Life Style

Previous12Next

वेट बढ़ने के डर से छोड़ दिए हैं पराठे तो ऐसे पकाकर खाएं, नहीं बढ़ेगा वजन

Date : 07-Jul-2020

वेट बढ़ने के डर से छोड़ दिए हैं पराठे तो ऐसे पकाकर खाएं, नहीं बढ़ेगा वजन

ज्यादातर लोगों को लगता है घी या मक्कन से बना पराठा आपका तेजी से वजन बढ़ाता है,लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। अगर आप पराठे को सही तरीके से बनाकर खाते हैं तो आपका वजन बढने के बजाए घटेगा। इसी बीच आज हम आपको हैल्थी पराठे बनाने का तरीका बताने जा रहे हैं।

ऐसे बनाकर खाएं पराठे नाश्ते में गर्मा गर्म पराठे खाने हर किसी को पसंद होते हैं। वहीं कुछ लोग वजन बढ़ने के डर से चाह कर भी पराठे नहीं खाते हैं और अपना मन मारते हैं। ज्यादातर लोगों को लगता है घी या मक्कन से बना पराठा आपका तेजी से वजन बढ़ाता है,लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। अगर आप पराठे को सही तरीके से बनाकर खाते हैं तो आपका वजन बढने के बजाए घटेगा। इसी बीच आज हम आपको हैल्थी पराठे बनाने का तरीका बताने जा रहे हैं। जिससे आपका वजन बढेगा नही बल्कि घटेगा। तो आइए जानते हैं हैल्थी पराठा बनाने का तरीका। अगर आप डाइट को फॉलो कर रहे हैं तो आपके भरे हुए पराठे की स्टफिंग बहुत ही सोच समझ कर करनी चाहिए। आप सीजनल सब्जियों की ही स्टफिंग करें। स्टफिंग को फ्राई न करें। आपको बता दें कि पनीर, मशरूम और दाल की स्‍टफिंग पराठे में प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाती है। Also Read: मेथी के इस ड्रिंक से कब्ज की समस्या से पाएं समाधान कोशिश करें कि गेंहू के पराठे के बजाए साबुत अनाज के आटे से पराठा बनाएं। यह वेट कम करने के लिए भी अच्छा होता है।आप चाहें तो पराठा बनाने के लिए कुट्टू का आटा, क्विनोआ, जौ या बाजरे के आटा यूज कर सकते हैं। पराठा बनाने के लिए सिलिकॉन ब्रश खरीदें। इससे पराठे में तेल एक ही समान लगेगा और पतली लेयर लगेगी।
 

View More...

आंखों के नीचे काले धब्बे को कैसे मिटाये, जानिए सरल घरेलू उपाए

Date : 31-May-2020

आंखों के नीचे काले धब्बे होना आम समस्या है कम सोने, अधिक थकान होने, कमजोरी अथवा किसी बीमारी के कारण होते है । प्राय: नींद न आने की बीमारी के कारण होते हैं और उनकी आंखों पर काले धब्बे पड़ जाते है । नींद लेना स्वास्थ्य के लिये आवश्यक है । यदि आपको नींद नही आती, आप को थकावट रहती है तो रोज सुबह घर में ही एक्ससाइज करनी चाहिये ।

क्यों होता है आंखों के नीचे काले धब्बे 
आंखों के नीचे कालापन होने के कई कारण हो सकते हैं। नीचे हम आपको कुछ सामान्य, लेकिन ध्यान देने वाले कारण आपको बता रहे हैं, जिससे आंखों के नीचे काले घेरे हो सकते हैं।
नींद पूरी न होना
जरूरत से ज्यादा देर तक सोना
थकावट के कारण
सही डाइट न लेना
शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की कमी के कारण कमजोरी होने से
ज्यादा मेकअप लगाने की वजह से
त्वचा के संक्रमण जैसे – एक्जिमा या खुजली की वजह से
बढ़ती उम्र  आदि कई कारण हो सकता है। 

 आंखों के नीचे कालापन दूर करने के घरेलु उपाए 
 
टमाटर
हर घर की रसोई में टमाटर एक अहम स्थान है और इसे खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा, क्या आपको पता है कि टमाटर आपकी त्वचा के लिए भी बहुत खास है। यह त्वचा को कई फायदे पहुंचा सकता है। अगर डार्क सर्कल की बात करें, तो टमाटर इसमें काफी लाभकारी हो सकता है।एक कटोरी में टमाटर और नींबू के रस को मिला लें।फिर इसे अपने डार्क सर्कल पर लगाएं और 10 मिनट तक लगा रहने दें।कुछ देर बाद ठंडे पानी से धो लें।

गुलाब जल
आजकल बाजार में गुलाब जल आसानी से उपलब्ध है और उसका काफी प्रयोग किया जा रहा है क्योंकि यह त्वचा के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए, आंखों के काले घेरे हटाने के उपाय की लिस्ट में हमने गुलाब जल को शामिल किया है।रूई को गुलाब जल में भिगोएं।अब रूई को आंखों के नीचे रखें और 15 मिनट के लिए रहने दें।
फिर ठंडे पानी से धो दें।आप अच्छे परिणाम के लिए चार हफ्तों तक हर रोज इसे लगाएं।

 बादाम तेल
अच्छी सेहत के लिए बादाम खाना जरूरी है। ठीक उसी तरह बादाम तेल भी बहुत लाभकारी होता है, खासकर त्वचा के लिए। कई सालों से लोग बादाम तेल का उपयोग करते आ रहे हैं और यह न सिर्फ त्वचा, बल्कि बालों के लिए भी बहुत गुणकारी होता है। यह डार्क सर्कल के लिए भी बहुत असरदार साबित हो सकता है।रात को सोने से पहले आप अपने डार्क सर्कल पर बादाम तेल की बूंदें लगाकर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।इसे रातभर लगा रहने दें और फिर अगली सुबह धो लें।

 ग्रीन टी
वजन कम करना हो, बालों को खूबसूरत बनाना हो या त्वचा में निखार लाना हो, ग्रीन टी किसी चमत्कारी टॉनिक से कम नहीं है। अगर आप डार्क सर्कल से परेशान हैं, तो भी यह गुणकारी साबित हो सकता है।टी बैग को पानी में डुबोएं और उन्हें फ्रिज में रख दें।अब इन ठंडे टी बैग को अपने आँखों के नीचे रखें और 15 मिनट बाद चेहरे को धो लें।इसे तब तक लगाएं, जब तक कि आपको अपनी आंखों के नीचे काले घेरों में सुधार नजर न आने लगे।

आंखों की चारों तरफ की त्वचा बड़ी नाजुक होती है । इसलिये सौन्दर्य प्रसाधन लगाते समय बड़ी सावधानी बरतनी चाहिये । सोने से पहले त्वचा को नमी देने वाली क्रीम या लोशन इस्तेमाल करनी चाहिये । रूई के फोहे को आंखों के इर्द-गिर्द लगाएं । आंखों के लिये बादाम क्रीम सबसे उपयुक्त होती है । इससे रंग भी साफ होता है और साथ ही त्वचा का पोषण होता है। कोई भी सौन्दर्य-प्रसाधन  तत्व आंखों वाले क्षेत्र पर ज्यादा देर नहीं लगाना चाहिये । चेहरे पर लगाया जाने वाला लेप आंखों के आसपास नहीं लगाना चाहिये । आंखों पर खीरे का रस, आलू का रस तथा गुलाबजल को रूई के फोहे में भिगोकर आंखों पर रखना चाहिये ।

View More...

पूरे दिन तरोताजा और उर्जा से भरपूर रहने के लिए जरूरी है अच्छी नींद, जानिए अच्छी नींद पाने के कुछ सरल उपाय

Date : 31-May-2020


आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कई तरह की अव्यवस्थाएं और अनियमिता हैं।  चाहकर भी हम चैन की नींद नहीं सो पाते, और सुबह हो जाती है,  जिसका खामियाजा हमारे स्वास्थ्य को उठाना पड़ता है।पूरे दिन तरोताजा और उर्जा से भरपूर रहने के लिए जरूरी है कि आप रातभर अच्छी और सुकूनभरी नींद लें लेकिन चिंता, सोने का स्थान और परिस्थितियां आपकी नींद में बाधक हो सकती हैं। आज हम बता रहे हैं, चैन की नींद के लिए कुछ सरल उपाय- 

योगा व ध्यान करें 
अगर कोई व्यक्ति नियमित रुप से योगा व ध्यान करता है तो उसे रात में नींद नहीं आने की समस्या होने की संभावना कम होती है। योगा आपके शरीर की थकान व तनाव को कम करता है जिससे आप अच्छी नींद ले सकते हैं।

चाय व कॉफी का परहेज जरूरी 
सोने से पहले या शाम के समय ज्यादा कॉफी या चाय नहीं पीएं क्योंकि चाय और कॉफी में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जिनसे उत्तेजना बढ़ती है और मस्तिष्क को जागृत कर देती है। ऐसे में नींद नहीं आने की समस्या हो सकती है।

सोने का समय तय करे 
अपने सोने व जागने का समय तय करें, इससे जब आपको आदत हो जाएगी तो अपने आप उस समय आपको नींद आने लगेगी। रात में ज्यादा देर तक नहीं जागें इससे नींद गायब हो जाती है इस कारण हानिकारक एडेरेनाइन हार्मोन का उत्पादन बढ़ जाता है। इसका नतीजा यह निकलता है कि आपको नींद ही नहीं आती है। तय समय पर खुद को सोने के लिए तैयार करें।

टीवी से जरा दूरी भली
सोने से आधे घंटे पहले टीवी व कंप्यूटर के पास नहीं बैठे क्योंकि टीवी और कंप्यूटर की स्क्रीन से आने वाली रोशनी हमारे शरीर को ये एहसास दिलाती रहती है कि अभी दिन है। इस कारण हमारा शरीर सोने के लिए तैयार नहीं हो पाता। सोने से पहले आप किताबें पढ़ सकते हैं।

म्‍यूजिक थेरेपी
संगीत में जादू होता है। ये मन की थकान को कम करता है, जिससे शरीर की थकान भी कम हो जाती है। सोने से पहले मधुर कीर्तन सुनें, नींद जल्दी आती है।

पंजो की मसाज करें
खुद को अच्छी नींद के लिए पंजो का मसाज भी करें। दिनभर की थकान के बाद जब आपके पैरों में मसाज किया जाता है तो इससे आपको आराम मिलता है और नींद अच्छी आती है।

View More...

महीने में सिर्फ 4 बार इस चीज़ सेवन कर लिया तो 80 साल तक नहीं आएगी कमज़ोरी

Date : 26-May-2020

आज-कल की यह भाग दौड़ भरी जिंदगी में हमारे शरीर को कई तरह के पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं।जिसके कारण हमारा शरीर लगातार कमजोर हो जाता है।जब हमारे शरीर में कई तत्वों की कमी हो जाती है तो कई बीमारियाँ अटैक कर देतीं हैं और हम 40 साल में ही कमजोर और बूढ़े नजर आते है।आज हम आपको काले चावल के बारे में बताने वाला हूं जो इतने शक्तिशाली होते हैं कि अगर आप इसका महीने में सिर्फ 4 बार ही उपयोग कर लेते है,तो आपके पास 80 साल तक कोई कमजोरी नहीं आएगी।

आपको बता दें पहले के जमाने में काले चावल का सेवन सिर्फ राजा महाराजा ही करते थें. किन्तु आज ये हर दुकान में आसानी से मिल जाते हैं।काले चावल एक प्रकार की औषधि है.क्योकि इसमें बहुत सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं।
काले चावल में प्रोटीन,विटामिन और कई तरह के ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने में मदद करते है।काले चावल में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा काफी अधिक होने के कारणहमारे शरीर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते है।वैसे तो चाय और कॉफी में भी एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते है।लेकिन काले चावल में इससे अधिक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है।काले चावलों में ऐसे फाइबर होते है,जो कि हमारे शरीर को मोटापे से बचा के रखने में मदद करता है।अगर आपको कमजोरी महसूस हो रही हैं तो आप इस चावल का सेवनकरने से कुछ ही दिनों में आपकी कमजोरी जड़ से ख़त्म हो जाएगी।
काले चावलों का इस्तेमाल करने से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से भी निजात पा सकते है।काले चावल में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट कैंसर से लड़ते हैं और आप के शरीर पर किसी तरह का प्रभाव नहीं पड़ने देते। इस चावल में मौजूद तत्व हमें डायबिटीज और अल्जाइमर जैसी बीमारियों से भी निजात दिलाने में मदद करते है।काले चावल में मौजूद एंथोसाइनिन हार्ट से जुड़ी बीमारियों से छुटकारा दिलाता है
और ऐसा माना जाता है की अगर आप पहले से ही काले चावल का सेवन कर रहे हैं,तो हार्ट की समस्या कभी नहीं आयेगी।  एंथोसाइनिन एक नीले कलर का पिगमेंट है जो हमारे रक्त सहित कोलेस्ट्रॉल और शरीर में किसी तरह की गाँठ नहीं बनने देता है। अगर काले चावल का सेवन किया जाए तो व्यक्ति 80 साल का बूढ़ा हो जाए मगर कमजोरी कभी नहीं आयेगी।

View More...

कोरोना वायरस से आपको बचाएगा होम क्वारंटाइन, जानिए क्या है होम क्वारंटाइन का मतलब

Date : 26-May-2020

हेल्थ डेस्क। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच इसे बचाव के कई उपाय सामने आ रहे हैं। अगर किसी व्यक्ति में कोरोना के संक्रमण दिख रहे हैं तो उसके लिए एक बेहतरीन उपाय होम क्वारंटाइन भी है। क्या आप होम क्वारंटाइन का मतलब समझते हैं। अगर आपको सर्दी, खांसी, जुकाम या बुखार आदि है और आप अपने घर के लोगों के साथ अन्य लोगों को इस बीमारी से दूर रखना चाहते हैं तो आप होम क्वारंटाइन कर सकते हैं। इसका मतलब अपने घर में रहते हुए अपने आप को दूसरे लोगों से अलग कर लेना है। अगर आपको कोरोना वायरस से संक्रमित होने का संदेह है या फिर सर्दी-जुकाम हुआ है तो आप खुद को अपने घर के ही एक कमरे में अलग कर लें। इससे आपके परिवार में किसी को कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं फैलेगा।

होम क्वारंटाइन कैसे करें?
- होम क्वारंटाइन के लिए एक हवादार कमरा चुनें जिसमें टॉयलेट भी हो।
- अगर आप उस कमरे में अकेले नहीं रह पायें और आपके साथ कोई और भी हो तो दोनों में कम से कम एक मीटर की दूरी रखें।
- आप दोनों व्यक्ति घर के बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों से दूरी बनाकर रखें।
- अगर आपको कोरोना के संक्रमण का शक है तो कृपया सार्वजनिक समारोह, शादी, पार्टी आदि से 14 दिन या स्वस्थ होने तक शामिल नहीं हों।
-साबुन से हाथ धोएं और कम से कम 80 फीसदी अल्कोहल वाले हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल करें।
-घर में पानी, बर्तन, तौलिया और सार्वजनिक उपयोग की अन्य चीज को न छुएं।
-सर्जिकल मास्क लगाकर रहें, हर 6-8 घंटे में मास्क बदल दें. मास्क का डिस्पोजल सही तरीके से करें।

क्या खुद को अपने ही घर पर अलग रखकर कोरोना वायरस फैलने से रोका जा सकता है?
देश दुनिया में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। अभी तक के कोरोना के मामलों को देखते हुए विशेषज्ञों का कहना है कि होम क्वारंटाइन कोरोना वायरस को फैलने से रोकने में काफी मददगार साबित हुआ है। अगर किसी को कोरोना के संक्रमण का शक भी हो तो घर पर 14 दिन के लिए होम क्वारंटाइन कर सकते हैं। आईसीएमआर के डॉक्टर का भी कहना है कि होम क्वारंटाइन कोरोना वायरस को फैलने से रोक सकता है।

कौन कर सकता है होम क्वारंटाइन?
जो व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज के संपर्क में आया हो या जिसे सर्दी-खांसी-बुखार के लक्षण दिखने पर शक हो रहा हो वे घर पर अपने आप को अलग कर सकते हैं. कोरोना वायरस के लक्षण सामने आने में 14 हफ्ते का वक्त लग रहा है, ऐसे में अगर आप लापरवाही करेंगे तो आपके संपर्क में आने से सैकड़ों लोग बीमार हो सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड 19 को महामारी घोषित कर दिया है। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए इसके लक्षणों को पहचानना बेहद जरूरी है। लक्षणों को पहचानकर ही कोरोना वायरस को काबू में किया जा सकता है।

View More...

रोजाना नाशपाती खाने से दूर होती है वात, पित्त और कफ जैसी कई बीमारियां

Date : 08-Aug-2019

हेल्थ डेस्क । नाशपाती के सेवन से न कवेल वात पित्त और कफ के दोष दूर होते हैं बल्कि इससे मस्तिष्क को भी शक्ति मिलती है। डाइजेशन सुधारने के साथ ही ये एनीमिया की प्रॉब्लम भी करता है दूर।
नाशपाती मौसमी फल है जो हर एक सीजन में अवेलेबल नहीं होता। विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर से भरपूर नाशपाती सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। नाशपाती का जूस पीकर वात, पित्त और कफ जैसी कई तरह बीमारियां दूर होती है। खूबसूरती को लंबे समय तक रखना है बरकरार तो आज से ही रोजाना एक नाशपाती खाने की करें शुरूआत। 

शारीरिक शक्ति बढ़ाए
नाशपाती हमारी शारीरिक शक्ति को भी बढ़ाने में मदद करता है। रोजाना एक नाशपाती खाना शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है साथ ही शरीर भी सुगठित बनाता है।

पथरी की समस्या करें दूर
जिन लोगों को पथरी है उन लोगों के लिए नाशपाती का सेवन बहुत ही लाभदायक है। उन्हें एक गिलास नाशपाती का रस रोज 2-3 सप्ताह तक पीना चाहिए, इसे पीने से पथरी गलकर निकल जाती है।

कब्ज का कारगर इलाज
जिन लोगों को कब्ज रोग है उनके लिए नाशपाती का सेवन बहुत ही लाभदायक है। कब्ज रोग से बचने के लिए रोगियों को काफी समय तक नाशपाती का सेवन करते रहना चाहिए। इससे पुराना कब्ज भी ठीक हो सकता है और आंतों में जमा मल भी बाहर निकल जाता है।

भूख न लगने की परेशानी हो दूर
अगर आपको भूख नहीं लगती हो तो नाशपाती का सेवन हमारे लिए बहुत ही लाभदायक है, आफको नाशपाती को काटकर उश पर सेंधा निमक और काली मिर्च डालकर खाना चाहिए। इसे खाने से भूख लगने लगेगी।

चर्मरोग से छुटकारा
अगर किसी को चर्मरोग है तो वह नाशपाती के तेल का भी प्रयोग कर सकता है। चर्मरोग से बचने के लिए नाशपाती का तेल दाद, खुजली वाले अंग पर लगाया जाता है। इसे लगाने से आराम भी मिलता है और सफेद स्किन उतरना भी बंद हो जाते हैं।

पेट के घाव में आराम
पेट के घाव होने पर औऱ फोड़े या जलन होने पर नाशपाती के रस तथा गूदे का सेवन किया जा सकता है। जिसे खाने के बाद हमारे अमाशय पर एक झिल्ली बन जाती है जिसके कारण पेट के घाव में आराम मिलता है।

त्वचा की खुश्की करें दूर
त्वचा की खुश्की को दूर करने के लिए हम नाशपाती के गूदे और रस का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए चेहरे पर नाशपाती का गूदा लगाना चाहिए और रोजाना एक गिलास जूस पीकर त्वचा की खुश्की दूर की जा सकती है।

रूप निखारने में मददगार
पकी हुई नाशपाती को कद्दूकस कर उसमें पिसी हुई पत्तियों को मिलाकर लेप बना लें। चेहरे को हल्के गर्म पानी से साफ करके इसे लेप को चेहरे पर लगाएं। 25 मिनट बाद टिश्यू पेपर से चेहरा साफ कर लें। ऐसा करने से चेहरे में बहुत अद्भुत निखार आता है।

एनीमिया की प्रॉब्लम से राहत
आयरन का स्त्रोत होने की वजह से नाशपाती हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है और एनीमिया से ग्रस्त रोगियों को सुरक्षा प्रदान करता है।

View More...

योग से कब्ज की शिकायत होगी दूर, पेट भी रहेगा साफ़

Date : 08-Aug-2019

हेल्थ डेस्क । कहते हैं उदर स्वस्थ तो लाइफ मस्त। गैस, अपच, जी मितलाना, कब्ज, पाइल्स, भूख न   लगना, माइग्रेन संबंधी सभी विकारों को प्राकृतिक तौर पर ठीक करने के लिए सप्ताह में एक बार लघु शंख प्रक्षालन करना चाहिए। कब्ज की ज्यादा शिकायत होने पर इसे सप्ताह में दो या तीन बार भी किया जा सकता है। 
यह 5 आसनों का मिश्रण है जिसे तीन चक्रों में किया जा सकता है। इसे किसी अवकाश वाले दिन घर पर आसानी से सुबह उठते ही खाली पेट में किया जाता है। अभ्यास शुरू करने से पहले आठ गिलास गुनगुना पानी तैयार कर लें। इसमें एक चुटकी नमक मिला लें। प्रत्येक आसन से पहले 2-2 ग्लास पानी पी लें। 
ताड़ासन-दोनों हाथों की अंगुलियां एक दूसरे में फंसाकर हाथों के साथ ही पूरे शरीर को पंजों पर ऊपर उठाएं और थोड़ा रुककर वापस लौटें। इसे 4 बार दोहराएं।

तिर्यक ताड़ासन-पैरों को फैलाकर ताड़ासन करें और पहले दाई तथा फिर बायीं ओर झुकें। इसका अभ्यास 3-3 बार दाएं-बायें झुककर कर लें।
कटिचक्रासन-पैरों को फैलाकर शरीर के ऊपरी हिस्से को दायीं ओर मोड़कर, बायां हाथ दाएं कंधे पर तथा दाहिना हाथ पीछे की ओर घुमाकर कमर पर लपेटें। इसी अभ्यास को दूसरी ओर घूमकर भी कर लें। दोनों ओर 4-4 बार।
तिर्यक भुजंगासन-पेट के बल लेटकर पैरों को सीधा और लंबा फैलाएं। हथेलियों को कंधों के ठीक नीचे र
खकर शरीर को ऊपर उठाएं सिर घुमाकर पैरों को देखने का प्रयास करें। यह प्रक्रिया दोनों और 4 बार करें। 
उदराकर्षण आसन-हाथों को घुटनों पर रखकर उकडू बैठें और धड़ को दाहिनी ओर मोड़ते हुऐ शरीर के पीछे की ओर देखते हुऐ बाएं घुटने को जमीन पर झुकाएं। वापस आकर विपरीत दिशा में मुड़ें। दोनों ओर 5-5 बार दोहराएं।
इन आसनों का 4-4 चक्र पूरा करें और फिर शेष पानी पीकर थोड़ी देर टहलें। यह अभ्यास करने से पेट अच्छी तरह से साफ हो जाएगा और सभी विकार धीरे-धीरे दूर हो जाएंगे।

View More...

beauty/ थ्रैडिंग के दर्द और पिंपल्स से पाएं छुटकारा

Date : 16-Mar-2019

चेहरे का सबसे आकर्षित अंग हैं आंखें। इन्हें और भी अट्रैक्टिव बनाने के लिए हम आई मेकअप का सहारा लेते हैं। एक और चीज और आंखों को खूबसूरत बनाती है वो हैं थ्रैडिंग। थ्रैडिंग करने से आईब्रो को एक अलग ही लुक मिलती है हालांकि कुछ लोग थ्रैडिंग करवाने से कतराते हैं क्योंकि थ्रैडिंग के बाद अक्सर दर्द  पिंपल्स की समस्या सुनने को मिलती है। ऐसे स्किन के सैंसटिव होने की वजह से होता है। अगर आप भी थ्रैडिंग के बाद होने वाले पिंपल्स की वजह से परेशान होते हैं तो कुछ स्टेप्स को फॉलो करें।
थ्रैडिंग करवाने से पहले चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें, जिससे कि आपको थ्रैडिंग करवाते समय दर्द भी कम होगा और पिंपल्स भी नहीं होंगे। थ्रैडिंग करवाने के बाद आईब्रो पर टोनर या बर्फ लगाएं, जिससे कि आपको जलन महसूस नहीं ह७ोगी। इसके अलावा थ्रैडिंग करवाने के बाद 12 से 24 घंटों के बीच में थ्रैडिंग वाले हिस्से को न छुएं क्योंकि ऐसा करने से वहां पिंपल्स हो सकते हैं। थ्रैडिंग करवाने के तुरंत बाद किसी प्रकार का भी स्टीम ट्रीटमेंट न करवाएं। 

आखों के काले घेरे को हटाने के लिए खुद ही बनाए क्रीम
आंखे लड़कियों के शरीर का सबसे अहम हिस्सा होती हैं। खूबसूरत आंखे हर लड़कियों  को पंसद होती हैं। अगर ऐसे में उनकी आंखों पर काले घेरे पड़ जाएं तो उनकी खूबसूरती पर असर पड़ता है। काले घेरे हटाने के लिए लड़कियां नजाने क्या-क्या करती है, कितनी ही बजारू क्रीम का इस्तेमाल करती है फिर भी कई लड़कियों को इससे कोई फर्क नजर नहीं आता। आज हम आपको घर में बनी एक ऐसी क्रीम के बारे में बताएंगे जो आपके काले घेरे को हटाने में मदद कर सकती है।

जरूरी सामान :1. नारियल का तेल, 2. प्रीमरोज (हल्के पीले रंग का ), 3. पानी, 4. लैवेंडर का तेल
विधि :एक सॉसपैन में नारियल का तेल, प्रीमरोज और थोड़ा सा पानी लें। अब इसे हल्का गर्म करें। तेल को आपस में अच्छी तरह मिल जाने के बाद इसमें लैवेंडर का तेल डाल दें और इस मिश्रण को ठंडा होने के लिए रख दें। जब यह मिश्रण गाढ़ा हो जाए तब इसे एक डिब्बी में भरकर रख लें। रात को सोने से पहले इसे अपनी आंखों के नीचे लगाएं और हल्के हाथों से मसाज करें। सुबह उठकर चेहरे को धो लें। बस कुछ ही दिनों में फर्क जानिए।
View More...

लो अब आ गई 'वेजीटेरियन फिश', खाने के लिए टूट पड़े लोग

Date : 12-Oct-2018

अब जो आप सुनने जा रहे हैं, शायद आपको पहली बार में उस पर यकीन ही ना हो. क्या आपने कभी शाकाहारी मछली के बारे में सुना है? नहीं सुना तो अब सुन लीजिए क्योंकि लंदन के एक रेस्टोरेंट में शाकाहारी फिश परोसी जा रही है. डैनयिल सटन के नए रेस्टोरेंट के मेन्यू में फिश, चिप्स और कॉकटेल सब कुछ है. लेकिन रेस्टोरेंट का कहना है कि उनकी फिश में फिश ही नहीं है. (फोटो-रॉयटर्स)लंदन की चिप शॉप में सटन ने वेज फिश के साथ चिप्स सर्व करने का एक्सपेरिमेंट किया था लेकिन इसकी डिमांड जितनी तेजी से बढ़ी, उसकी सैटन को बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी.
 

View More...

क्या डायबिटीज में चावल खाना सेहत के लिए है खतरनाक?

Date : 12-Oct-2018

सभी जानते हैं कि डायबिटीज एक गंभीर बीमारी है. डायबिटीज के मरीजों को अपनी डाइट का खास ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है, क्योंकि डाइट में की गई थोड़ी सी भी चूक डायबिटीज के मरीजों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. भारत के अधिकतर घरों में रोटी से ज्यादा चावल खाए जाते हैं. लेकिन डायबिटीज के मरीजों के लिए चावल खाना कितना सही है, आइए जानें...हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि चावल में मौजूद कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा देती है.  ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, जो लोग ज्यादा मात्रा में चावल खाते हैं उनमें टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा भी अधिक होता है. 

View More...
Previous12Next