International

Previous123456789...4344Next

अफ्रीका के बोत्स्वाना में मिला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा

Date : 17-Jun-2021

गबोरोने (एजेंसी)। अफ्रीका के बोत्स्वाना में दुनिया का `तीसरा सबसे बड़ा` हीरा मिला है।  बोत्सवाना हीरा फर्म देबस्वाना ने बुधवार को कहा कि उसने 1,098 कैरेट के एक पत्थर का पता लगाया है जिसे उसने दुनिया में अपनी तरह का तीसरा सबसे बड़ा बताया है।1,098 कैरेट का हीरा देबस्वाना कंपनी के इतिहास में पाया जाने वाला सबसे बड़ा गुणवत्ता वाला पत्थर है। दुर्लभ श्रेणी का हीरा मिलने के बाद बोत्स्वाना की राजधानी गैबोरोन में राष्ट्रपति को दिखाया गया। 

देबस्वाना के प्रबंध निदेशक लिनेट आर्मस्ट्रांग ने कहा कि यह दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा रत्न-गुणवत्ता वाला खोज माना जाता है। दुर्लभ और असाधारण पत्थर हीरे और बोत्सवाना के संदर्भ में बहुत मायने रखता है, उसने कहा। यह उस राष्ट्र के लिए आशा लाता है जो संघर्ष कर रहा है।

View More...

बडी लापरवाही : अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में सकड़ों लोगों को लगा दी कोरोना एक्सपायर वैक्सीन

Date : 16-Jun-2021

न्यूयॉर्क (एजेंसी)। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में स्थित टाइम्स स्क्वायर के एक टीकाकरण केंद्र में लगभग 900 लोगों को एक्सपायर यानी ऐेसे टीके लगा दिए गए जिनके उपयोग की अवधि खत्म हो चुकी थी. स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

न्यूयॉर्क शहर के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि पांच और 10 जून के बीच टाइम्स स्क्वायर में एनएफएल एक्सपीरियंस बिल्डिंग में फाइजर टीके की खुराक लेने वाले इन 899 लोगों को जल्द से जल्द फाइजर की एक और खुराक लेनी चाहिये।

लोगों में दहशत

टाइम्स स्क्वायर में एनएफएल एक्सपीरियंस बिल्डिंग में टीका लगवा चुके इन सैकड़ों लोगों में दहशत का माहौल है. इस खबर के सामने आने के बाद हड़कंप मच गया और इन लोगों में घबराहट है. न्यूयॉर्क में अनुबंध के तहत वैक्सीन लगाने वाली कंपनी एटीसी वैक्सीनेशन सर्विसेज ने इस संबंध में खेद व्यक्त किया है.

शहर में अनुबंध के तहत टीके लगाने वाली कंपनी एटीसी वैक्सीनेशन सर्विसेज ने एक बयान में कहा, 'हम एक्सपायर हो चुके टीके लगवाने वाले लोगों को हुई असुविधा के लिये खेद प्रकट करते हैं. हम लोगों को बताना चाहते हैं कि हमें बताया गया है कि जो टीका उन्होंने लगवाया है, उससे उन्हें कोई खतरा नहीं है.

कंपनी की सेवा निलंबित

ATC का बयान आने के बाद शहर के स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता पैट्रिक गालाहुए ने कहा है कि जिन लोगों को एक्सपायर डोज दी गई है, उन्हें ई-मेल, फोन कॉल के अलावा पत्र लिखकर सूचित कर दिया गया है ताकि वे सतर्क रहें. इस लापरवाही के बाद मेयर ऑफिस ने एटीसी वैक्सीनेशन सर्विसेज की सेवा को निलंबित कर दिया है.

View More...

नेटो के नेताओं ने चीन को सुरक्षा के लिए स्थायी खतरा किया घोषित

Date : 15-Jun-2021

ब्रसेल्स (एजेंसी)। नेटो के नेताओं ने चीन को सुरक्षा के लिए स्थायी खतरा घोषित किया है और कहा है कि चीन वैश्विक व्यवस्था को कमजोर करने के लिये काम कर रहा है।

ब्रसेल्स में एक शिखर बैठक में जारी बयान में नेटो के नेताओं ने कहा है कि चीन अपने लक्ष्यों और हठी व्‍यवहार से नियमों पर आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था और नेटो देशों की सुरक्षा के लिए चुनौती पेश कर रहा है। इन नेताओं ने चीन से कहा कि वह अपनी अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं का पालन करे और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में जिम्मेदारी से काम करे।

नेटो के प्रमुख जेन्स स्टोल्टनबर्ग ने आगाह किया कि चीन सैन्य और प्रौद्योगिकी के संदर्भ में नेटो देशों के करीब पहुंच रहा है। लेकिन उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि नेटो के देश चीन के साथ नया शीत युद्ध नहीं चाहते हैं।

नेटो, यूरोपीय और उत्तरी अमरीकी देशों का संगठन है जो रूसी आक्रमण के खिलाफ दूसरे विश्वयुद्ध के बाद बनाया गया था।

View More...

इस्राइल के नए प्रधानमंत्री बने नफ्ताली बेनेट, ली प्रधानमंत्री पद की शपथ

Date : 14-Jun-2021

येरुशलम (एजेंसी)। नफ्ताली बेनेट ने रविवार को इस्राइल के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। इसके साथ ही 12 साल से प्रधानमंत्री पद पर काबिज बेंजामिन नेतन्याहू का कार्यकाल खत्म हो गया।

संसद में बहुमत हासिल करने के बाद दक्षिणपंथी यामिना पार्टी के 49 वर्षीय नेता बेनेट ने रविवार को शपथ ली। नई सरकार में 27 मंत्री हैं जिनमें से नौ महिलाएं हैं। बेनेट 120 सदस्यीय सदन में 61 सांसदों के साथ मामूली बहुमत वाली सरकार का नेतृत्व करेंगे।

इससे पहले बेनेट ने संसद में संबोधन के दौरान अपनी सरकार के मंत्रियों के नामों की घोषणा की और इस दौरान 71 वर्षीय नेतन्याहू के समर्थकों ने बाधा भी डाली। प्रतिद्वंद्वी पार्टी के सांसदों के शोर शराबे के बीच बेनेट ने कहा कि उन्हें गर्व है कि वह अलग-अलग विचार वाले लोगों के साथ काम करेंगे। 
बेनेट ने कहा कि इस निर्णायक समय हम यह जिम्मेदारी उठा रहे हैं। इस सरकार के अलावा बस यही विकल्प था कि और चुनाव करवाएं जाएं। इससे और नफरत फैलती और देश पर असर पड़ता।

00 बहुमत हासिल नहीं कर पाए थे नेतन्याहू
इस साल मार्च में हुए चुनाव में नेतन्याहू की लिकुड पार्टी को बहुमत नहीं पा सकी थी। दो साल में चार बार हो चुके चुनाव में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद राष्ट्रपति ने नेतन्याहू को सरकार चलाने और 2 जून तक बहुमत साबित करने को कहा था। लेकिन इससे पहले ही विपक्षी गठबंधन ने नेतन्याहू के 12 साल तक लगातार सत्ता में रहने के रिकॉर्ड को यहीं पर विराम देने की रणनीति बनाई। 

00 विपक्षी गठबंधन में इस्लामी राम पार्टी भी शामिल
बड़ी बात यह है कि नेतन्याहू की सरकार के खिलाफ बने इस गठबंधन में इस्राइल में अरब समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाली इस्लामी राम पार्टी भी शामिल है। विपक्षी गठबंधन में शामिल राम पार्टी इस्राइली अरब मुसलमानों का प्रतिनिधित्व करती है। उसका मानना है कि फलस्तीनियों को उनका हक मिलना चाहिए और इस्राइल को नई कॉलोनियां बनाने के प्रयास को रोककर यरूशलम पर से दावा छोड़ना चाहिए।

00 ईरान, फलस्तीन पर नेतन्याहू से भी सख्त हैं बेनेट
इस्राइल में विपक्षी गठबंधन की तरफ से पहली पारी में पीएम बनने वाले नफ्ताली बेनेट इस्राइली रक्षा बलों की एलीट यूनिट सायरेत मटकल और मगलन के कमांडो रह चुके हैं। 2006 में वे बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व में राजनीति में आए। जिसके बाद वे नेतन्याहू के चीफ ऑफ स्टाफ बनाए गए। बाद में वे न्यू राइट और यामिना पार्टी से भी नेसेट के सदस्य बने। 2012 से 2020 के बीच 5 बार सांसद रह चुके हैं। वह बाद में नेतन्याहू के विरोधी हो गए। 2019 से 2020 के बीच रक्षामंत्री रह चुके नफ्ताली ईरान और फलस्तीन के मुद्दे पर नेतन्याहू से भी ज्यादा कट्टर और सख्त हैं।

View More...

डोमिनिका हाईकोर्ट ने मेहुल चोकसी की जमानत याचिका को किया खारिज

Date : 12-Jun-2021

रुसाउ (एजेंसी)। मेहुल चोकसी की मुश्किलें और बढ़ती नजर आ रही हैं। डोमिनिका हाईकोर्ट ने मेहुल चोकसी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। जज वायनानते एड्रिन-रॉबर्ट्स ने चोकसी को `फ्लाइट रिस्क` माना है और यही वजह है कि मेहुल चोकसी को जमानत देने से मना कर दिया है।

शनिवार को बचाव पक्ष के वकीलों में कोर्ट में तर्क दिया कि एक कैरिकॉम नागरिक के तौर पर मेहुल चोकसी जमानत का हकदार है क्योंकि कथित अपराध जमानती है और उस पर कुछ हजार रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। वकीलों ने ये भी तर्क दिया कि मेहुल चोकसी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है, ऐसे में फ्लाइट का जोखिम नहीं लेना चाहिए। 

वकीलों ने आगे कहा कि इसलिए जमानत राशि लेकर मेहुल को जमानत दे देनी चाहिए। हालांकि राज्य बेल का विरोध कर रहा है। उनका कहना है कि मेहुल चोकसी फ्लाइट रिस्क पर है और इंटरपोल से उसे नोटिस जारी किया गया है। राज्य ने जमानत ना देने की गुहार लगाई है।

लेनोक्स लॉरेंस राज्य के वकील हैं, ऐसे में उनका कहना है कि मेहुल चोकसी ने स्वास्थ्य के बारे में कोई शिकायत नहीं की है। इसलिए उसका अस्पताल में होना वास्तविक मुद्दा नहीं है। वकील ने कहा कि मेहुल चोकसी को स्वास्थ्य मदद भी दी जा रही है।

हालांकि डोमिनिका हाईकोर्ट ने मेहुल चोकसी को जमानत देने से मना कर दिया है। बता दें कि रोजो मजिस्ट्रेट की ओर से जमानत याचिका खारिज करने के बाद मेहुल चोकसी ने डोमिनिका हाई कोर्ट का रुख किया था। मेहुल चोकसी पर अवैध रूप से डोमिनिका में प्रवेश करने का आरोप है। 23 मई को मेहुल चोकसी एंटीगुआ और बारबुडा में लापता हो गया था। 
जनवरी 2018 में भारत छोड़ने के बाद वो एंटीगुआ में एक नागरिक के तौर पर रह रहा था। इसके बाद डोमिनिका में मेहुल चोकसी का पता चला और पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। 

View More...

अफगानिस्तान में अमेरिका का अभियान हुआ पूरा, देश से अपने लोगों को बाहर निकालने पर ध्यान केंद्रित : रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन

Date : 11-Jun-2021

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका के रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने कहा कि अफगानिस्तान में अमेरिका का अभियान पूरा हो गया है और उनका विभाग देश से ``अपने लोगों और साजो सामान को बाहर निकालने`` पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अप्रैल में एलान किया था कि अफगानिस्तान से इस साल 11 सितंबर तक सभी अमेरिकी सैनिकों को वापस बुला लिया जाएगा।

बजट प्रस्ताव पर सुनवाई के दौरान ऑस्टिन ने संसद की सशस्त्र सेवा समिति को बताया कि अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपने काफी साजोसामान निकाले हैं। उन्होंने कहा, ``हम अभी काफी कुछ चीजें कर रहे हैं। खुफिया, निगरानी और सैनिक सर्वेक्षण मिशन जीसीसी (खाड़ी सहयोग परिषद) से भेजे जा रहे हैं, हमारे कई युद्धक विमान अभियान खाड़ी से चलाए जा रहे हैं।``

रक्षा सचिव ने कहा कि 11 सितंबर तक सभी अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने के लिए उन्हें वहां से निकालने की प्रक्रिया चलती रहेगी।

ऑस्टिन ने कहा, ``राष्ट्रपति का साफ मानना है कि अफगानिस्तान में हमारा अभियान पूरा हो गया है। हम अपने लोगों तथा साजो सामान को बाहर निकालने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। आगे आतंकवाद के खिलाफ हमारे प्रयास उन चरमपंथियों पर केंद्रित होंगे जो हमारे देश पर हमला कर सकते हैं।``

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अमेरिका सैनिकों को वापस बुलाने के बाद भी अफगानिस्तान के लोगों के साथ अच्छा और सार्थक रिश्ता रखना चाहता है। उन्होंने कहा, ``हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उनकी सेना को वित्त पोषण मुहैया कराते रहें और उनकी सरकार को भी समर्थन देते रहें। यह समर्थन इस लिहाज से भी अहम है कि सरकार काम करने में सक्षम हो और सेना का प्रभाव बरकरार रहे। आतंकवाद के खिलाफ हमारा अभियान अल-कायदा पर केंद्रित है और हमें विश्वास है कि हमारे पास अभियान जारी रखने का अधिकार होगा।``

बाइडन ने अपने वार्षिक बजट प्रस्ताव में अफगान सुरक्षा बल निधि के लिए 3.3 अरब डॉलर देने का अनुरोध किया है।

View More...

पाकिस्तान के न्यूज़ चैनल टीवी पर टॉक शो के दौरान महिला नेता ने सांसद को मारा थप्पड़

Date : 11-Jun-2021

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान की सत्तारूढ़ पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ की एक नेत्री ने टीवी पर टॉक शो के दौरान प्रतिद्वंद्वी पार्टी के सांसद को तीखी बहस के दौरान गालियां दीं और थप्पड़ मार दिया।

पाकिस्तान के न्यूज़ चैनल पर एक टॉक शो में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) की फिरदौस आशीक अवान और पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के सांसद कादिर खान मंदोखेल हिस्सा ले रहे थे। कार्यक्रम का संचालन जावेद चौधरी कर रहे थे। वायरल वीडियो में पंजाब में पीटीआई की प्रांतीय सरकार की प्रवक्ता अवान, मंदोखेल को पहले गालियां देती हैं और उनके मुंह पर थप्पड़ मार देती हैं।

क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और लोगों ने सार्वजनिक तौर पर दूसरे नेता से बदसलूकी करने के लिए अवान की आलोचना की। अवान ने ट्विटर पर एक वीडियो बयान जारी कर दावा किया कि टॉक शो के दौरान मंदोखेल ने उन्हें बार-बार तंग किया और वह आत्मरक्षा में ऐसा करने के लिए मजबूर हो गई थी।

View More...

अंतरराष्ट्रीय संधि से रूस के अलग होने की पुतिन ने की पुष्टि

Date : 08-Jun-2021

मास्को (एजेंसी)। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने उस विधेयक पर हस्ताक्षर कर दिए जिससे रूस सैन्य प्रतिष्ठानों के ऊपर निगरानी उड़ानों की अनुमति देने वाली अंतरराष्ट्रीय संधि से बाहर हो सकेगा। अमेरिका इस संधि से पहले ही अलग हो चुका है। अमेरिकी अधिकारियों ने पिछले महीने रूस से कहा था कि राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने ओपन स्काई ट्रिटी में फिर से शामिल नहीं होने का फैसला किया है। इसके बाद रूसी सांसदों ने विधेयक का समर्थन किया। अमेरिका, पूर्ववर्ती राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में इस संधि से अलग हो गया था।

उल्लेखनीय है कि 16 जून को जिनेवा में पुतिन और बाइडन के बीच शिखर वार्ता होनी है। ओपन स्काई ट्रिटी का मकसद रूस और पश्चिमी देशों के बीच विश्वास स्थापित करना था। इस संधि के तहत तीन दर्जन से अधिक देश सेना की तैनाती और अन्य सैन्य गतिविधियों की निगरानी के लिए एक-दूसरे के क्षेत्रों में निगरानी उड़ानों का संचालन कर सकते थे। यह संधि 2002 में प्रभावी हुयी और इसके तहत 1,500 से अधिक उड़ानें संचालित की गई जिनसे पारदर्शिता को बढ़ावा मिलने के साथ ही हथियार नियंत्रण समझौतों की निगरानी में भी मदद मिली। ट्रंप प्रशासन पिछले साल इस समझौते से बाहर हो गया था और उसका कहना था कि रूसी उल्लंघन को देखते हुए अमेरिका के लिए एक पक्ष बने रहना असंभव हो गया है।

अमेरिका ने नवंबर में संधि से अपनी वापसी पूरी कर ली। रूस ने किसी भी उल्लंघन को खारिज कर दिया है। रूस की दलील है कि उसने अतीत में कुछ प्रतिबंध लगाए थे जो संधि के तहत मान्य थे। इसके साथ ही रूस का आरोप था कि अमेरिका ने अलास्का में निगरानी उड़ानों पर अधिक व्यापक प्रतिबंध लगा दिया।

View More...

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, कि िअब दुश्मन भी कह रहे चीनी वायरस को लेकर मैं सही था

Date : 04-Jun-2021

वॉशिंगटन (एजेसी)। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कोरोना वायरस के मुद्दे पर चीन को घेरा है। अमेरिकी पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप ने एक बयान जारी कर कहा कि अब सभी, यहां तक कि कथित दुश्मन भी यह कहने लगे हैं कि मैं चीन के वुहान लैब से निकले चीनी वायरस को लेकर सही था।

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत से ही इसे चीनी वायरस बता रहे हैं और अब डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि उनके कथित दुश्मन समेत सभी यह कह रहे हैं कि कोरोना वायरस चीन की वुहान लैब से निकला है। ट्रंप ने एक बयान जारी चीन को आड़े हाथ लिया है।

बयान में अमेरिकी पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि चीन को अमेरिका और दुनिया को 10 ट्रिलियन डॉलर का भुगतान करना होगा। चीन की वजह से दुनिया में हुई मौतों और विनाश के लिए इस रकम का भुगतान करना होगा। फेसबुक-ट्विटर जैसी सोशल मीडिया कंपनियों से बैन झेल रहे डोनाल्ड ट्रंप ने एक बयान जारी किया है। 

अब सभी, यहां तक कि तथाकथित दुश्मन ने भी यह कहना शुरू कर दिया है कि डोनाल्ड ट्रंप वुहान लैब से निकले चीनी वायरस को लेकर सही थे। चीन को अमेरिका और दुनिया को कोरोना से मौत और विनाश के लिए 10 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का भुगतान करना चाहिए। 

बता दें कि दुनियाभर के कई विशेषज्ञों ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर चीन की वुहान लैब पर शक जताया है। बाइडन प्रशासन के साथ ब्रिटेन और भारत ने भी अब कोरोना की नए सिरे से जांच की मांग की है। वहीं अब विश्व स्वास्थ्य संगठन पर फिर दवाब बनाया जा रहा है। बता दें कि चीन के वुहान शहर में कोरोना का पहला मामला सामने आया था और यहीं से दुनिया में फैला था। 

00 सबसे पहले ट्रंप ने किया था यह दावा
बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल मार्च की शुरुआत में ही कहा था कि दुनिया भर में दहशत का कारण बना कोरोना वायरस चीन की लैब में ही बनाया गया था। ट्रंप ने कहा था कि उन्हें इसका पूरा भरोसा है और इसके सबूत हैं कि कोरोना वायरस को वुहान की जैविक प्रयोगशाला में विकसित किया गया। 

View More...

मेहुल चोकसी की डोमिनिका कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

Date : 03-Jun-2021

रुसाउ (एजेंसी)। डोमिनिका की जेल में बंद भारत के भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को वहां की अदालत से बड़ा झटका लगा है। डोमिनिका की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने भगोड़े हीरा कारोबारी चोकसी के देश में अवैध प्रवेश के मामले में उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी है। बता दें कि पिछले दिनों मेहुल चोकसी एंटीगुआ से लापता होकर डोमिनिका में पकड़ा गया था। 

पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में आरोपी चोकसी जनवरी 2018 से ही भारत से भागने के बाद एंटीगा और बारबुडा में रह रहा है। पिछले दिनों उसे डोमिनिका पुलिस ने गिरफ्तार कर उसे कोर्ट में पेश किया था, कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इस मामले में चोकसी के वकील ने कोर्ट में जमानत अर्जी लगाई थी, लेकिन कोर्ट ने जमानत देने से इनकार कर दिया। 

कोर्ट के फैसले के बाद मेहुल चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने बताया कि जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील करेंगे। उसके वकील ने आरोप लगाया कि उनके मुवक्किल को एंटीगुआ के जॉली हार्बर से अगवा कर उसे करीब 100 नॉटिकल मील दूर एक नौका से डोमिनिका ले जाया गया। 

00 एंटीगुआ भेजने पर कोर्ट ने लगाई रोक
पिछले दिनों बताया गया था कि भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को डोमिनिका से एंटीगुआ भेजने की कानूनी प्रक्रिया चल रही है, लेकिन डोमिनिका कोर्ट ने इसपर रोक लगा दी। कोर्ट ने साफ कर दिया कि अगली सुनवाई तक मेहुल को कहीं नहीं भेजा जाएगा। इससे पहले डोमिनिका सरकार ने कहा था कि वो मेहुल चोकसी को भारत के बजाय एंटीगुआ भेजेगी। बीते दिनों मेहुल चोकसी की कुछ तस्वीरें भी सामने आई थीं, जिसमें चोकसी जेल के भीतर खड़ा दिख रहा था। मेहुल चोकसी की आंखें सूजी हुई थी और उसके हाथ पर चोट के निशान भी दिख रहे थे। उसके वकील ने पुलिस पर मारपीट का आरोप भी लगाया था। उसके बाद चोकसी की पत्नी ने भी पिटाई करने का आरोप लगाया था। 

00 चोकसी को भारत लाने की तैयारी तेज
बता दें कि भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को भारत लाने की तैयारी भी जोरों पर चल रही है। डोमिनिका पुलिस और भारतीय जांच एजेंसियां लगातार संपर्क में है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चोकसी को लाने के लिए सीबीआई और ईडी की टीम डोमिनिका पहुंच चुकी है। कागजी कार्रवाई के बाद उसे भारत लाया जा सकता है। 

View More...
Previous123456789...4344Next