Breaking News
मध्य प्रदेश में बीजेपी नेता इमरती देवी पर कमलनाथ की आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर राहुल गांधी ने जाहिर की नाराजगी | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 6 बजे राष्ट्र को करेंगे संबोधित | मुख्यमंत्री आज दोपहर को राजीव भवन में लेंगे पत्रकार वार्ता, रविन्द्र चौबे और खाद्यमंत्री अमरजीत भगत भी होंगे शामिल | कोरोना संक्रमण : दिल्ली एम्स में आया नया मामला, दिमाग को नुकसान पहुंचा सकता है कोरोना वायरस | विधायक देहुती कर्मा के चार पीएसओ सहित काफिले में चलने वाले 7 अन्य जवान कोरोना संक्रमित, मचा हडकंप | गौठान निरक्षण करने पंहुचे तहसीलदार पर लोगों ने की जान लेवा हमला, पुलिस ने 9 लोगों को किया गिरफ्तार |

Chhattisgarh

विश्वविद्यालयों का कार्य केवल डिग्री देना नहीं, समाज और राज्य की समस्याओं का प्रभावी और वैज्ञानिक हल खोजना भी है : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि विश्वविद्यालयों का कार्य केवल डिग्री देना नहीं, समाज और राज्य की समस्याओं का प्रभावी और वैज्ञानिक हल खोजना भी है। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास कार्यालय में राज्य योजना आयोग और राज्य के 14 विश्वविद्यालयों एवं 4 उच्च शैक्षणिक संस्थानों ट्रिपल आईटी, आईआईएम, एम्स और आईआईटी कुल 18 शैक्षणिक संस्थानों के मध्य शोध एवं अनुसंधान के लिए आयोजित वर्चुअल ऑनलाइन एमओयू हस्ताक्षर कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

कार्यक्रम में राज्य के समावेशी विकास में इन उच्च शैक्षणिक संस्थानों की भागीदारी सुनिश्चित करने और उनके ज्ञान और कौशल से स्थानीय और कृषि, उद्योग सहित विभिन्न क्षेत्रों की समस्याओं के प्रभावी और वैज्ञानिक समाधान, अनुसंधान, अध्ययन और नवाचार को प्रोत्साहित करने के लिए तीन वर्षों के लिए एमओयू किया गया। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य बन गया है, जहां राज्य के विकास में उच्च शैक्षणिक संस्थानों की सक्रिय भागीदारी होगी। कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, योजना और संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष अजय सिंह, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, राजेश तिवारी और रूचिर गर्ग भी इस कार्यक्रम में उपस्थित थे। एमओयू में राज्य योजना आयोग के अधिकारी और संबंधित शैक्षणिक संस्थानों के अधिकारियों ने हस्ताक्षर किए। इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य योजना के सदस्य डॉ. के. सुब्रमणियम, सदस्य सचिव अनुप कुमार श्रीवास्तव, प्रदेश के 14 विश्वविद्यालयों के कुलपति, रजिस्ट्रार, विद्यार्थी और 4 उच्च शैक्षणिक संस्थानों के निदेशक जुड़े।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य योजना आयोग और इन संस्थानों के मध्य एमओयू के माध्यम से प्रदेश की विशिष्ट समस्याओं और दिक्कतों की पहचान कर उन पर अनुसंधान, अध्ययन, नवाचार द्वारा समाधान ढूंढे जा सकेंगे और इन संस्थानों में उपलब्ध ज्ञान कौशल का उपयोग राज्य की जनता कर सकेगी। इन संस्थानों की उपलब्धियों का लाभ आम आदमी को मिलेगा।

उन्होंने कहा कि राज्य में कृषि, रोजगार, ग्रामीण विकास, कुटीर उद्योगों से लेकर बड़े उद्योगों तक की समस्याओं और सामाजिक समस्याओं के वैज्ञानिक ढ़ंग से सरल समाधान हो, इसमें उच्च शैक्षणिक संस्थानों की फैकल्टी, प्रतिभावान विद्यार्थियों के ज्ञान और कौशल का लाभ मिले, इस उद्देश्य से यह एमओयू आज किया गया है। इससे विशेषज्ञों और विद्यार्थियों को प्रदेश की जमीनी समस्याओं से रू-ब-रू होने का मौका मिल सकेगा। आने वाले समय में इसका लाभ प्रदेश, प्रदेशवासियों और देश को मिलेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस एमओयू के तहत राज्य योजना आयोग के समन्वय के साथ उच्च शैक्षणिक संस्थानों में बनने वाले ’शोध और अनुसंधान प्रकोष्ठ’ में लघु वनोपजों के वेल्यू एडिशन, कृषि उत्पादों, उद्यानिकी, फसलों में वेल्यू एडिशन, कृषि और उद्यानिकी फसलों पर आधारित उद्योगों को खोलने के संबंध में भी अध्ययन और अनुसंधान किया जाएगा। राज्य में कुटीर उद्योगों के विकास और राज्य में उत्पादित इस्पात और एल्युमिनियम पर आधारित वेल्यू एडिशन के सहायक उद्योग जैसे सायकल बनाने के उद्योग और आटोमोबाइल उद्योगों के विकास में भी मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों के लिए बिजली, कच्चा माल और कुशल मानव संसाधन उपलब्ध है। उच्च शैक्षणिक संस्थानों की मदद से प्रदेश में वेल्यू एडिशन के उद्योगों की स्थापना के लिए उद्योगपतियों को छत्तीसगढ़ लाने में और लोगों को हुनरमंद बनाने में भी मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में इस कार्यक्रम में शोध और अनुसंधान के लिए स्थापित कोऑडिनेशन यूनिट का शुभारंभ किया।

योजना और संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि आज छत्तीसगढ़ के लिए ऐतिहासिक अवसर है, जब राज्य के उच्च शैक्षणिक संस्थानों और तकनीकी संस्थानों की प्रतिभाओं को राज्य के विकास में भागीदार बनाने की शुरूआत की जा रही है। इन संस्थानों के अनुसंधान केन्द्रों के माध्यम से प्रदेश के विकास की दिशा तय होगी। मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि हावर्ड विश्वविद्यालय के अनुभव के आधार पर राज्य सरकार राज्य की प्लानिंग की मूल इकाई उच्च शैक्षणिक संस्थानों में स्थापित करना चाहती है, जहां राज्य की ग्रास रूट प्लानिंग पर विचार-विमर्श हो। राज्य सरकार की योजनाओं के मूल्यांकन का कार्य भी शैक्षणिक संस्थानों में हो, इसके लिए प्रत्येक विश्वविद्यालय और उच्च शैक्षणिक संस्थानों में ’रिसर्च एंड डेव्हलपमेंट’ के लिए विशेष सेल बनेगा।

राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष अजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशा अनुसार राज्य योजना आयोग की भूमिका नीति आयोग की तर्ज पर थिंक टैंक के रूप में होगी। उन्होंने राज्य योजना आयोग द्वारा नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी, गोधन न्याय योजना की रूपरेखा बनाने में दिए गए योगदान तथा गौठानों में रोजगार केन्द्र विकसित करने, एथेनॉल उत्पादन, कोविड-19 संक्रमण के दुष्प्रभावों के शमन की रणनीति तैयार करने, कोविड सहायता पटल वेबसाईट जैसे योजना आयोग के कार्यो की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि योजना आयोग में शोध अनुसंधान विंग की स्थापना की गई है। पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. केशरी लाल वर्मा और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय डॉ. एस.के.पाटिल ने भी इस पहल को प्रदेश के विकास के लिए एक नए अध्याय की शुरूआत बताया। योजना आयोग को अपने कार्यक्रमों और योजनाओं के लिए विद्यार्थियों का सहयोग प्राप्त हो सकेगा।

Trend News

एक एैसा पौधा जिसे छुने से जा सकती है जान

हमारे पर्यावरण के लिए पेड़-पौधे कितने महत्वपूर्ण हैं ये तो सभी जानते हैं इसलिए लोग अपने घरों के आसपास हरियाली लाने के लिए भी पेड़-पौधे लगाते हैं। यूं तो पेड़-पौधे हमें कई तरह से फायदे पहुंचाते हैं, लेकिन कुछ पेड़-पौधे हमारे लिए काफी खतरनाक होते हैं। इन्हीं में से एक है जाइंट होगवीड, जो किलर ट्री (Killer tree) के नाम से भी जाना जाता है। गाजर की प्रजाति वाले इस पौधे का वैज्ञानिक नाम हेरकिलम मेंटागेजिएनम है। ये पौधा इतना जहरीला है कि इसे छूने भर से हाथों पर फफोले पड़ जाएंगे।
वैसे तो यह पौधा (Plant) देखने में इतना सुंदर लगता है कि अधिकांश लोगों का मन इसे छूने के लिए ललचा जाता है। इसे छूने के बाद ही 48 घंटे के अंदर इसके दुष्प्रभाव शरीर पर दिखने लगते हैं। वैज्ञानिको का मानना है कि यह पौधा सांप से भी ज्यादा जहरीला होता है। अगर आपने कभी इस पेड़ को स्पर्श कर दिया तो कुछ ही घंटों में आपको महसूस होगा कि आपकी पूरी त्वचा जलने लगी है। बता दें कि इस किलर ट्री की लंबाई अधिकतम 14 फीट तक होती है। ये पौधा ज्यादातर न्यूयार्क, पेंनसेल्वेनिया, ओहियो, मेरीलैण्ड, वाशिंगटन, मिशिगन और हेंपशायर में पाया जाता है।
इस पौधे को लेकर डॉक्टर्स (Doctors) का कहना है कि यदि कोई इस पौधे को स्पर्श कर ले तो उसकी आंखों की रोशनी जाने का खतरा भी बढ़ जाता है। अभी तक इस पौधे से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए कोई सटीक दवा भी नहीं बन पाई है। जाइंट होगवीड के जहरीले होने का कारण है इसके अंदर पाए जाना वाला सेंसआइजिंग फूरानोकौमारिंस नामक रसायन, जो इसे खतरनाक बनाती है, लेकिन इस पौधे की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये वातावरण में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड (Oxygen and carbon dioxide) को बैलेंस करने में अपनी अहम भूमिका निभाता हैं।
 
 

Sports

आईपीएल : दिल्ली की जीत में शिखर ध्वन का आईपीएल में पहला शतक, चेन्नई को 5 विकेट से हराया

शारजाह (एजेंसी)। शिखर धवन (नाबाद 101) की मुश्किल समय में खेली गई शतकीय पारी की मदद से दिल्ली कैपिटल्स ने शनिवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन में शारजाह क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए मैच में तीन बार की विजेता चेन्नई सुपर किंग्स को पांच विकेट से हरा दिया। चेन्नई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए फाफ डु प्लेसिस (58 रन, 47 गेंद, 6 चौके, 2 छक्के), अंबाती रायूड (नाबाद 45 रन, 25 गेंद, 4 छक्के, 1 चौका) और रवींद्र जडेजा (33 रन, 13 गेंद, 4 छक्के) की मदद से 20 ओवरों में चार विकेट खोकर 179 रन बनाए।

चेन्नई की खराब फील्डिंग ने दिल्ली को इस लक्ष्य को हासिल करने के भरपूर मौके दिए और दिल्ली ने 19.5 ओवरों में पांच विकेट खोकर इस लक्ष्य को हासिल कर लिया।
धवन का यह आईपीएल में पहला शतक है। अपनी इस शतकीय पारी में उन्होंने 58 गेंदों का सामना कर 14 चौके, एक छक्का लगाया। धवन आज किस्मत भी साथ लेकर उतरे थे, क्योंकि चेन्नई के खिलाड़ियों ने उन्हें तीन जीवनदान दिए। धवन ने इनका भरपूर फायदा उठाया और टीम को जीत दिलाकर ही वापस लौटे।

दीपक चहर ने चेन्नई को मनमाफिक शुरुआत दी और शुरुआती ओवरों में ही दो विकेट चटका दिए। पहले पृथ्वी शॉ को पारी की दूसरी गेंद पर बिना खाता खोले आउट किया और फिर अजिंक्य रहाणे (8) को सैम कुरैन के हाथों कैच कराया। रहाणे के जाने के बाद दिल्ली का स्कोर 26/2 हो गया।
इन्हीं चहर ने धवन का कैच छोड़ उन्हें जीवनदान दिया। धोनी ने भी धवन को मौका दिया। नुकसान यह रहा कि धवन ने अपनै पैर जमा लिए और आसानी से चेन्नई के गेंदबाजों को खेला और अंत तक टीम की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेकर उसे विजयी बनाया।

उनके साथ कप्तान श्रेयस अय्यर ने 68 रनों की साझेदारी की लेकिन धवन की तरह वो भाग्यशाली नहीं रहे। अय्यर को 94 के कुल स्कोर पर ड्वायन ब्रावो ने डु प्लेसिस के हाथों कैच कराया।
धवन को फिर मार्कस स्टोइनिस के साथ मौका मिला और दोनों ने दिल्ली को मैच में आसानी से बनाए रखा। 16वें ओवर में रायडू ने धवन का एक और आसान सा कैच छोड़ दिया, लेकिन शार्दूल ठाकुर इसी ओवर में स्टोयनिस का विकेट लेने में सफल रहे जिन्होंने 14 गेंदों पर 24 रन बनाए।

चार ओवरो में दिल्ली को 41 रनों की जरूरत थी और धवन अभी तक टिके हुए थे। दो ओवरों में दिल्ली को 21 रन चाहिए थे। कुरैन ने इस ओवर में सिर्फ चार रन दिए। आखिरी ओवरों में 17 रनों की जरूरत थी। अक्षर पटेल ने इसी ओवर की पांच गेंदों का सामना किया और नाबाद 21 रन बना टीम की जीत की औपचारिकताओं को पूरा किया।
पहले बल्लेबाजी करने उतरी चेन्नई ने धीमी शुरुआत की थी। उसकी वजह भी थी। तुषार देशपांडे ने तीसरी ही गेंद पर कुरैन को आउट कर दिया। इस समय टीम का खाता भी नहीं खुला था।

डु प्लेसिस और शेन वाटसन (36)ने शुरू से शुरुआत की और 87 रन जोड़ टीम को संभाला। वाटसन, एनरिक नॉर्खिया की गेंद पर बोल्ड हो गए। दूसरे छोर पर डु प्लेसिस खड़े हुए थे। उन्होंने अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन इसके बाद ज्यादा देर रुक नहीं पाए। कैगिसो रबादा की गेंद पर धवन ने उनका कैच पकड़ा।
कप्तान एमएस धोनी (3) भी नॉर्खिया का शिकार बने। अंत में फिर रायडू और जडेजा ने दिल्ली के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की और टीम को 179 के स्कोर तक पहुंचाया।

Astrology

आज का राशिफल मंगलवार 20 अक्टूबर

मेष : चली आ रही समस्या का समाधान होगा। उच्च अधिकारी का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। आर्थिक और व्यावसायिक पक्ष मजबूत होगा।
वृषभ : अधीनस्थ कर्मचारी या पडोसी आदि से तनाव मिल सकता है। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है, जबकि शिक्षा के क्षेत्र में किया गया श्रम सार्थक होगा।
मिथुन : आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। रिश्तों में प्रगाढ़ता आएगी। शासन सत्‍ता का सहयोग मिलेगा। उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। रचनात्मक कार्य में सफलता मिलेगी।
कर्क : भाग्यवश सुखद समाचार मिलेगा। किसी कार्य के संपन्न होने से आपके प्रभाव तथा वर्चस्व में वृद्धि होगी। सामाजिक प्रतिष्‍ठा में वृद्धि होगी। मधुर संबंध बनेंगे।
सिंह : गृह कार्य में व्यस्तता बढेगी। धार्मिक या सांस्कृतिक आयोजन में हिस्सेदारी रहेगी। राजनैतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। चली आ रही समस्या का समाधान होगा।
कन्या : व्यावसायिक व्यस्तता बढ़ेगी। चल या अचल संपत्ति में वृद्धि होगी। उपहार या सम्मान का लाभ मिलेगा। स्वास्थ्य के प्रति उदासीन न रहें। सचेत रहकर कार्य करें।
तुला : चल या अचल संपत्ति के मामले में सफलता मिलेगी। निजी सुख में वृद्धि होगी। किसी के सहयोग से रुका हुआ कार्य संपन्न होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।
वृश्चिक : संबंधित अधिकारी या घर के मुखिया से तनाव मिल सकता है। आर्थिक मामलों में जोखिम न उठाएं। स्वास्थ्य एवं प्रतिष्‍ठा के प्रति सचेत रहें। वाणी पर संयम रखें।
धनु : किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्‍वास में वृद्धि होगी। मांगलिक या सांस्कृतिक उत्सव में हिस्सेदारी रहेगी। रचनात्मक कार्यों में आशातीत सफलता मिलेगी।
मकर : व्यावसायिक प्रतिष्‍ठा बढ़ेगी। संतान के दायित्व की पूर्ति होगी फिर भी मन अशांत रहेगा। स्वास्थ्य के प्रति उदासीन न रहें। गृह कार्य में व्यस्तता बढ़ सकती है।
कुंभ : व्यावसायिक कार्य में व्यस्त रहेंगे। पारिवारिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। यश, कीर्ति में वृद्धि होगी। जीवनसाथी का सहयोग और सानिध्य मिलेगा।
मीन : उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। जीवनसाथी का सहयोग रहेगा। पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। संबंधों में मधुरता आएगी। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

Relation

नंनदोई भाई ने ही जान से मारने की धमकी देकर बनाया शारीरिक संबंध, मामला थाने में दर्ज

रायपुर । जान से मारने की धमकी देकर जबरन शारीरिक संबंध बनाने की रिपोर्ट धरसींवा थाने में दर्ज की  गई है। 

मिली जानकारी के अनुसार सिलतरा धरसींवा निवासी महिला 23 वर्ष ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि प्रार्थिया के पति का देहान्त हो गया है। ढेढवारापारा धरसींवा में 13 अक्टूबर को 11 बजे सोते समय नंनदोई विजय डहरिया ने कमरे में घूसकर जान से मारने की धमकी देकर शारीरिक संबंध बनाया। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376 के तहत बलात्कार का दर्ज कर लिया है।