Business

Previous123456789...3132Next

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने.चांदी की कीमतों में आई भारी गिरावट, जानें अपडेट

Date : 29-Sep-2022

नई दिल्ली (एजेंसी) ।अंतरराष्ट्रीय बाजार में 28 सितंबर को सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट आई है। मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज पर सोने का भाव शुरुआती कारोबार में 0.24 फीसदी गिर गया है। चांदी का रेट भी आज 0.73 फीसदी टूट गया है। सोने के भाव अब दो साल के निचले स्‍तर पर चल रहे हैं।

बुधवार को एमसीएक्‍स पर 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने का भाव 9 :05 बजे 116 रुपये टूटकर 49,203 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया है। बुधवार को एमसीएक्‍स पर सोने में कारोबार 49,160 रुपये के स्‍तर से शुरू हुआ।

कुछ समय बाद भाव 49,241 रुपये के स्‍तर पर पहुंच गया। बाद में यह थोड़ा गिरकर 49,203 रुपये पर ट्रेड करने लगा। छत्तीसगढ़ में आज 24 कैरेट सोने का भाव 4,880 रुपए प्रति ग्राम है। वहीं आज चांदी का भाव 61.00 रुपए प्रति ग्राम है।

View More...

शेयर बाजार : हरे निशान पर खुला बाजार, निफ्टी 17,800 के ऊपर, सेंसेक्स 700 से अधिक उछला

Date : 20-Sep-2022

मुंबई (एजेंसी)। मंगलवार का दिन शेयर बाजार के लिए मंगलकारी साबित हो रहा है। मंगलवार को शुरुआती कारोबार में शेयर बाजार में जमकर कारोबार हो रहा है। शुरुआती कारोबार में सूचकांकों में तेज उछाल देखा गया। बाजार खुलते ही सेंसेक्स 549.31 अंक या 0.93% बढ़कर 59690.54 पर और निफ्टी 164.20 अंक या 0.93% ऊपर 17786.50 पर पहुंच गया। खबर लिखे जाने तक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 735 अंक चढ़कर 59,877 पर था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 216 अंक ऊपर चढ़कर 17838 पर कारोबार कर रहा थ।

मंगलवार को बैंकिंग सेक्टर में लगातार खरीदारी और वैश्विक बाजारों में रिकवरी से सेंसेक्स में तेजी आई। शुरुआती कारोबार में लगभग 1722 शेयरों में तेजी आई है, 360 शेयरों में गिरावट आई है और 90 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। एशिया में सियोल, टोक्यो, शंघाई और हांगकांग के बाजार उच्च स्तर पर कारोबार कर रहे थे। अमेरिकी बाजार सोमवार को बढ़त के साथ बंद हुए।

बीएसई बेंचमार्क सोमवार को 300.44 अंक या 0.51 प्रतिशत बढ़कर 59,141.23 पर बंद हुआ। निफ्टी 91.40 अंक या 0.52 फीसदी बढ़कर 17,622.25 पर बंद हुआ। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.21 प्रतिशत चढ़कर 92.19 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। बीएसई के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने सोमवार को 312.31 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे।

टॉप गेनर्स और लूजर्स

इंडसइंड बैंक, बजाज फिनसर्व, बजाज फाइनेंस, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, लार्सन एंड टुब्रो और टाटा स्टील के शेयरों में आज सबसे अधिक तेजी देखी जा रही है। सेंसेक्स पैक के सभी 30-शेयर हरे रंग में कारोबार कर रहे थे।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इनवेस्टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट वीके विजयकुमार ने कहा कि वैश्विक चुनौतियों के बावजूद भारतीय बाजार में लचीलापन जारी है। निफ्टी बैंक, ऑटो, एफएमसीजी और सीमेंट जैसे प्रमुख सूचकांक रिकॉर्ड स्तर पर हैं।

रुपया शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 13 पैसे बढ़कर 79.68 पर पहुंच गया।

View More...

महीने का पहला दिन भारतीय शेयर बाजार को नहीं आया रास, टूटा बाजार, औंधे मुंह गिरे सेंसेक्स.निफ्टी

Date : 01-Sep-2022

मुंबई (एजेंसी)। सितंबर महीने का पहला दिन भारतीय शेयर बाजार को रास नहीं आया। वायदा कारोबार के एक्सपायरी के दिन बाजार 850 अंकों तक टूट गया। बाजार अपने पिछले करोबारी दिन की बढ़त को तेजी से गंवाता दिखा। फिलहाल सेंसेक्स 744 अंकों की कमजोरी के साथ 58,792 अंकों पर कारोबार कर रहा है। वहीं निफ्टी 210 अंकों की कमजोरी के साथ 17548 अंकों पर है।  

आज के दिन लगभग 1101 शेयरों में तेजी आई है, 1052 शेयरों में गिरावट आई है और 186 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। निफ्टी पर इंफोसिस, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस, टीसीएस, हिंडाल्को इंडस्ट्रीज, ओएनजीसी के शेयरों में तेज गिरावट देखने को मिली। जबकि भारती एयरटेल, बजाज ऑटो, इंडसइंड बैंक, बजाज फिनसर्व और अल्ट्राटेक सीमेंट प्रमुख गेनर्स में शामिल थे। सेंसेक्स पैक से, इंफोसिस, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी, टेक महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचसीएल टेक्नोलॉजीज और आईसीआईसीआई बैंक पिछड़ गए। वहीं बजाज फिनसर्व, भारती एयरटेल, एशियन पेंट्स और अल्ट्राटेक सीमेंट गेनर्स में शामिल थे।

एशियाई बाजारों का हाल

एशिया में सियोल, टोक्यो और हांगकांग के बाजार निचले स्तर पर कारोबार कर रहे थे, जबकि शंघाई में मध्य सौदों में हरे रंग में कारोबार हो रहा था। बुधवार को अमेरिकी बाजार गिरावट के साथ बंद हुए थे। बीएसई का 30 शेयरों वाला बेंचमार्क मंगलवार को 1,564.45 अंक या 2.70 फीसदी की तेजी के साथ 59,537.07 पर बंद हुआ। निफ्टी 446.40 अंक या 2.58 प्रतिशत बढ़कर 17,759.30 पर पहुंच गया। बुधवार को गणेश चतुर्थी के कारण शेयर बाजार बंद रहे।

मेहता इक्विटीज लिमिटेड के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रशांत तापसे ने कहा कि घरेलू शेयरों में गुरुवार के शुरुआती कारोबार में गिरावट की संभावना है, अमेरिकी बाजारों के कमजोर रहने के बाद एशियन पैक पर दबाव बना रहेगा।

वॉल स्ट्रीट और अन्य एशियाई बाजारों में कमजोर रुख के चलते गुरुवार को शुरुआती स्तर पर सूचकांकों ने पिछले कारोबारी स्तर की बढ़त। को खो दिया, लेकिन एक घंटे के भीतर इसमें कुछ सुधार हुआ और नुकसान का दायरा सिकुड़ गया। टीसीएस, इंफोसिस, एसबीआई लाइफ ने गुरुवार को सपाट शुरुआत की। Q1 जीडीपी के 13.5 फीसद पर रहने के कारण बाजार में थोड़ी निराशा है। इसमें दोहरे अंकों की बढ़ोतरी जरूर हुई है, लेकिन यह ज्यादातर अनुमानों से कम है। यह तिमाही महामारी से बिल्कुल भी प्रभावित नहीं थी। लेकिन निजी खपत में बढ़ोतरी के बावजूद उम्मीद से यह कहीं कम है। इसके चलते भी बाजार में निराशा का माहौल बना हुआ है। उधर यूरोपीय देशों में महंगाई के आंकड़े जारी होने के बाद वहां की कई अर्थव्यवस्थाओं में हलचल मची हुई है। इसका असर भी बाजार पर देखने को मिल सकता है। मानसून की सक्रियता बनी रही तो Q2 में विकास दर बढ़ सकती है, लेकिन तेल की कीमतें, रूस-यूक्रेन के बीच भू-राजनीतिक तनाव और पश्चिम के देशों में मंदी का इसमें अहम रोल रहेगा।

रुपया 14 पैसे गिरा

विदेशों में अमेरिकी डॉलर की मजबूती को देखते हुए गुरुवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 14 पैसे की गिरावट के साथ खुला। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया ग्रीनबैक के मुकाबले 79.55 पर खुला, फिर 79.66 तक गिर गया। इसमें पिछले बंद के मुकाबले 14 पैसे की गिरावट दर्ज की गई है। बता दें कि मंगलवार को रुपया करीब दो सप्ताह के उच्च स्तर 79.52 पर बंद हुआ था। घरेलू विदेशी मुद्रा बाजार बुधवार को गणेश चतुर्थी के कारण बंद था। इस बीच, डॉलर इंडेक्स, जो छह मुद्राओं की एक टोकरी के मुकाबले ग्रीनबैक की ताकत का अनुमान लगाता है, 0.28 प्रतिशत बढ़कर 109 हो गया।

View More...

गौतम अदाणी बने दुनिया के तीसरे नंबर के रईस

Date : 30-Aug-2022

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय उद्योगपति गौतम अदाणी दुनिया के तीसरे नंबर के रईस बन गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने अपना नया रिकॉर्ड रच दिया है। उन्होंने लुई वुइटन के प्रमुख बर्नार्ड अर्नाल्ट को पीछे छोड़ दिया है।

विश्व के धनपतियों की सूची में यह स्थान पाने वाले अदाणी पहले भारतीय व पहले एशियाई हैं। ब्लूमबर्ग इंडेक्स के अनुसार अब अदाणी के आगे अमेरिका के शीर्ष उद्योगपति व टेस्ला के सीईओ एलन मस्क व अमेजन के प्रमुख जेफ बेजोस हैं। अदाणी अब तक भारत के साथ एशिया के भी सबसे बड़े रईस थे। अब उन्होंने दुनिया के तीसरे सबसे बड़े रईस का खिताब हासिल कर लिया है।

ब्लूमबर्ग के अरबपति सूचकांक के अनुसार 60 साल के गौतम अदाणी की नेटवर्थ (कुल संपत्ति) 137.4 अरब डॉलर है। टेस्ला के प्रमुख व दुनिया के सबसे धनी एलन मस्क की नेटवर्थ 251 अरब डॉलर है, जबकि, अमेजन के संस्थापक व सीईओ जेफ बेजोस की 153 अरब डॉलर है।

बर्नार्ड अर्नाल्ट एलवीएमएच मोएट हेनेसी लुई वुइटन, जिसे आमतौर पर LVMH के रूप में जाना जाता है, के सह संस्थापक हैं। एलवीएमएच लक्जरी फैशन की दुनिया का विश्व का अग्रणी नाम है। अदाणी धनपतियों की दौड़ में देश के मुकेश अंबानी से आगे निकल गए हैं। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार अंबानी व चीन के जैक मा एशिया के दो अन्य बड़े रईस हैं, लेकिन वे अदाणी की तरह यह मुकाम हासिल नहीं कर सके हैं।

गौतम अदाणी अदाणी समूह के संस्थापक हैं। यह समूह देश का सबसे बड़ा पोर्ट ऑपरेटर है। यह देश का सबसे बड़ा कोयला कारोबारी भी है। समूह की कंपनी के पास देश के कई एयरपोर्ट के संचालन का काम भी है। अदाणी समूह की नेटवर्थ 2022 में लगातार बढ़ी है। गौतम अदाणी दुनिया के टॉप-10 रईसों की सूची में एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं, जिनकी दौलत पिछले 24 घंटे के दौरान बढ़ी है। इस दौरान अदाणी की नेटवर्थ में 1.2 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई। इस साल जनवरी से अब तक अदाणी की संपत्ति 60.9 अरब डॉलर बढ़ चुकी है।

पिछले माह किया एनडीटीवी में हिस्सेदारी खरीदने का एलान

अदाणी समूह ने पिछले सप्ताह एनडीटीवी में 29 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी का एलान कर सबको चौंका दिया था। समूह की एक कंपनी यह अधिग्रहण करने जा रही है, हालांकि एनडीटीवी ने कहा है कि यह खरीदी बाजार नियामक सेबी की मंजूरी के बाद ही हो सकेगी। अदाणी समूह की कंपनी एएमजी मीडिया नेटवर्क लिमिटेड ने अपनी सहयोगी कंपनी  विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड के जरिए एनडीटीवी की एक प्रवर्तक कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के 99.99 फीसदी शेयर खरीदने की पेशकश की है। इसमें कुछ कानूनी पेचीदगियां हैं। यानी एनडीटीवी में 29 फीसदी हिस्सेदारी अदाणी समूह की कंपनी आरआरपीआर को खरीदकर हासिल करेगी, इसे सेबी की मंजूरी मिलना है।

बिल गेट्स को पिछले माह पछाड़ा

गौतम अदाणी ने पिछले माह माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुख बिल गेट्स को पछाड़ दिया था। बिल गेट्स की नेटवर्थ घटकर 117 अरब डॉलर रह गई है। यह कमी उनके द्वारा बड़े पैमाने पर दान करने के कारण आई है।

अंबानी को फरवरी में पीछे छोड़ा था

अदाणी की नेटवर्थ में इस साल 60 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। यह देश के अन्य रईसों की तुलना में पांच गुना ज्यादा है। इसी साल फरवरी में गौतम अदाणी ने रिलायंस समूह के प्रमुख मुकेश अंबानी को पीछे छोड़ दिया था। अदाणी इसके साथ ही भारत के व एशिया के सबसे रईस बने थे। अप्रैल 2022 में अदाणी की नेटवर्थ पहली बार 100 अरब डॉलर के पार पहुंच गई थी। 

View More...

मंदी की आशंका से सहमा अंतरराष्ट्रीय बाजार, 90 डॉलर से नीचे पहुंचा क्रूड

Date : 17-Aug-2022

नई दिल्ली (एजेंसी)। लंबे समय तक तेजी दिखाने के बाद अंतरराष्ट्रीय बाजार  में आज कच्चे तेल की कीमत 90 डॉलर से भी नीचे पहुंच गई। हालांकि ब्रेंट क्रूड ऑयल अभी भी 90 डॉलर के ऊपर ट्रेड कर रहा है, लेकिन डब्लूटीआई क्रूड 90 डॉलर से नीचे पहुंच गया है। आज अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड 90 सेंट की कमजोरी के साथ 94.20 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर आ गया, वहीं डब्ल्यूटीआई क्रूड कमजोर होकर 88.6 डॉलर प्रति बैरल की कीमत पर सेटल हुआ।

दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कच्चे तेल के आयातक देश भारत के लिहाज से ये खबर काफी सुकून पहुंचाने वाली है लेकिन इसी खबर ने दुनिया भर के अर्थशास्त्रियों की चिंता बढ़ा दी है। माना जा रहा है कि कच्चे तेल की कीमत में आई गिरावट चीन की अर्थव्यवस्था से जुड़े आंकड़ों के कमजोर होने की वजह से आई है। चीनी अर्थव्यवस्था के कमजोर होते आंकड़ों को ग्लोबल इकोनॉमी के लिए मंदी का संकेत माना जा रहा है।

आशंका जताई जा रही है कि अगर चीन की अर्थव्यवस्था में कमजोरी आती है, तो इससे वैश्विक अर्थव्यवस्था काफी हद तक प्रभावित हो सकती है। क्योंकि मौजूदा हालत में दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश अमेरिका भी वैश्विक अर्थव्यवस्था को सपोर्ट देने की स्थिति में नहीं है। अमेरिका अभी खुद ही रिकॉर्ड महंगाई से जूझ रहा है। हालांकि अमेरिका में महंगाई दर के कुछ दिन पहले आए आंकड़ों में महंगाई में मामूली कमी आने के संकेत जरूर मिले हैं लेकिन अभी भी वहां की महंगाई का स्तर काफी अधिक है।

जहां तक चीन की अर्थव्यवस्था की हालत की बात है तो चीन के केंद्रीय बैंक ने मार्केट में डिमांड बढ़ाने के लिए अपना लेंडिंग रेट घटा दिया है। इसके बावजूद चीन की अर्थव्यवस्था से जुड़े आंकड़ों का कमजोर होना लोगों की परेशानी बढ़ा रहा है। जुलाई के महीने में चीन की अर्थव्यवस्था में काफी नरमी दर्ज की गई है, जिसके कारण इस बात की आशंका बनने लगी है कि चीन की अर्थव्यवस्था मंदी की ओर बढ़ रही है। खासकर, कोरोना संक्रमण को लेकर चीन जिस सख्ती के साथ अलग-अलग प्रांतों में लॉकडाउन को लागू कर रहा है, उसके कारण आने वाले दिनों में भी वहां के औद्योगिक उत्पादन में तेजी आने की संभावना कम हो गई है। इसके साथ ही प्रॉपर्टी क्राइसिस की वजह से भी चीन की अर्थव्यवस्था को झटका लगा है। चीन की अर्थव्यवस्था को झटका लगने का एक बड़ा अर्थ दुनिया की अर्थव्यवस्था को भी झटका लगना है, क्योंकि चीन ना केवल लघु उत्पादों का दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक है, बल्कि क्रूड ऑयल जैसी चीज का सबसे बड़ा आयातक भी है। ऐसे में अगर चीन की अर्थव्यवस्था डांवाडोल होती है, तो उससे पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी।

जानकारों का मानना है कि चीन के अलग-अलग प्रांतों में लग रहे लॉकडाउन और औद्योगिक उत्पादन में आई कमी के कारण उसे क्रूड ऑयल के आयात में कटौती करने के लिए बाध्य होना पड़ सकता है। ऐसा होने से अंतरराष्ट्रीय बाजार से कच्चे तेल की बिक्री पर भी काफी असर पड़ सकता है। चीन के कमजोर आर्थिक आंकड़ों के कारण अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की मांग में कमी आने की आशंका बनी है। इसी वजह से आज इसकी कीमत में भी नरमी का माहौल बना है।

जानकारों का कहना है कि कच्चे तेल के आयातकों के लिहाज से एक अच्छी बात अमेरिका और ईरान के बीच 2015 के न्यूक्लियर डील को लेकर एक बार फिर बातचीत की शुरुआत होना भी है। अगर ईरान और अमेरिका यूरोपीय देशों की ओर से न्यूक्लियर डील के संबंध में सुझाए गए ऑफर को मानने पर सहमत हो जाते हैं, तो ईरान पर लगा आर्थिक प्रतिबंध भी खत्म हो जाएगा। ऐसा होने पर अंतरराष्ट्रीय बाजार में ईरान से होने वाले कच्चे तेल की सप्लाई भी शामिल हो जाएगी, जिसकी वजह से कच्चे तेल की वैश्विक कीमत में और नरमी आने के आसार बनेंगे।

View More...

शेयर बाजार : सेंसेक्स 165 अंक तो निफ्टी 42 अंक नीचे

Date : 12-Aug-2022

मुंबई (एजेंसी)। हफ्ते के अंतिम कारोबारी दिन भारतीय शेयर बाजार फिसलता नजर आया है। शुक्रवार को सेंसेक्स 165.25 अंक लुढ़क कर 59,167.35 अंकों पर कारोबार करता नजर आया। वहीं, निफ्टी 42 अंकों की गिरावट के साथ 17615.70 के लेवल पर कारोबार कर रहा है।

इससे पहले 12 अगस्त 2022 को दुनियाभर के बाजारों से सुस्ती के संकेत मिले। गुरुवार को Dow Jones में हल्की बढ़त दिखी और यह दिन की ऊंचाई से 300 अंक फिसलकर बंद हुआ। Nasdaq में भी 0.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। एशियाई बाजारों में SGX निफ्टी 18.50 अंकों की कमजोरी के साथ 17668 के स्तर पर ट्रेड कर रहा है। सोने और चांदी में ऊपरी स्तर से दबाव दिख रहा है जबकि कच्चा तेल (Crude Oil) एक बार फिर बढ़कर 99 डॉलर प्रति बैरल के पास पहुंच गया।

View More...

शेयर बाजार : 580 अंक चढ़ा सेंसेक्स, निफ्टी भी 17,650 के ऊपर

Date : 11-Aug-2022

मुंबई (एजेंसी)। शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। वैश्विक बाजारों में मजबूती के रुख के बीच आईटी, वित्तीय और बैंकिंग शेयरों में जोरदार लिवाली से गुरुवार को इक्विटी बेंचमार्क सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 580 अंक चढ़ गया। शुरुआती कारोबार में 30 शेयरों वाला बीएसई इंडेक्स 581.26 अंक या 0.99 फीसद की तेजी के साथ 59,398.55 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह एनएसई निफ्टी 159.80 अंक या 0.91 प्रतिशत बढ़कर 17,694.55 पर पहुंच गया।

टॉप लूजर और टॉप गेनर कंपनियां

सुबह के कारोबार में सेंसेक्स के सभी घटक बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। टेक महिंद्रा 3 प्रतिशत से अधिक की बढ़त के साथ सेंसेक्स पैक में टॉप स्थान पर रहा। इसके बाद विप्रो, इंफोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक, टीसीएस, बजाज फिनसर्व और बजाज फाइनेंस का स्थान रहा।

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया

शेयर बाजारों में तेजी के बीच गुरुवार को शुरुआती कारोबार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले सीमित दायरे में कारोबार कर रहा था। शुरुआती कारोबार में अंतरबैंक विदेशी मुद्रा में रुपये में सीमाबद्ध कारोबार देखा गया। यह अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 79.22 पर खुला। फिर पिछले बंद के मुकाबले 6 पैसे की गिरावट दर्ज करते हुए 79.31 पर आ गया। सुबह के शुरुआती कारोबार में यह 79.22 से 79.31 के सीमित दायरे में कारोबार कर रहा था।

आपको बता दें कि पिछले सत्र में 30-शेयर बीएसई सूचकांक सेंसेक्स 35.78 अंक या 0.06 प्रतिशत कम 58,817.29 पर एक अस्थिर सत्र में समाप्त हुआ। वहीं, एनएसई निफ्टी 9.65 अंक या 0.06 प्रतिशत बढ़कर 17,534.75 पर बंद हुआ। विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) भारतीय पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार थे, क्योंकि उन्होंने एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार बुधवार को 1,061.88 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.23 फीसदी की गिरावट के साथ 97.18 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।

View More...

शेयर बाजार : सप्ताह के पहले दिन हरे निशान पर खुला बाजार, 189 अंक चढ़ा सेंसेक्स, निफ्टी 17.400 से ऊपर

Date : 08-Aug-2022

मुंबई (एजेंसी)। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन शेयर बाजार में तेजी देखने को मिल रही है। वैश्विक बाजारों में मिले-जुले रुख के बीच इक्विटी बेंचमार्क सेंसेक्स सोमवार को शुरुआती कारोबार में 189 अंक से अधिक चढ़ गया। कमजोर स्तर पर खुलने के बाद 30 शेयरों वाला बीएसई बेंचमार्क शुरुआती सत्र में 187 अंक या 0.32 प्रतिशत बढ़कर 58,575 पर पहुंच गया। वहीं एनएसई निफ्टी 46 अंक या 0.28 प्रतिशत बढ़कर 17,446 पर पहुंच गया।

सेंसेक्स पैक में महिंद्रा एंड महिंद्रा 2 प्रतिशत से अधिक की बढ़त के साथ सबसे अधिक लाभ में रहा, इसके बाद इंडसइंड बैंक, एनटीपीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और मारुति का स्थान रहा। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इंफोसिस, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज और आईसीआईसीआई बैंक टॉप लूजर्स में से थे। एशिया में टोक्यो और शंघाई के बाजार उच्च स्तर पर कारोबार कर रहे थे, जबकि सियोल और हांगकांग में गिरावट दर्ज की गई। अमेरिकी बाजार शुक्रवार को ज्यादातर निचले स्तर पर बंद हुए थे।

शुक्रवार को बीएसई बेंचमार्क 89.13 अंक या 0.15 प्रतिशत बढ़कर 58,387.93 पर बंद हुआ। निफ्टी 15.50 अंक या 0.09 फीसदी की तेजी के साथ 17,397.50 पर बंद हुआ। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.21 प्रतिशत बढ़कर 95.12 डॉलर प्रति बैरल हो गया। विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार बने रहे, क्योंकि उन्होंने एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को 1,605.81 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे।

रुपये में फिर से गिरावट

घरेलू शेयर बाजारों में नरमी के चलते सोमवार को शुरुआती कारोबार में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले (Rupee vs Dollar) 22 पैसे टूटकर 79.46 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया। इंटरबैंक विदेशी मुद्रा में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 79.50 पर खुला और फिर शुरुआती सौदों में थोड़ा मजबूत होने के बाद 79.46 पर आ गया। पिछले बंद के मुकाबले इसमें 22 पैसे की गिरावट दर्ज की गई है। पिछले सत्र में डॉलर के मुकाबले रुपया 16 पैसे बढ़कर 79.24 पर बंद हुआ था। इस बीच डॉलर इंडेक्स जो छह मुद्राओं के मुकाबले ग्रीनबैक की ताकत का अनुमान लगाता है, 0.05 प्रतिशत फिसलकर 106.57 पर आ गया।

View More...

दुनिया में तेल के सबसे बड़े आयातक देश भारत में रूस की बाजार की बढ़ी हिस्सेदारी

Date : 08-Aug-2022

नई दिल्‍ली (एजेंसी)। भारत में सस्ता तेल  बेचे जाने को लेकर रूस को सऊदी अरब और अन्य ओपेक देशों से कड़ा मुकाबला देखने को मिल रहा है. रूस ने सऊदी अरब की तुलना में भारत में अधिक सस्ता तेल बेचा है. इससे दुनिया में तेल के सबसे बड़े आयातक देश भारत में रूस की बाजार की हिस्सेदारी बढ़ी है.

भारत सरकार के आंकड़ों पर आधारित ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल अप्रैल से जून के दौरान रूस ने सऊदी अरब से भी सस्ता तेल भारत को बेचा है. मई महीने में भारत को रूस के तेल पर 19 डॉलर प्रति बैरल तक की छूट मिल रही थी.

जून महीने में सऊदी अरब को पीछे छोड़ते हुए भारत में तेल का निर्यात करने वाला रूस दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया. इस मामले में पहला स्थान इराक का है.

यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद यूरोपीय देशों के रूस पर प्रतिबंधों के बीच भारत और चीन सबसे अधिक मात्रा में रूस का कच्चा तेल खरीद रहे हैं. भारत अपनी तेल जरूरतों को पूरा करने के लिए 85 फीसदी हिस्सा आयात करता है. रूस से सस्ते दाम पर तेल मिलने से भारत को आर्थिक मोर्चे पर थोड़ी राहत मिली है क्योंकि देश में महंगाई चरम पर है और व्यापार घाटा बढ़ा है.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, वैश्विक स्तर पर तेल की कीमतें बढ़ने के बाद इस साल की दूसरी तिमाही में भारत में कच्चे तेल का आयात बिल बढ़कर 47.5 अरब डॉलर हो गया था जबकि पिछले साल इसी तिमाही में यह बिल 25.1 अरब डॉलर ही था.

सिंगापुर की वंदा इनसाइट्स के संस्थापक वंदना हरी ने ब्लूमबर्ग से बताया, भारत की तेल रिफाइनरी सस्ता कच्चा तेल खरीदने की कोशिश में लगी रहती हैं, जिससे उन्हें ज्यादा मुनाफा हो और रूस का कच्चा तेल इसमें फिट बैठता है. सऊदी अरब और इराक को इससे कोई घाटा नहीं होगा क्योंकि ये देश सीधे तौर पर यूरोप में अधिक सप्लाई कर रहे हैं.

हालांकि, सऊदी अरब की तुलना में रूस से भारत को तेल आयात में जो छूट मिल रही थी, वह जून महीने में कम हुई है. इसके बावजूद सऊदी अरब के मुकाबले रूस से भारत को 13 डॉलर प्रति बैरल सस्ता तेल मिल रहा है.

2021 में भारत में तेल का निर्यात करने वाला सऊदी अरब दूसरा सबसे बड़ा देश था जबकि रूस नौंवे स्थान पर था.

वहीं, इराक भारत में तेल निर्यात करने वाला सबसे बड़ा देश है और इस साल जून तक वह पहले स्थान पर ही काबिज है.

मई महीने में रूस की तुलना में सऊदी अरब से भारत को तेल नौ डॉलर प्रति बैरल अधिक महंगा मिला था लेकिन बाकी महीनों में सऊदी अरब ने भारत को तेल खरीद पर कुछ छूट दी. मार्च महीने से रूस से भारत का तेल आयात दस गुना बढ़ गया है.

View More...

पूरे भारत में जीवो इस दिन लॉन्च कर सकती है 5जी सर्विस

Date : 02-Aug-2022

नई दिल्ली (एजेंसी) । हाल ही में 5G का ऑक्शन खत्म हुआ है. अब Reliance Jio पूरे देश में 5G रोलआउट करने की तैयारी में है. कंपनी 5G प्लान्स और ट्रायल्स को लेकर ज्यादा कुछ जानकारी शेयर नहीं करती थी. जबकि दूसरी टेलीकॉम कंपनियां जैसे Vodafone Idea और Bharti Airtel को लेकर जानकारी सामने आती रहती थी.

अब Reliance Jio की ओर से हिंट किया गया है कि इसकी 5G सर्विस पूरे देश में 15 अगस्त को जारी हो सकती है. इसको लेकर रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी ने इशारा किया है. उन्होंने कहा है कि वो आजादी का अमृत महोत्सव पूरे भारत में 5G रोलआउट के साथ मनाएंगे.

आकाश अंबानी के मुताबिक, Jio यूजर्स को वर्ल्ड क्लास, अफोर्डेबल 5G और 5G-एनेबल्ड सर्विस देगा. आपको बता दें कि कंपनी ने स्पेक्ट्रम नीलामी के दौरान इतना स्पेक्ट्रम खरीद लिया है कि वो 5G सर्विस को देश में बड़े पैमाने पर लॉन्च कर सकती है.

इस टेलीकॉम कंपनी ने इस स्पेक्ट्रम नीलामी में 88,078 करोड़ रुपये ज्यादा खर्च किया है. इससे इसके पास ऐसे एयरवेव्स भी हैं जो दूसरी टेलीकॉम कंपनियों के पास नहीं है. जियो एकमात्र टेलीकॉम कंपनी है जिसके पास अभी 700 MHz एयरवेव्स मौजूद है. इससे इसको बाकी टेलीकॉम कंपनियां से फायदा मिलेगा.

अब आकाश अंबानी ने 5G लॉन्च को लेकर काफी क्लियर बोला है. लेकिन, ये देखना दिलचस्प होगा कि क्या जियो इसको एग्जीक्यूट कर पाएगा. ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि भारत के पास अभी कोई भी 5G नेटवर्क नहीं है.

अभी तक जो भी 5G नेटवर्क्स थे उनको ट्रायल के लिए थे जिसके लिए डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्युनिकेशन ने स्पेक्ट्रम दिया था. इसको लेकर हमें ज्यादा जानकारी के लिए इंतजार करना होगा. यूजर्स को इसके लिए 5G SIM की भी जरूरत होगी. इसके अलावा अगर ये ऐसा करने में कामयाब होता है तो इसे बाकी टेलीकॉम कंपनियों से ज्यादा फायदा मिलेगा.

View More...
Previous123456789...3132Next