये तीनों भाई बहन मणिलाल गांधी के वारिस हैं, जिन्हें महात्मा गांधी अपने कार्यों को पूरा करने के लिए दक्षिण अफ्रीका में ही छोड़ कर भारत लौट आए थे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी अपने कामों को पूरा करने के लिए दक्षिण अफ्रीका में छोड़कर भारत आ गए थे। लेकिन उनके परिवार के वारिस जोहानिसबर्ग में रहते हैं। बता दें कि सतीश धुपेलिया पेशे से एक वीडियोग्राफर और फोटोग्राफर थे।

View More...

17वीं लोकसभा का कार्यकाल अभी से इतिहास के पन्नों में दर्ज : प्रधानमंत्री मोदी

Date : 23-Nov-2020

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि 16वीं लोकसभा का कार्यकाल देश की प्रगति के लिए बहुत ही ऐतिहासिक रहा जबकि अपने निर्णयों के कारण 17वीं लोकसभा का कार्यकाल अभी से इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगली लोकसभा भी देश को नए दशक में आगे ले जाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने ये बातें सांसदों के लिए राजधानी दिल्ली के डॉ बीडी मार्ग पर बनाए गए बहुमंजिला फ्लैटों का उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में कही। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से आयोजित इस उद्घाटन समारोह में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, केंद्रीय शहरी आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी, संसदीय कार्यमंत्री प्रल्हाद पटेल और संसद की आवास समिति के अध्यक्ष सी आर पाटिल भी शामिल हुए।

मोदी ने कहा कि सामान्य तौर पर यह कहा जाता है कि युवाओं के लिए 16, 17, 18 साल की उम्र बहुत महत्वपूर्ण होती है और ठीक उसी प्रकार 16, 17, 18 की ये उम्र किसी युवा लोकतंत्र के लिए भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, 2019 के चुनाव के साथ ही हमने 16वीं लोकसभा का कार्यकाल पूरा किया है। यह समय देश की प्रगति के लिए, देश के विकास के लिए बहुत ही ऐतिहासिक रहा है। 2019 के बाद से 17 वीं लोकसभा का कार्यकाल शुरू हुआ है। इस दौरान भी देश ने जैसे निर्णय लिए हैं, जो कदम उठाए हैं, उनसे यह लोक सभा अभी से ही इतिहास में दर्ज हो गई है। प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि 18 वीं लोकसभा भी देश को नए दशक में आगे ले जाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

उन्होंने कहा, 16वीं, 17वीं और 18वीं लोकसभा का कालखंड हमारे युवा देश के लिए बहुत अहम है। देश के लिए इस महत्वपूर्ण समय का हम सबको हिस्सा बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। हम सबकी जिम्मेदारी है जब इतिहास में लोकसभा के अलग-अलग कार्यकालों का अध्ययन किया जाए तो ये कार्यकाल देश की प्रगति के स्वर्णिम अध्याय के तौर पर याद किया जाएं। उन्होंने कहा, देश के सामने इतना कुछ है जो हमें इस दौरान हासिल करना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि 16वीं लोकसभा में 60 प्रतिशत ऐसे बिल रहे हैं जिन्हें पास करने के लिए औसतन दो से तीन घंटे तक की बहस हुई जबकि पिछली लोकसभा से ज्यादा बिल पास किए, लेकिन पहले से ज्यादा चर्चा की है। उन्होंने कहा, ये दिखाता है कि हमने उत्पाद पर भी फोकस किया है और प्रक्रिया को भी निखारा है।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में पिछले डेढ़ साल में सरकार की ओर से उठाए गए कमदों का जिक्र किया और कहा कि इस दौरान जहां जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 से मुक्त कराया गया वहीं तीन तलाक जैसी प्रथा को समाप्त किया गया। उन्होंने कहा, सिर्फ बीते एक डेढ़ वर्ष की बात करें तो देश ने किसानों को बिचौलियों के चंगुल से आजाद कराने का काम किया है, ऐतिहासिक लेबर रिफॉर्म्स किये हैं, कामगारों के हितों को सुरक्षित किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दशकों से चली आ रही समस्याएं, टालने से नहीं, उनका समाधान खोजने से समाप्त होती हैं। उन्होंने कहा, सिर्फ सांसदों के निवास ही नहीं, बल्कि यहां दिल्ली में ऐसे अनेकों प्रोजेक्ट्स थे, जो कई-कई बरसों से अधूरे थे। इस कड़ी में उन्होंने अंबेडकर नेशनल मेमोरियल, केंद्रीय सूचना आयसोग की इमारत, वॉर मेमोरियल और पुलिस मेमोरियल का उल्लेख किया।

View More...
Previous123456789...8283Next