Life Style

Previous123Next

फेशियल ऑयल इस्तेमाल से स्किन में आता है निखार, साथ ही स्किन की ड्राईनेस भी होती है दूर

Date : 03-Feb-2021

हेल्थ डेस्क (एजेंसी)। ग्लोइंग स्किन पाने के लिए फेशियल ऑयल बेस्ट ऑपशन है। इसके इस्तेमाल से स्किन में निखार आता है, साथ ही स्किन की ड्राईनेस भी दूर होती है। फेशियल ऑयल हमारी स्किन की मरम्मत करता है। हमारी स्किन के पोर्स से नेचुरल ऑयल निकलता है, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ ही स्किन में मौजूद नैचरल ऑयल कम होने लगता है। ऐसे में स्किन ड्राई होने लगती है।

त्वचा की एक्स्ट्रा केयर के लिए साथ ही स्किन की ड्राईनेस दूर करने के लिए फेशियल ऑयल बेस्ट है। ये ऑयल स्किन पर दाग-धब्बों से छुटकारा दिलाता है, साथ ही झुर्रियां भी दूर करता है। इतने उपयोगी इस तेल को लगाने का का खास तरीका जानना जरूरी है ताकि आपका चेहरा ग्लो करें। तो आइए जानते हैं फेशियल ऑयल कैसे लगाएं

मॉइश्चराइजर के साथ लगाएं ये ऑयल:

फेशियल ऑयल आपकी स्किन को मॉइश्चराइज कर उसे सॉफ्ट और ग्लोइंग बनाता है। इसे सीधे चेहरे पर इस्तेमाल करने के बजाय अपने नॉर्मल मॉइश्चराइज में कुछ बूंदें मिला कर इसका इस्तेमाल करें।

आंखों की झुर्रियां दूर करने के लिए:

उम्र बढ़ने का सबसे ज्यादा असर आंखों पर दिखता है। अगर आपके पास फेस ऑयल है तो आप इसे आई क्रीम के तौर पर इस्तेमाल कर सकती हैं। इससे आंखों के नीचे की झुर्रियां और ड्राईनेस धीरे-धीरे कम होने लगती है।

फेशियल ऑयल आपके मेकअप का बेस बनाने में अहम है। सर्दी के मौसम में आप फेस ऑयल को प्राइमर के तौर पर इस्तेमाल कर सकती हैं। इससे आपका मेकअप बेस बेहद स्मूद नजर आता है।

हाईलाइटिंग लुक पाने के लिए:

अगर आप सेलेब्स का हाईलाइटिंग मेकअप लुक पाना चाहती हैं, तो इसके लिए आप फेस ऑयल में लिक्विड हाईलाइटर मिलाकर चेहरे पर लगाएं। इसके बाद फाउंडेशन का बेस लगाएं। फिर देखिए कैसे आपकी स्किन शाइन करती है

चेहरे की मसाज करने के लिए:

अपनी स्किन की जरूरतों को देखते हुए आप अपने चेहरे के लिए फेशियल ऑयल का चुनाव करें। रात में सोने से पहले हाथों पर 4-5 बूंदे फेस ऑयल की लेकर चेहरे पर लगाकर सर्कुलर मोशन में मसाज करें। ऐसा करने से आपकी स्किन हमेशा जवां, निखरी-बेदाग और ग्लोइंग नजर आयेगी।

View More...

जानें महिलाओं में क्यों बढ़ रही थायराइड और रसौली की समस्याएं, कैसें करें उपाय

Date : 20-Jan-2021

रायपुर। बिजी लाइफस्टाइल के कारण महिलाओं में थायराइड और रसौली की समस्याएं बढ़ गई है। रसौली को आम भाषा में गांठ कहा जाता है। इसमें गर्भाश्य या उसके आसपास गांठें बनने लगती हैं। रसौली परिवार के एक जनरेशन से दूसरी जनरेशन में चलती है और आंशिक रूप से हार्मोन के स्तर से निर्धारित होती हैं। वैसे तो रसौली आमतौर पर 30 से 50 साल की महिलाओं के बीच देखने को मिलती है, लेकिन अब यह समस्या कम उम्र की महिलाओं में भी नजर आने लगी है। रसौली के कारण : एस्ट्रोजन हार्मोन की ज्यादा मात्रा, जेनेटिक कारण, गर्भनिरोधक गोलियों का ज्यादा सेवन, गर्भावस्था के दौरान, मोटापा, जो कभी मां ना बनी हो, खाना-पीना सही ना होना, पानी कम पीना, पीरियड्स सही ना आना।

रसौली होने के लक्षण : पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग, अनियमित पीरियड्स, पेट के नीचे के हिस्से में दर्द, प्राइवेट पार्ट से खून आना, एनीमिया, कमजोरी , महसूस होना, प्राइवेट पार्ट से बदबूदार डिस्चार्ज, पेशाब रुक-रुककर आना।

आंवला का जूस रसौली दूर करने का सबसे अच्छा उपाय है। आंवला में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। रोजाना सुबह एक चम्मच आंवला का जूस, में शहद डालकर खाली पेट पीने आपको काफी फर्क नजर आएगा। ग्रीन टी कोशिकाओं में रसौली को फैलने से रोकता है. इसके लिए रोज 2 से 3 कप ग्रीन टी का सेवन करें। हल्दी में मौजूद एंटीबॉयोटिक गुण शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। साथ ही इससे गर्भाश्य कैंसर का खतरा भी कम होता है।

View More...

सर्दियों का कॉमन प्रॉब्लम है डैंड्रफ, जिससे हर कोई बचना चाहता है, ये स्कैल्प को ड्राई कर पपड़ीदार बनाकर खुजली देता है

Date : 19-Jan-2021

रायपुर। सर्दियों में डैंड्रफ एक ऐसा हेयर प्रॉब्लम है, जिसके साथ कोई भी नहीं रहना चाहता। इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि सर्दी के सीजन में ठंडी और ड्राई हवा चल रही होती है, जो स्कैल्प में मौजूद नमी को छीन लेता है। साथ ही इस दौरान वातावरण में मालास्सेजिआ नाम का फंगस भी अधिक होता है, जिस वजह से बालों में रूसी की समस्या होती है। जब ये ड्राई और ठंडी हवा बालों तक पहुंचती है तो हमारा स्कैल्प जहां से बालों की जड़ें शुरू होती हैं ड्राई और पपड़ीदार हो जाता है और उसमें खुजली होने लगती है।

इन वजहों से भी डैंड्रफ होता है  :
- अगर आपके स्कैल्प की स्किन बहुत ज्यादा ऑइली है तो मालास्सेजिआफंगस का ग्रोथ अधिक होगा और डैंड्रफ की समस्या बढ़ेगी।
- टीनएज में अगर आपके शरीर में बहुत ज्यादा हॉर्मोनल बदलाव होते हैं तो इससे भी स्किन ऑइली हो जाती है और डैंड्रफ या रूसी की समस्या बढ़ सकती है।
- कुछ लोगों में ड्राई स्कैल्प की समस्या होती है। उनमें भी डैंड्रफ अधिक होता है।
- अगर आपका स्कैल्प हद से ज्यादा सेंसेटिव है तो हेयर प्रॉडक्ट्स और स्टाइलिंग प्रॉडक्ट्स यूज करने की वजह से भी स्कैल्प में ड्राइनेस हो जाता है और डैंड्रफ की समस्या बढ़ सकती है।

View More...

सर्दियों में केसर का सेवन करने से होते है स्वास्थ्य लाभ, जानिए इसके 5 फायदे

Date : 12-Jan-2021

हेल्थ डेस्क (एजेंसी)। सर्दियों के मौसम में केसर का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक माना जाता है। केसर की तासीर गर्म होने के चलते, इसे कम मात्रा में सेवन करने की सलाह दी जाती है। केसर दुनिया में सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसी वजह से इसे रेड गोल्ड यानी कि लाल सोना कहा जाता है। बता दें कि केसर का सबसे बड़ा उत्पादक देश ईरान है, जो पूरी दुनिया के कुल उत्पादन में 90 फीसदी हिस्सेदारी रखता है। वहीं भारत की बात की जाए तो, दुनिया में भारत तीसरे स्थान पर सबसे बड़ा केसर उत्पादक देश है। 

केसर महंगी तो होती है लेकिन इसके कई सारे स्वास्थ्य लाभ भी हैं। एक अध्ययन के अनुसार केसर का प्रयोग प्राचीन काल से कई अलग-अलग प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती है साथ ही शरीर के अंदर मेटाबोलिक फंक्शन को सुचारू रूप से संचालित करता है। सर्दियों में इस मासाले का प्रयोग रोज करने से शरीर में गर्मी बनी रहती है। चलिए आपको बताते हैं केसर के पांच लाभ। 

1 कैंसर से बचाव के लिए लाभदायक है केसर
केसर का प्रयोग कैंसर से बचने के लिए बेहद लाभकारी है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में क्रॉकेटिन कोलोरेक्टल मौजूद होता है, जिससे कैंसर की कोशिका नहीं बढ़ती है। केसर के प्रयोग से प्रोस्टेट कैंसर और स्किन कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। हालांकि, केसर का उपयोग कैंसर से बचाव में कुछ हद तक सहायक हो सकता है, लेकिन यह इसका उपचार नहीं है। कैंसर के उपचार के लिए डॉक्टर की सलह से इलाज लेना बहुत जरूरी है।

2 पाचन को मजबुत करता है केसर
पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए केसर एक फायदेमंद औषधी है। दरअसल केसर में युपेप्टिक यानी की पाचन तंत्र को अच्छा बनाने वाला औषधीय गुण पाया जाता है। इसके साथ केसर का उपयोग भूख और गैस्ट्रिक एसिड को कम करने के लिए लाभदायक होता है। 

3 आंखो की रोशनी में सुधार के लिए केसर फायदेमंद
आंखों की रोशनी में सुधार चाहते हैं तो केसर का सेवन आपके लिए लाभदायक हो सकता है। क्योंकि केसर एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है। जिसके चलते उम्र के साथ आंखो में होने वाली बिमारियों को ठीक करने में मददगार साबित होता है। इसमें मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण रेटिना स्ट्रेस से छुटकारा दिलाने का काम भी करता हैं। इसके अलावा, केसर के क्रॉकेटिन में पाया जाने वाला एंटी-ट्यूमरजेनिक गुण रेटिनोब्लास्टोमा यानी आंख का ट्यूमर के रोकथाम और उपचार में मदद कर सकता है। इसके अलावा, शोध में पाया गया है कि केसर का उपयोग लैक्रिमेशन यानी लगातार आंसू बहना, खराब दृष्टि, दिन में अंधापन और मोतियाबिंद के लिए भी किया जा सकता है ।

4 वजन घटाने में सहायक है केसर
एक अध्ययन से पता चला है कि मेटाबोलिज़म के लिए केसर महत्तवपूर्ण भूमिका निभाता है। केसर आपकी भूख को कंट्रोल में रखता है। जब आप वजन कम करने के लिए आहार को कम करते हैं तब यह आपकी भूख को कम करने की कोशिश करता है। इसलिए वजन कम करना है तो केसर को अपने आहार में शामिल कीजिए। ताकी आप आज जल्द से जल्द फिट हो सकें।

5 प्रतिरोधक क्षमता और ऊर्जा के लिए केसर है लाभदायक
केसर के सेवन से शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है जिससे बिमारियां आसानी से शरीर में नहीं आती है। साथ ही ठंड आते ही लोग सुस्त हो जाते हैं लेकिन केसर में भरपूर मात्रा में कैलोरी पाई जाती है जिसके सेवन से आप हमेशा उर्जावान महसूस करेंगे।   

View More...

औरतों के लिए वरदान समान है मसूर की दाल, जानें कैसे करना है इस्तेमाल

Date : 09-Jan-2021

हेल्थ डेस्क (एजेंसी)। आजकल के समय में ज्यादातर सभी अपने चेहरे की त्वचा को निखारने के लिए तरह-तरह के तरीके अपनाते हैं। वैसे देखा जाए तो चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने के लिए बाजार में बहुत से प्रोडक्ट उपलब्ध हैं, परंतु यह प्रोडक्ट हमारी त्वचा के लिए हानिकारक साबित होते हैं क्योंकि इनमें केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे त्वचा को नुकसान पहुंचता है। इसके अलावा आपकी रसोई में रखी हुई बहुत सी चीजें ऐसी हैं, जिनका अगर आप इस्तेमाल करतीं हैं तो इससे आपकी आपके चेहरे की त्वचा में निखार आ सकता है। रसोई में रखी हुई इन चीजों के इस्तेमाल से छोटी-छोटी कमियों को दूर किया जा सकता है।

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं बदलते मौसम की वजह से हमारी त्वचा पर भी प्रभाव पड़ता है। ऐसी स्थिति में कोई भी ब्यूटी प्रोडक्ट इस्तेमाल करने की बजाय आप अपने किचन में इस्तेमाल होने वाली कुछ चीजों की सहायता से चेहरे की त्वचा पर निखार बढ़ा सकतीं हैं। अगर धूप में होने वाली टैनिंग से आप परेशान हो गई हैं और त्वचा का रंग सांवला हो गया है तो एक बार रसोई में रखी हुई मसूर की दाल का इस्तेमाल जरूर करें। मसूर की दाल स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना गया है इसके अलावा मसूर की दाल से बना हुआ फेस पैक त्वचा की रंगत निखारने में भी मदद करता है। अगर आप इसका इस्तेमाल करती हैं तो समय से पहले चेहरे पर दिखने वाली झुर्रियां कम होंगीं।

बेस्ट एंटी एजिंग का काम करती है मसूर की दाल :

अगर आप अपनी रसोई में रखी हुई मसूर की दाल के फेस पैक का इस्तेमाल करती हैं तो यह चेहरे के लिए बेस्ट एंटी एजिंग का काम करती है। अगर आप इसका इस्तेमाल सीधा चेहरे पर करती हैं तो यह सेल्स और टिशु डैमेज की प्रक्रिया को धीमा कर देती है। इतना ही नहीं बल्कि मसूर की दाल से बना हुआ फेस पैक फ्री रेडिकल्स को भी खत्म करता है।

दाल का पाउडर और अंडा : 

मसूर की दाल का पाउडर बनाने के लिए सबसे पहले आप दाल को पीसकर बारीक पाउडर तैयार कर लीजिए। आप चाहे तो इसको एयरटाइट कंटेनर में भर कर रख सकती हैं और जरूरत पड़ने पर इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। दो चम्मच मसूर दाल के पाउडर में एक अंडे की सफेदी मिलाकर पेस्ट तैयार कर लीजिए। इसमें दो बूंद नींबू का रस और एक बड़ा चम्मच कच्चा दूध मिलाकर रोज अपने चेहरे पर लगाएं। चेहरे पर कुछ समय के लिए इसको सूखने तक छोड़ दीजिए। उसके बाद ठंडे पानी से अपने चेहरे को धो लीजिए। अगर आप इसका इस्तेमाल करती हैं तो बहुत जल्द आपके चेहरे पर निखार दिखने लगेगा।

दाल, हल्दी और शहद :

मसूर दाल के पिसे हुए पाउडर में आप शहद और हल्दी पाउडर मिलाकर इसका स्क्रब तैयार कर लीजिए। आप इसमें थोड़ा पानी मिलाकर अपने चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने से डेड स्किन सेल्स खत्म हो जाते हैं और त्वचा में निखार आती है।

दाल और दूध का फेस पैक :

रात भर के लिए मसूर की दाल को कच्चे दूध में भिगोकर रख दीजिए और सुबह उठकर इसको पीस लीजिए। अब इस पेस्ट को आप अपने चेहरे पर लगाएं। आपको बता दें कि इस पेस्ट का इस्तेमाल करने से गाढ़ी रंगत को हल्का किया जा सकता है। चेहरे पर निखार पाने का यह अचूक घरेलू नुस्खा माना जाता है।

View More...

ग्रीन टी और डार्क चॉकलेट से कोरोना वायरस से मुकाबले में मिल सकती मदद, एक नए अध्ययन का दावा

Date : 02-Dec-2020

हेल्थ डेस्क (एजेंसी) । कोरोना वायरस (COVID-19) की काट खोजने के लिए दुनिया भर में शोध किए जा रहे हैं। इसी कवायद में किए गए एक नए अध्ययन का दावा है कि ग्रीन टी और डार्क चॉकलेट से इस घातक वायरस से मुकाबले में मदद मिल सकती है। इस तरह के खाद्य पदार्थो में पाए जाने वाले केमिकल कंपाउंड कोरोना के प्रोटीज नामक खास एंजाइम की कार्यक्षमता को बाधित कर सकते हैं।

अमेरिका की नार्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता डी यू शी ने कहा, ‘प्रोटीज स्वास्थ्य के साथ ही सेल्स (कोशिकाओं) और वायरस के लिए भी अहम होते हैं। अगर प्रोटीज को रोक दिया जाए तो कोशिकाओं के कई कार्य बाधित हो सकते हैं।’

उन्होंने बताया, ‘हमने लैब में खाद्य पदार्थो या औषधीय पौधों में ऐसे पोषक तत्वों की खोज पर भी ध्यान केंद्रित किया है, जो मानव कोशिकाओं से वायरस को जुड़ने से रोक सकते हैं।’

फ्रंटलाइनर्स इन प्लांट साइंस पत्रिका में छपे शोध के अनुसार, शोधकर्ताओं ने पौधों के विभिन्न केमिकल कंपाउंड से कोविड-19 के मेन प्रोटीज (एमप्रो) का सामना कराया और इनके प्रभाव को लेकर कंप्यूटर और लैब में अध्ययन किया। इन केमिकल कंपाउंड में एंटी-इंफ्लेमेटोरी और एंटीऑक्सीडेंट जैसे गुण होते हैं।

शी ने कहा, ‘कोविड-19 को अपनी प्रतिकृति तैयार करने के लिए एमप्रो की जरूरत पड़ती है। अगर हम इस प्रोटीज को बाधित या निष्क्रिय कर दें तो वायरस खत्म हो जाएगा। कंप्यूटर पर किए गए अध्ययन में ग्रीन टी, कोको पाउडर और डार्क चॉकलेट के केमिकल कंपाउंड में एमप्रो से जुड़ने की क्षमता पाई गई है।’

View More...

अच्छी सेहत के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां होती है बहुत फायदेमंद, जानें पालक खाने के फायदे

Date : 02-Nov-2020

हेल्थ डेस्क (एजेंसी) । अच्छी सेहत के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां बहुत फायदेमंद होती हैं। जब हरी पत्तेदार सब्जियों की बात आती है, तो पालक को सबसे अधिक स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है। पालक में कई तरह के विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं, जो शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व प्रदान करते हैं।

आमतौर पर पालक को कच्चा या पकाकर दोनों तरह से खाया जा सकता है। इसमें कैलोरी बहुत कम मात्रा में पायी जाती है, जिससे आपका स्वास्थ्य बेहतर रहता है और वजन भी नहीं बढ़ता है। यह इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है और ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखता है।
आइए जानते हैं सेहत के लिए पालक के फायदे।

सेहत के लिए पालक के फायदे:
पालक में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद होते हैं। नियमित रूप से इस हरी पत्तेदार सब्जी का सेवन करने से बीमारियां का खतरा कम होता है।

आंखों के लिए फायदेमंद:
पालक में ल्यूटिन और जैक्सेंथिन सहित कई यौगिक मौजूद होते हैं, जो आंखों की सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। शोध बताते हैं कि ये पिगमेंट मैक्यूलर डिजनरेशन और मोतियाबिंद के खतरे को कम करते हैं। ये यौगिक आपकी आंखों को सूरज की रोशनी से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। इस सब्जी में एंटीऑक्सीडेंट भी पाया जाता है जो कैंसर के खतरे को कम करता है।

वजन घटाए:
पालक में कम मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, लेकिन अधिक मात्रा में घुलनशील फाइबर पाया जाता है। यह सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद है और वजन घटाने में भी काफी मदद करता है। साथ ही यह ब्लड शुगर को भी नियंत्रित रखता है। पालक में पाया जाने वाला फाइबर पाचन क्रिया को बेहतर रखता है जिससे कब्ज की समस्या नहीं होती है। इसका सेवन करने से बार-बार भूख नहीं लगती है जिससे मोटापे की समस्या नहीं होती है।

इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायक:
पालक में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी, बीटा कैरोटिन और कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। यह इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं। आज के समय में अगर आप भी इम्यूनिटी बढ़ाने के तरीके खोज रहे हैं तो पालक से बेहतर कुछ भी नहीं है। इसमें मौजूद विटामिन ई और मैग्नीशियम जैसे खनिज इम्यूनिटी मजबूत करने के साथ ही वायरस एवं बैक्टीरिया को भी दूर रखते हैं।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे:
पालक में भरपूर मात्रा में नाइट्रेट पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करती है। इससे हृदय रोगों का खतरा कम होता है। रिसर्च के अनुसार, पालक का सेवन करने से हृदय स्वस्थ रहता है और इससे जुड़ी बीमारियां भी दूर रहती हैं।

हाइड्रेशन बढ़ाए:
शरीर के अंगों को ठीक तरह से काम करने के लिए हाइड्रेट रहना बहुत जरूरी होता है। पालक शरीर को रेगुलेट करता है, जोड़ों को चिकनाहट और कोशिकाओं को पोषक तत्व प्रदान करता है। नियमित पालक का सेवन करने से संक्रमण का खतरा कम होता है और मूड बेहतर रहता है। पालक में पानी प्रचुर मात्रा में होता है जो शरीर को अच्छी तरह हाइड्रेट करता और बीमारियों से दूर रखता है।

पालक में पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं, लेकिन इसका सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए। अधिक मात्रा में पालक खाने से सेहत को नुकसान भी पहुंच सकता है। किडनी रोग के मरीजों को डॉक्टर की सलाह के बाद ही पालक का सेवन करना चाहिए।

View More...

ग्लोइंग स्किन पाने के लिए अपनाए यह तरीका, सब्जी और फलों के जूस का सेवन सबसे प्रभावी तरीकों से बना सकते है ग्लोइंग

Date : 28-Oct-2020

 हेल्थ डेस्क (एजेंसी) । एक पौष्टिक आहार न केवल आपके शरीर को अंदर से बल्कि बाहर से भी स्वस्थ रखने में मदद करता है। विशेष रूप से, स्वस्थ त्वचा पाने के लिए सब्जी और फलों के जूस का सेवन सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। जूस त्वचा संबंधी कई विकारों को दूर करके त्वचा को खूबसूरत और ग्लोइंग बनाने में मदद करते हैं। आप भले ही इन जूस को अपनी त्वचा में डायरेक्ट  करती हैं फिर भी नियमित रूप से जूस का सेवन आपकी त्वचा की खूबसूरती को कई गुना तक बढ़ा सकते हैं। अधिकांश सब्जियों और फलों में फाइबर और अन्य आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जो आपकी त्वचा को प्रभावित करने वाले विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इनमें एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं जो शरीर में मुक्त कणों के विकास और प्रभाव को रोकते हैं, जो शरीर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। आइए जानें ग्लोइंग स्किन के लिए कौन से जूस पीना लाभदायक हो सकता है।

गाजर और चुकंदर का जूस :गाजर और चुकंदर त्वचा के लिए अत्यंत लाभकारी माना जाता है। चुकंदर पोटेशियम, जिंक, फोलिक एसिड, मैंगनीज और विटामिन सी सहित कई आवश्यक पोषक तत्वों के साथ त्वचा के लिए एक पावर-पैक की तरह काम करता है, ये सभी तत्त्व जो सभी ब्लड को प्यूरिफाई करने के लिए जाने जाते हैं, जो चमकदार त्वचा के लिए बहुत ज्यादा आवश्यक होते हैं। गाजर में विटामिन ए होता है जो पिम्पल और रिंकल्स से त्वचा की रक्षा करता है। इस जूस में भरपूर मात्रा में फाइबर होते हैं जो पेट को साफ रखते हैं और त्वचा को ग्लोइंग बनाते हैं।

खीरे के जूस :

खीरे का जूस आपकी त्वचा को मॉइस्चराइज करने में मदद कर सकता है, जिससे त्वचा बहुत ज्यादा ग्लोइंग दिखती है । खीरे में एस्कॉर्बिक एसिड और कैफिक एसिड पाया जाता है जो कि पानी के प्रतिधारण को रोकने में मदद करती है और त्वचा की सूजन को कम करने में मदद करती है।

टमाटर का जूस :

टमाटर में भरपूर मात्रा में  एंटीऑक्सिडेंट तत्व मौजूद होते हैं जो समय से पहले उम्र बढ़ने के संकेतों को कम करने में मदद करते हैं जैसे झुर्रियां और फाइन लाइन्स , जिससे आपकी त्वचा जवान नज़र आती है। टमाटर त्वचा के आपके पोर्स को कम करने , टैनिंग हटाने और सीबम को कम करने में मदद करता है। नियमित एक गिलास टमाटर का जूस  पीना निश्चित रूप से ग्लोइंग स्किन के लिए सबसे अच्छे उपायों में से एक है।

अनार का जूस :

अनार में ब्लड प्यूरीफाई करने की क्षमता होती है, जो त्वचा को पोषण देने और उसे चमकदार बनाने में मदद करता है। इसमें एंटी-एजिंग गुण भी होते हैं जो नयी निर्माण में सहायक होते हैं। जिससे त्वचा खूबसूरत और जवां नज़र आने लगती है। अनार का जूस आपको नियमित रूप से पीना चाहिए जिससे त्वचा का ग्लो कायम रहे।  

पालक का जूस : 

हरी पत्तेदार सब्जियों के जूस का स्वाद भले ही स्वादिष्ट ना हो लेकिन ये आपकी त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं।पालक का जूस आयरन और विटामिन  से भरपूर माना जाता है।  जो एक बेदाग़ त्वचा पाने के लिए आवश्यक है। पालक में विटामिन सी, ई और मैंगनीज जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं और इसमें  भी एंटीऑक्सिडेंट गुण भी पाए जाते हैं जो आपकी त्वचा को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं।

View More...

नीम की पत्तियों से बनाएं फेस पैक, नीम स्किन और सौंदर्य के लिए बेहद ही फायदेमंद

Date : 26-Oct-2020

 हेल्थ डेस्क (एजेंसी) । नीम स्किन और सौंदर्य के लिए भी बेहद ही फायदेमंद है। साथ ही नीम में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। नीम का एक औषधीय गुण ये भी है कि यह स्किन को बेदाग रखने के साथ ही निखारता है। अपनी स्किन को जवां और खूबसूरत बनाने के लिए फेसपैक तैयार करने के लिए नीम की ताज़ी पत्तियां लें और इसे मिक्सी में पीस ले। इसके बाद एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी का पाउडर और गुलाब जल मिलाएं और इसे अपनी स्किन पर लगाएं और इसके बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। 

एंटी एजिंग : झुर्रियां दूर करने के लिए इस फेस पैक का इस्तेमाल करें। क्योंकि नीम की पत्तियां को एंटी-एजिंग की समस्या के लिए नीम बेहद फायदेमंद है। दरअसल, नीम की पत्तियां उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देती हैं और उससे स्किन जवां की जवां बनी रहती है।

ऑयली स्किन : ऑयली स्किन से लोग अक्सर परेशान रहते हैं, क्योंकि तापमान बढ़ने के कारण बॉडी से एक्सट्रा ऑयल निकलने लगता है और ये आपकी स्किन पर जमा हो जाते हैं, जिससे परेशानी होती है। ऐसे में यदि नीम फेस पैक का इस्तेमाल करते हैं तो ऐसे में ये स्किन पर जमे एक्सट्रा ऑयल को कंट्रोल करता है। इसे बनाने के लिए आप नीम को पत्तियों को पीसकर उसमें दही और नींबू का रस डालकर एक गाढ़ा पेस्ट तैयार करें और 20 मिनट बाद पानी से धो लें।

View More...

मौसंबी का जूस कमजोर इम्यून सिस्टम, डायजेशन व अन्य परेशानियों से दिलाएगा छुटकारा

Date : 03-Oct-2020

हेल्थ डेस्क (एजेंसी) । मौसंबी में विटामिन सी और पोटेशियम की भरपूर मात्रा पाई जाती है। लोगों के बीच मौसंबी की जूस काफी मशहूर भी है और लगभग ये हर गली में आपको आसानी से मिल जाएगा। मौसंबी में फाइबर भी पाया जाता है जो हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। विटामिन सी की कमी अगर शरीर में है तो ऐसे में मौसंबी के जूस का सेवन जरुर करें।

दरअसल हमारे शरीर में विटामिन सी का महत्वपूर्ण रोल होता है। हमारे शरीर में हर रोज डाइट में विटामिन होना जरुरी होता है और मौसंबी इसका अच्छा स्त्रोत है। मैसंबी का जूस एक परफेक्ट डिटॉक्सीफाइंग एजेंट है जो शरीर में जाकर सारे टॉकिस्नस को शरीर से निकाल देता है। इसके साथ ही पॉल्यूशन के कारण शरीर के अंदर जमा हुई गंदगी और नुकसानदेह तत्वों को शरीर से बाहर कर देता है। ऐसे में ये हमारे स्वास्थ के लिए बहुत फायदेमंद होता है। मौसंबी में एंटीऑक्सीडेंट का गुण भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर से इन्फ्लामेशन को कम करता है। यह शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है और शरीर में इन्फेक्शन से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है। इसी तरह डाइजेशन में तकलीफ हो तो ऐसे में आप मौसंबी के जूस का सेवन कर सकते हैं। दरअअसल इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जो पाचन शक्ति के लिए अच्छा है। साथ ही शरीर के अंदरुनी हिस्सों को हेल्दी रखता है और कब्ज जैसी समस्या से छुटकारा दिलाता है।

View More...
Previous123Next