Chhattisgarh

जिले में टीबी.कुष्ठ को मिटाने के लिए सघन टीबी.कुष्ठ खोज अभियान का शुभारम्भ

जगदलपुर। जिला प्रशासन बस्तर के मार्गदर्शन में जिले में टीबी-कुष्ठ को मिटाने के लिए 1 दिसम्बर को "सघन टीबी-कुष्ठ खोज अभियान" का शुभारम्भ किया गया। 21 दिसम्बर तक चलने वाले इस अभियान में हर एक मरीज की स्क्रीनिंग एवं उपचार किया जाएगा। अभियान के दौरान मितानिन के द्वारा अपने कार्यक्षेत्र में घर-घर भ्रमण कर टीबी एवं कुष्ठ रोग के लक्षण के आधार पर संभावित मरीजों की पहचान की जाएगी।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.के.चतुर्वेदी ने बताया: “जिले में टीबी-कुष्ठ रोग के रोकथाम के लिये युद्धस्तर पर मरीजों की पहचान और त्वरित इलाज की व्यवस्था की गयी है। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य लोगों में टीबी-कुष्ठ की बढ़ती समस्या और उसके प्रसार को रोकना है। टीबी के सम्बंध में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया: "तीन सप्ताह या अधिक समय खांसी, लंबे समय से बुखार और शाम के दौरान बुखार का बढ़ जाना, सांस फूलना, लगातार वजन घटने, सीने में दर्द, बलगम के साथ खून आना, बार बार लूज मोशन होने की स्थितियों में टीबी की जांच अवश्य करवाना चाहिए। वहीं पहले से इलाज करवा रहे मरीज नियमित रूप से दवा का पूरा सेवन करें।"

वहीं कुष्ठ रोग के सम्बंध में उन्होंने बताया: "कुष्ठ रोग के कारण प्रभावित अंगों में अक्षमता एवं विकृति आ जाती है, इसलिए छुपे हुए केस को जल्दी से जल्दी खोज कर एवं जांच उपचार कर कुष्ठ रोग का प्रसार रोका जा सकता है और सामाज को कुष्ठ मुक्त कर सकते हैं। कुष्ठ रोग लाइलाज नहीं है। कुष्ठ रोग का पूर्णत: उपचार संभव है। वहीं कुष्ठ रोग के इलाज में देरी से विकलांगता हो सकती है। कुष्ठ रोगियों को स्पर्श करने से कुष्ठ रोग नहीं होता है।"

जिला टीबी उन्न्मूलन अधिकारी सी.आर.मैत्री ने बताया:  “1 दिसम्बर से 21 दिसम्बर तक चलने वाले इस अभियान के दौरान 591 गांवों के कुल 1.85 लाख घरों का सर्वे होगा। जिलेवासियों से अपील है कि, सर्वे के दौरान टीबी-कुष्ठ के लक्षण वाले व्यक्ति अपने रोग को छिपाएं नहीं, बल्कि लक्षणों के बारे में खुलकर बताएं। टीबी और कुष्ठ बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए भारत सरकार ने वर्ष 2025 तक का लक्ष्य तय किया है। वहीं छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश को वर्ष 2023 तक इन रोगों से मुक्त करने का बीड़ा उठाया है।“

उक्त कार्यक्रम के मुख्य अतिथि यशवर्धन राव (सभापति पीडब्ल्यूडी नगरनिगम जगदलपुर), आर के चतुर्वेदी (सीएमएचओ), वी के ठाकुर ( डीएलओ), सी आर मैत्री (डीटीओ), रीना लक्ष्मी लेडीया(डीपीएम), संजीव डूबे (सीपीएम) सहित स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारीगण, मितानिन व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सम्मिलित हुए।

Trend News

चूहे की हत्या के आरोप में व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज

बदायूं (एजेंसी)। उत्तरप्रदेश के बदायूं शहर में अनोखा मामला सामने आया है, जहां चूहे की हत्या के आरोप में एक व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज हुई है। यह पूरा मामले बदायूं शहर के पनवड़िया मुहल्ले का है, जहां रहने वाले मनोज के खिलाफ एक पशु प्रेमी ने चूहे की हत्या के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

मनोज के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज हो गई और शांति भंग में चालान भी हो गया। देश विदेश में सुर्खियां बटोरने वाली इस खबर के केंद्र मनोज ने अब एक सवाल किया है। उनका कहना है कि जब चूहे को मारने पर कार्रवाई हो सकती है, तो मुर्गे, बकरे आदि को काटने वालों पर केस क्यों दर्ज नहीं किया जाता।

चूहे की हत्या में फंसे मनोज ने कहा कि चूहों से उन्हें कितना नुकसान हुआ यह वही जानते हैं, लेकिन मुर्गा बकरा तो किसी को नुकसान नहीं पहुंचा रहे, फिर उन्हें क्यों काटा जा रहा है। पशु प्रेमी को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए, उन्हें इन पशुओं की भी हत्या बंद करानी चाहिए।

पनवड़िया मुहल्ले में मनोज का घर उसी नाले के पास है, जिस नाले में उन्होंने चूहे को डुबो कर मार दिया था। वह कहते हैं नाले के पास घर होने के चलते चूहे उनके और आसपास के घरों में घुसे ही रहते हैं। पूरे मुहल्ले के लोग चूहा पकड़ कर लाते हैं और नाले के पास छोड़ जाते हैं। किसी से मना करो तो विवाद खड़ा हो जाता है।

मनोज बताते हैं कि वह अपने माता पिता, पत्नी और तीन बेटियों के साथ रहते हैं। मिट्टी के बर्तन का काम करते हैं। जरा सा ध्यान भटक जाए तो चूहे उनके बनाए हुए मिट्टी के बर्तन तोड़ जाते हैं। बताते हैं कि एक बार बनाया हुआ बर्तन जरा सा सूख जाए तो वह मिट्टी किसी काम नहीं आती।

मनोज ने चूहाें से जुड़ी एक दर्द भरी कहानी भी बयां की। बताया कि उनकी सबसे छोटी बेटी जब गोद में थी। उस समय एक चूहा उसके हाथ की खाल नोंच ले गया था। बेटी बोल भी नहीं पाती थी, जब वह रोई तब वह लोग पहुंचे तो चूहा भाग गया। उस समय उसके इलाज में काफी रुपये खर्च हुआ था। उस समय तो कोई पशु प्रेमी नहीं आया था। उन्होंने पशु प्रेमी विकेंद्र को लेकर कहाकि वह सच्चे पशु प्रेमी हैं तो देश भर में कट रहे मुर्गे, बकरों को बचाएं। बोले- मैं अपने किए पर माफी मांग रहा हूं।

दरअसल 24 नवंबर को मनोज ने एक चूहे की पूंछ में पत्थर बांधकर उसको नाले में फेंक दिया था। ये घटना एक पशु प्रेमी विकेंद्र ने देख ली थी। विक्रेंद्र ने चूहे को बाहर भी निकाला और मनोज के खिलाफ शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने मनोज को थाने बुलाया और फिर उसको छोड़ दिया था। बरेली में चूहे का पोस्टमार्टम भी करवाया। फिर मनोज के खिलाफ पशु क्रूरता का केस 28 नवंबर को दर्ज हुआ है।

Sports

थाईलैंड में एशिया जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप के अंडर.17 वर्ग में भारत की उन्‍नति हुड्डा ने लड़कियों के सिंगल्‍स क्‍वार्टर फाइनल में बनाई जगह

नई दिल्ली (एजेंसी)। थाईलैंड में एशिया जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप के अंडर-17 वर्ग में भारत की उन्‍नति हुड्डा ने लड़कियों के सिंगल्‍स क्‍वार्टर फाइनल में जगह बना ली है। प्री-क्‍वार्टर फाइनल में कल उन्‍नति ने थाईलैंड की नटचावे सित्‍तीतिरानन को 21-11, 21-19 से हराया। अंतिम आठ में आज शीर्ष वरीयता प्राप्‍त उन्‍नति का सामना दक्षिण कोरिया की मिन जी किम से होगा। अंडर-17 वर्ग में भारत की दो डबल्‍स जोडि़यों ने प्री-क्‍वार्टर फाइनल में जगह बना ली है।

लड़कों के डबल्‍स में अर्श मोहम्‍मद और संस्‍कार सारस्‍वत की जोड़ी ने इंडो‍नेशिया के दानिस्‍वरा माहरिज़ल और आंद्रे मुकुन की जोड़ी को 21-12, 21-10 से पराजित किया। मिक्‍स्‍ड डबल्‍स में अरुल रवि और श्रीनिधि नारायणन की जोड़ी ने थाईलैंड के रचप्रुंग अकत और हैथीथिप मिजाद की जोड़ी को 21-14, 21-17 से मात दी। लड़कियों के डबल्‍स में नव्‍या और रक्षिता की जोड़ी को हार का सामना करना पड़ा। वेनाला और श्रीयांशी की जोड़ी भी हारकर बाहर हो गई। लड़कों के डबल्‍स में दिव्‍यम अरोड़ा और मयंक अरोड़ा की जोड़ी का सफर भी समाप्‍त हो गया।

इस बीच, लड़कियों के अंडर-15 वर्ग में तन्‍वी और दुर्गा की जोड़ी प्री-क्‍वार्टर फाइनल में पहुंच गई है। राउंड ऑफ 32 के मुकाबले में तन्‍वी और दुर्गा की जोड़ी ने थाईलैंड की सुनिसा और पिमचानोक की जोड़ी को 21-18, 22-20 से शिकस्‍त दी। लड़कों के डबल्‍स में बॉर्न जेसन और अतीश श्रीनिवास की जोड़ी भी प्री-क्‍वार्टर फाइनल में पहुंच गई है। राउंड ऑफ 32 के मुकाबले में बॉर्न और अतीश की जोडी ने थाईलैंड के थानिक फू और वोरानैन की जोड़ी को 18-21, 21-10, 21-16 से हराया। ईशान नेगी और सिद्धी रावत की मिक्‍स्‍ड डबल्‍स जोड़ी अपना मुकाबला हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गई 

Astrology

जानें क्या कहतीं हैं आपकी ग्रहदशाएं, क्या करें कि दिन होगा शुभ, जानिएं आज का राशिफल

मेष राशि : परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।  रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। खर्चों में वृद्धि होगी। आत्मविश्वास में कमी रहेगी। क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के मनोभाव रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। पिता का साथ मिलेगा। भौतिक सुखों में वृद्धि होगी। नौकरी में कार्यक्षेत्र में परिवर्तन की सम्भावना बन रही है। अति उत्साही होने से बचें।

वृष राशि : मन प्रसन्न रहेगा, परन्तु धैर्यशीलता बनाये रखने के प्रयास करें। परिवार में शान्ति बनाये रखने का प्रयास करें।  कारोबार में किसी मित्र का सहयोग मिल सकता है। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। रहन-सहन अव्यवस्थित रहेगा। मानसिक शान्ति रहेगी,परन्तु बातचीत में संयत रहें। कार्यक्षेत्र की परिस्थिति में सुधार आएगा। सन्तान के स्वास्थ्य में सुधार होगा। लाभ के अवसर मिलेंगे।

मिथुन राशि : नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा। तरक्की के मार्ग प्रशस्त होंगे।  मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। विदेश यात्रा के अवसर मिल सकते हैं। सेहत का ध्यान रखें। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी। परिवार में आपसी वाद-विवाद से बचने के प्रयास करें। किसी मित्र के सहयोग से नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। वाणी में सौम्यता रहेगी। स्वभाव में चिड़चिड़ापन हो सकता है। कार्यक्षेत्र में कुछ समस्याएं परेशान कर सकती हैं।

कर्क राशि : आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे।  शासन-सत्ता का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। मित्रों का सहयोग मिलेगा। मन में उतार-चढ़ाव के भाव रहेंगे। नौकरी में कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। मित्रों का सहयोग मिलेगा। रहन-सहन में असहज हो सकते है। शान्ति एवं प्रसन्नता के भाव रहेंगे। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। मीठे खानपान में रूचि रहेगी।

सिंह राशि : मन प्रसन्न रहेगा। कारोबार में लाभ के अवसर मिलेंगे।  कारोबार के लिए किसी मित्र के साथ विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। सेहत का ध्यान रखें। आत्मविश्वास में कमी रहेगी। धैर्यशीलता बनाए रखने के प्रयास करें। बातचीत में सन्तुलन बनाये रखें। यात्रा खर्च बढ़ सकते हैं। किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। रहन-सहन कष्टमय रहेगा। भाइयों के साथ कोई नया कारोबार शुरू कर सकते हैं।

कन्या राशि : परिवार की जिम्मेदारी बढ़ सकती हैं। मान-सम्मान में वृद्धि होगी।  शैक्षिक कार्यों में सफल रहेंगे। बौद्धिक कार्यों से आय में वृद्धि हो सकती है। क्रोध के अतिरेक से बचें। धार्मिक संगीत के प्रति रुझान हो सकता है। कारोबार के लिए पिता से धन की प्राप्ति‍ हो सकती है। मानसिक तनाव रहेगा। पिता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। भाई-बहनों का सहयोग मिलेगा। शैक्षिक कार्यों में कठिनाईयां आ सकती हैं।

तुला राशि :  मन परेशान रहेगा। धैर्यशीलता में कमी आ सकती है।  संयत रहें। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। माता का साथ मिलेगा। नौकरी में कार्यक्षेत्र में बदलाव हो सकता है। क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मनःस्थिति रहेगी। वाहन के रखरखाव पर खर्च बढ़ेंगे। नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं। परिवार का सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहें। चिकित्सीय खर्च बढ़ सकते हैं। नौकरी में परिवर्तन की सम्भावना बन रही है।

वृश्चिक राशि : धैर्यशीलता बनाये रखने का प्रयास करें। नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं।  भाग-दौड़ अधिक रहेगी। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। बातचीत में सन्तुलन बनाये रखने का प्रयास करें। वस्त्र उपहार में प्राप्त हो सकते हैं। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों के सुखद परिणाम मिलेंगे। मित्रों का सहयोग मिलेगा। परिवार के साथ यात्रा-देशाटन के कार्यक्रम बन सकते हैं।  किसी राजनेता से भेंट हो सकती है। विवादों से बचकर रहें।

धनु राशि :  मन शान्त रहेगा। नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं।  कार्यक्षेत्र में तरक्की के योग हैं। भागदौड़ की अधिकता रहेगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। अध्ययन में रुचि रहेगी। शैक्षिक या बौद्धिक कार्यों में सम्मान की प्राप्ति‍ हो सकती है। किसी पुराने मित्र से भेंट हो सकती है। आत्मविश्वास में कमी आएगी। बातचीत में संयत रहें। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। धन की प्राप्ति होगी।

वृश्चिक राशि : धैर्यशीलता बनाये रखने का प्रयास करें। नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग बन रहे हैं।  भाग-दौड़ अधिक रहेगी। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। बातचीत में सन्तुलन बनाये रखने का प्रयास करें। वस्त्र उपहार में प्राप्त हो सकते हैं। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों के सुखद परिणाम मिलेंगे। मित्रों का सहयोग मिलेगा। परिवार के साथ यात्रा-देशाटन के कार्यक्रम बन सकते हैं।  किसी राजनेता से भेंट हो सकती है। विवादों से बचकर रहें।

मकर राशि : संयत रहें। व्यर्थ के क्रोध एवं वाद-विवाद से बचें।  लेखनादि-बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ेगी। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। सन्तान की ओर से सुखद समाचार मिल सकता है। नौकरी में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कार्यक्षेत्र में भी बदलाव सम्भव है। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। क्षणे रूष्टा-क्षणे तुष्टा के भाव मन में रहेंगे। अनियोजित खर्चों में वृद्धि होगी। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। लाभ के अवसर मिलेंगे।

कुंभ राशि : वाणी में मधुरता रहेगी, परन्तु क्रोध से बचें। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा।  तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय में वृद्धि होगी। वाहन सुख की प्राप्ति हो सकती है। पठन-पाठन में रुचि रहेगी। लेखनादि-बौद्धिक कार्यों से आय में वृद्धि के स्रोत विकसित होंगे। माता के स्‍वास्‍थ्‍य का ध्यान रखें। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा। बातचीत में सन्तुलन बनाए रखें। सन्तान को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। खर्च भी बढ़ेंगे।

मीन राशि : मन में शान्ति एवं प्रसन्नता रहेगी। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी।  पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। परिश्रम अधिक रहेगा। लाभ के अवसर बढ़ेंगे। वाणी में मधुरता रहेगी। आत्मसंयत रहें। घर-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। वस्त्रों पर खर्च बढ़ेंगे। आत्मविश्वास से लबरेज रहेंगे। नौकरी में तरक्की के योग बन रहे हैं। किसी दूसरे स्थान पर जाना हो सकता है। कारोबार का विस्तार हो सकता है।

Relation

रिस्ते हुए शर्मशार, दो बहनों पर बिगड़ी सगे फूफा की नियत, भाग कर गई पिता के पास, पिता ने भी...

भिलाई। इस्पात नगरी भिलाई में सगे फूफा दो सगी बहनों का इज्जत लूट लिया जब उन्होंने पिता को ये सच्चाई बताई तो वो अपनी ही बेटियों को नशे की दवा देता था और रात भर उनके साथ छेड़छाड़ करता था। पुलिस ने आरोपी पिता और फूफा को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ बलात्कार, दैहिक शोषण और पास्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। ये पूरा मामला भिलाई के जामूल का है।

जानकारी के मुताबिक गौतम नगर निवासी एक 49 वर्षीय युवक ने अपनी 15 साल और 21 साल की बेटियों की गुमशुदगी की रिपोर्ट खुर्सीपार थाने में दर्ज कराई थी। उसने बताया कि 25 अक्टूबर 2022 से उसकी बेटियों का कहीं पता नहीं चल रहा है। पुलिस ने दोनों की खोजबीन शुरू की तो दोनों लड़कियां रायपुर में पाई गई। वो वहां किराए का कमरा लेकर रह रही थीं और वहीं काम भी खोजा था। पुलिस ने जब दोनों लड़कियों को घर से भागने का कारण पूछा तो वो फफक फफक रोने लगी। उन्होंने कहा कि वो अपने पिता और फूफा के अत्याचारों से तंग आकर भागी थीं।

पुलिस के मुताबिक भागी लड़कियों में एक 15 साल की और एक 21 साल की लड़की है। दोनों सगी बहनें है। उन्होंने बताया कि उनकी मां मानसिक रूप से विक्षिप्त है। पिता कारपेंटर का काम करता है। वह जहां पढ़ती हैं वहीं उनकी बुआ का घर है।