International

Previous123456789...5657Next

भारत और मॉरीशस के पीएम एक साथ कई प्रोजेक्ट्स का करेंगे उद्घाटन

Date : 20-Jan-2022

पोर्ट लुइस (एजेंसी)। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मॉरीशस समकक्ष प्रविंद कुमार जगन्नाथ आज यानी 20 जनवरी को एक वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान मॉरीशस में संयुक्त रूप से भारत-सहायता प्राप्त सामाजिक आवास परियोजना का उद्घाटन करेंगे। भारतीय विदेश मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि दोनों नेता मॉरीशस में सिविल सर्विस कॉलेज और 8 मेगावाट की सौर ऊर्जा परियोजना का भी शुभारंभ करेंगे, जिसे भारत के समर्थन के साथ शुरू किया जा रहा है।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि मेट्रो एक्सप्रेस परियोजना और अन्य बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए भारत से मॉरीशस को 190 मिलियन डॉलर की लाइन ऑफ क्रेडिट देने और छोटी विकास परियोजनाओं को लागू करने के लिए एक समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान किया जाएगा।

मॉरीशस भारत की ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और नई दिल्ली ने अफ्रीकी द्वीप राष्ट्र में परियोजनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए समर्थन दिया है। भारत ने भी टीके और चिकित्सा आपूर्ति प्रदान करके कोरोना महामारी के शुरुआती चरणों में मॉरीशस का समर्थन किया।

View More...

हर व्यक्ति का टीकाकरण नहीं हुआ तो आते रहेंगे नए वैरिएंट, ठप होता रहेगा जीवन : एंतोनियो गुतेरस

Date : 18-Jan-2022

न्यूयॉर्क (एजेंसी)। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतेरस ने विश्व नेताओं से 2022 को सुधार का सही अवसर बनाने का आह्वान किया है। उन्होंने सोमवार को कहा कि कोविड-19 महामारी का सामना समानता और निष्पक्षता के साथ किया जाना चाहिए। उन्होंने चेताया कि जब तक हम दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति का टीकाकरण करने में विफल रहेंगे, इसके कोरोना के नए वैरिएंट आते रहेंगे। ये वैरिएंट लोगों के जीवन और अर्थव्यवस्थाओं को ठप करते रहेंगे।

विश्व आर्थिक मंच (WEF) की 2022 की बैठक के उद्घाटन सत्र को वर्चुअल रूप से संबोधित करते हुए गुतेरस ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि पिछले दो सालों में एक साधारण लेकिन कटु सत्य का प्रदर्शन किया है कि यदि हम किसी को पीछे छोड़ते हैं तो हम सभी को पीछे छोड़ देते हैं। उन्होंने कहा कि हमने वर्ष 2022 को सुधार का असली वर्ष बनाने के लिए महामारी से मुकाबले के लिए मिलकर खड़े होने का आह्वान किया है।

विश्व आर्थिक मंच की यह बैठक कोरोना महामारी के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट के साए में हो रही है। इसके कारण दुनियाभर के लोगों, अर्थव्यवस्थाओं व इस ग्रह को मुश्किल दौर का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में गुतेरस ने अपने भाषण में अंतरराष्ट्रीय समुदाय, खासकर वैश्विक कारोबारियों से आग्रह किया कि हमें रिकवरी व आर्थिक सुधार के लिए सभी के सहयोग की जरूरत है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि कोविड महामारी से मुकाबला समानता व निष्पक्षता से किया जाए। यह महामारी पूरी दुनिया में बीते दो सालों से सिर उठाए हुए है और इससे 30.40 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं तथा 54 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

यूएन महासचिव ने भड़कते हुए कहा कि यह शर्मनाक है कि उच्च आय वाले देशों में टीकाकरण की दरें अफ्रीकी देशों की तुलना में सात गुना ज्यादा हैं। उन्होंने साफ कहा कि यदि हम प्रत्येक व्यक्ति का टीकाकरण करने में विफल रहे तो नए-नए वैरिएंट आते रहेंगे और लोगों का दैनिक जीवन व अर्थव्यवस्थाओं को ठप करते रहेंगे।

उन्होंने कहा कि कोरोना का नवीनतम वैरिएंट ओमिक्रॉन धीमी गति से पूरी दुनिया में फैल रहा है और संक्रमण दर बढ़ा रहा है। इससे देशों के स्वास्थ्य तंत्र पर बोझ बढ़ता जा रहा है। उन्होंने इस बात पर भी चिंता व्यक्त की कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के पिछले साल के अंत तक सभी देशों के 40 फीसदी लोगों को और इस साल के मध्य तक 70 फीसदी लोगों को टीका लगाने के लक्ष्य के आसपास भी हम नहीं पहुंच सके हैं।

View More...

अमेरिका में नए कोरोना मरीजों की संख्या ने तोडा रिकॉर्ड, एक दिन में मिले 11 लाख नए मरीज

Date : 11-Jan-2022

वाशिंगटन (एजेंसी)। ओमिक्रॉन वैरिएंट को भले कम घातक बताया जा रहा है, लेकिन अमेरिका में नए कोरोना मरीजों की संख्या नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। सोमवार को देश में 11 लाख से ज्यादा मरीज मिले हैं। वहीं अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या भी अब तक की सर्वाधिक हो गई है।

अमेरिका में इससे पहले 3 जनवरी को 10 लाख 3 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले थे। बढ़ते मरीजों से पता चलता है कि अमेरिका में तेजी से फैलने वाला ओमिक्रॉन कहर बरपा रहा है। चिंताजनक वैरिएंट माने गए ओमिक्रॉन ने अमेरिका के अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या अब तक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचा दी है। पिछले साल जनवरी में यह संख्या 1,32,051 के मुकाबले बीत तीन सप्ताहों में यह संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है।

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, रविवार को अमेरिका में कुल कोविड-19 मामले 6 करोड़ तक पहुंच गए। देश में जनवरी 2020 के बाद से अब तक 8,37,594 मौतें भी हो चुकी हैं।

अस्पतालों में स्टॉफ की कमी, रोकी सर्जरी

बेहद संक्रामक ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण कोविड रोगियों के भर्ती तेजी से बढ़ रही है इसलिए अमेरिका के कई अस्पतालों ने अन्य रोगियों की सर्जरी रोक दी है। आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में प्रति 10 लाख लोगों पर 2130 से ज्यादा मरीज रोज संक्रमित मिल रहे हैं। इसके साथ ही वह महामारी को लेकर ब्रिटेन की राह पर आगे बढ़ रहा है।

उधर, फ्रांस में कोविड-19 मामलों में चिंताजनक वृद्धि जारी है। वहां के हालात ब्रिटेन जैसे हैं। सात दिनों के औसत के अनुसार फ्रांस में प्रति 10 लाख लोगों पर करीब 4,000 दैनिक मामले सामने आए हैं।

View More...

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर के अपार्टमेंट में लगी आग से 19 लोगों की मौत, मृतकों में 9 बच्चे भी शामिल

Date : 10-Jan-2022

न्यूयॉर्क (एजेसीं)। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर के एक अपार्टमेंट में रविवार को भीषण आग लगने से 19 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में 9 बच्चे शामिल हैं। आग में 32 लोग झुलस गए हैं। उनमें से 9 की हालत गंभीर बताई गई है।

घटना शहर के ब्रॉक्स बॉरो इलाके में हुई। 19 मंजिला बहुमंजिला इमारत में लगी आग में 22 अन्य लोग मामूली घायल हुए हैं। न्यूयॉर्क के मेयर एरिक एडम्स ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि रविवार को हुई इस घटना में हमने 19 लोगों को खो दिया। यह दुखद घटना है। मृत लोगों के लिए मेरे साथ प्रार्थना कीजिए, खासकर नौ मासूम बच्चों के लिए। उन्होंने न्यूयॉर्क शहर के अग्नि शमन विभाग को आग पर तेजी से काबू पाने के लिए धन्यवाद दिया।

दूसरी व तीसरी मंजिल के डुप्लेक्स में लगी आग

अग्निशमन विभाग के प्रमुख डेनियल नीग्रो भी मेयर एडम्स के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए थे। उन्होंने बताया कि आग अपार्टमेंट की दूसरी और तीसरी मंजिल पर एक डुप्लेक्स अपार्टमेंट में लगी। अपार्टमेंट का दरवाजा खुला छोड़ दिया गया था, जिससे आग और धुआं 19 मंजिला इमारत में तेजी से फैल या।
नीग्रो ने कहा कि यह दुखद घटना है। एक डुप्लेक्स अपार्टमेंट में सूचना मिलते ही तीन अग्नि शमन वाहन मात्र तीन मिनट के भीतर मौके पर पहुंच गए थे। पूरी इमारत में धुआं भर गया था। हताहतों को निकालने के लिए भारी मशक्कत करना पड़ी। कई लोगों की झुलसने से तो कई की दम घुटने से मौत हो गई।

मेयर ने कहा कि आग कैसे लगी इसकी जांच की जा रही है। पीड़ितों के साथ पूरा शहर है। उनकी पूरी मदद की जाएगी। यह घटना बहुत ही त्रासदीपूर्ण व दर्दनाक है। हाल के दिनों की आग की यह बड़ी घटनाओं में से एक है।

View More...

अमेरिका के बाइडन प्रशासन ने रूस को यूक्रेन को लेकर दी चेतावनी

Date : 10-Jan-2022

वाशिंगटन (एजेसीं)। अमेरिका में जो बाइडन प्रशासन ने रूस को नयी जोरदार चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर रूस, यूक्रेन पर हमला करने की दिशा में आगे बढ़ता है तो उस पर प्रतिबंध लगाए जाएंगे। अमेरिकी अधिकारियों ने यूरोप में अमेरिका की भविष्य की रणनीति की स्थिति के बारे में निर्णयों में लगातार बदलाव की संभावना जताई है। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि अगर रूस यूक्रेन में हस्तक्षेप करता है तो उसे प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा।

अधिकारियों ने कहा कि प्रशासन यूक्रेन में भविष्य में मिसाइलों की संभावित तैनाती को कम करने और पूर्वी यूरोप में अमेरिका और नाटो के सैन्य अभ्यासों को सीमित करने पर रूस के साथ चर्चा के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि रूस को यूक्रेन में हस्तक्षेप करने पर आर्थिक प्रतिबंधों का सामना करना होगा। इनमें रूसी संस्थाओं पर प्रत्यक्ष प्रतिबंधों के अलावा अमेरिका से रूस को निर्यात किए जाने वाले उत्पादों और विदेश निर्मित उत्पादों पर महत्वपूर्ण प्रतिबंध शामिल हो सकते हैं जो संभावित रूप से अमेरिकी क्षेत्राधिकार में आते हैं। यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब यूक्रेन को लेकर बढ़ते तनाव के बीच सोमवार को स्विट्जरलैंड में वरिष्ठ अमेरिकी और रूसी अधिकारियों की बैठक होनी है।

अधिकारियों ने कहा कि अमेरिका उन वार्ताओं में अपने यूरोपीय सुरक्षा रुख के कुछ सीमित पहलुओं पर चर्चा करने को तैयार है। उन्होंने कहा कि इस बात की कोई संभावना नहीं है कि रूस की मांग के अनुरूप अमेरिका पूर्वी यूरोप में अपनी सैन्य उपस्थिति या हथियारों को कम करेगा।

View More...

चीफ जस्टिस ने प्रधानमंत्री इमरान खान को दी चेतावनी, कहा आरोपी की पेशी नहीं हुई तो...

Date : 06-Jan-2022

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश गुलजार अहमद ने चेतावनी दी है कि यदि एक कैदी को हिरासत केंद्र से शीर्ष न्यायालय में पेश नहीं किया जाता है तो पीएम इमरान खान को तलब किया जाएगा। अहमद की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ ने अफगानिस्तान सीमा के नजदीक एक सैन्य शिविर पर हमले के आरोपी आरिफ गुल की हिरासत के खिलाफ एक मामले की सुनवाई के दौरान यह कहा।

जस्टिस गुलजार अहमद ने जब अटॉर्नी जनरल से पूछा कि क्या वे आरोपी को लाए हैं, तब उन्होंने कहा, आरिफ गुल हिरासत केंद्र में है और उसे लाना मुश्किल है। इस पर प्रधान न्यायाधीश ने कहा, यदि उसे न पेश किया जाए तो अदालतों को सील कर दीजिए। अदालत के पास नेतृत्व को तलब करने की भी शक्ति है।

उन्होंने कहा, गुल की नागरिकता का मुद्दा हल क्यों नहीं किया गया है? यह विषय 2019 से जांच में है। पीठ में शामिल न्यायाधीश जमाल मंडोखेल ने कहा, आरिफ गुल को जिस कानून के तहत हिरासत केंद्र में रखा गया है क्या वह वैध है? इसके बाद, न्यायालय ने सुनवाई स्थगित कर दी।

View More...

डब्ल्यूएचओ ने ओमिक्रॉन को लेकर नए खतरे के प्रति किया आगाह, कहा ओमीक्रॉन जितना फैलेगा, उतना नए खतरनाक वैरिएंट पनप सकते हैं

Date : 05-Jan-2022

जिनेवा (एजेंसी)। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने ओमिक्रॉन को लेकर नए खतरे के प्रति आगाह किया है। संगठन की यूरोप इकाई ने मंगलवार को चेतावनी दी कि दुनिया भर में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामले नई और अधिक खतरनाक जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि जितना ओमिक्रॉन फैलेगा उतने ही ज्यादा इसके भी रूप बदलेंगे। अब यह घातक हो गया है, यह मौत का सबब बन सकता है। संगठन की वरिष्ठ आपात अधिकारी कैथरीन स्मॉलवुड ने कहा है कि ओमिक्रॉन की बढ़ती संक्रमण दर विपरीत असर डाल सकती है।

स्मॉलवुड ने कहा कि यह जितना ज्यादा फैलेगा, उतने ही अपने रूप बनाएगा। यह भी आशंका है कि इसी बीच नए वैरिएंट पनप जाएं। अब यह घातक रूप ले चुका है। इससे मौतें हो सकती हैं, हो सकता है डेल्टा से कुछ कम या ज्यादा मौतें हों।

यूरोप में अब तक 10 करोड़ केस

महामारी के बाद से सिर्फ यूरोप में ही 10 करोड़ से ज्यादा कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। 2021 के अंतिम सप्ताह में ही 50 लाख से ज्यादा केस मिले हैं। यह लगभग वही दौर है जो हम पूर्व में देख चुके हैं। यूरोप के हालात को लेकर स्मालवुड ने कहा कि हम बहुत खतरनाक दौर से गुजर रहे हैं। पश्चिम यूरोप में हम बहुत तेजी से संक्रमण फैलते देख रहे हैं।

अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या कम, पर जोखिम यह है

स्मालवुड ने कहा कि डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन संक्रमण से पीड़ित लोगों के अस्पताल में भर्ती होने की जोखिम कम हुई है, लेकिन कुल मिलाकर यह नया वैरिएंट ज्यादा खतरानाक हो सकता है, क्योंकि इसकी संक्रमण दर बहुत अधिक है। जब इसके रोगी तेजी से बढ़ते हैं तो वे गंभीर बीमारी से ग्रस्त कई लोगों को संक्रमित कर सकते हैं और वे अस्पतालों में पहुंच सकते हैं। वहीं वे दम भी तोड़ सकते हैं।

ब्रिटेन के अस्पतालों में स्टॉफ की कमी

ओमिक्रॉन के कहर के कारण मंगलवार को ब्रिटेन के अस्पतालों में स्टाफ का संकट पैदा होता नजर आया। वहां दैनिक कोरोना मरीजों की संख्या पहली बार 2 लाख के पार पहुंच गई। अस्पतालों में बहुत ज्यादा मरीज पहुंचने पर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चरमरा सकती हैं।

View More...

फ्रांस में मिला नया वैरिएंट, वैक्सीन को भी दे सकता है चकमा

Date : 04-Jan-2022

पेरिस (एजेंसी) । फ्रांस में कोरोना के नए वेरिएंट का पता चला है, जिसमे 46 म्युटेशन देखे गए हैं। किसी भी वायरस की गंभीरता उसमें होने वाले म्यूटेशन के आधार पर तय की जाती है। इससे एक बात तो साफ है कि यह नया वैरिएंट काफी खतरनाक साबित हो सकता है। हालांकि इस पर शोध होना बाकी है। शुरुआती आंकड़ों से पता चला है कि इस नए वैरिएंट की फिलहाल ज्यादा संक्रमण दर नहीं है। वैज्ञानिकों को चिंता इस बात की है कि नया वैरिएंट फ्रांस की सीमा के बाहर ब्रिटेन में प्रवेश कर सकता है। हालांकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

अब तक मिले वैरिएंट से काफी अलग है B.1.640.2.

कोरोना के अभी तक जितने भी वैरिएंट सामने आए हैं। उन सबसे यह वैरिएंट काफी अलग है क्योंकि वैज्ञानिकों को अभी तक B.1.640.2.में ऐसा कुछ भी नहीं मिला है, जो अब तक सामने आए वैरिएंट में हो। इस वैरिएंट में असामान्य संयोजन देखे गए हैं, वैज्ञानिकों का कहना है कि नया वैरिएंट कई आनुवांशिक परिवर्तनों को दिखाता है। इसकी खोज मेडिटरेनी इंफेक्शन यूनिवर्सिटी हॉस्टपिटल इंस्टीट्यूट ने की है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से अब तक इस नए वैरिएंट पर कोई भी जांच शुरू नहीं की गई है।

एक महीने पहले सामने आया था केस

कोरोना के इस नए वैरिएंट का पहला मामला नवंबर में सामने आया था, लेकिन दुनिया भर के वैज्ञानिकों का ध्यान इस पर अब गया है। दावा किया जा रहा है कि जो पहला व्यक्ति इस नए वैरिएंट से संक्रमित था, वह पूरी तरह से टीकाकरण करवा चुका था। नवंबर में वह तीन दिन की कैमरून की यात्रा कर फ्रांस लौटा था। यहां उसको सांस लेने में तकलीफ महसूस हुई, जिसके बाद उसका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया। वैज्ञानिकों ने जब इस वैरिएंट पर शोध किया तो नतीजों ने सभी को चौंका दिया।

View More...

कोरोना की जद में आए अंडरटेकर, जिद ने ले ली जान

Date : 28-Dec-2021

ब्रूसेल्स (एजेंसी)। तीन बार के किक बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियन फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा का 41 वर्ष की आयु में निधन हो गया। फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा को ‘अंडरटेकर’ के नाम से भी जाना जाता था। फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा कोरोना वायरस से जूझ रहे थे और उन्होंने अपनी जिद में तय किया कि वह अपनी शारीरिक शक्ति से ही कोरोना को हरा देंगे। समझा जाए तो एक तरह से फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा ने खुले तौर पर कोरोना को चुनौती दे रखी थी।

कोरोना नियमों का उल्लंघन करने की वजह से दिन प्रति दिन फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा की तबियत बिगड़ती चली गई। अंत में जब उनकी हालत बहुत बिगड़ गई तो मजबूरी में उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया था, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी और इलाज के कारण उनका निधन हो गया।

फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा को जब अस्पताल में लाया गया था तो उनकी हालत इतनी बिगड़ी हुई थी कि उन्हें सीधे आईसीयू में दाखिल कराया गया। अस्पताल में भर्ती होने के समय भी उन्हें खुद पर भरोसा था और अपने फैंस को उन्होंने कहा था कि इस बीमारी से जीतकर वह शीघ्र ही अपने लोगों के बीच लौटेंगे। उनकी मौत के बाद उनकी पत्नी भी यह मानने के लिए तैयार नहीं है कि उनके पति की मौत कोरोना की वजह से हुई है।

फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा ने इसी जिद की वजह से वैक्सीन नहीं लिया था। फ्रेडरिक सिनिस्ट्रा पहले से ही कोरोना गाइड लाइनों को बकवास बताते हुए उन्हें मानने से इंकार करते थे। इसी वजह से उन्होंने कोरोना वैक्सिन भी नहीं लगवाया था। कोरोना वायरस और उसके टीके के बारे में वह भी अनेक लोगों की तरह यह मानते थे कि यह दरअसल एक धोखा है और शारीरिक तौर पर मजबूत व्यक्ति पर ऐसे अफवाहों का कोई असर नहीं होता।

View More...

हाइपरसोनिक मिसाइल प्रणाली जिरकॉन रूस ने किया का परीक्षण

Date : 26-Dec-2021

मास्को (एजेंसी)। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को घोषणा की कि देश के रक्षा बलों ने जिरकॉन हाइपरसोनिक मिसाइल प्रणाली का परीक्षण किया है। राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि शुक्रवार सुबह, जिरकॉन हाइपरसोनिक प्रणाली को -लॉन्च किया गया था। यह हमारी नवीनतम मिसाइल है जो नौसेना और जमीनी दोनों लक्ष्यों पर हमला कर सकती है। रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि प्रक्षेपण का उद्देश्य रूस की सुरक्षा और रक्षा क्षमता को बढ़ाना था। परीक्षण बिल्कुल सफल और त्रुटिहीन रहे। पुतिन ने कहा है कि जिरकॉन मिसाइल ध्वनि की रफ्तार से नौ गुना तेजी से उड़ान भरेगी और इसका दायरा 1,000 किलोमीटर तक है।

यूक्रेन के साथ तनाव के बीच रूस ने उठाया यह कदम

रूस के द्वारा यह कदम तब उठाया गया है जब यूक्रेन की सीमा पर तनाव जारी है और अमेरिका की ओर से बार-बार चेतावनी दी गई है कि रूस ने यूक्रेनी सीमा पर 100,000 से अधिक सैनिकों को जमा किया है। वहीं इस बीच, रूस की समाचार एजेंसी टीएएएसएस ने एक स्थानीय समाचार पत्र के हवाले से बताया कि रूसी सैनिकों को अगले साल वेरी शॉर्ट-रेंज एयर डिफेंस (VSHORAD) गिब्का-एस सिस्टम प्राप्त करने की तैयारी है। गिब्का-एस प्रणाली का परीक्षण रूसी सेना ने दो साल पहले किया था।

गिब्का-एस मिसाइलें की खूबियां

रिपोर्टों में कहा गया है कि गिब्का-एस मिसाइलें कम और सीमित दृश्यता पर ड्रोन, क्रूज मिसाइल और उच्च-सटीक हथियारों को रोक सकती हैं। तनाव कम करने के प्रयास में रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा कि उसके अधिकारी सुरक्षा गारंटी पर नाटो के साथ सीधी बातचीत के लिए तैयार हैं।

रूस और नाटो देश के बीच मतभेद

रूस ने पहले नाटो और अमेरिका को सुरक्षा गारंटी पर एक दस्तावेज प्रस्तुत किया था जिसमें इस बात पर जोर दिया गया था कि पश्चिमी सैन्य गठबंधन को पूर्व में अपने प्रभाव का विस्तार नहीं करना चाहिए और यूक्रेन का जिक्र करते हुए पूर्व सोवियत ब्लॉक देशों को नाटो सदस्यता देने से बचना चाहिए। इससे पहले नाटो ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि रूस की हाइपरसोनिक मिसाइल यूरोप अटलांटिक क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकती है।

View More...
Previous123456789...5657Next